गर्भावस्था में अवश्य खाएं किशमिश, फिर देखें कमाल

01 मई 2019   |  मिताली जैन   (143 बार पढ़ा जा चुका है)

गर्भावस्था में अवश्य खाएं किशमिश, फिर देखें कमाल

गर्भावस्था के नाजुक दौर में हर स्त्री को अपना अतिरिक्त ध्यान रखना पड़ता है। खासतौर से, उसके द्वारा खाई गई हर चीज का असर उसके गर्भस्थ शिशु पर पड़ता है। ऐसे में यह जरूरी है कि एक गर्भवती स्त्री डाॅक्टर के परामर्श के अनुसार ही खाद्य पदार्थों का चयन करे। यूं तो इस अवस्था में बहुत सी चीजों को खाने की मनाही होती है। लेकिन किशमिश ऐसी मेवा है, जिसका सेवन आप बेझिझक होकर कर सकती हैं। इतना ही नहीं, अगर गर्भावस्था या प्रसव के बाद किशमिश का सेवन किया जाए तो इससे बहुत से लाभ प्राप्त होते हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-


करे दांतों की देखभाल


गर्भावस्था में स्त्री के दांत अधिक सेंसेटिव हो जाते हैं। कई बार तो गर्भवती स्त्री को मसूड़ों से खून आने की भी समस्या होती है। वहीं अगर इस अवस्था में ओरल हेल्थ का ख्याल न रखा जाए तो बार-बार मतली व उल्टी आती है। ऐसे में किशमिश का सेवन करना काफी अच्छा माना जाता है। दरअसल, किशमिश में ओलीनोलिक एसिड होता है, जो दांतों को कैविटी और क्षय से बचाता है। यह मुंह की बदबू पैदा करने वाले बैक्टीरिया और मुंह की अन्य समस्याओं को भी रोकता है।


कब्ज का इलाज


गर्भावस्था के शुरूआती समय में अधिक महिलाओं को कब्ज की शिकायत होती है, ऐसे में किशमिश का सेवन करना चाहिए। किशमिश में उच्च फाइबर सामग्री होती है और गर्भावस्था के शुरुआती समय में कब्ज के दौरान होने वाली सबसे आम समस्या का इलाज करने में प्रभावी होती है। यह सूखा फल पानी को अवशोषित करता है और एक रेचक प्रवृत्ति बनाता है जो मल त्याग को आसान बनाता है।


बढ़ाए ब्लड सेल्स


गर्भावस्था के दौरान अधिकतर महिलाओं में आयरन की कमी हो जाती है, जिसका मुख्य कारण उनका आहार होता है। इस अवस्था में महिला को अधिक लौह तत्व की आवश्यकता होती है क्योंकि वे बढ़ते भ्रूण के लिए पोषक तत्व प्रदान करती हैं। किशमिश में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, आयरन और कई ऐसे खनिज होते हैं जो शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाते हैं।


रोके कैंसर


गर्भावस्था के दौरान स्त्री के शरीर में कई तरह के परिवर्तन होते हैं। खासतौर से, इस अवस्था में हार्मोनल बदलाव काफी होते हैं। जिसके कारण स्त्री को कई गंभीर रोग होने की संभावना रहती है। कैंसर भी इसी में से एक है। लेकिन अगर आप किशमिश का सेवन करती हैं तो आपको यह गंभीर रोग होने की आशंका काफी हद तक कम हो जाती है। किशमिश में पाए जाने वाले एंटीऑक्सिडेंट शरीर में मौजूद मुक्त कणों से लड़ते हैं जो कैंसर के ट्यूमर के निर्माण का एक मुख्य कारण हैं।


बेहतर पाचन तंत्र


गर्भवती स्त्री को अधिकतर पाचन संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, लेकिन अगर आप किशमिश का सेवन करेगी तो आपका पाचनतंत्र बेहतर तरीके से काम करेगा। किशमिश में मौजूद मैग्नीशियम और पोटेशियम अम्लता को कम करके पाचन को आसान बनाते हैं। इसके अतिरिक्त किशमिश की रेशेदार सामग्री जठरांत्र संबंधी मार्ग को साफ करने और शरीर से अपशिष्ट पदार्थों और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करती है। यह प्रक्रिया गर्भवती महिला के शरीर में भोजन की आवश्यकता को भी बढ़ाती है जो बच्चे के विकास और उनके संपूर्ण स्वास्थ्य दोनों के लिए आवश्यक है।


उच्च उर्जा का स्तर


आपने कभी नोटिस किया होगा कि एक गर्भवती स्त्री अधिकतर थकान व शरीर में गिरावट का अहसास करती है। लेकिन अगर आप किशमिश को डाइट का हिस्सा बनाएंगी तो आपको अत्यधिक थकान की शिकायत नहीं रहेगी। किशमिश अंगूर का सूखा हुआ रूप है और इसमें फ्रक्टोज और ग्लूकोज की भरपूर मात्रा होती है जो हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन से आवश्यक विटामिन को अवशोषित करता है और इस प्रकार शरीर में ऊर्जा लाता है। इसके अतिरिक्त किशमिश भी माँ की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है और यह श्रम और प्रसव के दौरान बहुत आवश्यक शारीरिक शक्ति देता है।


