गंगा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (13 बार पढ़ा जा चुका है)

गंगा का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*इस धराधाम पर मनुष्य को जीवन जीने के लिए वैसे तो अनेक आवश्यक आवश्यकतायें होती हैं परंतु इन सभी आवश्यकताओं में सर्वोपरि है अन्न एवं जल | बिना अन्न के मनुष्य के जीवन की कल्पना करना व्यर्थ है और अन्न का स्रोत है जल | बिना जल के अन्न के उत्पादन के विषय में कल्पना करना वैसा ही है जैसे अर्द्धरात्रि में सूर्य देखना | जहाँ जल की बात आती है वहाँ परमपावनी , जीवनदायिनी माँ गंगा की चर्चा करना अनिवार्य हो जाता है | गंगा नदी अपने विशेष जल और इसके विशेष गुण के कारण मूल्यवान मानी जाती है | इसका जल अपनी शुद्धता और पवित्रता को लम्बे समय तक बनाये रखता है | माना जाता है कि गंगा का प्रादुर्भाव भगवान् विष्णु के पैरों से हुआ था | भगवान विष्णु के पैरों से निकलकर सीधे ब्रह्मा जी के कमण्डल में गयीं और उनके कमण्डल से सीधे भगवान शिव की जटाओं में | शिव जी की जटाओं से निकलने के बाद गंगा जी पृथ्वीलोक पर आती हैं | सनातन धर्म में विशेष त्रिदेवों (ब्रह्मा , विष्णु , महेश) के संसर्ग में आने के कारण ही इनका महत्व बढ़ जाता है | गंगा स्नान , पूजन और दर्शन करने से पापों का नाश होता है, व्याधियों से मुक्ति होती है | जो तीर्थ गंगा किनारे बसे हुए हैं, वे अन्य की तुलना में ज्यादा पवित्र माने जाते हैं |* *आज गंगावतरण दिवस "गंगा दशहरा" के दिन मैया गंगा की महिमा सबको ही जानना चाहिए |मानवमात्र की जीवन रेखा कही जाने वाली मैया गंगा की महिमा इतनी ज्यादा है कि इसका वर्णन कर पाना शायद मेरी लेखनी में नहीं है | आज की भौतिकता में जहाँ हम अपने जीवन के मूल आधारों को भूलते जा रहे हैं वहीं पर मैया गंगा की प्रासंगिकता आज भी विद्यमान है | गंगा जी का पौराणिक / धार्मिक के अतिरिक्त वैज्ञानिक महत्त्व भी है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" विचार करता हूँ कि जहाँ संसार के सभी प्रकार के जलों में एक अवधि के बाद गंदगी एवं कीड़े उत्पन्न हो जाते हैं वहीं गंगा जी का जल न तो कभी गंदा होता है और न ही उसमें कीड़े पड़ते हैं | गंगा नदी का इतना महत्त्व है कि इसका जल वर्षों प्रयोग करने पर और रखने पर भी ख़राब नहीं होता है | इसके जल के नियमित प्रयोग से असाध्य से असाध्य रोग दूर होते हैं | हालांकि गंगाजल के इन दैवीय गुणों को कुछ लोग इसे चमत्कार कहते हैं और कुछ लोग इसे जड़ी-बूटियों और आयुर्वेद से जोड़ते हैं | हिमालय के उच्चशिखर से चलकर स्वयं में अनेक जड़ी - बूटियों को समाहित करती हुई ये भारत के मैदानी क्षेत्रों में पहुँचती हैं | पुराण ही नहीं वरन् विज्ञान भी इसके दैवीय गुणों को स्वीकार करता है | ऐसी दिव्य एवं प्राणदायिनी गंगा मैया भी आज हमारे द्वारा उपेक्षित हो रही हैं तो यह जीवमात्र के लिए भविष्य में घातक हो सकता है | अत: इनकी पवित्रता बनाये रखने के लिए हम सभी को बराबर प्रयास करते रहना चाहिए |* *गंगा जी की पवित्रता एवं दिव्यता के वर्णन में पुराणों के पन्ने भरे हुए हैं परंतु हम आज पुराणों को खोलना ही नहीं चाहते शायद इसीलिए आज की युवापीढ़ी इससे अनभिज्ञ होती जा रही है | हमें अपने धार्मिक ग्रंथों का अध्ययन करते रहना चाहिए |*

अगला लेख: भगवान कच्छप :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जून 2019
*सनातन धर्म का प्रत्येक अंग किसी न किसी मान्यता व परम्परा से जुड़ा हुआ है | चाहे जड़ हो या चेतन , पर्व हो या त्यौहार , यहाँ तक कि समाज का वर्गीकरण भी पौराणिक एवं धार्मिक मान्यताओं से ही सम्बन्धित है | आज ज्येष्ठ शुक्लपक्ष की नवमी को "महेश नवमी" के नाम से जाना जाता है
10 जून 2019
17 जून 2019
*आदिकाल से ऋषि महर्षियों ने अपने शरीर को तपा करके एक तेज प्राप्त किया था | उस तेज के बल पर उन्होंने अनेकानेक कार्य किये जो कि मानव कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हुए | सदैव से ब्राम्हण तेजस्वी माना जाता रहा है | ब्राम्हण वही तेजस्वी होता था जो शास्त्रों में बताए गए नियमानुसार नित्य त्रिकाल संध्या का अनु
17 जून 2019
16 जून 2019
*मानव जीवन अनेक विचित्रताओं से भरा हुआ है | मनुष्य की इच्छा इतनी प्रबल होती है कि वह इस संसार में उपलब्ध समस्त ज्ञान , सम्पदायें एवं पद प्राप्त कर लेना चाहता है | अपने दृढ़ इच्छाशक्ति एवं किसी भी विषय में श्रद्धा एवं विश्वास के बल पर मनुष्य ने सब कुछ प्राप्त भी किया है | मानव जीवन में श्रद्धा एवं वि
16 जून 2019
09 जून 2019
*जबसे इस धराधाम पर मानव की सृष्टि हुई तबसे ही मनुष्य ने समूह एवं संगठन को महत्त्व दिया है | या यूँ भी कहा जा सकता है कि मनुष्य के विकास में समूह व संगठन का विशेष योगदान रहा है | आदिकाल में जब न तो घर थे और न ही जीवन को सरल बनाने के इतने साधन तब मनुष्य समूह बनाकर रहते हुए एक - दूसरे के सुख - दु:ख में
09 जून 2019
11 जून 2019
*विशाल देश भारत में सनातन धर्म का उद्भव हुआ | सनातन धर्म भिन्न-भिन्न रूपों में समस्त पृथ्वीमंडल पर फैला हुआ है , इसका मुख्य कारण यह है कि सनातन धर्म के पहले कोई धर्म था ही नहीं | आज इस पृथ्वी मंडल पर जितने भी धर्म विद्यमान हैं वह सभी कहीं न कहीं से सनातन धर्म की शाखाएं हैं | सनातन धर्म इतना व्यापक
11 जून 2019
12 जून 2019
*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता
12 जून 2019
12 जून 2019
*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता
12 जून 2019
19 मई 2019
*परमपिता परमात्मा की सृष्टि जितनी अनुपम एवं अनूठी है उतनी ही विचित्र भी है | इन्हीं विचित्रताओं में सबसे विचित्र है मनुष्य का जीवन | यद्यपि समस्त मानव जाति की रचना परमात्मा ने एक समान की है परंतु सबका अपना सौंदर्य है , अपना वजूद है , अपनी रंगत है , अपना स्वरूप है , अपनी विशेषता है व अपनी उपयोगिता ह
19 मई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x