इन तरीकों से वजन नहीं, स्वास्थ्य घटा रहे हैं आप

14 मई 2019   |  मिताली जैन   (40 बार पढ़ा जा चुका है)

इन तरीकों से वजन नहीं, स्वास्थ्य घटा रहे हैं आप

आज के समय में मोटापा जिस तरह एक महामारी की तरह उभर रहा है, उसके कारण व्यक्ति का शरीर एक बीमारी का घर बन गया है। यह सच है कि मोटापा स्वयं में कोई बीमारी नहीं है, लेकिन यह कई बीमारियों की जड़ है। इसलिए यह जरूरी है कि वजन कम करने के लिए प्रयास किए जाएं। पर अक्सर देखने में आता है कि लोग वजन कम करने के लिए जो रास्ते इख्तियार करते हैं, उससे भले ही उनका वजन कम हो जाए लेकिन निकट भविष्य में उनके शरीर में कई समस्याएं जन्म लेने लगती है। इसलिए यह जरूरी है कि आप वजन घटाएं लेकिन स्वास्थ्यकर तरीके से। वजन कम करने के लिए कुछ भी कर लेना उचित नहीं है। तो चलिए आज हम आपको ऐसे ही कुछ तरीकांे के बारे में बता रहे हैं, जो वजन कम करे ना करे, लेकिन इससे स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव अवश्य पड़ता है-


सही नहीं हैं गोलियां


वजन कम करने के लिए धैर्य, परिश्रम व आत्मविश्वास की जरूरत होती है, लेकिन लोग सोचते हैं कि कुछ ही दिनों में उनका वजन कम हो जाए। जब ऐसा नहीं होता तो लोग शार्टकट का सहारा लेते हैं। आजकल मार्केट में कई तरह की गोलियां मिलती हैं, जो बेहद जल्द वजन कम करने का दावा करती हैं। इससे वजन तो कम हो जाता है, लेकिन लगातार इन गोलियों का प्रयोग आपके दिल के लिए अच्छा नहीं होता। इतना ही नहीं, इस तरह गोलियों की मदद से कम किया गया वजन बेहद जल्द वापिस भी आ जाता है। इसलिए वेट लाॅस या स्लीमिंग पिल्स का इस्तेमाल करने से बचें। खुद पर भरोसा और थोड़ा धैर्य आपके लक्ष्य को आसान बनाएगा।


आवश्यकता से अधिक व्यायाम


यह सच है कि वजन कम करने और खुद को फिट रखने के लिए व्यायाम जरूरी है लेकिन अति किसी भी चीज की क्षति करती है। यही नियम व्यायाम पर भी लागू होता है। आवश्यकता से अधिक व्यायाम करने से मांसपेशियों व ज्वाइंट्स को नुकसान पहुंचता है। साथ ही अधिक व्यायाम के चलते शरीर काफी थक जाता है, जिससे व्यक्ति अपने दैनिक कार्य भी सही तरह से संपन्न नहीं कर पाता।


भोजन स्किप करना


कुछ लोग वजन कम करने के चक्कर में अपना मील स्किप कर देते हैं। खासतौर से, कुछ लोग सोचते हैं कि अगर वह रात में भोजन नहीं करेंगे तो जल्दी पतले होंगे। लेकिन ऐसा नहीं होता। भूखे पेट सोने से अगले दिन सुबह उठकर इतनी भूख लगती है कि वह कुछ भी बिना सोचे-समझे खा लेता है। इतना ही नहीं, भूख के कारण जब व्यक्ति की रात में नींद खुलती है तो भी वह अतिरिक्त कैलोरी का सेवन कर लेता है और उसका वजन बढ़ने लग जाता है। इसके अतिरिक्त रात में खाना स्किप करने से शरीर में पोषक तत्वों की कमी व नींद में परेशानी होती है, जिससे उसके शरीर का पूरा सिस्टम ही बिगड़ जाता है।


एक ही डाइट


आजकल वजन कम करने के लिए कई तरह की डाइट का चलन बढ़ गया है और लोग इंटरनेट पर देखकर उस डाइट को फाॅलो करने लगते हैं। इससे कई तरह के नुकसान होते हैं। सबसे पहले तो किसी भी डाइट को फाॅलो करने के कुछ नियम होते हैं। जैसे आप अमुक डाइट को कितने दिन तक ले सकते हैं और दोबारा उस डाइट को शुरू करने के लिए कितने दिन का गैप चाहिए या फिर किसी डाइट में किन चीजों को लेना है और किनसे बिल्कुल परहेज करना है। अगर आपको उस डाइट की सही जानकारी नहीं होगी तो शरीर पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। इसके अतिरिक्त किसी खास डाइट को लम्बे समय तक फाॅलो करने से अन्य पोषक तत्वों की शरीर में कमी होने लगती है, जिससे शरीर प्रभावित होता है। इसलिए वजन कम करने के लिए डाइट पर ध्यान दें लेकिन किसी भी डाइट को फाॅलो करने के लिए उस पर आंख मूंदकर भरोसा न करें, बल्कि किसी डाइटीशियन की सलाह लें और उसी की देखरेख में किसी डाइट का अनुसरण करें।


