नक्षत्र - एक विश्लेषण

06 जून 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (21 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

नक्षत्रों के तत्व

विवाह के लिए कुण्डली मिलान करते समय पारम्परिक रूप से अष्टकूट गुणों का मिलान करने की प्रक्रिया में नाड़ी, योनि और गणों के साथ ही नक्षत्रों के वश्य का मिलान भी किया जाता है | पाँच वश्यों के अतिरिक्त समस्त 27 नक्षत्र चार तत्वों में भी विभाजित होते हैं | जिनमें से पाँचों वश्य तथा वायु तत्व के विषय में अपने पिछले लेख में संक्षेप में लिखा था | आज शेष तत्वों के विषय में…

अग्नि तत्व : अग्नि अर्थात वह तत्व जिसमें दाहकता हो – जलाने की सामर्थ्य हो, तेज हो, ताप हो | अग्नि देव सब कुछ भस्म कर देने की सामर्थ्य रखने के साथ ही प्रकाश का कारण भी होते हैं | समस्त ब्रह्माण्ड उन्हीं के तेज से प्रकाशित होता है | साथ ही गतिशीलता में भी अग्नि तत्व से सहायता प्राप्त होती है | अग्नि शुद्धीकरण का कारक भी है – जो कुछ भी अशुद्ध है अथवा अशुभ है उसे जला डालता है और शेष रह जाता है केवल शुद्धता और शुभत्व का प्रकाश | यह प्रतिभा का भी संकेत करता है | भूख तथा पाचन क्रिया भी इसी तत्व के द्वारा नियन्त्रित होती है |

इन्द्र तत्व : इन्द्र शब्द प्रतिनिधित्व करता है बादलों का और मिट्टी कीचड़ आदि का | पञ्चमहाभूतों में से आकाश और पृथिवी दोनों इन्द्र तत्व के अन्तर्गत आते हैं | इन्द्र को देवताओं, मेघों और वर्षा का राजा भी कहा जाता है | सर्वश्रेष्ठ के लिए भी इन्द्र शब्द का प्रयोग होता है | इन्द्र को ईर्ष्यालु प्रवृत्ति का माना जाता है | इस प्रकार के पौराणिक आख्यान उपलब्ध होते हैं कि जब भी इन्द्र को पता चलता था कि कोई व्यक्ति अथवा ऋषि अपने मोक्ष के लिए तपस्या कर रहा है तो इन्द्र को भय सताने लगता था कि तपस्या के द्वारा उस व्यक्ति में और अधिक शक्तियाँ आ जाएँगी तो उसे स्वर्ग में प्रवेश मिल जाएगा और तब वह इन्द्र को परास्त करके उसके साम्राज्य पर अधिकार कर लेगा | इसीलिए प्रायः वह दूसरों की तपस्या भंग करने के प्रयास में व्यस्त रहता था | अपनी प्रजा के वह पूर्ण स्नेह तथा समर्पण के भाव से ध्यान रखता था | निर्धन तथा ज़रूरतमन्दों के लिए इन्द्र को पिटा, भाई तथा सहायक के रूप में देखा जाता है | स्वर्ग में इन्द्र का साम्राज्य है, अमरावती इसकी राजधानी है, इसके उद्यान का नाम नन्दन वन है, ऐरावत हाथी तथा उच्चैश्रवा अश्व इसके वाहन माने जाते हैं | इन्द्रधनुष इन्द्र का धनुष है तथा पर्जन्य (मेघ) इन्द्र की तलवार है |

वेदों तथा पौराणिक ग्रन्थों में इन्द्र से सम्बन्धित अनेक आख्यान उपलब्ध होते हैं | जिनमें प्रमुख हैं कि इन्द्र दो अश्वों के द्वारा खींचे जाने वाले चमकीले सुनहरे रथ पर सवार होते हैं, उनके सबस प्रिय अस्त्र आकाश में दमकने वाली बिजली तथा पाश – इन्द्रजाल हैं – जो युद्धों में विजय दिलाने तथा अन्धकार और सूखे के दानवों को नष्ट करने के लिए प्रयुक्त होते हैं | इसीलिए इन्द्र को पर्यावरण का देवता भी माना जाता है | मरुद्गण अर्थात वायु इनके मुख्य सहायक हैं | इनका प्रिय भोजन है सोमरस | इन्हें कश्यप और अदिति का पुत्र भी कहा जाता है |

