नक्षत्र - एक विश्लेषण

20 मई 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (14 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

नक्षत्रों की नाड़ियाँ

पिछले लेख में हमने बात की प्रत्येक नक्षत्र की संज्ञाओं और उनके आधार पर जातक के अनुमानित कर्तव्य कर्मों की | नक्षत्रों का विभाजन नाड़ी, योनि और तत्वों के आधार पर किया गया है | तो आज “नाड़ियों” पर संक्षिप्त चर्चा…

प्रत्येक नक्षत्र की अपनी एक नाड़ी होती है – या यों कह सकते हैं कि प्रत्येक नक्षत्र एक विशेष नाड़ी के अन्तर्गत आता है | ये नाड़ियाँ वास्तव में मानव शरीर के विशिष्ट प्रकार की प्रकृति यानी Constitution का प्रतिनिधित्व करती हैं | इन नाड़ियों का अध्ययन करके यह समझने का प्रयास किया जाता है कि जिस जातक की कुण्डली का हम निरीक्षण कर रहे हैं उस जातक की प्रकृति कफप्रधान यानी Phlegmatic है, या पित्त यानी Bile प्रधान है या वात यानी Air प्रधान है | जो लोग Medical Astrology करते हैं उनके लिए विशेष रूप से इन नाड़ियों का ज्ञान होना आवश्यक है क्योंकि इनके द्वारा रोगी की प्रकृति को समझकर उसके अनुसार उसके रोग का उपचार करने में सहायता प्राप्त होती है |

समय का एक भाग भी नाड़ी कहलाता है | भाचक्र की मध्य की खगोलीय रेखा यानी Celestial Equator भी नाड़ी कहलाती है | इसके अतिरिक्त गुलिका तथा सूर्य की किरण को भी नाड़ी कहा जाता है | मनुष्य के शरीर की नब्ज़ भी नाड़ी कहलाती है – जिसे हाथ से पकड़कर वैद्य रोगी के रोग की पहचान करता है | विवाह के समय दो व्यक्तियों की कुण्डली का मिलान करते हुए यदि नाड़ी दोष पाया जाता है तो या तो ज्योतिषी वहाँ विवाह की सलाह ही नहीं देते, और यदि देते भी हैं तो उसके लिए कुछ उपचार आदि भी बताते हैं | माना जाता है कि नाड़ी दोष में यदि विवाह कर दिया जाए – अर्थात दो व्यक्तियों की एक नाड़ी होने पर यदि विवाह कर दिया जाए - तो सन्तान के लिए हानिकारक होता है | किन्तु आज जब Medical Science इतनी तरक्क़ी कर चुकी है तो ऐसे में इन दोषों का कोई महत्त्व हमारे विचार से नहीं रह जाता | फिर भी इस विषय पर विस्तार से चर्चा “विवाह” प्रकरण में…

नाड़ी मुख्यतया तीन होती हैं, जिनमें 27 नक्षत्रों का विभाजन किया गया है | अर्थात प्रत्येक नाड़ी के अन्तर्गत नौ नक्षत्र आते हैं | जो निम्नवत हैं –

आद्या नाड़ी – शरीर की वात प्रकृति या वायु तत्व का प्रतिनिधित्व करती है | वात दोष से सम्बन्धित समस्याओं जैसे गठिया, आमवात, स्नायुतन्त्र से सम्बन्धित समस्या इत्यादि का ज्ञान इस नाड़ी से होता है | अश्विनी, आर्द्रा, पुनर्वसु, उत्तर फाल्गुनी, हस्त, ज्येष्ठ, मूल, शतभिषज और उत्तर भाद्रपद नक्षत्र आद्या नाड़ी के अन्तर्गत आते हैं |

मध्या नाड़ी – पित्त प्रकृति अर्थात शरीर में अग्नितत्व का प्रतिनिधित्व करती है तथा पित्त दोष से सम्बन्धित समस्याओं का ज्ञान इस नाड़ी से होता है | भरणी, मृगशिर, पुष्य, पूर्वा फाल्गुनी, चित्रा, अनुराधा, पूर्वाषाढ़, धनिष्ठा तथा उत्तर भाद्रपद नक्षत्र इस नाड़ी के अन्तर्गत आते हैं |

