हनुमान जन्मोत्सव :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

19 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (30 बार पढ़ा जा चुका है)

हनुमान जन्मोत्सव :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन हिन्दू धर्म के चरित्रों का यदि अवलोकन करके आत्मसात करने का प्रयास कर लिया जाय तो शायद इस संसार में न तो कोई समस्या रहे और न ही कोई संशय | हमारे महान आदर्शों में पवनपुत्र , रामदूत , भगवत्कथाओं के परम रसिया अनन्त बलवन्त हनुमन्तलाल जी का जीवन दर्शन दर्शनीय है | हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाने में यद्यपि पुराणों में विरोधाभास है तथापि पूरे श्रद्धाभाव से यह पर्व आज चैत्र शुक्ल पूर्णिमा को पूरे देश में मनाया जा रहा है | हनुमान जी के सम्पूर्ण जीवन का यदि अवलोकन किया जाय तो हमें यह देखने को मिलता है कि अतुलित बल का भण्डार , पर्वताकार शरीर , पापियों के विनाशक , ज्ञानियों में अग्रगण्य , सभी गुणों के निधान , वानरों के अधिपति होने के बाद भी भगवान श्रीराम के प्रिय भक्त , दास एवं दूत बनकर ही सम्पूर्ण जीवन व्यतीत किया | समस्त गुणों की खान होने के बाद भी अभिमानरहित जीवन कैसे जिया जाता है यह हमें हनुमान जी के जीवन से सीखने को मिलता है | भगवान शिव के अंशावतार , ग्यारहवें रुद्र हनुमान जी का जीवन सेवा एवं समर्पण का अद्भुत उदाहरण है | यदि इनके सम्पूर्ण जीवन का दर्शन किया जाय तो कहीं भी अभिमान के दर्शन नहीं होते हैं | भक्तों को अभय प्रदान करने वाले , स्वामिभक्त हनुमान जी को मैया जानकी ने अजर , अमर होने का वरदान दिया | युग युगान्तर तक हनुमान जी इस धराधाम पर रहकर भगवत्कीर्तिपताका को फहराते हुए भक्तों की रक्षा करते रहेंगे | आवश्यकता है श्रद्धा एवं विश्वास की |* *आज के युग में अनेक लोग स्वयं को हनुमान जी का परम भक्त मानते हैं एवं समाज में दिखाने का प्रयास करते हैं , परंतु आज के मनुष्य में थोड़ी सी भी प्रमुखता गुणों में यदि आ जाती है उसका अहंकार प्रबल हो जाता है , और उनके इस अहंकार का प्रत्यक्ष दर्शन पूरा समाज करता है | किसी भी प्रकार का बल यदि मनुष्य को मिल जाता है , भगवान की कृपा से यदि बलिष्ठ शरीर मिल गया , थोड़ा सा ज्ञान प्राप्त कर लिया तो मनुष्य अपने समक्ष शेष सभी को तिनके के समान समझता है और दावा करता है मैं हनुमान जी के भक्त बनने का | हनुमान जी का भक्त यदि बनना तो हनुमान जी के आदर्शों का भी पालन करना होगा , कि किस प्रकार सभी गुण होने के बाद भी हनुमान जी को अभिमान किंचितमात्र भी नहीं था | देवताओं ने हनुमान जी को कलयुग का प्रत्यक्ष देवता माना है परंतु आज कुछ लोग प्रश्न करते हैं कि हनुमान जी आज रहते कहां हैं ? कभी दिखाई नहीं पड़ते ! ऐसे सभी लोगों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूंगा कि जहां-जहां भगवान की कथाएं होती है , जहाँ प्रेम से भगवान का नाम लिया जाता है हनुमान जी वही उपस्थित होकरके प्रेम से भगवान नाम स्मरण का रसपान करते रहते हैं | मनुष्य को हर प्रकार से अभयदान देने वाले अंजनी पुत्र का ध्यान श्रद्धा भक्ति के साथ करने से हनुमान जी प्रसन्न हो जाते हैं | आज देशभर में उनका जन्मोत्सव मनाया जा रहा है परंतु उनके आदर्शों पर आज लोग कदापि नहीं चलना चाहते | आज समाज में सेवक के द्वारा स्वामी के साथ , पुत्र के द्वारा पिता के साथ एवं शिष्य के द्वारा गुरु के साथ विश्वासघात करना साधारण सी बात हो गई है | ऐसे लोग हनुमान जी का जन्मोत्सव मनायें या ना मनायें इससे कोई लाभ नहीं मिलने वाला है | यदि वास्तव में हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाना है तो उनके आदर्शों पर चलने का प्रयास किया जाय |* *पुत्र का पिता के प्रति , शिष्य का गुरु के प्रति एवं सेवक का स्वामी के प्रति क्या दायित्व होता है यह हमें हनुमान जी से सीखने का प्रयास करना चाहिए |*

अगला लेख: जाकी रही भावना जैसी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 अप्रैल 2019
*आदिकाल से समस्त विश्व में भारत को सर्वोच्च स्थान प्राप्त था | यह सर्वोच्च स्थान हमारे देश भारत को ऐसे ही नहीं मिल गया था बल्कि इसके पीछे भारत की आध्यात्मिकता , वैज्ञानिकता एवं संस्कृति / संस्कार का महत्वपूर्ण योगदान था | हमारे देश भारत में प्रारंभ से ही व्यक्ति की अपेक्षा व्यक्तित्व का आदर्श ग्रहण
18 अप्रैल 2019
05 अप्रैल 2019
*चौरासी लाख योनियों में भटकने के बाद जीव को देव दुर्लभ मानव शरीर प्राप्त होता है | इस शरीर को पाकर के मनुष्य की प्रथम प्राथमिकता होती है स्वयं को एवं अपने समाज को जानने की , उसके लिए मनुष्य को आवश्यकता होती है ज्ञान की | बिना ज्ञान प्राप्त किये मनुष्य का जीवन व्यर्थ है | ज्ञान प्राप्त कर लेना महत्व
05 अप्रैल 2019
05 अप्रैल 2019
*इस संसार में दुर्लभ मनुष्य शरीर पाकर के मनुष्य संसार में सब कुछ प्राप्त करने का प्रयास करता है | मनुष्य भूल जाता है कि देव दुर्लभ शरीर ही सब कुछ प्राप्त करने का साधन है इसी शरीर के भीतर अमृत भरा हुआ है , इसी में विष है तो इसी को पारस एवं कल्पवृक्ष भी कहा गया है | मनुष्य जो चाहे इसी शरीर से प्राप्त
05 अप्रैल 2019
23 अप्रैल 2019
*आदिकाल से इस धरा धाम पर मनुष्य अपने कर्मों के माध्यम से सफलता एवं विफलता प्राप्त करता रहा है | किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम मनुष्य को छलहीन एवं निष्कपट होना परम आवश्यक है | मनुष्य कुछ देर के लिए सफल होकर अपनी सफलता पर प्रसन्न तो हो सकता है परंतु उसकी प्रसन्नता चिरस्थाई नह
23 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x