फैट को नो


जो लोग मोटापे से परेशान होते हैं, वह फैटी चीजों से दूरी बनाते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे उनका वजन बढ़ेगा। जबकि ऐसा नहीं होता। शरीर को सही रूप से कार्य करने के लिए कुछ हद तक फैट की आवश्यकता होती है। हालांकि इस बात का ध्यान रखें कि आपकी डाइट में गुड फैट शामिल हों, बैड नहीं। अगर आप गुड फैट का सेवन करते हैं तो वजन कम करने में भी सहायता मिलती है। मसलन, आप घर का बना घी अपनी डाइट में शामिल करें, इससे वजन कम होता है। यह बात शोध में भी साबित हो चुकी है। लेकिन बेहद आॅयली व फ्राइड चीजों जैसे पकौडे़, समोसे, बर्गर आदि से दूरी ही बनाना अच्छा है।



अगला लेख: सिरदर्द को दूर करने के लिए दवाई नहीं, करें यह योगासन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मई 2019
आज के समय में देर तक एक ही पोजिशन में बैठना या गलत तरीके से बैठना-सोना, खानपान पर सही तरह से ध्यान न देने, बढ़ता मोटापा और गलत फुटवियर के चयन के कारण अक्सर लोगों को कमरदर्द की शिकायत शुरू हो जाती है। आलम यह है कि आज सिर्फ वृद्ध व्यक्ति ही नहीं, बल्कि युवा व्यक्ति भी इस परेशानी से जूझते नजर आ रहे हैं।
06 मई 2019
19 मई 2019
आलू एक ऐसी सब्जी है, जो हर घर की किचन में आसानी से मिल जाती है। कभी परांठे बनाने से लेकर चिप्स, फ्रेंच फ्राइस, सब्जी व अन्य कई तरह के पकवान इसकी मदद से बनाए जाते हैं। आलू का सेवन तो आप कई रूपों में करते होंगे, लेकिन इसके छिलकों का आप क्या करते हैं? शायद कुछ भी नहीं, अमूमन घरों में इन छिलकों को बेकार
19 मई 2019
16 मई 2019
दूध का सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक माना गया है। इसमें मौजूद कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन्स व अन्य पोषक तत्व सिर्फ हड्डियों के लिए ही फायदेमंद नहीं होते, बल्कि इससे शरी के सही तरह से ग्रोथ मंे भी मदद मिलती है। यही कारण है कि छोटे बच्चों से लेकर बूढ़े व्यक्ति तक को दूध पीने की सलाह दी जाती है। लेक
16 मई 2019
01 मई 2019
जोफ्रान टैबलेट का उपयोग कैंसर के उपचार (कीमोथेरेपी) और विकिरण चिकित्सा के कारण मतली और उल्टी को रोकने के लिए किया जाता है। डॉक्टर इस दवा का प्रयोग अन्य दवाओं के साथ करने की सलाह दे सकते है। इस दवा का उपयोग सर्जरी के बाद आने वाली उल्टी और मतली को रोकने के लिए भी किया जाता है। जोफ्रान टैबलेट शरीर के प
01 मई 2019
01 मई 2019
गर्भावस्था के नाजुक दौर में हर स्त्री को अपना अतिरिक्त ध्यान रखना पड़ता है। खासतौर से, उसके द्वारा खाई गई हर चीज का असर उसके गर्भस्थ शिशु पर पड़ता है। ऐसे में यह जरूरी है कि एक गर्भवती स्त्री डाॅक्टर के परामर्श के अनुसार ही खाद्य पदार्थों का चयन करे। यूं तो इस अवस्था में बहुत सी चीजों को खाने की मनाही
01 मई 2019
03 मई 2019
अमूमन देखने में आता है कि जो लोग अपना वजन कम करने की फिराक में रहते हैं, वह अधिकतर रात का खाना स्किप कर देते हैं। ऐसे लोगों का मानना होता है कि ऐसा करने से कैलोरी काउंट कंट्रोल में रहता है और जिससे वजन नहीं बढ़ता। वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो देर रात तक काम करते हैं और फिर बिना खाना खाए ही सो जाते
03 मई 2019
07 मई 2019
मासिक धर्म में हर स्त्री के शरीर में हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिसके कारण उसे कई तरह के कष्ट सहने पड़ते हैं। कुछ महिलाओं को तो अनियमित माहवारी की ही समस्या रहती है। कुछ महिलाओं को अत्यधिक दर्द तो कुछ को हैवी ब्लीडिंग, वहीं कुछ महिलाएं बेहद कमजोरी महसूस करती हैं। वैसे तो यह समस्या तीन-चार दिन में स्वतः
07 मई 2019
04 मई 2019
