श्रद्धा एवं विश्वास :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

16 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (44 बार पढ़ा जा चुका है)

श्रद्धा एवं विश्वास :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*मानव जीवन अनेक विचित्रताओं से भरा हुआ है | मनुष्य की इच्छा इतनी प्रबल होती है कि वह इस संसार में उपलब्ध समस्त ज्ञान , सम्पदायें एवं पद प्राप्त कर लेना चाहता है | अपने दृढ़ इच्छाशक्ति एवं किसी भी विषय में श्रद्धा एवं विश्वास के बल पर मनुष्य ने सब कुछ प्राप्त भी किया है | मानव जीवन में श्रद्धा एवं विश्वास का कितना महत्त्व है यह देखना हो तो हमें हमारे पूर्वज महापुरुषों की जीवनी देखनी चाहिए | अनेक तपस्वियों ने ईश्वर के श्रद्धा रखकर तपश्चर्या प्रारम्भ की उन्हें यह विश्वास था कि ईश्वर हमारी श्रद्धा को ठुकरायेंगे नहीं | इसी श्रद्धा एवं विश्वास के बल पर अनेकों वरदान एवं सिद्धियां प्राप्त करके इन महापुरुषों ने लोककल्याणक कार्य किये हैं | गुरु द्रोण के द्वारा दुत्कार दिये जाने के बाद भी निषादपुत्र एकलव्य की श्रद्धा गुरुदेव के प्रति तनिक भी कम नहीं हुई और उसने उनकी मिट्टी की मूर्ति तैयार करके पूर्ण विश्वास के साथ धनुर्विद्या का अभ्यास प्रारम्भ किया | गुरुदेव के प्रति श्रद्धा एवं स्वयं के विश्वास के बल पर ही वह अर्जुन से भी श्रेष्ठ धनुर्धर बन गया | श्रद्धा एवं विश्वास को भगवद्भवानी शंकर देवता की उपाधि देते हुए मानस की प्रथम वन्दना में गोस्वामी तुलसीदास जी ने स्पष्ट बता दिया है कि मनुष्य श्रद्धा विश्वास के अभाव में कोई भी जप , तप , पूजा , पाठ एवं सिद्धियां नहीं प्राप्त कर सकता | जब तक किसी के प्रति पूर्ण श्रद्धा नहीं होगी तब तक विश्वास नहीं जमेगा और जब तक श्रद्धा एवं विश्वास एक साथ मानव जीवन में नहीं आयेंगे तब तक मनुष्य सबकुछ प्राप्त कर लेने के बाद भी अधूरा ही रह जाता है |* *आज मनुष्य अपने धर्म , धर्मग्रंथ , संस्कृति एवं संस्कार के प्रति शंकालु का सा दिखाई पड़ रहा है | मनुष्य धर्म कर्म तो करता है परंतु उसे अभीष्ट नहीं प्राप्त हो पा रहा है क्योंकि करने को तो वह सबकुछ कर रहा है परंतु उसके भीतर श्रद्धा एवं विश्वास की कमी स्पष्ट दिखाई पड़ रही है | हमारे पुराणों में अनेक सिद्धियां बताई गयी हैं आज का मनुष्य उन सिद्धियों को पुस्तक पढ़कर प्राप्त करने के उद्देश्य से साधना करने तो बैठता है परंतु दो दिन बाद उसका विश्वास डगमगा जाता है कि पता नहीं मैं यह कर पाऊँ या नहीं और बीच में ही वह साधना छोड़ देता है | ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आज श्रद्धा का अभाव हो गया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के समाज में अनेक विद्वानों को देख रहा हूँ कि वे धर्मग्रंथों का अध्ययन तो खूब करते हैं परंतु विषय विशेष पर उनकी श्रद्धा लुप्त हो जाती है और अपने धर्मग्रंथों पर से ही उनका विश्वास डगमगाने लगता है और फिर वे उसी विषय को चर्चा का विषय बनाकर तर्क - कुतर्क करने लगते हैं | ऐसे सभी लोगों को एक सूक्ति याद रखना चाहिए जहाँ कहा गया है :-- "श्रद्धवान् लभते ज्ञानम्" अर्थात बिना श्रद्धा के आप ज्ञान नहीं प्राप्त कर सकते है | आज सनातन के पुरोधा कहे जाने वाले लोगों की यह दशा है कि दूसरों को तो उपदेश देते रहते हैं परंतु स्वयं में वह श्रद्धा एवं विश्वास नहीं जागृत कर पाता और जीवन भर इन्ही कुचक्रों में फंसकर स्वयं तो भ्रमित होता ही रहता है साथ ही और लोगों को भी भ्रमित करता रहता है | अपने इस कृत्य से वह समाज में हंसी का पात्र भी बन जाता है | गंगास्नान आज भी रोगमुक्त कर सकता है परंतु मनुष्य में गंगा जी के प्रति श्रद्धा एवं विश्वास जागृत करना पड़ेगा | बिना श्रद्धा विश्वास के कुछ भी नहीं प्राप्त किया जा सकता है |* *मनुष्य के पास आज दिखावे की श्रद्धा एवं अपूर्ण विश्वास की प्रचुरता के कारण ही वह भटकाव की स्थिति में है |*