बच्चे के लिए लाभदायक


जहां एक ओर किशमिश गर्भवती स्त्री के लिए फायदेमंद है, वहीं दूसरी ओर यह गर्भ में पल रहे भ्रूण के लिए भी कई मायनों में लाभदायक है। गर्भावस्था के दौरान किशमिश का सेवन करने से बढ़ते भ्रूण को अच्छी दृष्टि विकसित करने में मदद मिलती है। इसके अतिरिक्त किशमिश में पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम और आयरन होता है। गर्भवती होने पर किशमिश खाने से बच्चे की हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद मिलती है।


अगला लेख: यह संकेत बताते हैं कि आपके शरीर को जरूरत है विटामिन सी की



basant singh
02 मई 2019

jankari kam ki thi

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अप्रैल 2019
आज के समय में लोग कई तरह की बीमारियों से ग्रस्त हैं। उच्च रक्तचाप की समस्या इन्हीं में से एक है। इसे एक साइलेंट किलर कहा जाता है। ब्लडप्रेशर की समस्या आज के समय में बेहद आम होती जा रही है। धूम्रपान, मोटापा, शारीरिक गतिविधियों में कमी, भोजन में अत्यधिक नमक, बढ़ती उम्र, अनुवांशिकता, शराब, तनाव, नींद सं
29 अप्रैल 2019
23 अप्रैल 2019
गर्मी का मौसम आते ही लोग दही का उपयोग अधिक मात्रा में करने लगते हैं। चूंकि इसकी तासीर ठंडी होती है और यह शरीर के तापमान को बनाए रखती है, इसलिए कभी लोग इसे रायता तो कभी लस्सी तो कभी शेक के रूप में इस्तेमाल करते हैं। वैसे तो आपने भी दही का स्वाद कई रूपों में चखा होगा, लेकिन यह सिर्फ भीतरी तौर पर ही आप
23 अप्रैल 2019
28 अप्रैल 2019
प्रोटीन का पावरहाउस माना जाने वाला अंडा सेहत के लिए तो लाभकारी होता है ही, साथ ही यह सौंदर्य का भी उतने ही बेहतरीन तरीके से ख्याल रखता है। खासतौर से, बालों को मजबूती प्रदान करने, रूसी से निजात पाने और बालों में नई चमक देने के लिए अंडे का प्रयोग किया जा सकता है। दरअसल, अंडे में प्रोटीन के अतिरिक्त कई
28 अप्रैल 2019
26 अप्रैल 2019
गर्मी के मौसम में खानपान को लेकर बेहद सतर्कता बरतनी पड़ती है। अगर इस तपिश भरे मौसम में खानपान में लापरवाही हो तो पेट में गैस की समस्या शुरू हो जाती है। यह गैस की समस्या व्यक्ति को काफी बैचेन कर देती है। इसके कारण गैस के चलते पेट में भारीपन व दर्द, आंखों में जलन, उल्टी आने का अहसास होना और सिर में दर्
26 अप्रैल 2019
20 अप्रैल 2019
करेले स्वाद में भले ही कड़वा हो लेकिन इसके लाभ अनगिनत हैं। कुछ लोग महज इसके कड़वे स्वाद के चलते करेले को डाइट में शामिल नहीं करते। लेकिन अगर आप इसकी सब्जी या जूस का नियमित रूप से सेवन करते हैं तो बहुत सी बीमारियों को अपने पास फटकने से भी रोक सकते हैं। तो चलिए जानते हैं करेले के सेवन से स्वास्थ्य को हो
20 अप्रैल 2019
17 अप्रैल 2019
लौंग का उपयोग भारतीय रसोई मंे मसाले के रूप में वर्षों से होता आ रहा है। कभी भोजन का स्वाद बढ़ाने तो कभी किसी स्वास्थ्य समस्या को दूर करने में इसका उपयोग किया जाता है। लौंग में कई तरह के पोषक तत्व जैसे विटामिन ए, विटामिन सी, कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, सोडियम व फॉस्फोरस आदि की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।
17 अप्रैल 2019
21 अप्रैल 2019
सभी फलों में सेब को सबसे अधिक सेहतमंद माना जाता है। कहा भी जाता है कि “एन एप्पल ए डे, कीप्स द डॉक्टर अवे” यानि एक सेब रोज खाने वाले व्यक्ति को कभी डाॅक्टर के पास जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती। सेब से व्यक्ति को कई तरह के पोषक तत्व, एंटीऑक्सीडेंट व फाइबर आदि प्राप्त होता
21 अप्रैल 2019
25 अप्रैल 2019
ट्यूबरक्लोसिस केवल हमारे फेफड़ो को ही प्रभावित नहीं करती है बल्कि यह मस्तिष्क को भी प्रभावित करती है। टीबी का बैक्टीरियल इंफेक्शन हमारे ब्रेन को क्षति पहुंचाती है जिसके कारण दिमाग के ऊतकों में सूजन आ जाती है। ब्रेन टीबी को मेनिनजाइटिस ट्यूबरक्लोसिस के नाम से भी जाना ज
25 अप्रैल 2019
09 मई 2019
