पाकिस्तान में हिंदी पाठशाला - दुर्लभ और दिलचस्प लेकिन धार्मिक कट्टरता

24 मई 2019   |  प्रियंका शर्मा   (126 बार पढ़ा जा चुका है)

भारत और पाकिस्तान सांस्कृतिक एवं भाषाई सभ्यताओं से आज भी एक दूसरे से जुड़े हुए हैं. बंटवारे के बाद भारत ने अपनी प्राचीन सभ्यता को बनाए रख कर एक बेहतर लोकशाही बनने की ओर कदम बढाएं वहीँ पाकिस्तान ने हर वो कदम उठाया कि जिससे वह भारत से खुद को अलग बता सके.

दुःख की बात है, सैंतालीस के पहले रावलपिंडी, लाहौर, कराची की जो गलियां हिंदी लेखकों एवं रचनाकारों के नाम से मशहूर हुआ करती थी वहां आज हिंदी की शख्सियतों को याद करने वाला तक कोई नहीं! आज़ादी के बाद पाकिस्तान में हिंदी को हिन्दुओं की भाषा बताकर पढ़ाना बंद कर दिया गया. और तो और ढोल पीटा गया कि ‘हिंदी दुश्मनों की भाषा है’. वैसे, यह ढोल आज भी पीटा जा रहा है.

हमें जान कर हैरानी होगी कि पाकिस्तान में 45% लोग पंजाबी बोलते हैं. 15% लोग पश्तो बोलते हैं. 12% लोग सिंधी बोलते हैं. 10% लोग सराइकी बोलते हैं लेकिन फिर भी वहाँ अधिकारिक भाषा के तौर पर उर्दू को थोपा गया है, जिसको बोलने वाले मात्र 7% हैं.

खैर, भारत में हमने उर्दू स्कूलों, मदरसों, कॉलेजों के बारे में सुना है और देखा भी है लेकिन पाकिस्तान में आज भी ‘एक अल्लाह, एक क़ुरान, एक नस्ल, एक ज़ुबान’ का नारा बुलंद है. भाषा की कट्टरवादिता को मानने वाले पाकिस्तान में हिंदी पाठशाला के बारे में सुनना अपने आप में बेहद ही दुर्लभ और दिलचस्प है.


Haresh Ram Mehra with his Students
हरेश राम मेहरा, जय शंकर हिंदी पाठशाला के शिक्षक


पिछले दिनों इसी विषय को टटोलते हुए मेरी मुलाकात हरेश राम मेहरा नामक युवक से हुई. मेहरा 21 साल के हैं और फ़िलहाल आईटी इंजीनियरिंग की पढाई कर रहे हैं. मेहरा साहब की खासियत है कि वे पाकिस्तान में रहते हुए भी हिंदी अच्छी तरह बोलते हैं, लिखते हैं और तो और हिंदी पाठशालाभी चलातें हैं. विषय इतना रोचक था कि मैं खुद को रोक नहीं पाया मेहरा साहब से बात करने हेतु. यहाँ मौजूद है हमारी बातचीत के कुछ अंश:

आप पाकिस्तान में कहाँ से हैं?

मैं सिंध प्रान्त के घोटकी डिस्ट्रिक्ट के मीरपुर मठेलो कस्बे से हूँ.

आपने हिंदी की तालीम कहाँ से ली?

हमारे गुरु संजय कुमारजी से. वे खुद भी एक हिंदी पाठशाला चलाते हैं.

आपकी पाठशाला का नाम क्या हैं और ऐसी कितनी पाठशालाएं पाकिस्तान में चल रहीं हैं?

हमारी पाठशाला का नाम है ‘जय शंकर हिंदी पाठशाला’. ऐसी पाठशालाएं सिर्फ सिंध प्रान्त में ही चलती हैं जहाँ हिन्दू आबादी अधिक हैं. हमारे घोटकी में करीब 11 पाठशालाएं हैं.


Ramesh Mehra at Jai Shankar Hindi Pathshala
हरेश राम मेहरा, जय शंकर हिंदी पाठशाला के शिक्षक


आपकी पाठशाला में कितने छात्र-छात्राएं हैं?

कुल 70 छात्र-छात्राएं. जिसमे 40 छात्राएं एवं 30 छात्र.

क्या बात है! इसका मतलब है कि पाकिस्तानी हिन्दू लड़कियां पढाई में ज्यादा रूचि रखती हैं!

