कुलदेवता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

24 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (83 बार पढ़ा जा चुका है)

कुलदेवता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना जाता है | ये कुलदेवता वंश के ऋषि या उसी वंश में उत्पन्न कोई महापुरुष होते हैं जिनकी पूजा कुलाचार के अनुसार की जाती है | जन्म , विवाह , या विशेष पर्व पर कुलदेवी या कुलदेवताओं के स्थान पर जाकर उनकी पूजा की जाती है | प्राय: घरों में ही इनकी स्थापना होती है परन्तु प्रत्येक कुल के कुलदेवता का एक मन्दिर भी होता है जहाँ वर्ष में एक बार उस कुल से सम्बन्धित सभी लोग इकट्ठा होकर विधिवत अपनी - अपनी श्रद्धानुसार उनकी पूजा करते हैं | कुलदेवी या देवता कुल या वंश के रक्षक देवी - देवता होते हैं | ये घर-परिवार या वंश-परंपरा के प्रथम पूज्य तथा मूल अधिकारी देव होते हैं | इनकी गणना हमारे घर के बयोवृद्ध सदस्यों जैसी होती है | अत: प्रत्येक कार्य में इन्हें याद करके पूजन करना आवश्यक होता है | इनका प्रभाव इतना महत्वपूर्ण होता है कि यदि ये रुष्ट हो जाएं तो हनुमानजी के अलावा अन्य कोई देवी या देवता इनके दुष्प्रभाव या हानि को कम नहीं कर सकता या रोक नहीं लगा सकता | कुलदेवता के संतुष्ट रहने पर घर पर किसी प्रकार की विपत्ति नहीं आती है और यदि कुलदेवता रुष्ट रहते हैं तो उनका सुरक्षाचक्र घर पर से हट जाता है और परिवार में घटनायें प्रारम्भ हो जाती हैं | उन्नति अवनति में बदलने लगती है , गृहकलह , उपद्रव व अशांति एवं वंशवृद्धि में अवरोध उत्पन्न होने लगता है | प्रत्येक मनुष्य को अपने कुवदेवता का पूजन करते हुए उनको संतुष्ट ही रखना चाहिए |* *आज के भौतिकवादी युग में जहाँ मनुष्य ने स्वयं को आधुनिक दिखाने के लिए अनेकों धार्मिक मान्यताओं का त्याग कर दिया वहीं अनेक लोग ऐसे हैं जिनको अपने कुलदेवता के विषय में पता ही नहीं है | यह स्थिति शहरों में अधिक देखने को मिलती है | पूर्वकाल में आक्रान्ताओं से बचने के लिए लोगों ने अपने गाँवों से पलायन करके अन्यत्र बसेरा बसाया अपने कुल परिवार से अलग होकर बुजुर्गों के न रहने पर ऐसे लोग अपने कुलदेवता के विषय में जान भी नहीं पाते हैं | वहीं गाँवों में अभी भी कुलदेवता की पूजा घर घर में होती देखी जा सकती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" समाज में देखा करता हूँ कि अनेक लोग अनेक लोग पकेशान होकर घूमा करते हैं , परिवार में अशांति बनी रहती है , कहीं कहीं तो वंश ही समाप्त हो जाता है जिसके चक्कर में लोग ओझा , मौलवी एवं चिकित्सकों की चौखट पर दौड़ा करते हैं | इन सब उपद्रवों का एक कारण कुलदेवता भी होते हैं | परंतु यह भी सत्य है कि कुछ लोग जान नहीं पाते तो कुछ लोग जानकर भी मान नहीं पाते | इसका मुख्य कारण है मनुष्य के सनातन संस्कारों का क्षय होनै एवं विजातीयता का पनपना एवं पाश्चात्य मानसिकता के पनपने और नये विचारों के आधुनिक संतों की संगत के ज्ञान भ्रम में उलझकर लोग अपने कुल के कुलदेवी/देवता को भूलकर अपने वंश का इतिहास भी भूलते जा रहे हैं | जो लोग अपने कुलदेवता के विषय में अनभिज्ञ हैं उन्हें अपने कुल के बुजुर्गों को ढूंढ़कर , अपने रिश्तेदारों या अपने पुरोहित (पंडित) से उनके विषय में जानकारी लेकर उनकी स्थापना करके पूजन प्रारम्भ कर देना चाहिए | इससे जीवन से अशांति मिट जायेगी एवं परिवार सुखमय जीवन व्यतीत करेगा |* *आप अपने कुलदेवता को भले न दानते बों परंतु वे आपके पिरत्येक कृत्य को देख रहे हैं और आपके कृत्यों के अनुसार ही आपको फल भी प्राप्त ह रहा है |*

