व्यक्तित्व निर्माण :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

18 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (2 बार पढ़ा जा चुका है)

व्यक्तित्व निर्माण :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*आदिकाल से समस्त विश्व में भारत को सर्वोच्च स्थान प्राप्त था | यह सर्वोच्च स्थान हमारे देश भारत को ऐसे ही नहीं मिल गया था बल्कि इसके पीछे भारत की आध्यात्मिकता , वैज्ञानिकता एवं संस्कृति / संस्कार का महत्वपूर्ण योगदान था | हमारे देश भारत में प्रारंभ से ही व्यक्ति की अपेक्षा व्यक्तित्व का आदर्श ग्रहण किया जाता रहा है | प्रत्येक माता पिता अपनी संतान को शिक्षित बनाकर के समाज में स्थापित करना चाहते हैं | संसार में जितनी भी प्रकार की शिक्षा है सबका उद्देश्य एक ही है वह है व्यक्तित्व का विकास | वह व्यक्तित्व जो अपना प्रभाव सब पर डालता है , जो अपने साथियों पर जादू सा कर देता है | यह शक्ति का एक महान केंद्र है , जब यह शक्तिशाली व्यक्तित्व तैयार हो जाता है तो जो चाहे वह कर सकता है | यह व्यक्तित्व जिस वस्तु , व्यक्ति या समाज पर अपना प्रभाव डालता है उसी को कर्मठ बना देता है | इसीलिए हमारे पूर्वजों ने व्यक्ति की अपेक्षा व्यक्तित्व निर्माण को महत्व दिया है | व्यक्तित्व का निर्माण परिवार के संस्कार एवं किसी योग्य सद्गुरु के कुशल नेतृत्व में ही संभव है | व्यक्तित्व निर्माण का समय बाल्यावस्था का त्याग एवं युवावस्था के प्रारंभ से ही किया जा सकता है | किसी भी देश के लिए युवा ही ऊर्जा का काम करते हैं , जिस देश के युवाओं का व्यक्तित्व विकासशील होता है वहीं देश समृद्धशाली कहा जा सकता है और हमारे देश भारत में ऐसा ही था | इतिहास में अनेक युवाओं ने अपने कर्मों से देश का मान तो बढ़ाया ही साथ ही अपने पीछे एक उदाहरण भी प्रस्तुत कर गए |* *आज के भौतिकवादी युग में माता पिता अपनी संतान को प्रभावशाली तो बनाना चाहते हैं परंतु उनमें संस्कारों का आरोपण नहीं कर पा रहे हैं | ऐसा ना कर पाने का विशेष कारण यह भी कहा जा सकता है कि आज माता पिता स्वयं कहीं ना कहीं से संस्कार हीन होते चले जा रहे हैं | आज के समाज में जो देखने को मिल रहा है अभिभावक अपने बच्चों के लिए संपत्ति तो इकट्ठा कर रहे हैं परंतु जो उनके जीवन को प्रकाशित कर सके ऐसे संस्कार नहीं दे पा रहे हैं | बच्चों के दुलार में उनकी प्रत्येक उचित - अनुचित मांग को पूरा करना प्रत्येक अभिभावक अपना दायित्व समझते हैं | परंतु मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि संतान की समस्त इच्छाओं को अवश्य पूरा करें परंतु यह भी ध्यान रखें कि उसकी कौन सी मांग उचित है कौन अनुचित , क्योंकि जब संतान की प्रत्येक उचित - अनुचित मांगे पूरी होने लगती है तब हम उनमें ना तो अपने संस्कार आरोपित कर पाएंगे और ना ही उन्हें व्यक्तित्व प्रकट होगा जो कि समाज के लिए लाभकारी हो | प्रत्येक मनुष्य को अपने बच्चों में एक आदर्श व्यक्तित्व का विकास करने का प्रयास करना चाहिए , यदि प्रत्येक माता पिता अपने मन में यह निर्णय कर ले कि हम अपनी संतान में आदर्श व्यक्तित्व का विकास करेंगे तो विश्वास मानिए हमारा देश भारत पुनः विश्वगुरु बन सकता है |* *आज आवश्यकता है युवाओं को ऐसी शिक्षा देने की जून में एक आदर्श व्यक्तित्व की नींव डाल सके और यह मात्र विद्यालय प्रशासन का कार्य नहीं है अपितु इसके लिए अभिभावकों को भी प्रयास करना चाहिए |*

