कृष्ण के मौलिक आध्यात्मिक सिद्धान्त सदैव पुरोहित वाद और वैदिक यज्ञ मूलक कर्म--काण्डों ते विरुद्ध हैं ।

15 जून 2019   |  Yadav Yogesh kumar -Rohi-   (7 बार पढ़ा जा चुका है)

भागवत धर्म एवं उसके सिद्धान्तों का प्रतिपादन करने वाला एक मात्र ग्रन्थ श्रीमद्भगवद् गीता थी ।
--जो उपनिषद् रूप है ।
परन्तु पाँचवी शताब्दी के बाद से
अनेक ब्राह्मण वादी रूपों को समायोजित कर चुका है --जो वस्तुत भागवत धर्म के पूर्ण रूपेण विरुद्ध व असंगत हैं ।

--जो अब अधिकांशत: प्रक्षिप्त रूप में महाभारत के भीष्म पर्व में सम्पादित है।
यद्यपि इसे महाभारत के शान्ति पर्व में समायोजित किया जाना चाहिए था।

क्यों कि वर्तमान श्रीमद्भगवद् गीता पाँचवीं सदी के वाद की रचना है ।👇
अधेष्यते च य इमं धर्म्यं संवादमावयो: श्रीमद्भगवद् गीता 18/70 अर्थात्‌ --जो हम दौनों के इस धर्म-संवाद को पढ़ेगा यहाँं यदि कृष्ण अर्जुुन को उपदेश देते ; तो इस प्रकार श्लोकाँश होता -- श्रोष्यति च य इमं धर्म्यं संवादमावयो: जो हमारे इस संवाद को सुनेगा !
यदि आप मानते हो कि गीता उपदेशात्मक है तो इसमें सुनने की बात होती परन्तु इसमें तो पढने की बात है
सीधी सी बात है ये ब्राह्मण वाद की क्षत्र-छाया में बाद में लिखी गयी है

दूसरा प्रमाण कि श्रीमद्भगवद् गीता में -ब्रह्म-सूत्रपदों का वर्णन है ।

जिसमें बौद्ध दर्शन के चार सम्प्रदायों :-
१-वैभाषिक
२- सौत्रान्तिक
३-योगाचार
४- माध्यमिक का खण्डन है ।
क्यों कि बुद्ध ने ब्राह्मण वाद पर आघात किया तो ब्राह्मणों ने भी बुद्ध के सिद्धान्तों का विरोध करना प्रारम्भ कर दिया

योगाचार और माध्यमिक इन बौद्ध बौद्ध सम्प्रदायों का विकास 350 ईस्वी सन् के समकक्ष "असंग " और वसुबन्धु नामक बौद्ध भाईयों ने किया ।

और -ब्रह्म-सूत्रपदों की रचना बुद्ध के बाद पाँचवीं सदी में हुई ।
अत: मूल श्रीमद्भगवद् गीता के कुछ आध्यात्मिक श्लोकों के रूप ही कृष्ण के सिद्धान्तों का सीर हैं । बाद बाकी तो अलग से समायोजित है ।

यद्यपि कालान्तरण में वर्ण- व्यवस्था वादी ब्राह्मणों ने इसमें वर्ण-व्यवस्था के अनुमोदन हेतु कुछ प्रक्षिप्त श्लोकों का समायोजन भी कर दिया है ; जो कि स्पष्ट रूप से चिन्हित हैं ।👇

यज्ञ भी भागवत धर्म का अंग नहीं हैं क्यों यज्ञ केवल ब्राका कर्म--काण्डों मूलक पैतृिक परम्परा गत धर्म के नाम पर व्यवसाय मात्र है ।

क्यों कि ईश्वर कर्म काण्ड या यज्ञ से प्रेरित नहीं होता
'वह केवल भाव शुद्धि से प्राप्ति होता है ।

श्रीमद्भगवत् गीता केवल आध्यात्मिक साधना-पद्धति मूलक ग्रन्थ है
कर्म काण्ड आध्यात्मिक साधना-पद्धति के अंग नहीं हैं
श्रीमद्भगवत् गीता कर्म का ही प्रादुर्भाव
इस प्रकार से निरूपिय करता है 👇

