विष रस भरा कनक घट जैसे :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

23 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (314 बार पढ़ा जा चुका है)

विष रस भरा कनक घट जैसे :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमपिता परमात्मा ने इस सुंदर सृष्टि रचना की और इस सुंदर सृष्टि में सबसे सुंदर बनाया मनुष्य को | मनुष्य की सुंदरता दो प्रकार से परिभाषित की जाती है एक तो शरीर की सुंदरता दूसरे मन की सुंदरता | तन और मन का चोली दामन की तरह साथ होता है | यह दोनों ही एक दूसरे के पूरक और पोषक है , किंतु मनुष्य का सारा ध्यान पर आया शरीर की सुंदरता को संवारने में ही निकल जाता है एवं मनुष्य मन को सुंदर बनाने की ओर ध्यान नहीं देता है | इससे उसके मन में मलिनता आ जाती है | शरीर तो सुंदर हो जाता है परंतु मन असुंदर ही रह जाता है | ऐसे ही लोगों के लिए मानस में बाबा जी ने लिखा है :-- "मन मलीन तन सुंदर कैसे ! विष रस भरा कनक घट जैसे !!" बाबा जी ने बहुत ही गहरी बात लिखी है | यदि मन में मलिनता हो तो तन की सुंदरता व्यर्थ ही होती है , क्योंकि वह शरीर विष भरे सोने के कलश के समान हो जाता है | प्रत्येक मनुष्य को विचार करना चाहिए कि परमात्मा ने हमको सृष्टि का सर्वोत्तम उपहार यह सुंदर शरीर दिया है तो हमारे अंदर मन भी साफ , शुद्ध , छल क कपट से रहित निर्मल होना चाहिए , अन्यथा शरीर की सुंदरता का कोई अर्थ नहीं रह जाता है | मन की सुंदरता इसलिए आवश्यक है क्योंकि हमारे मनीषियों ने मनसा , वाचा और कर्मणा में पहला स्थान मन को दिया है , यदि मन ठीक है तो वचन और कर्म भी ठीक हो जाते हैं | मन से ही बोलने और करने की शुरुआत होती है यही आधार है | मनुष्य का मन जिस प्रकार होता है उसी प्रकार उस की प्रवृत्ति बन जाती है | मन का शोधन , स्वच्छता , व संयम अध्यात्म की पहली सीढ़ी है और उत्थान का मार्ग है | इसलिए अपने मन को सुंदर बनाने के लिए सतत प्रयत्नशील बने रहना चाहिए |* *आज समय बदला , समाज बदला , संबंध बदले किंतु तन मन की सुंदरता के बारे में सोच और विचार नहीं बदल पाया | आज भी तन के साथ मन की सुंदरता ही सच्ची सुंदरता मानी जाती है | मनुष्य को अपना मन सुंदर बनाने के लिए ज्ञान की आवश्यकता होती है , इसके साथ ही अपने स्वभाव को बदलना पड़ता है | कुभाव को छोड़कर सुभाव को अपनाना पड़ता है | अपने आचरण को सुंदर , सदाचारी बनाना पड़ता है ताकि सतोगुण बढे एवं रजोगुण व तमोगुण दूर हो सके | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि यदि मन शांत और स्थिर है तो मन में तनाव , कुंठा , क्रोध और अवसाद जैसे विकार नहीं प्रकट हो सकते हैं | अनावश्यक कष्ट और क्लेश जीवन में नहीं आते हैं | वस्तुत: निर्मल मन के व्यक्ति सच्चिदानंद स्वरूप भगवान को पा सकते हैं | जिसके मन में छल , कपट , वैर , द्वेष , घृणा और हिंसा के कुभाव भरे रहते हैं उनके सुकृत नष्ट हो जाते हैं | धन , साधन और सुविधाओं के रहने के बाद भी ऐसा व्यक्ति सुखी नहीं रह पाता है और भाँति - भाँति के दुखों से घिरा रहता है | मन को बड़ा चंचल कहा गया है | तनिक असावधानी से इस मन पर अज्ञान , आलस्य , प्रमाद , अकर्मण्यता और उदासीनता जैसे मैल की परत चढ़ जाती है | हम तन को तो धोते और संवारते रहते हैं किंतु मन मलिन और रोगी होता चला जाता है , और इसके परिणाम स्वरूप मनुष्य में मलिनता , अहंकार , स्वार्थ , चोरी , बेईमानी , धूर्तता तथा दुराचार आदि प्रकट हो जाते हैं , जिसका परिणाम सदैव विनाशकारी ही हुआ है |* *हमारे मनीषियों मन की स्वच्छता पर इसीलिए बल दिया है और प्रायः सभी धर्मग्रंथों में मन को ही साधने के लिए महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश भी दिए गए हैं | मन को साधने के लिए , सुंदर बनाने के लिए आत्मावलोकन परम आवश्यक है |*

अगला लेख: जाकी रही भावना जैसी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अप्रैल 2019
*परमपिता परमात्मा ने सुंदर संसार की रचना की , और इस संसार को एक उपवन की तरह बनाया | इस संसार में आपको प्रत्येक वस्तु मिलेगी चाहे वह सकारात्मक हो चाहे नकारात्मक | गोस्वामी तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा है :-- "जड़ चेतन गुण दोषमय विश्व कीन्ह करतार" अर्थात यहां गुण भी हैं और दोष भी | यह आपकी दृष्टि
23 अप्रैल 2019
29 अप्रैल 2019
*इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य को कई कर्तव्यों का पालन करना पड़ता है , इन्हीं कर्तव्यों में एक मुख्य कर्तव्य बताया गया है ज्ञान लेना एवं ज्ञान देना | सर्वप्रथम मनुष्य को किसी भी विषय में विधिवत ज्ञान प्राप्त करना चाहिए | उस विषय में पारंगत हो जाने के बाद कि मनुष्य को उस विषय की चर्चा करते हुए क
29 अप्रैल 2019
23 अप्रैल 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेकों क्रिया - कलाप करता रहता है , भिन्न - भिन्न स्वभाव के लोगों की संगत करता रहता है | अपने स्वभाव के विपरीत लोगों के साथ रहकर अपने स्वभाव को बदलने का भी प्रयास करता रहता है | इसमें वह कुछ हद तक सफल भी हो जाता है , समय आने पर वह अपना मूल स्वभाव कहीं जाता नहीं है | वही व्यक
23 अप्रैल 2019
19 अप्रैल 2019
*सनातन हिन्दू धर्म के चरित्रों का यदि अवलोकन करके आत्मसात करने का प्रयास कर लिया जाय तो शायद इस संसार में न तो कोई समस्या रहे और न ही कोई संशय | हमारे महान आदर्शों में पवनपुत्र , रामदूत , भगवत्कथाओं के परम रसिया अनन्त बलवन्त हनुमन्तलाल जी का जीवन दर्शन दर्शनीय है | हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाने में य
19 अप्रैल 2019
30 अप्रैल 2019
*जब से इस धराधाम पर मनुष्य का जन्म हुआ तब से मनुष्य प्रतिपल आनंद की खोज में ही रहा , क्योंकि मनुष्य आनन्दप्रिय प्राणी कहा गया है | आनंद की खोज में पूरा जीवन व्यतीत कर देने वाला मनुष्य कभी-कभी यह भी नहीं जान पाता है जो वास्तविक आनंद है क्या ?? हमारे धर्मग्रंथों में परमात्मा को ही आनन्द कहा गया है | स
30 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x