घर के भीतर की हवा स्वास्थ्य के लिए बेहद घातक

22 मई 2019   |  मिताली जैन   (18 बार पढ़ा जा चुका है)

घर के भीतर की हवा स्वास्थ्य के लिए बेहद घातक

वायु प्रदूषण एक बेहद गंभीर पर्यावरणीय मुद्दा है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, दुनिया के सबसे अधिक प्रदूषित शहरों में से करीब आधे भारत में ही है। लेकिन जब भी वायु प्रदूषण की बात होती है तो लोग हमेशा ही कारखानों व वाहनों से निकलने वाले विषैले धुएं पर ही बात करते हैं। घर के भीतर की आबोहवा पर किसी का ध्यान नहीं जाता, परंतु घर के अंदर की हवा भी इतनी प्रदूषित हो चुकी है कि अब वह कई बीमारियों जैसे सिक बिल्डिंग सिन्ड्रोम आदि का कारण बनती जा रही है। हाल ही में आइआइटी के शोधार्थियों द्वारा किए गए अध्ययन में यह बात सामने आई है। इस अध्ययन के अनुसार, घर के अंदर भी कार्बनडाइआक्साइड की मात्रा बहुत अधिक है, जो थकान, सिरदर्द, घबराहट, उलझन व त्वचा संबंधी समस्याओं का कारण बन रहा है।

वर्तमान समय में, जब लोग अपना अधिक समय घर के अंदर ही बिताते हैं तो ऐसे में इनडोर एयर क्वालिटी को लेकर जागरूकता का अभाव सीधे ही व्यक्ति की सेहत को विपरीत तरीके से प्रभावित करता है। यू.एस.ए. एन्वायरनमेंट प्रोटक्शन एजेन्सी के अनुमानित आंकड़ों के अनुसार लोग लगभग 90 प्रतिशत समय घर या आॅफिस के भीतर ही व्यतीत करते हैं। भारत में जहां पिछले कई वर्षों से वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं, वहां घर के भीतर की हवा की स्वच्छता के लिए कोई मानक निर्धारित नहीं किया गया है और इनडोर एयर क्वालिटी के प्रति लोगों का जागरूक न होना उनके लिए कभी-कभी जानलेवा भी साबित होता है। भारत में तो लोग उच्च रक्तचाप के बाद घर की प्रदूषित हवा के कारण ही मरते हैं। चिकित्सा जगत की जानी मानी पत्रिका लैंसेट में प्रकाशित ‘द लैंसेट काउंटडाउनः ट्रैकिंग प्रोग्रेस ऑन हेल्थ एंड क्लाइमेंट चेंज’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में घरों के भीतर वायु प्रदूषण के कारण वर्ष 2015 में 1.24 लाख लोगों की असामयिक मौत हुई। इन जानों को आसानी से बचाया जा सकता था। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट भी बताती है कि आन्तरिक वायु में उपस्थित प्रदूषक बाहरी हवा की तुलना में 1000 गुना ज्यादा आसानी से मनुष्य के फेफड़ों में पहुँच जाते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, इनडोर एयर पाल्यूशन के कारण प्रतिवर्ष विश्व स्तर पर 3.5 मिलियन लोग काल के गाल में समा जाते हैं। इस प्रकार अगर देखा जाए तो घर के भीतर की प्रदूषित हवा बाहरी प्रदूषण के मुकाबले कहीं अधिक घातक है।

ऐसी कई कारण हैं, जो घर के भीतर की हवा में कार्बनडाइआॅक्साइड के स्तर को बढ़ाते हैं जैसे- घर की रसोई से निकलने वाला धुआं, मच्छर भगाने वाले क्वाॅयल का इस्तेमाल, सिगरेट का धुआं, रूम फ्रेशनर का प्रयोग, विषैले रसायनों का इस्तेमाल, धूल के कण आदि। इतना ही नहीं, घरों में वेंटिलेशन की भी पर्याप्त व्यवस्था नहीं रहती, जिससे विषैली हवा को बाहर निकलने का रास्ता नहीं मिलता और घर के भीतर ही बीमारियां पनपने लगती हैं। दूषित हवा के चलते कम उम्र से ही बच्चों को अस्थमा, निमोनिया की शिकायत होने लगती है। खराब हवा फेफड़ों के लिए इतनी नुकसानदायक होती है जितना एक सिगरेट भी नहीं होती। ब्रोंकाइटिस, ब्लड कैंसर, लीवर कैंसर, फेफड़ों का कैंसर व आॅटिज्म जैसी बीमारियों के मुख्य कारणों में से एक प्रदूषित हवा है।