वरुण तत्व : वरुण को जल का देवता माना जाता है | यह बारह आदित्यों (कश्यप और अदिति के बारह पुत्र) में से एक माने जाते हैं तथा समुद्र तथा पश्चिम दिशा का स्वामी – प्रतीचीं वरुण: पति: (महाभारत) - माने जाते हैं और प्रायः मित्र - एक आदित्य – के साथ ही रहते हैं | इनका अस्त्र पाश माना जाता है | समस्त ब्रह्माण्ड, समस्त देवों तथा मनुष्य का स्वामी भी इन्हें माना जाता है – त्वं विश्वेसां वरुणासि राजा, ये च देवा: ये च मर्ता: (ऋग्वेद 2/27/10)

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/06/06/constellation-nakshatras-45/

अगला लेख: बुध का कर्क में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जून 2019
शुक्र का वृषभ में गोचरआज वट सावित्री सोमवती अमावस्याहै | कल यानी दो जून को सायं चार बजकरउनतालीस मिनट पर अमावस्या तिथि का आगमन हुआ है जो आज दोपहर तीन बजकर इकत्तीस मिनटतक अमावस्या रहेगी | अतः सामान्य रूप से व्रत के पारायण का समय भी इसी समय तक है |जो भी महिलाएँ इस व्रत का पालन करती हैं सर्वप्रथमउन सभी
03 जून 2019
15 जून 2019
सूर्य का मिथुन में गोचर आज सायं पाँच बजकर उन्तालीस मिनट केलगभग भगवान भास्कर अपने शत्रु गृह शुक्र की वृषभ राशि से निकल कर बुध की मिथुनराशि में प्रविष्ट हो जाएँगे, जहाँ उनके लिए विचित्र परिस्थिति बनी हुई है | एक ओरउनका मित्र ग्रह मंगल वहाँ गोचर कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर एक शत्रु ग्रह राहु कागोचर भी व
15 जून 2019
17 जून 2019
दलाल एक कहानी - लेखन डॉ दिनेश शर्माजून की दोपहरी में मंत्री जी के लम्बा चौड़ेड्राइंग रूम का दृश्य है |घुसते ही बांयी तरफ दीवार से सटे बड़े सोफे परठीक पंखे के नीचे और एयर कंडीशनर के सामने खर्राटे मारती अस्त व्यस्त भगवें कपड़ोमें लिपटी मझौले शरीर वाली एक आकृति लेटी है | पास वाली मेज पर भगवें रंग का एक
17 जून 2019
13 जून 2019
मंज़िल का भान हो न हो / पथ का भी ज्ञान हो न हो आत्मा – हमारी अपनी चेतना / नित नवीन पंख लगाए सदा उड़ती ही जाती है / सतत / निरन्तर / अविरत...क्योंकि मैं “वही” हूँ / मेरे अतिरिक्त और कुछ भी नहीं “अहम् ब्रह्मास्मि” या कह लीजिये “सोSहमस्मि”तभी तो, कभी इस तन, कभी उस तनकभी तेरे तन तो कभी मेरे तन | न इसके पंख
13 जून 2019
20 जून 2019
नियम प्रकृति का सरल नहीं पकड़ना / पुष्पों के गिर्द इठलाती तितलीको |हर वृक्ष पर पुष्पित हर पुष्प उसका है तभी तो इतराती फिरती है कभी यहाँ कभी वहाँ /निर्बाध गति से…बाँध सकोगे मुक्त आकाश में ऊँची उड़ान भरतेपक्षियों को ?समस्त आकाश है क्रीड़ास्थली उनकी हाथ फैलाओगे कहाँ तक ?कितने बाँध बना दो कल कल छल छल करती
20 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x