पारा इन दिनों पूरे चरम पर है। मौसम में तपिश को आसानी से महसूस किया जा सकता है। ऐसे में जरूरत होती है शरीर को भीतर से ठंडा रखने की। इसमें आपका खानपान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में बता रहे हैं, जो गर्मी को मात देने के साथ-साथ आपको ठंडा रखते है
09 मई 2019
25 अप्रैल 2019
जिफी 200 टैबलेट का उपयोग बैक्टीरीयल संक्रमण को खत्म के लिए इलाज में प्रयोग में लाई जाती है। यह दवाई बैक्टीरिया को विकास को रोकता है और एंटीबायोटिक के रुप में काम करता है। इस दवा का उपयोग सीने में संक्रमण, कान के संक्रमण, गलें में इंफेक्शन को और टाइफाइड बुखार के होने पर उपचार के लिए डॉक्टर द्वारा अनु
25 अप्रैल 2019
17 अप्रैल 2019
लौंग का उपयोग भारतीय रसोई मंे मसाले के रूप में वर्षों से होता आ रहा है। कभी भोजन का स्वाद बढ़ाने तो कभी किसी स्वास्थ्य समस्या को दूर करने में इसका उपयोग किया जाता है। लौंग में कई तरह के पोषक तत्व जैसे विटामिन ए, विटामिन सी, कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, सोडियम व फॉस्फोरस आदि की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।
17 अप्रैल 2019
24 अप्रैल 2019
नैक्सडम टैबलेट का उपयोग ऑस्टियोआर्थराइटिस, संधिशोथ, स्पॉन्डिलाइटिस, सिरदर्द, और माइग्रेन रोग होने पर दर्द निवारक के रुप में किया जाता है। गंभीर परिस्थितियों में इस दवा को 35 किलोग्राम से कम वजन वाले रोगियों में उपयोग के लिए अनुशंसित नहीं किया जाता है। यह टैबलेट नॉन-स्
24 अप्रैल 2019
20 अप्रैल 2019
करेले स्वाद में भले ही कड़वा हो लेकिन इसके लाभ अनगिनत हैं। कुछ लोग महज इसके कड़वे स्वाद के चलते करेले को डाइट में शामिल नहीं करते। लेकिन अगर आप इसकी सब्जी या जूस का नियमित रूप से सेवन करते हैं तो बहुत सी बीमारियों को अपने पास फटकने से भी रोक सकते हैं। तो चलिए जानते हैं करेले के सेवन से स्वास्थ्य को हो
20 अप्रैल 2019
28 अप्रैल 2019
गर्मी के मौसम में सूरज की हानिकारक किरणें कई तरह की समस्या पैदा करती हैं। इन्हीं में से एक है टैनिंग। यूं तो सूरज की किरणों से बचने के लिए लोग सनस्क्रीन क्रीम का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन कुछ ही देर में इसका असर खत्म हो जाता है और त्वचा के खुले हिस्सों में टैनिंग होती है। अगर आप भी अनइवन स्किन के कार
28 अप्रैल 2019
03 मई 2019
मनुष्य के शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए कई तरह के पोषक तत्वों जैसे प्रोटीन, फाइबर, मिनरल्स और विटामिन की जरूरत होती है। इन सभी के काॅम्बिनेशन से ही व्यक्ति स्वस्थ रह सकता है। लेकिन जब कभी आप अपने आहार पर लंबे समय तक ध्यान नहीं देते तो शरीर में कई तरह के पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। वैसे
03 मई 2019
22 अप्रैल 2019
पिछले कुछ समय से योग के महत्व को पूरी दुनिया ने माना है और यही कारण है कि आज के समय में लोग अपनी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए दवाईयों से अधिक योगाभ्यास करना ज्यादा उचित समझते हैं। वैसे तो योग में कई तरह के योगासनों को शामिल किया गया है, लेकिन कपालभांति एक ऐसा प्रणायाम है, जिसे करने में न तो ज्यादा समय
22 अप्रैल 2019
25 अप्रैल 2019
कंडोम का उपयोग सेक्स के दौरान अनचाहे गर्भधारण से बचने के लिए किया जाता है। इसका प्रयोग सिर्फ अनचाहे गर्भधारण से बचने के लिए बल्कि यह यौन संचारित रोग जैसें- एड्स, गोनेरिया जैसी बीमारी होने का खतरा भी कम कर देता है। एक आंकड़े के मुताबिक दुनियाभर में करीब 5 अरब से अधिक ल
25 अप्रैल 2019
30 अप्रैल 2019
अमूमन महिलाएं अपनी स्किन के अनचाहे बालों से छुटकारा पाने के लिए वैक्सिंग का सहारा लेती हैं। इससे बाल जड़ से निकल जाते हैं और स्किन भी एकदम स्मूद दिखती है। लेकिन कुछ महिलाओं को वैक्सिंग करवाने के कुछ समय बाद स्किन पर दाने नजर आते हैं। जिसके कारण वह परेशान हो जाती हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा ही कुछ हो रहा
30 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x