हर रोज खाएं भीगे हुए बादाम, फिर देखें कमाल

16 मई 2019   |  मिताली जैन   (13 बार पढ़ा जा चुका है)

हर रोज खाएं भीगे हुए बादाम, फिर देखें कमाल

इस बात से तो हम सभी वाकिफ हैं कि बादाम का सेवन शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा है। इसमें कई तरह के पोषक तत्व जैसे विटामिन ई, डाइटरी फाइबर, मैंगनीज, ओमेगा 3 फैटी एसिड, बायोटिन, विटामिन ई, तांबा, विटामिन बी 2, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम व प्रोटीन आदि पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। आमतौर पर लोग इसे यूं ही खाना पसंद करते हैं, लेकिन अगर आप सच में इसके सेवन से अधिकाधिक लाभ उठाना चाहते हैं तो इसे यूं ही खाने की बजाय भिगोकर खाएं। दरअसल, बादाम के भूरे छिलके में टैनिन होता है जो पोषक तत्वों के अवशोषण को रोकता है। लेकिन एक बार जब आप बादाम को भिगोते हैं तो छिलका आसानी से उतर जाता है और फिर आपको बादाम में मौजूद सभी पोषक तत्व आसानी से प्राप्त होते हैं। इसलिए अगर आप बादाम को अपनी डाइट को हिस्सा बना रहे हैं तो उसे भिगोकर ही खाएं। तो चलिए जानते हैं भीगे बादाम खाने के कुछ जबरदस्त फायदे-


पाचन में मददगार


जब आप भीगे हुए बादाम का सेवन करते हैं तो उससे एंजाइम्स रिलीज होते हैं जो पाचनतंत्र की कार्यप्रणाली में मदद करते हैं। बादाम भिगोने से एंजाइम लाइपेस निकलता है जो वसा के पाचन के लिए फायदेमंद होता है। इसलिए अगर आप अपने पाचन को बेहतर बनाना चाहते हैं तो भीगे हुए बादाम को डाइट का हिस्सा बनाएं।


घटाए वजन


कुछ लोग अपने बढ़ते वजन से परेशान रहते हैं लेकिन उनकी भूख पर उनका नियंत्रण नहीं होता। ऐसे में भीगे बादाम का सेवन आपके लिए लाभकारी हो सकता है। दरअसल, बादाम में मौजूद मोनोअनसैचुरेटेड फैट्स आपकी भूख पर अंकुश लगाते हैं और आपको लंबे समय तक पेट भरे होने का अहसास कराते हैं। इसलिए आप भीगे हुए बादाम को अपनी डाइट में शामिल करें। यह वजन घटाने को ट्रिगर करने में मदद करेंगे।


खराब कोलेस्ट्रॉल में कमी


आपको शायद पता न हो लेकिन बादाम का सेवन दिल के लिए भी काफी अच्छा माना गया है। जब आप भीगे हुए बादाम का सेवन करते हैं तो यह खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाते हैं। जिससे आपको दिल संबंधी बीमारियां होने का खतरा कई गुना कम हो जाता है।


एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर


यह तो हम सभी जानते हैं कि एंटीऑक्सिडेंट सेहत के लिए बेहद जरूरी है और उनका डाइट में पर्याप्त मात्रा में होना चाहिए। भीगे हुए बादाम में मौजूद विटामिन ई एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम करता है जो मुक्त कणों से होने वाले नुकसान को रोकता है जो उम्र बढ़ने और सूजन को रोकता है।


लडे़ कैंसर से


आज के समय में कैंसर जैसी भयावह बीमारी हर किसी को अपनी चपेट में ले रही है, लेकिन आप अपनी डाइट के जरिए उसे मात दे सकते हैं। कैंसर पीड़ित व्यक्तियों को भीगे बादाम का सेवन करना चाहिए। भीगे हुए बादाम में विटामिन बी 17 होता है जो कैंसर से लड़ने के लिए महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त बादाम में फ्लेवोनोइड मौजूद होता है, जो ट्यूमर के विकास को दबा देता है।


गर्भावस्था में लाभदायक


एक गर्भवती स्त्री को भीगे हुए बादाम का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए। दरअसल, भीगे हुए बादाम में फोलिक एसिड होता है जो न सिर्फ बच्चे के सही तरह से विकास के लिए आवश्यक है, अपितु यह जन्म दोष को कम करता है।


संवारे सौंदर्य


बादाम में विटामिन पर्याप्त मात्रा में होते हैं जो त्वचा और बालों को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। भीगे हुए कच्चे बादाम की तुलना में भीगे हुए बादाम में काफी अधिक विटामिन ई होता है और यह विटामिन आपके बालों और त्वचा दोनों के लिए ही काफी अच्छा माना जाता है। अगर आप इसका सेवन करते हैं तो एंटीऑक्सीडेंट के कारण आप स्किन पर बढ़ती उम्र के प्रभाव को रोक सकते हैं।


