वोटर्स में हनुमान बल

24 मई 2019   |  सतीश मित्तल   (31 बार पढ़ा जा चुका है)

चुनाव परिणामों ने दिखा दिया - वोटर्स को वही नेता पसंद है जो सुख-दुःख में साथ हो, उसी की भाषा में बोले। देश हित में शीघ्र,उचित व् कठोर निर्णय लेने में भी न हिचके।

करोड़ों वोटर्स ने EVM-VVPAT की पारदर्शिता को सलाम किया। जिसकों लेकर जनता के बीच जनाधार खो चुके नेता सवाल उठाते है। VVPAT से छपी पर्ची करोड़ों वोटर्स की निष्पक्षता का गवाह बनी ı EVM ने न केवल कागज, समय व् खर्च बचाया वरन पेड़ व् पर्यावरण की अमूल्य रक्षा की ।

पूर्वजों की पूंजी पर जबानी जमा खर्च करने वालों को तरजीह ने दे, वोटर्स ने काम को तरजीह दिया । अमेठी इसका सटीक उदाहरण है।

जाति-धर्म से ऊपर उठ, वोटर्स ने देशहित में मजबूत सरकार चुन, बता दिया कि उसमें सचमुच का ही हनुमान बल है! जिसे मोदी जैसे नेता ने याद दिलवा दिया ı

और इसी बल से वोटर्स ने EVM पर वोट रुपी-गदा से अटूट, अचूक प्रहार किया , जिसका परिणाम देश-दुनिया के सामने है ı

जिसमें सन्देश निहित है " ईश्वर उन्ही की मदद करते है, जो अपनी मदद खुद करते है।" (God Helps Those Who Help Themselves)

वोटर्स ने आत्म सम्मान से समझौता न कर, न्याय की "एंटाइटलमेंट"(खैरात) को ठुकरा "मोदी की एम्पावरमेंट" को चुना, जिसका मूल मन्त्र ही - "सबका साथ- सबका विकास है "

जय हिंद ! जय भारत !

अगला लेख: दिल्ली में ऊंचाई के आधार पर बिजली कनेक्शन



सतीश जी , बिलकुल सच बयां किया है आपने . नोटेबंदी जैसे बड़े फैसलों के बाद भी जनता ने आखिर सही का ही साथ दिया . वरना अंधेर नगरी चौपट राजा वाला काम हो जाता

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x