नहीं, ऐसा नहीं है! धार्मिक कट्टरता के चलते यहाँ हिन्दू लड़कियां स्कूल नहीं जा पाती जिस वजह से हमारी पाठशाला से वे शिक्षा लेती हैं.

आपका हिंदी सीखना और सिखाने का मकसद क्या है?

यदि हिन्दू आबादी हिंदी सीखेगी तो अपने धर्म को अच्छे से समझेगी. खासकर हमारे धर्मग्रन्थ गीता को. और यहाँ की हिन्दू आबादी अब पलायन कर भारत में बस रही है ऐसे में हिंदी सीखना उनके भविष्य के लिए उपयोगी साबित हो सकता है.

पाकिस्तान में हिन्दुओ के प्रति इतनी कट्टर सोच होने के बावजूद क्या आपको हिंदी पाठशाला चलाना जोखिम उठाने जैसा नहीं लगता?

हमारे डिस्ट्रिक्ट में अच्छी खासी हिन्दू आबादी है. इसलिए यहाँ उतनी समस्या नहीं है फिर भी कुछ लोगों, खासकर मौलवियों को हमारा काम और हम पसंद नहीं आ रहे हैं.

क्या आपने कभी इस विषय पर पाकिस्तानी सरकार से मदद की गुहार लगाई हैं?

जी, कईं बार! हमने सरकार को पत्र लिखें, बात की, मगर अभी तक बात को आगे नहीं बढ़ाया गया.

आपके इस नेक कार्य में हम आपकी मदद कैसे कर सकते हैं?

हमें यहाँ हिंदी पुस्तकों की बहुत किल्लत रहती हैं. यदि आप भारत से हिंदी पुस्तकों को हम तक पहुंचा सकें तो बड़ी कृपा होगी.


अभिषेक सिंह राव

साभार - https://hindi.thearticle.in/hindustan/india-pak-together-on-hindi-diwas/

अगला लेख: जब दिल्ली IPS अफसर पति पर पत्नी ने लगाया मार पीट का आरोप, तो जनता का क्या



रेणु
01 जून 2019

बहुत ही आशा भरा लेख है।

कमाल है बहुत अच्छा लेख

लेख पढ़ कर मन को बहुत अच्छा लगा |

धन्यवाद आलोक जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मई 2019
"क्या ,आज भी तुम बाहर जा रहे हो ??तंग आ गई हूँ मैं तुम्हारे इस रोज रोज के टूर और मिटिंग से ,कभी हमारे लिए भी वक़्त निकल लिया करो। " जैसे ही उस आलिशान बँगले के दरवाज़े पर हम पहुंचे और नौकर ने दरवाज़ा खोला ,अंदर से एक तेज़ आवाज़ कानो में पड़ी ,हमारे कदम वही ठिठक गये। लेकिन तभी बड़ी शालीनता के साथ नौकर न
20 मई 2019
25 मई 2019
भारत की जल या थल सेना हो या वायु सेना हो इसके इतिहास से लेकर आजतक ऐसे वीर पैदा हुए हैं, जिनकी गाथाएं अमर हैं। साथ ही, ये गाथाएं सदियों तक याद की जाएंगी। ऐसे ही एक अमर वीर की कहानी हम आपको बताएंगे जिनकी बहादुरी के किस्से हर भारतीय को जानना चाहिए। फील्ड मार्शल सैम होर्मूसजी फ्रामजी जमशेदजी मानेकशॉ, जि
25 मई 2019
30 मई 2019
यह मैसेज जनसाधारण के लिए है और बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसे कृपया अपने परिवार के प्रत्येक सदस्य और खासकर बच्चों को अवश्य पढ़ाएं और समझाएं. कई वर्ष पहले जे0 पी0 होटल वसंत विहार नई दिल्ली में आग की दुर्घटना हु
30 मई 2019
13 मई 2019
नरेन्द्र मोदी ने 2014 के चुनावों में भाजपा को प्रचंड जीत दिलाई। भाजपा ने मोदी को चेहरा बनाकर लोकसभा का चुनाव लड़ा था। प्रचार के दौरान मोदी ने धुंआधार सभाएं कीं। उनके प्रचार की आक्रामक शैली ने कांग्रेस को बैकफुट पर ला दिया। बच्चों से लेकर बुर्जुग तक की जुबां पर एक ही न
13 मई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
20 मई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x