आग की दुर्घटना में भारतीय मारे जाते हैं लेकिन जापानी या अमेरिकी नहीं, क्यों ?

30 मई 2019   |  प्रियंका शर्मा   (130 बार पढ़ा जा चुका है)

आग की दुर्घटना में भारतीय मारे जाते हैं लेकिन जापानी या अमेरिकी नहीं, क्यों ? - शब्द (shabd.in)

यह मैसेज जनसाधारण के लिए है और बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसे कृपया अपने परिवार के प्रत्येक सदस्य और खासकर बच्चों को अवश्य पढ़ाएं और समझाएं. कई वर्ष पहले जे0 पी0 होटल वसंत विहार नई दिल्ली में आग की दुर्घटना हुई, जिसमें बहुत सारे भारतीय मारे गए लेकिन जापानी और अमेरिकन नहीं। जानते हैं क्यों? मैं आपको बताता हूँ:-


1. सभी अमेरिकन और जापानी लोगों ने अपने कमरों के दरवाज़ों के नीचे खाली जगहों में गीले तौलिये लगा दिए और खाली जगहों को सील कर दिया, जिससे धुआं उनके कमरों तक नहीं पहुंच सका। या बहुत कम मात्रा में पहुंचा।


2. इन सभी विदेशी मेहमानों ने अपनी नाक पर गीले रुमाल बांध लिए, जिससे उनके फेफड़ों में धुआं प्रवेश न कर सके।


3. सभी विदेशी मेहमान अपने अपने कमरों के फर्श पर औंधे लेट गए। (क्योंकि धुआं हमेशा ऊपर की ओर उठता है)


इस प्रकार जब तक अग्निशमन विभाग के कर्मचारी आये, तब तक वे अपने आपको जीवित रख पाने में सफल रहे।


जबकि होटल के भारतीय मेहमानों को इन सुरक्षा उपायों के बारे में पता ही नहीं था इसलिए वे इधर से उधर भागने लगे और उनके फेफड़ों में धुआं भर गया और कुछ समय में ही उनकी मौत हो गई।


अभी (24.05.2019) को सूरत (गुजरात) के एक कोचिंग सेंटर में आग की दुर्घटना हुई जिसमें कई बच्चों की जान इस अज्ञानता और भगदड़ के कारण हो गई। यदि उन्हें इन सुरक्षा उपायों के बारे में जानकारी होती तो शायद इतनी बड़ी संख्या में बच्चों की जान न जाती।


याद रखें, आग लगने की स्थिति में ज़्यादातर मौतें शरीर में धुआं जाने से होती हैं, जबकि आग के कारण कम होती हैं।


क्योंकि आग की स्थिति में हम लोग धैर्य से काम नहीं लेते हैं और इधर से उधर भागने लगते हैं। भागने से हमारी सांसें तेज़ हो जाती हैं जिसके कारण बहुत सारा धुआं हमारे फेफड़ों में प्रवेश कर जाता है और हम बेहोश हो जाते हैं और ज़मीन पर गिर जाते हैं तथा फिर आग की लपटों से घिर जाते हैं।


इसलिए आग लगने की स्थिति में ये सुरक्षा उपाय अपनाएं:-


1. भगदड़ न मचाएं और अपने होश कायम रखें ताकि आप दूसरों की मदद कर सकें।


2. अपने नाक पर गीला रुमाल या गीला लेकिन घना कपड़ा बांधें। तथा फर्श पर लेट जाएं।


3. यदि आप किसी कमरे में बंद हों तो उसके खिड़की दरवाज़े बंद कर दें तथा उनके नीचे या ऊपर या कहीं से भी धुआं आने की संभावना हो तो उस जगह को भी गीले कपड़े से सील कर दें।


4 अपने आसपास के लोगों से भी ऐसा ही करने को कहें।


5. अग्निशमन की सहायता की प्रतीक्षा करें। याद रखें, अग्निशमन वाले प्रत्येक कमरे की जांच करते हैं और वे फंसे हुए व्यक्तियों को ढूंढ लेंगे।


6. यदि आपका मोबाइल काम कर रहा हो तो आप लगातार 100, 101 या 102 पर मदद के लिए कॉल करते रहें। उन्हें आप अपने स्थान की जानकारी भी दें। वे आप तक सबसे पहले पहुंचेंगे।


यह मैसेज लिखने में मुझे 30 मिनेट लगे। आप इस मैसेज को अपने प्रियजनों तक कुछ सेकंड में पहुंचा सकते हैं।


दुर्घटना में कोई भी फंस सकता है। इसलिए सुरक्षा उपायों की जानकारी सबको अवश्य होनी चाहिए।


फालतू message तो सभी फॉरवर्ड करते रहते हैं। देखता हूँ, इस जानकारी से भरपूर मैसेज को आप कहाँ तक भेजते हैं।


मेरी सलाह है, आपके हर प्रियजनों तक पहुंचना चाहिए।


🙏🙏🙏🙏🙏

अगला लेख: अर्जुन कपूर ने मलाइका अरोड़ा के साथ अपने रिलेशनशिप के बारे में बहुत ही प्यारी बात कही है



