अब पछताये क्या होत, जब चिड़ियाँ चुग गयी खेत

01 जून 2019   |  पल्लवी राय   (33 बार पढ़ा जा चुका है)

अच्छा लग रहा है न आज ऐसे सड़क के किनारे बैठे हुए, इस इंतजार में कि क्या हुआ जो बहु ने निकाल दिया घर से,बेटा तो हमारा है न ,वो हमें लेने जरूर आएगा ।

अरे याद करो भाग्यवान आज से 40 साल पहले की बात को मेरे लाख मना करने के बावजूद तुमने मेरी विधवा माँ पर न जाने क्या क्या इल्ज़ाम लगा कर घर से निकाला था।

कितनी मेहनत करके मेरी माँ ने मुझे पढ़ाया लिखाया,बड़ा आदमी बनाया,लेकिन तुमने क्या किया?

डायन, चोरनी, कुल्टा बोलकर घर से निकाल दिया उसे ।

उस दिन तुमने मुझे वापस अपनी माँ को घर ले जाने दिया था क्या ? रोक लिया था न अपने बेटे की कसम देकर ।

तो आज फिर क्यों आस लगाए बैठी हो अपने बेटे से, कि वो तुम्हे लेने आएगा।

याद है कैसे तुम्हारा बेटा अपनी दादी के आँचल को पकड़े हुए था ? उन्हें जाने नही दे रहा था , पर उसे भी तुमने अपनी दादी से दूर कर दिया था हमेशा के लिए।

वो तुम्हारा ही बेटा है न ,उसने यही तो सीखा था कि बूढ़े माँ बाप की जगह घर में नहीं होती । चलो हम भी वहीं चलते हैं,जहाँ वर्षों पहले हमारी लाचार और बेबस माँ को सहारा मिला था।

कहते कहते जगदीश फफक फफक रो पड़ा था,पश्चाताप के आँसू तो जगदीश के साथ ही शांति के आँखों में भी थे,पर किसी ने सच ही कहा है,

"अब पछताये क्या होत ,जब चिड़िया चुग गयी खेत"



अगला लेख: अब पछताये क्या होत,जब चिड़ियाँ चुग गयी खेत



हिना
04 जून 2019

इसे पढ़कर मेरा दिल भर आया . ऐसा एक सच्चा किस्सा मेरे ही परिवार का भी है . आपने शायद कल्पना लिखी होगी , पर आज न जाने कितने ही घरों का सच है ये

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x