अगला लेख: अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्मं शुभा शुभम् ;- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी के बोल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जून 2019
*इस संसार में परमात्मा ने बड़ी विचित्र सृष्टि की है | देखने में तो सभी पक्षी एक प्रकार के ही दिखते हैं , सभी मनुष्यों की आकृति एक समान ही बनाई है परमात्मा ने परंतु विचित्रता यह है कि एक समान आकृति होते हुए भी प्रत्येक प्राणी के गुण एवं स्वभाव भिन्न - भिन्न ही हैं | अपने गुण , स्वभाव एवं कर्मों से ही
23 जून 2019
24 जून 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों की रचना की , इनमें सर्वश्रेष्ठ मनुष्य हुआ | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ यदि हुआ है तो उसका कारण उसकी बुद्धि , विवेक एवं ज्ञान ही कहा जा सकता है | अपने ज्ञान के बल पर मनुष्य आदिकाल से ही संपूर्ण धरा धाम पर शासन करता चला रहा है | संसार में मनुष्य को बलवान बनाने के
24 जून 2019
12 जून 2019
*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता
12 जून 2019
10 जून 2019
*सनातन धर्म का प्रत्येक अंग किसी न किसी मान्यता व परम्परा से जुड़ा हुआ है | चाहे जड़ हो या चेतन , पर्व हो या त्यौहार , यहाँ तक कि समाज का वर्गीकरण भी पौराणिक एवं धार्मिक मान्यताओं से ही सम्बन्धित है | आज ज्येष्ठ शुक्लपक्ष की नवमी को "महेश नवमी" के नाम से जाना जाता है
10 जून 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
12 जून 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य को जीवन जीने के लिए वैसे तो अनेक आवश्यक आवश्यकतायें होती हैं परंतु इन सभी आवश्यकताओं में सर्वोपरि है अन्न एवं जल | बिना अन्न के मनुष्य के जीवन की कल्पना करना व्यर्थ है और अन्न का स्रोत है जल | बिना जल के अन्न के उत्पादन के विषय में कल्पना करना वैसा ही है जैसे अर्द्धरात्रि में सू
12 जून 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
04 जुलाई 2019
नश्वर और अनश्वर *सृष्टि के आदिकाल से लेकर आज तक अनेकानेक जीव इस पृथ्वी पर अपने कर्मानुसार आये विकास किये और एक निश्चित अवधि के बाद इस धराधाम से चले भी गये | श्री राम , श्रीकृष्ण , हों या बुद्ध एवं महावीर जैसे महापुरुष इस विकास एवं विनाश (मृत्यु) से कोई भी नहीं बच पाया है | इसका मूल कारण यह है कि
04 जुलाई 2019
12 जून 2019
*इस धराधाम पर मनुष्य को जीवन जीने के लिए वैसे तो अनेक आवश्यक आवश्यकतायें होती हैं परंतु इन सभी आवश्यकताओं में सर्वोपरि है अन्न एवं जल | बिना अन्न के मनुष्य के जीवन की कल्पना करना व्यर्थ है और अन्न का स्रोत है जल | बिना जल के अन्न के उत्पादन के विषय में कल्पना करना वैसा ही है जैसे अर्द्धरात्रि में सू
12 जून 2019
17 जून 2019