अहं कर्म रूपी वृक्ष का आधार स्थल है ।
क्यों कि अहंकार से संकल्प उत्पन्न होता है ।
स्व का भाव ही वास्तविक आत्मा का सनातन रूप जिसे स्वरूप कह सकते हैं ।

और अहं ही जीवन की पृथक सत्ता का द्योतक रूप है ।
जैसे- संकल्प ज्ञान पूर्वक लिया गया निर्णीत बौद्धिक दृढ़ता और हठ अज्ञानता पूर्वक लिया गया मानसिक दृढ़ता है ।
परन्तु संकल्प अज्ञानता के कारण ही हठ में परिवर्तित हो जाता है ।

और इसी संकल्प का प्रवाह रूप इच्छा में रूपान्तरित हो जाती है ।
और यह इच्छा ही प्रेरक शक्ति है कर्म की
कर्म इस जीवन और संसार का सृष्टा है।

महापुरुष बोले कि ये इच्छा क्यों उत्पन्न होती है ।
जब हमने थोड़ा से मनन किया तो हम्हें लगा कि इच्छा

संसार का सार है संसार में मुझे द्वन्द्व ( दो परस्पर विपरीत किन्तु समान अनुपाती स्थितियाँ अनुभव हुईं

मुझे लगा कि "समासिकस्य द्वन्द्व च"
ये श्रीमद्भगवत् गीता का यह श्लोकाँश पेश कर दो इन विद्वानों के समक्ष
मैंने कह दिया कि जैसे- नीला और पीला रंग मिलकर हरा रंग बनता है ।
उसी प्रकार ऋणात्मक और धनात्मक आवेश
ऊर्जा उत्पन्न करते हैं ।
मुझे लगा कि अब हम सत्य के समीप आचुके हैं
मैने फिर कह दिया की काम कामना का रूपान्तरण है

पुरुष को स्त्रीयों की कोमलता में सौन्दर्य अनुभूति होती तो उनके हृदय में काम जाग्रत होता है ।
और स्त्रीयों को पुरुषों की कठोरता में सौन्दर्य अनुभूति होती है।
क्यों कि कोमलता का अभाव पुरुष में होने से 'वह कोमलता को सुन्दर मानते हैं ।

और स्त्रीयों में कठोरता का अभाव होने से ही वे मजबूत व कठोर लोगो को सुन्दर मानते हैं ।
और केवल जिस वस्तु की हम्हें जितनी जरूरत होती है ;
वही वस्तु हमारे लिए उतनी ही ख़ूबसूरत है।
वस्तुत : यहाँं भी द्वन्द्व से काम या कामना का जन्म हुआ है ।
और कामनाओं से प्रेरित होकर मनुष्य कर्म करता है ।


श्रीमद्भगवत् गीता ही स्वर्ग और नरक से ऊपर है
इसमें स्वर्ग प्राप्ति मूलक वैदिक कर्म--काण्डों
का जोर दार खण्डन बुद्ध के सिद्धान्तों के समकक्ष है ।
समत्वम् योग उच्यते के रूप में बुद्ध के मध्य-मार्ग का निरूपण है ।

वैदिक ऋचाओं में ब्राह्मणों की देवों से की गयीं स्तुतियाँ
भौतिक इच्छाओं की आपूर्ति के लिए हैं ।
जिसमें पुरोहित स्तुति करते समय अपने लिए अतीव सम्पदा सुन्दर स्त्रीयों और भोगी की कामना करता है
साथ ही अपने प्रतिद्वन्द्वीयों या पड़ोसीयों के अनिष्ट की कामना देवों से करता है ।

फिर भी वेदौं को ईश्वरीय कहना मूर्खता पूर्ण मनोवृत्ति ही है ।

श्रीमद्भगवद् गीता वैदिक सम्मोहकों की विखण्डिका

आप यदि विद्वान हो तो  यह बताओ !