अन्त्या नाड़ी – यह नाड़ी मनुष्य के शरीर में कफ और जल तत्व का प्रतिनिधित्व करती है | कृत्तिका, रोहिणी, आश्लेषा, मघा, स्वाति, विशाखा, उत्तराषाढ़, श्रावण और रेवती नक्षत्र अन्त्या नाड़ी के अन्तर्गत आते हैं |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/05/20/constellation-nakshatras-41/

अगला लेख: मंगल का मिथुन में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 जून 2019
नक्षत्रोंके गणपिछले अध्याय में हमने नक्षत्रों की योनियों पर चर्चा की थी | विवाह केलिए कुण्डली मिलान करते समय पारम्परिक रूप से अष्टकूट गुणों का मिलान करने कीप्रक्रिया में नाड़ी और योनि के साथ ही नक्षत्रों के गणों का मिलान भी किया जाता है| इस विषय पर विस्तार से चर्चा “विवाह प्रकरण” में करेंगे | अभी बात
01 जून 2019
15 मई 2019
नक्षत्रोंकी संज्ञा के अनुसार कर्तव्य कर्म पिछले लेखों में बात कर रहे थे कि 27 नक्षत्रों में प्रत्येकनक्षत्र में कितने तारे (Stars) होते हैं, प्रत्येक नक्षत्र के देवता (Deity) तथा स्वामी अथवा अधिपति ग्रह (Lordship)कौन हैं, प्रत्येक नक्षत्र को क्या संज्ञा दी गई है| नक्षत्रों की संज्ञा से उनकी प्रकृति
15 मई 2019
31 मई 2019
बुध का मिथुन में गोचरकल शनिवार रविवारयानी ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्दशी अर्थात 1 जून को 24:17 (मध्यरात्रि में 12:17) केलगभग विष्टि करण और अतिगण्ड योग में बुध अपने मित्र शुक्र की वृषभ राशि से निकल करअपनी स्वयं की राशि मिथुन में प्रविष्ट होगा | मिथुन राशि में प्रवेश के समय बुध मृगशिरानक्षत्र में होगा तथा कुछ
31 मई 2019
04 जून 2019
निस्वार्थप्रेम ही है ध्यानसंसार के समस्त वैभव होते हुए भीकँगाल है मनुष्य, रीते हैं हाथ उसके यदि नहीं है प्रेम का धन उसके पास...किया जा सकता है प्रेम समस्त चराचर से क्योंकि नहीं होता कोई कँगाल दान करने से प्रेमकाजितना देते हैं / बढ़ता है उतना ही...नहीं है कोई परिभाषा इसकी / न ही कोई नाम / न रूपबस है
04 जून 2019
12 मई 2019
13 से 19 मई 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधा
12 मई 2019
05 मई 2019
6 से 12 मई 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधार
05 मई 2019
12 मई 2019
आज “मात्तृ दिवस” है… सभी माताओं और उनकी सन्तानों कोहार्दिक शुभकामनाएँ… मेरी अपनी माँ के साथ साथ संसार की हर माँ को कोटि कोटि नमनके साथ समर्पित कुछ पंक्तियाँ... केवल “मदर्स डे” के औपचारिक अवसर पर ही नहीं, हर दिन… हर पल…सताती है तुम्हारी याद हर पल – प्रतिपल काश एक बार फिर तुम्हारी गोदी में सर रखकर सो
12 मई 2019
09 मई 2019
शुक्र का मेष राशि में गोचर कल शुक्रवार, वैशाख शुक्ल षष्ठी कोरात्रि सात बजकर छह मिनट के लगभग तैतिल करण और गण्ड योग में समस्त सांसारिक सुख,समृद्धि, विवाह, परिवारसुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारक शुक्र मेष राशि और अश्विनीनक्षत्र पर प्रस्थान क
09 मई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x