बुध का मेष में गोचर

02 मई 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (10 बार पढ़ा जा चुका है)

बुध का मेष में गोचर

बुध का मेष राशि में संक्रमण 2019

शुक्रवार तीन मई वैशाख कृष्ण चतुर्दशी को सायं पाँच बजकर तीन मिनट के लगभग शकुनि करण और प्रीति योग में बुध मेष राशि और अश्विनी नक्षत्र पर प्रस्थान कर जाएगा | मेष राशि पर भ्रमण करते हुए बुध 11 मई को भरणी नक्षत्र तथा 17 मई को कृत्तिका नक्षत्र पर भ्रमण करेगा, और अन्त में कृत्तिका नक्षत्र पर ही भ्रमण करते हुए 18 मई को रात्रि ग्यारह बजकर पैंतीस मिनट के लगभग अपने मित्र गृह शुक्र की वृषभ राशि में प्रस्थान कर जाएगा | इस बीच नौ मई से बुध अस्त भी रहेगा | बुध की अपनी राशि मिथुन से मेष राशि एकादश भाव तथा कन्या से अष्टम भाव बन जाती है | जबकि मेष राशि के लिए बुध तृतीयेश और षष्ठेश है | मेष राशि पर भ्रमण करते हुए बुध की दृष्टि अपने मित्र ग्रह शुक्र की तुला राशि पर रहेगी और तुला राशि के लिए बुध नवमेश तथा द्वादशेश है | अस्तु, इन्हीं समस्त बातों को ध्यान में रखते हुए सभी राशियों पर बुध के मेष राशि में होने वाले गोचर के सम्भावित प्रभावों के विषय में बात करते हैं...

किन्तु ध्यान रहे, ये समस्त फल सामान्य हैं | व्यक्ति विशेष की कुण्डली का व्यापक अध्ययन करके ही किसी निश्चित परिणाम पर पहुँचा जा सकता है | अतः कुण्डली का विविध सूत्रों के आधार पर व्यापक अध्ययन कराने के लिए किसी Astrologer के पास ही जाना उचित रहेगा |

मेष : आपके लिए बुध तीसरे और छठे भावों का स्वामी होकर लग्न में गोचर कर रहा है | आपके लिए इसका मिश्रित फल हो सकता है | आपके छोटे भाई बहनों के साथ आपके सम्बन्धों में किसी प्रकार का तनाव उत्पन्न हो सकता है | किन्तु आपके छोटे भाई बहनों के लिए यह गोचर भाग्यवर्द्धक सिद्ध हो सकता है | हाथ के कारीगरों को, कलाकारों को, डॉक्टर वैद्यों को, प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे व्यक्तियों को, स्पोर्ट्स से सम्बद्ध लोगों को लाभ होने की सम्भावना है | किन्तु साथ ही स्वास्थ्य की और से भी सावधान रहने की आवश्यकता है | सरदर्द, कमर दर्द, जोड़ों और माँसपेशियों में अकडन या दर्द का अनुभव इस अवधि में हो सकता है |

वृषभ : आपका द्वितीयेश और पंचमेश होकर बुध का गोचर आपके द्वादश भाव में हो रहा है | यदि आप किसी नौकरी में हैं तो आपकी पदोन्नति होकर आपका कहीं ट्रांसफर भी हो सकता है | अपना स्वयं का व्यवसाय है तो भी आपको बाहर से आर्थिक लाभ की सम्भावना की जा सकती है | आपकी सन्तान उच्च शिक्षा के लिए विदेश जा सकती है | आप भी उच्च शिक्षा के लिए अथवा संगोष्ठियों आदि में भाग लेने के लिए विदेश अथवा किसी अन्य शहरों की यात्राएँ कर सकते हैं | किन्तु जिस तरह आपकी आय में वृद्धि की सम्भावना है उसी प्रकार आपके खर्च भी बढ़ सकते हैं, अतः बजट बनाकर चलेंगे तो इस स्थिति से बच सकते हैं |

मिथुन : आपके लिए बुध लग्नेश और चतुर्थेश होकर योगकारक है | आपकी लग्न से यह लाभ स्थान में गोचर कर रहा है | आपके लिए विशेष रूप से यह भाग्योदय का समय प्रतीत होता है | पहले से रुके हुए कार्य बन सकते हैं | व्यापार में उन्नति तथा नौकरी में हैं पदोन्नति के साथ साथ किसी प्रकार के पुरूस्कार और सम्मान आदि भी प्राप्त होने की सम्भावना है | बड़े भाई, मित्रों तथा अधिकारी वर्ग का सहयोग इस अवधि में आपको प्राप्त होता रहेगा | परिवार में आनन्द का वातावरण रहने की सम्भावना है | आप नया घर भी खरीद सकते हैं अथवा वर्तमान आवास को ही Renovate करा सकते हैं |

कर्क : कर्क राशि के लिए तृतीयेश और द्वादशेश होकर बुध आपकी लग्न से कर्म स्थान में गोचर कर रहा है | आरम्भ में कार्य में व्यवधान भी उपस्थित हो सकते हैं, किन्तु अन्त में अपनी बुद्धि के बल पर आप अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकने में समर्थ हो सकते हैं | कार्य के सिलसिले में आपको दूर पास की यात्राएँ भी करनी पड़ सकती हैं, किन्तु इन यात्राओं के दौरान आपको अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा | कफ से सम्बन्धित अथवा जोड़ों और माँसपेशियों में दर्द की समस्या हो सकती है | आपके भाई बहनों के लिए भाग्योदय का समय प्रतीत होता है |

सिंह : आपके लिए बुध द्वितीयेश और एकादशेश होकर आपके भाग्य स्थान में गोचर कर रहा है | आपके लिए विशेष रूप से भाग्योदय का समय प्रतीत होता है | व्यवसाय में प्रगति, नौकरी में पदोन्नति तथा अर्थ और यश प्राप्ति के संकेत हैं | साथ ही यदि आप कोई नया कार्य आरम्भ करना चाहते हैं तो उसके लिए भी अनुकूल समय प्रतीत होता है | आपकी वाणी तथा लेखन का प्रभाव लोगों पर पड़ेगा और आपको उसका लाभ भी प्राप्त होगा | धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में आपकी रूचि बढ़ सकती है | आपके पिता तथा मित्रों का सहयोग आपको निरन्तर प्राप्त होता रहेगा |

कन्या : आपके लिए आपका लग्नेश तथा दशमेश होकर बुध योगकारक ग्रह है तथा आपकी राशि से अष्टम भाव में गोचर कर रहा है | स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ आपके कार्य में बाधक बन सकती हैं अतः अपने खान पर नियन्त्रण रखने तथा नियमित व्यायाम करने की आवश्यकता है | सहकर्मियों का तथा मित्रों का साथ आपको उपलब्ध रहेगा जिसके कारण आपका उत्साहवर्धन होगा | अचानक ही आपको कोई नया कार्य भी प्राप्त हो सकता है जो आपको लम्बे समय तक व्यस्त रख सकता है तथा कार्य से सम्बन्धित विदेश यात्राओं में वृद्धि हो सकती है |

तुला : आपके लिए बुध भाग्येश तथा द्वादशेश है तथा आपके राश्यधिपति शुक्र का मित्र ग्रह होकर आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचर कर रहा है | आपके अपने कार्य के लिए यह गोचर लाभदायक प्रतीत होता है | यदि आपका जीवन साथी अथवा प्रेमी / प्रेमिका किसी दूसरे शहर अथवा विदेश में निवास करते हैं तो इस अवधि में उनकी घर वापसी भी सम्भव है | साथ ही अपने जीवन साथी के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने की आवश्यकता है | आपकी रूचि धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में बढ़ सकती है | सामाजिक मान प्रतिष्ठा में वृद्धि की भी सम्भावना है |

वृश्चिक : आपके लिए बुध अष्टमेश और एकादशेश है तथा आपके छठे भाव में गोचर करने जा रहा है | एक ओर जहाँ आपके स्वास्थ्य की दृष्टि से यह गोचर कुछ अनुकूल नहीं प्रतीत होता, वहीं दूसरी ओर यदि किसी प्रकार का कोई कोर्ट केस चल रहा है तो उसमें अनुकूल दिशा में प्रगति की सम्भावना तथा उसके द्वारा आपको लाभ की भी सम्भावना प्रतीत होती है | आर्थिक दृष्टि से भी यह गोचर अनुकूल प्रतीत होता है | जोड़ों तथा माँसपेशियों में दर्द और पित्त तथा ज्वर आदि की समस्याओं से बचने के लिए उचित व्यायाम तथा खान पान पर ध्यान देने की आवश्यकता है |

