निर्जला एकादशी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (15 बार पढ़ा जा चुका है)

निर्जला एकादशी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता है उस समय एक ऐसा व्रत विधान रखा जिसमें चौबीस घण्टे तक जल तक वर्जित कर दिया गया है | इसे "निर्जला एकादशी" / भीमसेनी एकादशी के नाम से जाना जाता है | निर्जला एकादशी का नियम-निर्देश केवल संयोग नहीं हो सकता | यदि हम ज्येष्ठ की भीषण गर्मी में एक दिन सूर्योदय से लेकर दूसरे दिन सूर्योदय तक बिना पानी के उपवास करें तो बिना बताए ही हमें जल की आवश्यकता, अपरिहार्यता, विशेषता पता लग जाएगा | जीवन बिना भोजन, वस्त्र के कई दिन संभाला जा सकता है, परंतु जल और वायु के अभाव में नहीं | शायद उन दूरदर्शी महापुरुषों को काल के साथ ही शुद्ध पेयजल के भीषण अभाव और त्रासदी का भी अनुमान रहा होगा | इसीलिए केवल प्रवचनों, वक्तव्यों से जल की महत्ता बताने के अतिरिक्त उन्होंने उसे व्रत श्रेष्ठ एकादशी जैसे सर्वकालिक सर्वजन हिताय व्रतोपवास से जोड़ दिया | वैसे तो वर्ष भर में चौबीस एकादशी होती है और सभी एकादशियों का व्रत सबको ही करना चाहिए परंतु यदि कोई वर्ष भर यह व्रत करने में सक्षम न हो तो ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की "निर्जला एकादशी" का व्रत कर लेने मात्र से उसे सभी एकादशियों के व्रत सा फल प्राप्त हो जाता है | ऐसा हमारे पुराणों में वर्णन है | निर्जला एकादशी को जल का महत्त्व यह है कि किसी भी दान से बढ़कर पुण्य जल भरे घड़े को दान करने से प्राप्त हो जाता है |* *आज के दिन प्रात:काल उठकर स्नान ध्यान करके भगवान विष्णु को साक्षी मानकर निर्जल रहते हुए व्रत का संकल्प ले तथा ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए दिन भर स्वयं को काम , क्रोध , मद , लोभ , ईर्ष्या , द्वेष , अहंकार े बचाये रखते हुए भगवान श्री विष्णु का पूजन पीले वस्त्र , पीले फल एवं पीले पुष्पों से करे तथा दान करने के लिए जल से भरा घड़ा एवं पंखा संकल्प करके किसी सुपात्र (जरूरतमंद) को इस मंत्र के साथ प्रदान करे | "देवदेव ऋषीकेश संसारार्णवतारक ! उद्कुम्भ प्रदानेन नय मां परमां गतिम् !!" तो उसे इस दान-पुण्य का कई गुना फल प्राप्त होता है और पेयजल के संरक्षण, संवर्द्धन एवं सदुपयोग का संदेश भी। भीमसेनी एकादशी नाम पड़ने के पीछे एक कथानक का विवरण पुराणों में प्राप्त होता है ! जो कि मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूँगा :-- युधिष्ठिर , अर्जुन , नकुल , सहदेव , कुन्ती एवं द्रौपदी सभी वर्ष भर एकादशी का व्रत करते रहते थे परंतु भीम से यह नहीं हो पाता था | उन्होंने पितामह भीष्म से पूछा कि आखिर मैं क्या करूँ जिससे कि हमें भी यह पुण्य प्राप्त हो ! क्योंकि उदर में वृक नामक अग्नि के कारण मुझे सदैव भूख ही लगी रहती है | तब पितामह भीष्म ने भीम को ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी निर्जल रहने का विधान बताया | भीष्म द्वारा निर्देशित व्रत करके भीम ने वर्ष भर की एकादशी का पुण्य प्राप्त किया और इसे भीमसेनी एकादशी कहा जाने लगा |* *भारतीय ऋषि और मनीषी मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही नहीं थे, उनके कुछ प्रयोगों, व्रतों, उपवासों, अनुष्ठानों के विधि-विधान एवं निर्देशों से तो प्रतीत होता है कि वे बहुत ऊँचे दर्जे के मनस्विद, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक विचारक भी थे |*