अगला लेख: अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्मं शुभा शुभम् ;- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी के बोल



आज आपका लेख विशिष्ट लेख में लगाया गया .... बहुत बढ़िया ...

इसके लिअ संगठन का आभार

anubhav
17 जून 2019

Excellent

धन्यवाद अनुभव

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
10 जून 2019
*सनातन धर्म का प्रत्येक अंग किसी न किसी मान्यता व परम्परा से जुड़ा हुआ है | चाहे जड़ हो या चेतन , पर्व हो या त्यौहार , यहाँ तक कि समाज का वर्गीकरण भी पौराणिक एवं धार्मिक मान्यताओं से ही सम्बन्धित है | आज ज्येष्ठ शुक्लपक्ष की नवमी को "महेश नवमी" के नाम से जाना जाता है
10 जून 2019
23 जून 2019
*इस संसार में परमात्मा ने बड़ी विचित्र सृष्टि की है | देखने में तो सभी पक्षी एक प्रकार के ही दिखते हैं , सभी मनुष्यों की आकृति एक समान ही बनाई है परमात्मा ने परंतु विचित्रता यह है कि एक समान आकृति होते हुए भी प्रत्येक प्राणी के गुण एवं स्वभाव भिन्न - भिन्न ही हैं | अपने गुण , स्वभाव एवं कर्मों से ही
23 जून 2019
24 जून 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों की रचना की , इनमें सर्वश्रेष्ठ मनुष्य हुआ | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ यदि हुआ है तो उसका कारण उसकी बुद्धि , विवेक एवं ज्ञान ही कहा जा सकता है | अपने ज्ञान के बल पर मनुष्य आदिकाल से ही संपूर्ण धरा धाम पर शासन करता चला रहा है | संसार में मनुष्य को बलवान बनाने के
24 जून 2019
09 जून 2019
*जबसे इस धराधाम पर मानव की सृष्टि हुई तबसे ही मनुष्य ने समूह एवं संगठन को महत्त्व दिया है | या यूँ भी कहा जा सकता है कि मनुष्य के विकास में समूह व संगठन का विशेष योगदान रहा है | आदिकाल में जब न तो घर थे और न ही जीवन को सरल बनाने के इतने साधन तब मनुष्य समूह बनाकर रहते हुए एक - दूसरे के सुख - दु:ख में
09 जून 2019
17 जून 2019
*इस संसार में ब्रह्मा जी ने अलोकिक सृष्टि की है | यदि उन्हों ने दुख बनाया तो सुख की रचना भी की है | दिन - रात , साधु - असाधु , पाप - पुण्य आदि सब कुछ इस सृष्टि में मिलेगा | मनुष्य जन्म लेकर एक ही परिवार में रहते हुए भी भिन्न विचारधाराओं का अनुगामी हो जाता है | जिस परिवार में रावण जैसा दुर्दान्त विचा
17 जून 2019
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
10 जून 2019
*परमपिता परमात्मा ने सुंदर सृष्टि का सृजन किया | ऊँचे - ऊँचे पहाड़ , पहाड़ों पर जीवनदायिनी औषधियाँ , गहरे समुद्र , समुद्र में अनेकानेक रत्नों की खान उत्पन्न करके धरती को हरित - शस्य श्यामला बनाने के लिए भिन्न - भिन्न प्रजाति के पेड़ पौधों का सृजन किया | प्राकृतिक संतुलन बना रहे इसलिए समयानुकूल ऋतुएं
10 जून 2019
25 जून 2019
*आदिकाल से ही मनुष्य एवं प्रकृति का अटूट सम्बन्ध रहा है | सृष्टि के प्रारम्भ से ही मनुष्य प्रकृति की गोद में फलता - फूलती रहा है | प्रकृति ईश्वर की शक्ति का क्षेत्र है | इस धरती का आभूषण कही जाने वाली प्रकृति की महत्ता समझते हुए हमारे महापुरुषों ने इसके संरक्षण के लिए सनातन धर्म के लगभग सभी ग्रंथों
25 जून 2019
12 जून 2019
*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता
12 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x