वैदिक ऋषि केवल स्वर्ग और सुन्दर स्त्रीयों के साथ सहवास की कामनाऐं करते हैं । देखें निम्न ऋचा में👇

वैदिक ऋचाओं में  जबकि श्रीमद्भगवद् गीता प्राय: इसके विपरीत काम और कामनाओं को जन्म-मरण का कारण मानकर त्याज्य कहती है ।👇

अत: स्पष्ट सी बात है कि कृष्ण के सिद्धान्त ब्राह्मण वाद के विरुद्ध हैं
_________________________________________

तां पूषञ्छिवतमामेरयस्व
यस्यां बीजं मनुष्या वपन्ति ।
यान उरू उशती विश्रयाति
यस्यामुशन्त: प्रहरेम शेप : ।।

अथर्ववेद 14/2/28  -हे पूषण जिस में मनुष्य अपने वीर्य का वपन करते हैं अथवा --जो हमारी कामनाऐं करती हुई जंघाओं को कोमलता पूर्वक आश्रय देती हैं । और -जिन स्त्रीयों में हम कामोत्तेजित हो कर अपने लिंग का प्रहार करते हैं ।
उस स्त्री को हमारे ओर प्रेरित करो ।

पूषण :- सूर्य पुराणानुसार बारह अदित्यों में से एक
एक वैदिक देवता जिनकी भावना भिन्न भिन्न रूपों मे पाई जाती है।
कहीं वे सूर्य के रूप में (लोकलोचन), कहीं पशुओं के पोषक के रूप में, कहीं धनरक्षक के रूप में ओर कहीं सोम के रूप में पाए जाते

यूनानी : पोसेइदोन ही पूषण है  ) प्राचीन यूनानी धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक थे।
वो समन्दर, घोड़ों और भूकम्प के देवता थे। प्राचीन रोमन धर्म में उनके समतुल्य देवता थे नेप्चून।

यह लेख एक आधार है।
पोसाइडन समुद्री यात्रियों का रक्षक है।
पोसाइडन ने ट्रोजन युद्ध के समय ग्रीक का साथ दिया था।
बात वर्ण व्यवस्था की हे तो यह वर्ण व्यवस्था का अनुमोदन श्रीमद्भगवत् गीता में पंचम सदी में समायोजित किया जाता है ।
अत: श्रीमद्भगवत् गीता में जहाँ जहाँ वर्ण व्यवस्था और कर्म-- काण्डों का प्राधान्य प्रतिपादित हुआ है ।
वहाँ वहाँ 'वह प्रक्षिप्त रूप है ।

____________________________________________
प्रस्तुति-करण यादव योगेश कुमार रोहि

अगला लेख: मनस् सिन्धु की विचार लहरें ! जहाँ ज्ञान के बुद्बुद ठहरें !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जून 2019
जा
__________________________________________अभी तक जादौन , राठौर और भाटी आदि राजपूत पुष्य-मित्र सुंग कालीन काल्पनिक स्मृतियों और पुराणों तथा महाभारत आदि के हबाले से अहीरों को शूद्र तथा म्लेच्‍छ और दस्यु के रूप में दिखाते हैं ।परन्तु उनका तो पौराणिक ग्रन्थों में किसी प्रकार का इतिहास नहीं क्यों कि इनका
09 जून 2019
09 जून 2019
रडुओं का  क्या हाल होता है भक्तो                     सुनो- क्वार कनागत कुत्ता रोवे।तिरिया रोवे तीज त्यौहार ।                 आधी रात पै रडुआ रोवे सुनके पायल  की झंकार ।।_____________________________________________भावार्थ:- अश्वनी मास अर्थात क्वार के महीने में जब कनागत आते हैं यानी सूर्य कन्या राशि
09 जून 2019
02 जून 2019
एक सतसंग में निरंकारी मिशन के महापुरुष-जब मंच पर खुल कर विचार करने की हम्हें अनुमति देते हैं ।और प्रश्न करते हैं कि कर्म-- क्या है ? और यह किस प्रकार उत्पन्न होता है ?कई विद्वानों से यह प्रश्न किया जाता है ।मुझे भी अनुमति मिलती है ।हमने किसी शास्त्र को पढ़ा नहीं परन्तु हमने विचार करना प्रारम्भ किया
02 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x