अगला लेख: दुराग्रही :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जून 2019
*सनातन धर्म का प्रत्येक अंग किसी न किसी मान्यता व परम्परा से जुड़ा हुआ है | चाहे जड़ हो या चेतन , पर्व हो या त्यौहार , यहाँ तक कि समाज का वर्गीकरण भी पौराणिक एवं धार्मिक मान्यताओं से ही सम्बन्धित है | आज ज्येष्ठ शुक्लपक्ष की नवमी को "महेश नवमी" के नाम से जाना जाता है
10 जून 2019
17 जून 2019
*आदिकाल से ऋषि महर्षियों ने अपने शरीर को तपा करके एक तेज प्राप्त किया था | उस तेज के बल पर उन्होंने अनेकानेक कार्य किये जो कि मानव कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हुए | सदैव से ब्राम्हण तेजस्वी माना जाता रहा है | ब्राम्हण वही तेजस्वी होता था जो शास्त्रों में बताए गए नियमानुसार नित्य त्रिकाल संध्या का अनु
17 जून 2019
19 मई 2019
*आदिकाल से इस धराधाम पर विद्वानों की पूजा होती रही है | एक पण्डित / विद्वान को किसी भी देश के राजा की अपेक्षा अधिक सम्मान प्राप्त होता है कहा भी गया है :- "स्वदेशो पूज्यते राजा , विद्वान सर्वत्र पूज्यते" राजा की पूजा वहीं तक होती है जहाँ तक लोग यह जामते हैं कि वह राजा है परंतु एक विद्वान अपनी विद्वत
19 मई 2019
19 मई 2019
*परमपिता परमात्मा की सृष्टि जितनी अनुपम एवं अनूठी है उतनी ही विचित्र भी है | इन्हीं विचित्रताओं में सबसे विचित्र है मनुष्य का जीवन | यद्यपि समस्त मानव जाति की रचना परमात्मा ने एक समान की है परंतु सबका अपना सौंदर्य है , अपना वजूद है , अपनी रंगत है , अपना स्वरूप है , अपनी विशेषता है व अपनी उपयोगिता ह
19 मई 2019
12 जून 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य को जीवन जीने के लिए वैसे तो अनेक आवश्यक आवश्यकतायें होती हैं परंतु इन सभी आवश्यकताओं में सर्वोपरि है अन्न एवं जल | बिना अन्न के मनुष्य के जीवन की कल्पना करना व्यर्थ है और अन्न का स्रोत है जल | बिना जल के अन्न के उत्पादन के विषय में कल्पना करना वैसा ही है जैसे अर्द्धरात्रि में सू
12 जून 2019
11 जून 2019
*विशाल देश भारत में सनातन धर्म का उद्भव हुआ | सनातन धर्म भिन्न-भिन्न रूपों में समस्त पृथ्वीमंडल पर फैला हुआ है , इसका मुख्य कारण यह है कि सनातन धर्म के पहले कोई धर्म था ही नहीं | आज इस पृथ्वी मंडल पर जितने भी धर्म विद्यमान हैं वह सभी कहीं न कहीं से सनातन धर्म की शाखाएं हैं | सनातन धर्म इतना व्यापक
11 जून 2019
19 मई 2019
*सनातन धर्म के अनुसार इस महान सृष्टि का संचालन करने के लिए भिन्न-भिन्न जिम्मेदारियों के साथ ब्रह्मा , विष्णु , महेश एवं तैंतीस करोड़ देवी - देवताओं की मान्यताएं दी गई हैं | जहां ब्रह्मा जी को सृष्टि का सृजनकर्ता तो विष्णु जी को पालनकर्ता एवं भगवान शिव को संहारकर्ता कहा गया है | उत्पत्ति , पालन एवं स
19 मई 2019
17 जून 2019
*इस संसार में ब्रह्मा जी ने अलोकिक सृष्टि की है | यदि उन्हों ने दुख बनाया तो सुख की रचना भी की है | दिन - रात , साधु - असाधु , पाप - पुण्य आदि सब कुछ इस सृष्टि में मिलेगा | मनुष्य जन्म लेकर एक ही परिवार में रहते हुए भी भिन्न विचारधाराओं का अनुगामी हो जाता है | जिस परिवार में रावण जैसा दुर्दान्त विचा
17 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x