बहुत अच्छा लेख है | सभी का मर्ग दर्शन करने वाला |

उपयोगी लेख प्रिय प्रियंका

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मई 2019
भारत की जल या थल सेना हो या वायु सेना हो इसके इतिहास से लेकर आजतक ऐसे वीर पैदा हुए हैं, जिनकी गाथाएं अमर हैं। साथ ही, ये गाथाएं सदियों तक याद की जाएंगी। ऐसे ही एक अमर वीर की कहानी हम आपको बताएंगे जिनकी बहादुरी के किस्से हर भारतीय को जानना चाहिए। फील्ड मार्शल सैम होर्मूसजी फ्रामजी जमशेदजी मानेकशॉ, जि
25 मई 2019
21 मई 2019
किन्नर से बने सुखदुआ | SUKHDUA SAMAJहारमोनल इनबायलेंस के कारण आयी एक बीमारी की वजह से हमारा समाज हमेशा ही उन्हें कौतुहल से देखता आया है। सैंकड़ो-हजारोंं वर्षों से उपेक्षित इस समाज को किन्नर, हिजड़ा, छकका और भी न जाने किन-किन नामों से पुकारा जाता रहा लेकिन डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने 14 नवंब
21 मई 2019
03 जून 2019
1/ 6कियारा आडवाणी, अपनी आने वाली फिल्म 'कबीर सिंह' को लेकर काफी चर्चा में हैं. फिल्म के ट्रेलर को तो दर्शकों ने पसंद किया ही है साथ ही फिल्म के गाने भी दर्शक बेहद पसंद कर रहे हैं. खासतौर से कियारा ने अब तक जितनी भी फिल्में की हैं, इस फिल्म में वह बिल्कुल नए अवतार में हैं. यह भी वजह है कि कियारा की क
03 जून 2019
30 मई 2019
सर्दी-जुकाम किसी को भी हो सकता है। इसके कई कारण हो सकते हैं। कभी मौसम में बदलाव तो कभी ठंडा गरम खाने से भी जुकाम हो सकता है। आमतौर लोग इसे गंभीर समस्या नहीं मानते। सर्दी-जुकाम के लक्षण आमतौर पर तीन से 10 दिनों बाद कम होने लगते हैं, हालांकि बहुत
30 मई 2019
27 मई 2019
कई खतरनाक बिमारियों का कारण बन सकता है विटामिन डी की कमी जब हमारी त्वचा धुप के संपर्क में आती है तो हमारा शरीर में विटामन डी निर्माण की प्रक्रिया आरम्भ होने लगती है। विटामिन डी वसा घुलनशील प्रो-हार्मोन का एक समूह होता है। यह हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी हैं। इसक
27 मई 2019
23 मई 2019
आँखों की कमजोरी का इलाजआँखे हमारे शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। ये हमारे शरीर सबसे संवेदनशील अंग हैं। आँखों का कमजोर होना आजकल आम बात हो गई। हर व्यक्ति,बच्चा दिनभर फोन,टीबी,कम्पूयटर और टैबलेट में आंखे गढ़ाए रहता हैं। बालों में कलरऔर तरह-तरह के एक्सपेरिमेंट करना। अनियमित जिवनशैली। तनाव भरा
23 मई 2019
23 मई 2019
चतुरंग दंडासन बनता है आपको मजबूत चतुरंग दंडासन योग आपके शरीर का सही ढंग से गठन करने में मदद करता हैं। चतुरंग दंडासन रीढ़ के हड्डी को सीधा रख कर किया जाता हैं। इस आसन को हर किसी को करना चाहिए कियुँकि यह आपको बहुत ताकत प्रदान करता है। चतुरंग दण्डासन तीन शब्दों से मिल
23 मई 2019
23 मई 2019
लोकसभा चुनाव 2019 में धमाकेदार जीत दर्ज करने के बाद पीएम मोदी ने अपने नाम से चौकीदार शब्द हटा लिया है. उन्होंने खुद इस बारे में ट्वीट करके जानकारी दी. पीएम का ये ट्वीट अंग्रेजी में है. उन्होंने अपने ट्वीट में औरों को भी यही करने को कहा है. मोदी ने लिखा है-वक्त आ गया है कि चौकीदार वाली भावना को अगले
23 मई 2019
30 मई 2019
कैंसर के बारे में आज कल सभी को पता चल गया है क्योंकि इस खतरनाक रोग के शिकार अनेक लोग बनते आ रहे है और ये संख्या दिन प्रतिदिन बढती ही जा रही है। कैंसर आज कल के दिनों में ज्यादा घातक रोग नहीं रहा है क्योंकि मेडिकल साइंस ने इतनी उन्नति प्राप्त कर ली है की लोग अलग प्रकार के कैंसर से छुटकारा पा सकते है।
30 मई 2019
24 मई 2019
भारत और पाकिस्तान सांस्कृतिक एवं भाषाई सभ्यताओं से आज भी एक दूसरे से जुड़े हुए हैं. बंटवारे के बाद भारत ने अपनी प्राचीन सभ्यता को बनाए रख कर एक बेहतर लोकशाही बनने की ओर कदम बढाएं वहीँ पाकिस्तान ने हर वो कदम उठाया कि जिससे वह भारत से खुद को अलग बता सके.दुःख की बात है, सैंतालीस के पहले रावलपिंडी, लाहौर
24 मई 2019
08 जून 2019
असल में इस मामले में पहले बलात्कार की बात सामने आयी फिर बाद में पता चला की बच्ची का बलात्कार नहीं हुआ था लेकिन ऐसी बर्बरता से मारा गया था की इंसानियत भी लहू लुहान होकर किसी कोने में दुबक कर सिसकने लगे।हुआ यूँ की अपराधी जाहिद अली ने टिंकल के पिता जी कन्हैया शर्मा जो की पेशे से मजदूर हैं, 10,000 /- रु
08 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x