निस्वार्थ प्रेम ही है ध्यान

04 जून 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (54 बार पढ़ा जा चुका है)

निस्वार्थ प्रेम ही है ध्यान

निस्वार्थ प्रेम ही है ध्यान

संसार के समस्त वैभव होते हुए भी

कँगाल है मनुष्य, रीते हैं हाथ उसके

यदि नहीं है प्रेम का धन उसके पास...

किया जा सकता है प्रेम समस्त चराचर से

क्योंकि नहीं होता कोई कँगाल दान करने से प्रेम का

जितना देते हैं / बढ़ता है उतना ही...

नहीं है कोई परिभाषा इसकी / न ही कोई नाम / न रूप

बस है एक विचित्र सा अहसास...

सोचते सोचते हुआ आभास कुछ / आँखों ने देखा कुछ

कानों ने सुना कुछ / कुछ ऐसा जिसने किया मुझे आकर्षित

खटखटाया द्वार किसी ने धीमे धीमे प्यार से...

मैंने सुना, और मैं सुनती रही / मैंने देखा, और मैं देखती रही

मैंने सोचा, और मैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ...

प्रेम खटखटाता रहा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़

खोई रही अपने ऊहापोह में..

तभी कहा किसी ने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने

सारा सोच विचार है व्यर्थ

क्योंकि तुम द्वार खोलो या ना खोलो / द्वार टूटेगा,

और प्रेम आएगा भीतर

कब, इसका भान भी नहीं हो पाएगा तुम्हें...

हाँ, यदि करती रही प्रयास इसे पाने का

गणनाएँ और मोल भाव / लेन देन या नक़द उधार

तो लौटना होगा रिक्त हस्त

क्योंकि आदत नहीं प्रेम को गणनाओं की

मोल भाव की या नक़द उधार की...

क्या होगा, इसका प्रश्न क्यों ?

कैसे होगा, इसका चिन्तन क्यों ?

कितना होगा, इसका मनन क्यों ?

छोड़ दो ये सारे प्रश्न, विचार, चिन्तन और मनन

प्रेम के प्रकाश को करने दो पार सीमाएँ अपने समस्त तर्कों की

और तब, वही निस्वार्थ निराकार प्रेम / बन जाएगा ध्यान...

ध्यान, जो होगा तुम्हारे ही भीतर...

ध्यान, जो होगा तुम्हारे ही लिये...