अगला लेख: जाकी रही भावना जैसी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अप्रैल 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेकों क्रिया - कलाप करता रहता है , भिन्न - भिन्न स्वभाव के लोगों की संगत करता रहता है | अपने स्वभाव के विपरीत लोगों के साथ रहकर अपने स्वभाव को बदलने का भी प्रयास करता रहता है | इसमें वह कुछ हद तक सफल भी हो जाता है , समय आने पर वह अपना मूल स्वभाव कहीं जाता नहीं है | वही व्यक
23 अप्रैल 2019
05 अप्रैल 2019
*मानव जीवन में यदि मनुष्य अपने कर्मों का शुभाशुभ फल प्राप्त करता है तो वहीं उसके जीवन पर कुण्डली में उपस्थित ग्रहों का भी सीधा प्रभाव देखने को मिलता है | ग्रहों के दुष्प्रभाव से मनुष्य का जीवन इतना अधिक प्रभावित हो जाता है कि मनुष्य राजा भी बन सकता है एवं कुछ ही पलों में राजा भी रंक हो जाता है | कभी
05 अप्रैल 2019
05 अप्रैल 2019
*ईश्वर की बनायी इस सृष्टि में जीव चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करता है | अनेक जन्मों के किये हुए सत्कर्मों के फलस्वरूप जीव को यह दुर्लभ मानवयोनि प्राप्त होती है | जहाँ शेष सभी योनियों को भोगयोनि कहा गया है वहीं मानवयोनि को कर्मयोनि की संज्ञा दी गयी | इस शरीर को प्राप्त करके मनुष्य अपने कर्मों के माध
05 अप्रैल 2019
05 अप्रैल 2019
*इस संसार में दुर्लभ मनुष्य शरीर पाकर के मनुष्य संसार में सब कुछ प्राप्त करने का प्रयास करता है | मनुष्य भूल जाता है कि देव दुर्लभ शरीर ही सब कुछ प्राप्त करने का साधन है इसी शरीर के भीतर अमृत भरा हुआ है , इसी में विष है तो इसी को पारस एवं कल्पवृक्ष भी कहा गया है | मनुष्य जो चाहे इसी शरीर से प्राप्त
05 अप्रैल 2019
19 अप्रैल 2019
*सनातन हिन्दू धर्म के चरित्रों का यदि अवलोकन करके आत्मसात करने का प्रयास कर लिया जाय तो शायद इस संसार में न तो कोई समस्या रहे और न ही कोई संशय | हमारे महान आदर्शों में पवनपुत्र , रामदूत , भगवत्कथाओं के परम रसिया अनन्त बलवन्त हनुमन्तलाल जी का जीवन दर्शन दर्शनीय है | हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाने में य
19 अप्रैल 2019
05 अप्रैल 2019
*इस संसार में अनेकों प्रकार के पंथ , संप्रदाय एवं धर्म देखे जा सकते हैं , प्रत्येक धर्म एवं संप्रदाय का अपना अपना नियम अपने व्रत , पर्व , त्यौहार यहां तक कि "नववर्ष" भी अलग होते हैं | जिस प्रकार ईसा (अंग्रेजी), चीन या अरब का कैलेंडर है उसी तरह राजा विक्रमादित्य के काल में भारतीय वैज्ञानिकों ने इन सब
05 अप्रैल 2019
29 अप्रैल 2019
*जब से इस धराधाम पर मानव का सृजन हुआ तब से लेकर आज तक मानव समाज को दिशा प्रदान करने के लिए कुछ विशेष व्यक्तियों के सहयोग एवं सेवा को कदापि नहीं भुलाया जा सकता | पृथ्वी के भिन्न-भिन्न भागों में अपने - अपने समाज को आगे बढ़ाने में एक दिशा निर्देशक एवं मार्गदर्शक अवश्य होता है | जिसे विद्वान कहा जाता है
29 अप्रैल 2019
16 अप्रैल 2019
*मनुष्य की इच्छायें एवं आवश्यकतायें अनन्त हैं | जब से मनुष्य इस धराधाम पर आया तब से ही यह दोनों चीजें विद्यमान हैं | एक सुंदर एवं व्यवस्थित जीवन जीने के लिए मनुष्य को नित्य नये आविष्कार करने पड़े , जहाँ जैसी आवश्यकता मनुष्य को प्रतीत हुई वहाँ वैसे आविष्कार मनुष्य करता चला गया | अपने इन्हीं आविष्कार
16 अप्रैल 2019
05 अप्रैल 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई हुई सृष्टि कर्म पर ही आधारित है | जो जैसा कर्म करता है उसको वैसा ही फल प्राप्त होता है | यह समझने की आवश्यकता है कि मनुष्य के द्वारा किया गया कर्म ही प्रारब्ध बनता है | जिस प्रकार किसान जो बीज खेत में बोता है उसे फसल के रूप में वहीं बाद में काटना पड़ता है | कोई भी मनुष्य अपने किए
05 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x