अगला लेख: सिरदर्द को दूर करने के लिए दवाई नहीं, करें यह योगासन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 मई 2019
मासिक धर्म में हर स्त्री के शरीर में हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिसके कारण उसे कई तरह के कष्ट सहने पड़ते हैं। कुछ महिलाओं को तो अनियमित माहवारी की ही समस्या रहती है। कुछ महिलाओं को अत्यधिक दर्द तो कुछ को हैवी ब्लीडिंग, वहीं कुछ महिलाएं बेहद कमजोरी महसूस करती हैं। वैसे तो यह समस्या तीन-चार दिन में स्वतः
07 मई 2019
03 मई 2019
मनुष्य के शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए कई तरह के पोषक तत्वों जैसे प्रोटीन, फाइबर, मिनरल्स और विटामिन की जरूरत होती है। इन सभी के काॅम्बिनेशन से ही व्यक्ति स्वस्थ रह सकता है। लेकिन जब कभी आप अपने आहार पर लंबे समय तक ध्यान नहीं देते तो शरीर में कई तरह के पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। वैसे
03 मई 2019
13 मई 2019
कहते हैं कि पहला सुख निरोगी काया। लेकिन जैसे-जैसे व्यक्ति की उम्र बढ़ती है, उसके शरीर में कई तरह की बीमारियां लग जाती है। झुककर चलना, नजर कमजोर होना, जोड़ों में दर्द, हमेशा थकान रहना, कमजोर याददाश्त, नींद में परेशानी, बालों का सफेद होना व त्वचा में झुर्रियां कुछ ऐसी समस्याएं हैं, जो इस उम्र में आम मान
13 मई 2019
06 मई 2019
शहद एक ऐसी चीज है, जिसका प्रयोग किचन से लेकर काॅस्मेटिक्स तक किया जाता है। कुछ लोग तो सुबह की शुरूआत ही नींबू व शहद के पानी से करते हैं। वहीं स्किन को बेहतर बनाने के लिए भी शहद का प्रयोग किया जाता है। शहद के गुणों के बारे में जितना भी कहा जाए, कम ही है। यह एक प्राकृतिक और सेहत के लिए लाभकारी स्वीटनर
06 मई 2019
19 मई 2019
आज की भागदौड़ भरी जिन्दगी में हर व्यक्ति हमेशा ही किसी न किसी तरह की परेशानी से जूझता है। कई बार काम की चिंता इस हद तक बढ़ जाती है, कि व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है। तनाव को पूरी तरह जीवन से दूर करना तो संभव नहीं है लेकिन योगासन के जरिए इसे काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। जो लोग नियमित रूप से
19 मई 2019
03 मई 2019
कैलडोब कैप्सूल का उपयोग शरीर में जिंक की कमी, बवासीर और मधुमेह संबंधी रेटिनोपैथी के उपचार में किया जाता है। यह दवा 18 वर्ष से कम आयु के रोगियों में उपयोग करने के लिए अनुशंसित नहीं है। इस दवा को वैरीकाज नसें जो त्वचा के ऊपरी सतह से उभरी हुई दिखाई देती है उनके इलाज के ल
03 मई 2019
06 मई 2019
आज के समय में देर तक एक ही पोजिशन में बैठना या गलत तरीके से बैठना-सोना, खानपान पर सही तरह से ध्यान न देने, बढ़ता मोटापा और गलत फुटवियर के चयन के कारण अक्सर लोगों को कमरदर्द की शिकायत शुरू हो जाती है। आलम यह है कि आज सिर्फ वृद्ध व्यक्ति ही नहीं, बल्कि युवा व्यक्ति भी इस परेशानी से जूझते नजर आ रहे हैं।
06 मई 2019
19 मई 2019
आलू एक ऐसी सब्जी है, जो हर घर की किचन में आसानी से मिल जाती है। कभी परांठे बनाने से लेकर चिप्स, फ्रेंच फ्राइस, सब्जी व अन्य कई तरह के पकवान इसकी मदद से बनाए जाते हैं। आलू का सेवन तो आप कई रूपों में करते होंगे, लेकिन इसके छिलकों का आप क्या करते हैं? शायद कुछ भी नहीं, अमूमन घरों में इन छिलकों को बेकार
19 मई 2019
16 मई 2019
दूध का सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक माना गया है। इसमें मौजूद कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन्स व अन्य पोषक तत्व सिर्फ हड्डियों के लिए ही फायदेमंद नहीं होते, बल्कि इससे शरी के सही तरह से ग्रोथ मंे भी मदद मिलती है। यही कारण है कि छोटे बच्चों से लेकर बूढ़े व्यक्ति तक को दूध पीने की सलाह दी जाती है। लेक