*आदिकाल से ऋषि महर्षियों ने अपने शरीर को तपा करके एक तेज प्राप्त किया था | उस तेज के बल पर उन्होंने अनेकानेक कार्य किये जो कि मानव कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हुए | सदैव से ब्राम्हण तेजस्वी माना जाता रहा है | ब्राम्हण वही तेजस्वी होता था जो शास्त्रों में बताए गए नियमानुसार नित्य त्रिकाल संध्या का अनु
17 जून 2019
25 जून 2019
*सृष्टि के प्रारम्भ में जब ईश्वर ने सृष्टि की रचना प्रारम्भ की तो अनेकों औषधियों , वनस्पतियों के साथ अनेकानेक जीव सृजित किये इन्हीं जीवों में मनुष्य भी था | देवता की कृपा से मनुष्य धरती पर आया | आदिकाल से ही देवता और मनुष्य का अटूट सम्बन्ध रहा है | पहले देवता ने मनुष्य की रचना की बाद में मनुष्य ने द
25 जून 2019
04 जुलाई 2019
जगन्नाथ जी की रथ यात्रा *सनातन धर्म की व्यापकता का दर्शन हमारी मान्यताओं / पर्वों एवं त्यौहारों में किया जा सकता है | सनातन धर्म ने सदैव मानव मात्र को एक सूत्र में बाँधकर रखने के उद्देश्य से समय समय पर पर्व एवं त्यौहारों का विधान बनाया है | हमारे देश में होली , दीवाली, रक्षाबन्धन , जन्माष्टमी , श्र
04 जुलाई 2019
10 जून 2019
*परमपिता परमात्मा ने सुंदर सृष्टि का सृजन किया | ऊँचे - ऊँचे पहाड़ , पहाड़ों पर जीवनदायिनी औषधियाँ , गहरे समुद्र , समुद्र में अनेकानेक रत्नों की खान उत्पन्न करके धरती को हरित - शस्य श्यामला बनाने के लिए भिन्न - भिन्न प्रजाति के पेड़ पौधों का सृजन किया | प्राकृतिक संतुलन बना रहे इसलिए समयानुकूल ऋतुएं
10 जून 2019
12 जून 2019
*सनातन धर्म के आधारस्तम्भ एवं इसके प्रचारक हमारे ऋषि महर्षि मात्र तपस्वी एवं त्यागी ही न हो करके महान विचारक , मनस्वी एवं मवोवैज्ञानिक भी थे | सनातन धर्म में समय समय पर बताया गया समयानुकूल व्रत विधान यही सिद्ध करता है | विचार कीजिए कि जब ज्येष्ठ माह में सूर्य की तपन एवं उमस से आम जनमानस तप रहा होता
12 जून 2019
11 जून 2019
*विशाल देश भारत में सनातन धर्म का उद्भव हुआ | सनातन धर्म भिन्न-भिन्न रूपों में समस्त पृथ्वीमंडल पर फैला हुआ है , इसका मुख्य कारण यह है कि सनातन धर्म के पहले कोई धर्म था ही नहीं | आज इस पृथ्वी मंडल पर जितने भी धर्म विद्यमान हैं वह सभी कहीं न कहीं से सनातन धर्म की शाखाएं हैं | सनातन धर्म इतना व्यापक
11 जून 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में सदैव उन्नति ही करना चाहता है परंतु सभी इसमें सफल नहीं हो पाते हैं | मनुष्य के किसी भी क्षेत्र में सफल या असफल होने में उसकी संगति महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है | इस संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग रहते हैं इसमें से कुछ सद्प्रवृत्ति के होते हैं तो कुछ दुष्प्रवृत्ति के | जह
06 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
हिन्दुओं की आस्था का एक केन्द्र भगवान जगन्नाथ की जगन्नाथ पुरी है। 10वीं शताब्दी में निर्मित यह प्राचीन मन्दिर सप्त पुरियों में से एक है। आज इस लेख में हम आपको जगन्नाथ पुरी मंदिर से जुड़े रोचक और अद्भुत तथ्यों के बारे में बता रहे है।1. पुरी की सबसे खास बात तो स्वयं भगवान जग
04 जुलाई 2019
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x