ध्यान, जो होगी तुम स्वयम् ही…

अगला लेख: १७ से २३ जून तक का साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जून 2019
मंज़िल का भान हो न हो / पथ का भी ज्ञान हो न हो आत्मा – हमारी अपनी चेतना / नित नवीन पंख लगाए सदा उड़ती ही जाती है / सतत / निरन्तर / अविरत...क्योंकि मैं “वही” हूँ / मेरे अतिरिक्त और कुछ भी नहीं “अहम् ब्रह्मास्मि” या कह लीजिये “सोSहमस्मि”तभी तो, कभी इस तन, कभी उस तनकभी तेरे तन तो कभी मेरे तन | न इसके पंख
13 जून 2019
01 जून 2019
मन कंटक वन में-याद तुम्हारी -खिली फूल सीजब -जब महकीहर दुविधा -उड़ चली धूल सी!!रूह से लिपटी जाय-तनिक विलग ना होती,रखूं इसे संभाल -जैसे सीप में मोती ;सिमटी इसके बीच -दर्द हर चली भूल सी !!होऊँ जरा उदासमुझे हँस बहलाएहो जो इसका साथतो कोई साथ न भाये -जाए पल भर ये दूर -हिया में चुभे शूल सी !!तुम नहीं हो जो
01 जून 2019
18 जून 2019
मै बिना टिकट के सफर करता रहा स्टेशन पर टीटी मेरा इन्तज़ार करता रहा आसमान से गिरा हू तो ख़जूर में क्यू अटकू मै गिरा आम के बगीचे में , ख़जूर मेरा इन्तज़ार करता रहा दिले इश्क़ का मरीज़ हू तो आऊँगा जरूर , ये सो
18 जून 2019
24 मई 2019
भारत और पाकिस्तान सांस्कृतिक एवं भाषाई सभ्यताओं से आज भी एक दूसरे से जुड़े हुए हैं. बंटवारे के बाद भारत ने अपनी प्राचीन सभ्यता को बनाए रख कर एक बेहतर लोकशाही बनने की ओर कदम बढाएं वहीँ पाकिस्तान ने हर वो कदम उठाया कि जिससे वह भारत से खुद को अलग बता सके.दुःख की बात है, सैंतालीस के पहले रावलपिंडी, लाहौर
24 मई 2019
15 जून 2019
सूर्य का मिथुन में गोचर आज सायं पाँच बजकर उन्तालीस मिनट केलगभग भगवान भास्कर अपने शत्रु गृह शुक्र की वृषभ राशि से निकल कर बुध की मिथुनराशि में प्रविष्ट हो जाएँगे, जहाँ उनके लिए विचित्र परिस्थिति बनी हुई है | एक ओरउनका मित्र ग्रह मंगल वहाँ गोचर कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर एक शत्रु ग्रह राहु कागोचर भी व
15 जून 2019
25 मई 2019
ले
लेखनी! उत्सर्ग कर अब✒️लेखनी! उत्सर्ग कर अब, शांति को कब तक धरेगी?जब अघी भी वंद्य होगा, हाथ को मलती फिरेगी।साथ है इंसान का गर, हैं समर्पित वंदनायें;और कलुषित के हनन को, स्वागतम, अभ्यर्थनायें।लेखनी! संग्राम कर अब, यूँ भला कब तक गलेगी?हों निरंकुश मूढ़ सारे, जब उनींदी साधन
25 मई 2019
17 जून 2019
दलाल एक कहानी - लेखन डॉ दिनेश शर्माजून की दोपहरी में मंत्री जी के लम्बा चौड़ेड्राइंग रूम का दृश्य है |घुसते ही बांयी तरफ दीवार से सटे बड़े सोफे परठीक पंखे के नीचे और एयर कंडीशनर के सामने खर्राटे मारती अस्त व्यस्त भगवें कपड़ोमें लिपटी मझौले शरीर वाली एक आकृति लेटी है | पास वाली मेज पर भगवें रंग का एक
17 जून 2019
05 जून 2019
विश्व पर्यावरण दिवसमनुष्य ही नहीं समस्तप्राणीमात्र – सृष्टि के समस्त जीव - इस स्वयंभू शाश्वत और विहंगम प्रकृति का अंगहै | इसी से समस्त जीवों की उत्पत्ति हुई है | प्रकृति के विकास के साथ ही हम सबकाभी विकास होता है यानी विकास यात्रा में हम प्रकृति के सहचर हैं – सहगामी हैं |प्रदूषित पर्यावरण के द्वारा
05 जून 2019
20 मई 2019
नक्षत्रों की नाड़ियाँपिछले लेख में हमने बात कीप्रत्येक नक्षत्र की संज्ञाओं और उनके आधार पर जातक के अनुमानित कर्तव्य कर्मों की| नक्षत्रों का विभाजन नाड़ी, योनि और तत्वों के आधार पर किया गया है | तो आज“नाड़ियों” पर संक्षिप्त चर्चा…प्रत्येक नक्षत्र की अपनी एकनाड़ी होती है – या यों कह सकते हैं कि प्रत्येक न
20 मई 2019
02 जून 2019
3 से 9 जून 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधार
02 जून 2019
13 जून 2019
मंज़िल का भान हो न हो / पथ का भी ज्ञान हो न हो आत्मा – हमारी अपनी चेतना / नित नवीन पंख लगाए सदा उड़ती ही जाती है / सतत / निरन्तर / अविरत...क्योंकि मैं “वही” हूँ / मेरे अतिरिक्त और कुछ भी नहीं “अहम् ब्रह्मास्मि” या कह लीजिये “सोSहमस्मि”तभी तो, कभी इस तन, कभी उस तनकभी तेरे तन तो कभी मेरे तन | न इसके पंख
13 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x