अब समय आ गया है कि लोग अपने घरों के भीतर की हवा की क्वालिटी को सुधारने के लिए सतत प्रयास करें। इसके लिए घर के अंदर एग्जाॅस्ट फैन लगवाएं। साथ ही खिड़कियों व दरवाजों को भी खुले रखने का प्रयास करें ताकि हवा की आवाजाही हो सके। इसके अतिरिक्त घर में प्रदूषक उत्सर्जक स्त्रोत को भी नियंत्रित करने का प्रयास करंे। घर के अंदर धूम्रपान या कीटनाशकों का प्रयोग न करें और घर के भीतर इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरण जैसे एयरकंडीशनर, ओवन व रेफ्रिजरेटर की नियमित अंतराल पर सर्विस करवाएं ताकि उनसे हानिकारक गैसे उत्सर्जित न हों। साथ ही नियमित रूप से डस्टिंग करें ताकि धूल के कण घर में जमा न हों। इसके अतिरिक्त घर में पेड़-पौधे लगाना भी एक अच्छा विचार है, पौधे वायु में मौजूद प्रदूषक तत्व को अवशोषित करके हवा की गुणवत्ता को बरकरार रखते हैं।


अगला लेख: तीखी हरी मिर्च के इन मीठे फायदों से अब तक नावाकिफ होंगे आप!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 मई 2019
जैसे ही मौसम बदलता है तो लोगों को अपनी डाइट पर भी ध्यान देना पड़ता है। कहा जाता है कि स्वस्थ रहने के लिए मौसमी फल व सब्जियों को आहार में शामिल करना चाहिए। लेकिन इसके अतिरिक्त भी कुछ चीजें सेहत के लिए लाभकारी होती हैं। चूंकि अब गर्मी का मौसम शुरू हो चुका है तो ऐसे में जरूरी है कि आपके आहार में शरीर को
19 मई 2019
19 मई 2019
आलू एक ऐसी सब्जी है, जो हर घर की किचन में आसानी से मिल जाती है। कभी परांठे बनाने से लेकर चिप्स, फ्रेंच फ्राइस, सब्जी व अन्य कई तरह के पकवान इसकी मदद से बनाए जाते हैं। आलू का सेवन तो आप कई रूपों में करते होंगे, लेकिन इसके छिलकों का आप क्या करते हैं? शायद कुछ भी नहीं, अमूमन घरों में इन छिलकों को बेकार
19 मई 2019
10 मई 2019
गर्मी के मौसम में जब तापमान बढ़ने लगता है तो उसका असर स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। इस मौसम में सिरदर्द की समस्या होना एक आम बात है। वहीं माइग्रेन पीड़ित व्यक्ति को तो इस मौसम में काफी कष्ट झेलना पड़ता है। अक्सर देखने में आता है कि सिरदर्द की समस्या होने पर व्यक्ति दवाई का सेवन करता है। लेकिन अगर आप चाहें त
10 मई 2019
07 मई 2019
मासिक धर्म में हर स्त्री के शरीर में हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिसके कारण उसे कई तरह के कष्ट सहने पड़ते हैं। कुछ महिलाओं को तो अनियमित माहवारी की ही समस्या रहती है। कुछ महिलाओं को अत्यधिक दर्द तो कुछ को हैवी ब्लीडिंग, वहीं कुछ महिलाएं बेहद कमजोरी महसूस करती हैं। वैसे तो यह समस्या तीन-चार दिन में स्वतः
07 मई 2019
19 मई 2019
जैसे ही मौसम बदलता है तो लोगों को अपनी डाइट पर भी ध्यान देना पड़ता है। कहा जाता है कि स्वस्थ रहने के लिए मौसमी फल व सब्जियों को आहार में शामिल करना चाहिए। लेकिन इसके अतिरिक्त भी कुछ चीजें सेहत के लिए लाभकारी होती हैं। चूंकि अब गर्मी का मौसम शुरू हो चुका है तो ऐसे में जरूरी है कि आपके आहार में शरीर को
19 मई 2019
19 मई 2019
आलू एक ऐसी सब्जी है, जो हर घर की किचन में आसानी से मिल जाती है। कभी परांठे बनाने से लेकर चिप्स, फ्रेंच फ्राइस, सब्जी व अन्य कई तरह के पकवान इसकी मदद से बनाए जाते हैं। आलू का सेवन तो आप कई रूपों में करते होंगे, लेकिन इसके छिलकों का आप क्या करते हैं? शायद कुछ भी नहीं, अमूमन घरों में इन छिलकों को बेकार
19 मई 2019
09 मई 2019
पारा इन दिनों पूरे चरम पर है। मौसम में तपिश को आसानी से महसूस किया जा सकता है। ऐसे में जरूरत होती है शरीर को भीतर से ठंडा रखने की। इसमें आपका खानपान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में बता रहे हैं, जो गर्मी को मात देने के साथ-साथ आपको ठंडा रखते है
09 मई 2019
25 मई 2019
शरीर के लिए पानी किसी अमृत से कम नहीं है। वैसे तो शरीर को बीमारियों से मुक्त करने और स्वस्थ रहने के लिए हर मौसम में पानी का पर्याप्त मात्रा में सेवन करना चाहिए। लेकिन गर्मी के मौसम में यह आवश्यकता बढ़ जाती है और ऐसे में सिर्फ पानी के जरिए प्यास बुझाना या शरीर में पानी का स्तर बनाए रखना संभव नहीं होता