16 मई 2019
03 मई 2019
अमूमन देखने में आता है कि जो लोग अपना वजन कम करने की फिराक में रहते हैं, वह अधिकतर रात का खाना स्किप कर देते हैं। ऐसे लोगों का मानना होता है कि ऐसा करने से कैलोरी काउंट कंट्रोल में रहता है और जिससे वजन नहीं बढ़ता। वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो देर रात तक काम करते हैं और फिर बिना खाना खाए ही सो जाते
03 मई 2019
19 मई 2019
जैसे ही मौसम बदलता है तो लोगों को अपनी डाइट पर भी ध्यान देना पड़ता है। कहा जाता है कि स्वस्थ रहने के लिए मौसमी फल व सब्जियों को आहार में शामिल करना चाहिए। लेकिन इसके अतिरिक्त भी कुछ चीजें सेहत के लिए लाभकारी होती हैं। चूंकि अब गर्मी का मौसम शुरू हो चुका है तो ऐसे में जरूरी है कि आपके आहार में शरीर को
19 मई 2019
19 मई 2019
आलू एक ऐसी सब्जी है, जो हर घर की किचन में आसानी से मिल जाती है। कभी परांठे बनाने से लेकर चिप्स, फ्रेंच फ्राइस, सब्जी व अन्य कई तरह के पकवान इसकी मदद से बनाए जाते हैं। आलू का सेवन तो आप कई रूपों में करते होंगे, लेकिन इसके छिलकों का आप क्या करते हैं? शायद कुछ भी नहीं, अमूमन घरों में इन छिलकों को बेकार
19 मई 2019
10 मई 2019
गर्मी के मौसम में जब तापमान बढ़ने लगता है तो उसका असर स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। इस मौसम में सिरदर्द की समस्या होना एक आम बात है। वहीं माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को तो इस मौसम में काफी कष्ट झेलना पड़ता है। अक्सर देखने में आता है कि सिरदर्द की समस्या होने पर व्यक्ति दवाई का सेवन करता है। लेकिन अगर आप चाहें त
10 मई 2019
03 मई 2019
मनुष्य के शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए कई तरह के पोषक तत्वों जैसे प्रोटीन, फाइबर, मिनरल्स और विटामिन की जरूरत होती है। इन सभी के काॅम्बिनेशन से ही व्यक्ति स्वस्थ रह सकता है। लेकिन जब कभी आप अपने आहार पर लंबे समय तक ध्यान नहीं देते तो शरीर में कई तरह के पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। वैसे
03 मई 2019
14 मई 2019
आज के समय में मोटापा जिस तरह एक महामारी की तरह उभर रहा है, उसके कारण व्यक्ति का शरीर एक बीमारी का घर बन गया है। यह सच है कि मोटापा स्वयं में कोई बीमारी नहीं है, लेकिन यह कई बीमारियों की जड़ है। इसलिए यह जरूरी है कि वजन कम करने के लिए प्रयास किए जाएं। पर अक्सर देखने में आता है कि लोग वजन कम करने के लि
14 मई 2019
01 मई 2019
एसेट प्लस टैबलेट का उपयोग एलर्जी संबंधी बीमारियों के इलाज में किया जाता है। यह एंटीथिस्टेमाइंस दवाओं के वर्ग का हिस्सा है जो हिस्टामाइन के मार्ग को बाधित करके एलर्जी रोग में राहत देने का कार्य करता है। यह दवा सिर्फ रोगियों में पाए जाने वाले लक्षणों को रोकने में मदद करती है लेकिन इसमें उन्हें पूर्णत
01 मई 2019
02 मई 2019
एक्टीकोल्ड टैबलेट का उपयोग सिरदर्द, दांत दर्द, एलर्जी संबंधी बीमारी, बुखार, सर्दी, फ्लू, आदि रोगों के इलाज के लिए किया जाता है। यह दवा तीन दवाओं के संयोजन से तैयार होती है जो विभिन्न प्रकार के बीमारियों के इलाज के लिए अनुशंसित की जाती है। यह किसी वस्तु से एलर्जी संबंधी विकारों को दूर के लिए भी उपयो
02 मई 2019
22 मई 2019
यह तो हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए मौसमी फल व सब्जियों का सेवन करना चाहिए। लेकिन ऐसे भी कुछ फल होते हैं जो बारह महीने आसानी से मिलते हैं और इसलिए लोग उन पर अधिक ध्यान नहीं देते। इन्हीं में से एक है चीकू। स्वाद में बेहतरीन चीकू सेहत के लिए भी बेहद लाभकारी माना गया है। तो चलिए जानते हैं चीकू
22 मई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x