स्वभावो नोपदेशेन :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

23 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (12 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वभावो नोपदेशेन :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेकों क्रिया - कलाप करता रहता है , भिन्न - भिन्न स्वभाव के लोगों की संगत करता रहता है | अपने स्वभाव के विपरीत लोगों के साथ रहकर अपने स्वभाव को बदलने का भी प्रयास करता रहता है | इसमें वह कुछ हद तक सफल भी हो जाता है , समय आने पर वह अपना मूल स्वभाव कहीं जाता नहीं है | वही व्यक्ति जिसे समाज के लोग उपेक्षित दृष्टि से देखा करते थे वही व्यक्ति जब किसी सम्मानित व्यक्ति के साथ रहने लगता है तो समाज के लोग उसका भी सम्मान करने लगते हैं | लेकिन उसके जिस स्वभाव के कारण समाज ने उसे उपेक्षित किया था वह स्वभाव नहीं बदल पाता और अवसर मिलते ही अपना स्वभाव प्रदर्शित कर ही देता है | ऐसे लोग उस विषैले सर्प की तरह होते हैं जिसे चाहे जितना दूध पिलाओ परंतु अवसर मिलते ही वे विषवमन कर ही देते हैं | ऐसे लोग चाहे जितने अच्छे लोगों की संगत में रहें परंतु उनका मूल स्वभाव परिवर्तित नहीं हो पाता है | ऐसे लोगों के लिए पंचतंत्र में एक श्लोक देखने को मिलता है :- "स्वभावो नोपदेशेन शक्यते कर्तुमन्यथा ! सुतप्तमपि पानीयं पुनर्गच्छति शीतताम् !!" अर्थात :- किसी के स्वभाव या आदत को सिर्फ सलाह देकर बदलना संभव नहीं है, जैसे पानी को गरम करने पर वह गरम तो हो जाता है लेकिन पुनः स्वयं ठंडा हो जाता है | ये लोग इसी पानी की तरह होते हैं जो कि बहुत देर तक अपना स्वभाव परिवर्तित नहीं रख पाता | अपने इस स्वभाव के कारण ऐसे लोग समय समय पर उपेक्षित एवं तिरस्कृत भी होते रहते हैं परंतु स्वभाव नहीं बदलता |* *आज परिवार से लेकर समाज तक , धर्मक्षेत्र से लेकर राजनीति तक ऐसे लोगों का ही बोलबाला दिख रहा है | आज लोग इतने अवसरवादी हो गये हैं कि अपना स्वार्थ सिद्ध करने के बाद ऐसे पलटते हैं कि देखने वालों को महान आश्चर्य होता है | जिसके साथ मनुष्य दिन रात रहते हुए अपने जीवन के स्वर्णिम क्षणों को भोगता है उसी के साथ जब वह विश्वासघात करके आगे निकले का प्रयास करता है तो समाज को आश्चर्य होता है | आज चाहे राजनेता हों , चाहे कोई शिष्य हो या फिर मित्र हर कोई अवसरवादी क्रियाकलाप करते हुए देखे जा सकते हैं | किसी के साथ एक लम्बे समय तक रहकर समाज में स्थापित होने वाले जब अपने मार्गदर्शक के ही स्थान पर बैठने की लालसा में उसी के साथ विश्वासघात करते हैं तो यही समाज के प्रबुद्धजन कहते हैं कि ऐसा कैसे हो गया ? परंतु मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि यदि किसी ने ऐसा किया भी है तो इसमें आश्चर्य जैसी कोई बात नहीं होनी चाहिए क्योंकि यही ऐसे लोगों का मूल स्वभाव होता है जिसे परिवर्तित कर पाना कठिन ही नहीं बल्कि असम्भव भी है | जिस प्रकार किसी श्वान (कुत्ते) की टेंढ़ी पूंछ को सीधी करने के लिए लोहे की नली में डालकर धरती में इस प्रयोजन से गाड़ दो कि यह सीधी हो जायेगी , परंतु १०० साल के बाद भी यदि उस नली को जमीन से निकालकर पूंछ को निकाला जाय तो वह टेंढ़ी ही रहती है , उसी प्रकार ऐसे लोगों को भी एक लम्बे समय तक नित्य सदुपदेश देकर भी नहीं सुधारा जा सकता | ऐसा इसलिए होता है कि कुछ आदतें मनुष्य में वंशगत होती हैं जो कि कभी नहीं परिवर्तित हो पातीं | यदि ऐसा नहीं हो पाता है तो इसका मुख्य कारण यही माना जा सकता है कि मनुष्य किसी भी क्षेत्र में साधक नहीं बन पाया है | ऐसे लोग प्राय: अपने कर्मों के फलानुरूप रोते ही दिखाई पड़ते हैं |* *अपने स्वभाव को परिवर्तित न कर पाने के कारण मनुष्य जगह जगह अपमानित होना तो स्वीकार कर लेता है परंतु स्वभाव बदलने का प्रयास नहीं कर पाता |*

अगला लेख: जाकी रही भावना जैसी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अप्रैल 2019
*परमपिता परमात्मा ने सुंदर संसार की रचना की , और इस संसार को एक उपवन की तरह बनाया | इस संसार में आपको प्रत्येक वस्तु मिलेगी चाहे वह सकारात्मक हो चाहे नकारात्मक | गोस्वामी तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा है :-- "जड़ चेतन गुण दोषमय विश्व कीन्ह करतार" अर्थात यहां गुण भी हैं और दोष भी | यह आपकी दृष्टि
23 अप्रैल 2019
18 अप्रैल 2019
*आदिकाल से समस्त विश्व में भारत को सर्वोच्च स्थान प्राप्त था | यह सर्वोच्च स्थान हमारे देश भारत को ऐसे ही नहीं मिल गया था बल्कि इसके पीछे भारत की आध्यात्मिकता , वैज्ञानिकता एवं संस्कृति / संस्कार का महत्वपूर्ण योगदान था | हमारे देश भारत में प्रारंभ से ही व्यक्ति की अपेक्षा व्यक्तित्व का आदर्श ग्रहण
18 अप्रैल 2019
23 अप्रैल 2019
*परमपिता परमात्मा ने इस सुंदर सृष्टि रचना की और इस सुंदर सृष्टि में सबसे सुंदर बनाया मनुष्य को | मनुष्य की सुंदरता दो प्रकार से परिभाषित की जाती है एक तो शरीर की सुंदरता दूसरे मन की सुंदरता | तन और मन का चोली दामन की तरह साथ होता है | यह दोनों ही एक दूसरे के पूरक और पोषक है , किंतु मनुष्य का सारा ध
23 अप्रैल 2019
30 अप्रैल 2019
*जब से इस धराधाम पर मनुष्य का जन्म हुआ तब से मनुष्य प्रतिपल आनंद की खोज में ही रहा , क्योंकि मनुष्य आनन्दप्रिय प्राणी कहा गया है | आनंद की खोज में पूरा जीवन व्यतीत कर देने वाला मनुष्य कभी-कभी यह भी नहीं जान पाता है जो वास्तविक आनंद है क्या ?? हमारे धर्मग्रंथों में परमात्मा को ही आनन्द कहा गया है | स
30 अप्रैल 2019
29 अप्रैल 2019
*जब से इस धराधाम पर मानव का सृजन हुआ तब से लेकर आज तक मानव समाज को दिशा प्रदान करने के लिए कुछ विशेष व्यक्तियों के सहयोग एवं सेवा को कदापि नहीं भुलाया जा सकता | पृथ्वी के भिन्न-भिन्न भागों में अपने - अपने समाज को आगे बढ़ाने में एक दिशा निर्देशक एवं मार्गदर्शक अवश्य होता है | जिसे विद्वान कहा जाता है
29 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x