छुद्रता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

29 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (40 बार पढ़ा जा चुका है)

छुद्रता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद अपनी जीवन यात्रा में आगे बढ़ने के लिए प्रत्येक मनुष्य का एक लक्ष्य होता | हमारे महापुरुषों ने मानव जीवन का लक्ष्य एवं उद्देश्य आत्मोन्नति करते हुए सदाचरण का पालन करके ईश्वर की प्राप्ति करना बताया है | ईश्वर को प्राप्त करने के लिए वैसे तो मनुष्य अनेक साधन साधता है परंतु अपने हृदय में व्याप्त स्वार्थपरता , काम , क्रोध , मोह , लोभ , संकीर्ण मानसिकता एवं छुद्रता का त्याग नहीं कर पाता | ऐसे व्यक्ति चाहे जितना उद्योग कर लें उन्हें परमात्मा की प्राप्ति कभी नहीं हो सकती , क्योंकि राघवेन्द्र सरकार ने स्वयं घोषणा की है :- "निर्मल मन जन सो मोंहिं पावा ! मोहिं कपट छल छिद्र न भावा !!" कोई भी मनुष्य जानबूझ कर यह अवगुण स्वयं में नहीं लाना चाहता बल्कि यह सारे अवगुण मनुष्य में उसकी महत्वाकांक्षा के कारण स्वत: प्रकट हो जाते हैं | मनुष्य का महत्वकांक्षी होना एक स्वभाविक गुण होता है | हर व्यक्ति जीवन में कुछ विशेष प्राप्त करने की इच्छा रखता है | मनुष्य अनेक प्रकार की कल्पनाएँ करता है | वह स्वयं को ऊपर उठाने के लिए योजनाएँ बनाता है | कल्पना तो सबके पास होती हैं लेकिन कल्पना को साकार करने की शक्ति केवल किसी-किसी के पास ही होती है | जिनके पास इन शक्तियों का अभाव होता है वही लोग अवगुणों एवं गवत मार्गों का अनुसरण करके अपनी महत्वाकांक्षा को पूर्ण करना चाहते हैं | ऐसे व्यक्तियों का उद्देश्य केवल अपने आप ऊपर उठाकर अपनी महत्वाकांक्षा को पूरा करना होता है भले उनके इस कार्य के लिए समाज में उनका असम्मान हो जाय | जब मनुष्य ऐसा करने लगता है तो वह अपने जीवन के परम लक्ष्य को भूल जाता है और सांसारिकता में मगन रहने लगता है |* *आज के भौतिकवादी युग में प्राय: यही देखने को मिल रहा है कि लोग जीवन का लक्ष्य मात्र अपने स्वार्थ एवं निजी महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति तक सीमित हैं | जबकि ऐसा करने से मनुष्य के उद्देश्य छुद्र बन जाते हैं , एवं उनकी मानसिकता भी संकीर्ण बन कर रह जाती है | इस संकीर्ण स्वार्थपरता को धीरे धीरे व्यक्तित्व का विनाश करने का अवसर मिल जाता है | ऐसे व्यक्ति मात्र जीवन का लक्ष्य विलास - वैभव मान कर बैठ जाते हैं , एवं उनकी आत्मा के मार्ग अवरुद्ध हो जाते हैं | इन्हीं निकृष्ट उद्देश्यों की पूर्ति के लिए ऐसे व्यक्ति अपने शरीर , स्वास्थ्य , मन एवं विचारों को भी नष्ट करते दिखाई पड़ते हैं | छुद्र विचारों के निरंतर प्रहारों से उनका मन मस्तिष्क श्मशान की तरह मनोविकारों की जलती चिताओं से भरा रहता है | जिस जीवन को सुख , शांति , आनंद के साथ जिया जा सकता था उसी जीवन को दुखों का जखीरा बनने में देर नहीं लगती | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि सोंच में छोटा मन रखने वाले ना तो स्वयं विकसित हो पाते हैं और ना ही वे अपने परिवार के विकास - पोषण के लिए कोई सम्यक व्यवस्था बना पाते हैं | ऐसे व्यक्तियों के यहां के बच्चे भी संस्कारहीन हीं हो जाते हैं , और उनकी मानसिकता के अनुसार उनके आचरण समाज में परिलक्षित होते हैं | जिस प्रकार मनुष्य का आचरण होता है उससे उसके भीतर की छुद्रता एवं निकृष्टता का परिचय स्वत: मिल जाता है | मनुष्य की छुद्रता देखने में तो लाभदायक लगती है परंतु उसके दुष्परिणाम व्यक्तिगत पतन से लेकर सामाजिक असहयोग के रूप में दिखाई पड़ते हैं |* *यदि मानव जीवन के लक्ष्य को प्राप्त करना है तो सर्वप्रथम अपनी मानसिकता को सकारात्मक रखते हुए अपने जीवन में उदारता का समावेश करना ही होगा |*

अगला लेख: जाकी रही भावना जैसी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अप्रैल 2019
*जब से इस धराधाम पर मानव का सृजन हुआ तब से लेकर आज तक मानव समाज को दिशा प्रदान करने के लिए कुछ विशेष व्यक्तियों के सहयोग एवं सेवा को कदापि नहीं भुलाया जा सकता | पृथ्वी के भिन्न-भिन्न भागों में अपने - अपने समाज को आगे बढ़ाने में एक दिशा निर्देशक एवं मार्गदर्शक अवश्य होता है | जिसे विद्वान कहा जाता है
29 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x