हर माता-पिता की यह इच्छा होती है कि उनका बच्चा स्वस्थ हो और उसका समग्र विकास हो। लेकिन जंक फूड के इस दौर में अधिकतर बच्चे मोटापे या फिर अन्य कई समस्याओं से ग्रस्त होते हैं और इसके पीछे की वजह होती है उनका आहार। आज के समय में बच्चे संतुलित आहार को छोड़कर बाहर के खाने व जंक फूड की तरफ अधिकतर आकर्षित हो
04 मई 2019
10 मई 2019
गर्मी के मौसम में जब तापमान बढ़ने लगता है तो उसका असर स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। इस मौसम में सिरदर्द की समस्या होना एक आम बात है। वहीं माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को तो इस मौसम में काफी कष्ट झेलना पड़ता है। अक्सर देखने में आता है कि सिरदर्द की समस्या होने पर व्यक्ति दवाई का सेवन करता है। लेकिन अगर आप चाहें त
10 मई 2019
30 अप्रैल 2019
नोबेल प्लस टैबलेट तेजी से काम करने वाला और शक्तिशाली नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवा है। इसका उपयोग पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और मासिक धर्म से जुड़े तीव्र दर्द के इलाज के लिए किया जाता है। इसका उपयोग जोड़ों और मांसपेशियों के मोच और तनाव के कारण होने वाले हल्के से मध्
30 अप्रैल 2019
19 मई 2019
आज की भागदौड़ भरी जिन्दगी में हर व्यक्ति हमेशा ही किसी न किसी तरह की परेशानी से जूझता है। कई बार काम की चिंता इस हद तक बढ़ जाती है, कि व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है। तनाव को पूरी तरह जीवन से दूर करना तो संभव नहीं है लेकिन योगासन के जरिए इसे काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। जो लोग नियमित रूप से
19 मई 2019
01 मई 2019
गर्भावस्था के नाजुक दौर में हर स्त्री को अपना अतिरिक्त ध्यान रखना पड़ता है। खासतौर से, उसके द्वारा खाई गई हर चीज का असर उसके गर्भस्थ शिशु पर पड़ता है। ऐसे में यह जरूरी है कि एक गर्भवती स्त्री डाॅक्टर के परामर्श के अनुसार ही खाद्य पदार्थों का चयन करे। यूं तो इस अवस्था में बहुत सी चीजों को खाने की मनाही
01 मई 2019
10 मई 2019
गर्मी के मौसम में जब तापमान बढ़ने लगता है तो उसका असर स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। इस मौसम में सिरदर्द की समस्या होना एक आम बात है। वहीं माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को तो इस मौसम में काफी कष्ट झेलना पड़ता है। अक्सर देखने में आता है कि सिरदर्द की समस्या होने पर व्यक्ति दवाई का सेवन करता है। लेकिन अगर आप चाहें त
10 मई 2019
01 मई 2019
अक्सर आपको तेजी के साथ ठंड लगने लगती है तो यह हाइपोथर्मिया का लक्षण हो सकता है यह रोग अधिकतर कम उम्र के बच्चों और बूढ़ों में पाया जाता है जिनके शरीर का तापमान तेजी से गिरने के कारण उन्हें ठंड का अनुभव होता है। हाइपोथर्मिया होने का एक कारण शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम होना भी पाया जाता है। आज
01 मई 2019
03 मई 2019
मनुष्य के शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए कई तरह के पोषक तत्वों जैसे प्रोटीन, फाइबर, मिनरल्स और विटामिन की जरूरत होती है। इन सभी के काॅम्बिनेशन से ही व्यक्ति स्वस्थ रह सकता है। लेकिन जब कभी आप अपने आहार पर लंबे समय तक ध्यान नहीं देते तो शरीर में कई तरह के पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। वैसे
03 मई 2019
13 मई 2019
कहते हैं कि पहला सुख निरोगी काया। लेकिन जैसे-जैसे व्यक्ति की उम्र बढ़ती है, उसके शरीर में कई तरह की बीमारियां लग जाती है। झुककर चलना, नजर कमजोर होना, जोड़ों में दर्द, हमेशा थकान रहना, कमजोर याददाश्त, नींद में परेशानी, बालों का सफेद होना व त्वचा में झुर्रियां कुछ ऐसी समस्याएं हैं, जो इस उम्र में आम मान
13 मई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x