धनु : धनु राशि के लिए सप्तमेश और दशमेश होकर बुध योगकारक हो जाता है तथा इस समय आपकी लग्न से पंचम भाव में गोचर करने वाला है | एक ओर आपकी निर्णायक क्षमता में वृद्धि की सम्भावना है, जिसके कारण आपके व्यवसाय में प्रगति होगी | नौकरी में हैं तो उसमें भी पदोन्नति की सम्भावना है | नए प्रोजेक्ट्स मिलने के कारण आप बहुत अधिक व्यस्त हो सकते हैं | वहीं दूसरी ओर आपकी सन्तान के लिए भी यह गोचर भाग्यवर्द्धक प्रतीत होता है | सन्तान की ओर से कोई शुभ समाचार इस अवधि में आपको प्राप्त हो सकता है | सामाजिक गतिविधियों में वृद्धि के साथ ही मान सम्मान में वृद्धि के भी संकेत हैं |

मकर : बुध आपका षष्ठेश और भाग्येश है तथा आपके चतुर्थ भाव में गोचर कर रहा है | आरम्भ में कुछ समय तक परिवार में किसी प्रकार के तनाव का सामना करना पड़ सकता है | हो सकता है परिवार में कोई प्रॉपर्टी से सम्बन्धित विवाद इस समय उग्र हो जाए | किन्तु धीरे धीरे स्थितियाँ सामान्य हो सकती हैं | आपकी माता जी के स्वास्थ्य के लिए भी यह गोचर कुछ अनुकूल नहीं प्रतीत होता | मानसिक तनावों के कारण सम्भव है आपकी रूचि धार्मिक कार्यों में बढ़ जाए | आपको पेट से सम्बन्धित कोई समस्या हो सकती है अतः खान पान पर ध्यान देना आवश्यक है |

कुम्भ : आपका पंचमेश और अष्टमेश होकर बुध आपके तृतीय भाव में गोचर कर रहा है | आपके पराक्रम में वृद्धि की सम्भावना है | अचानक ही आपको कोई शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है | आपकी सन्तान के लिए यह गोचर विशेष रूप से लाभदायक प्रतीत होता है | सन्तान की ओर से कोई उत्साहवर्द्धक समाचार आपको प्राप्त हो सकता है | किन्तु अपने छोटे भाई बहनों के स्वास्थ्य का ध्यान रखने की विशेष रूप से आवश्यकता है | साथ ही भाई बहनों के साथ कोई भी बहस बड़ा रूप लेकर कोर्ट तक पहुँच सकती है, अतः इस स्थिति से बचने का प्रयास करें |

मीन : आपके लिए चतुर्थेश और सप्तमेश होकर बुध आपका योगकारक बन जाता है तथा आपके द्वादश भाव में गोचर कर रहा है | आपको तथा आपके जीवन साथी को कार्य के सिलसिले में दूर पास की यात्राओं में वृद्धि हो सकती है | इन यात्राओं में आर्थिक लाभ की भी सम्भावना है | आप सपरिवार भ्रमण के लिए भी जा सकते हैं | सम्भव है आप किसी दूसरे शहर में अथवा कहीं विदेश में निवास की ही योजना बना लें | अपनी माता जी के स्वास्थ्य का विशेष रूप से ध्यान रखने की आवश्यकता है |

अन्त में, ग्रहों के गोचर अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं | सबसे प्रमुख तो व्यक्ति का अपना कर्म होता है | तो, कर्मशील रहते हुए अपने लक्ष्य की ओर हम सभी अग्रसर रहें यही कामना है...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/05/02/mercury-transit-in-aries/

अगला लेख: साप्ताहिक राशिफल १३ से १९ मई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मई 2019
मंगल का मिथुन राशि में गोचरमंगलवार सात मई यानीवैशाख शुक्ल तृतीया है – यानी अक्षय तृतीया | जिसे भगवान् विष्णु के छठेअवतार परशुराम के जन्मदिवस के रूप में भी मनाया जाता है | सर्वप्रथम सभी को अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएँ...कल प्रातः 6:53 केलगभग तैतिल करण और अतिगण्ड योग में मंगल वृषभ राशि से निकल क
06 मई 2019
12 मई 2019
13 से 19 मई 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधा
12 मई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x