25 मई 2019
14 मई 2019
आज के समय में मोटापा जिस तरह एक महामारी की तरह उभर रहा है, उसके कारण व्यक्ति का शरीर एक बीमारी का घर बन गया है। यह सच है कि मोटापा स्वयं में कोई बीमारी नहीं है, लेकिन यह कई बीमारियों की जड़ है। इसलिए यह जरूरी है कि वजन कम करने के लिए प्रयास किए जाएं। पर अक्सर देखने में आता है कि लोग वजन कम करने के लि
14 मई 2019
25 मई 2019
यूं तो लोग अपनी डाइट में कई तरह के फलों को शुमार करते हैं, लेकिन एवोकाडो पर उनका ध्यान ही नहीं जाता। पर वास्तव में यह एक सुपरफूड है। इसमें कई तरह के पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, काॅपर, मैंगनीज, फास्फोरस, जिंक, फाइबर, कई तरह के विटामिन व मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड पाए जाते हैं।
25 मई 2019
19 मई 2019
जैसे ही मौसम बदलता है तो लोगों को अपनी डाइट पर भी ध्यान देना पड़ता है। कहा जाता है कि स्वस्थ रहने के लिए मौसमी फल व सब्जियों को आहार में शामिल करना चाहिए। लेकिन इसके अतिरिक्त भी कुछ चीजें सेहत के लिए लाभकारी होती हैं। चूंकि अब गर्मी का मौसम शुरू हो चुका है तो ऐसे में जरूरी है कि आपके आहार में शरीर को
19 मई 2019
22 मई 2019
यह तो हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए मौसमी फल व सब्जियों का सेवन करना चाहिए। लेकिन ऐसे भी कुछ फल होते हैं जो बारह महीने आसानी से मिलते हैं और इसलिए लोग उन पर अधिक ध्यान नहीं देते। इन्हीं में से एक है चीकू। स्वाद में बेहतरीन चीकू सेहत के लिए भी बेहद लाभकारी माना गया है। तो चलिए जानते हैं चीकू
22 मई 2019
16 मई 2019
दूध का सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक माना गया है। इसमें मौजूद कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन्स व अन्य पोषक तत्व सिर्फ हड्डियों के लिए ही फायदेमंद नहीं होते, बल्कि इससे शरी के सही तरह से ग्रोथ मंे भी मदद मिलती है। यही कारण है कि छोटे बच्चों से लेकर बूढ़े व्यक्ति तक को दूध पीने की सलाह दी जाती है। लेक
16 मई 2019
27 मई 2019
गर्मी का मौसम आते ही व्यक्ति का मन करता है कि वह हरदम कुछ ठंडा पीता रहे। महज पानी से ही व्यक्ति की प्यास नहीं बुझती, उसे कुछ अच्छा व स्वादिष्ट चाहिए होता है। कुछ लोग इस मौसम में कोल्ड ड्रिंक का सेवन करते हैं, लेकिन यह सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता। तो चलिए आज हम आपको गर्मी के मौसम में बनने वाले क
27 मई 2019
13 मई 2019
कहते हैं कि पहला सुख निरोगी काया। लेकिन जैसे-जैसे व्यक्ति की उम्र बढ़ती है, उसके शरीर में कई तरह की बीमारियां लग जाती है। झुककर चलना, नजर कमजोर होना, जोड़ों में दर्द, हमेशा थकान रहना, कमजोर याददाश्त, नींद में परेशानी, बालों का सफेद होना व त्वचा में झुर्रियां कुछ ऐसी समस्याएं हैं, जो इस उम्र में आम मान
13 मई 2019
22 मई 2019
यह तो हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए मौसमी फल व सब्जियों का सेवन करना चाहिए। लेकिन ऐसे भी कुछ फल होते हैं जो बारह महीने आसानी से मिलते हैं और इसलिए लोग उन पर अधिक ध्यान नहीं देते। इन्हीं में से एक है चीकू। स्वाद में बेहतरीन चीकू सेहत के लिए भी बेहद लाभकारी माना गया है। तो चलिए जानते हैं चीकू
22 मई 2019
27 मई 2019
लौकी एक ऐसी सब्जी है, जो बेहद स्वास्थ्यवर्धक मानी गई है, लेकिन अमूमन लोग घरों में लोग इसे खाते हुए मुंह बनाते हैं। अगर आपके घर में भी ऐसा ही है तो चलिए आज हम आपको इससे सेहत को होने वाले कुछ जबरदस्त फायदों के बारे में बता रहे हैं। जिसे जानने के बाद यकीनन आप लौकी को अपनी डाइट में शामिल करेंगे। आईए जान
27 मई 2019
19 मई 2019
आज की भागदौड़ भरी जिन्दगी में हर व्यक्ति हमेशा ही किसी न किसी तरह की परेशानी से जूझता है। कई बार काम की चिंता इस हद तक बढ़ जाती है, कि व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है। तनाव को पूरी तरह जीवन से दूर करना तो संभव नहीं है लेकिन योगासन के जरिए इसे काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। जो लोग नियमित रूप से
19 मई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x