एक वृक्ष सौ पुत्र समान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

25 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (32 बार पढ़ा जा चुका है)

एक वृक्ष सौ पुत्र समान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*आदिकाल से ही मनुष्य एवं प्रकृति का अटूट सम्बन्ध रहा है | सृष्टि के प्रारम्भ से ही मनुष्य प्रकृति की गोद में फलता - फूलती रहा है | प्रकृति ईश्वर की शक्ति का क्षेत्र है | इस धरती का आभूषण कही जाने वाली प्रकृति की महत्ता समझते हुए हमारे महापुरुषों ने इसके संरक्षण के लिए सनातन धर्म के लगभग सभी ग्रंथों में दिशा निर्देश दिया है | वेदव्यास जी ने पद्मपुराण में लिखा है कि :- जो मनुष्य किसी भी मार्ग के किनारे एवं जलाशयों के तट पर जितने वृक्ष लगाता है वह स्वर्ग में उतने ही दिन तक सुखभोग करता है | इसके अतिरिक्त भी प्रकृति के संरक्षण करने का ही उपदेश मिलता रहता है | प्रकृति की ही गोद में बैठकर हमारे महर्षियों ने कठोर साधना की , कवियों ने जब प्रकृति की सुंदरता का दर्शन किया तो उनके हृदय से कवितायें फूट पड़ीं | हमारे धर्मग्रन्थ , ऋषि - मुनियों की वाणियाँ , कवि की काव्य रचनायें , सन्तों के अमृत वचन ये सभी प्रकृति के महत्त्व से भरे पड़े हैं | भारत ही नहीं अपित विश्व की लगभग सभी सभ्यताओं का विकास प्रकृति की हा गोद में हुआ है | इसी प्रकृति के संयोग से ही मनुष्य में रागात्मक भाव प्रकट हुआ | मनुष्य ने प्रकृति पर कभी आघात न करने एवं उसके संरक्षण की सौगंध ली थी परंतु मनुष्य अपनी सौगंध को समय के साथ भूलता चला गया और स्थिति भयावह होती चली गयी |* * आज प्रकृति का संतुलन बिगड़ रहा है तो इसका कारण कहीं ना कहीं से मन से ही है प्रतिदिन नष्ट होते जंगलों एवं दिव्य औषधियों के कारण ही प्राकृतिक का विघटन कार्य स्वरूप आज देखने को मिल रहा है मनुष्य जिस अनुपात में आज वृक्षों को काट रहा है उसकी अपेक्षा एक भी पिक्चर नहीं लगाना चाहता है जबकि प्रकृति का आधार व्यक्ति ही कहा गया है वृक्षों के कम हो जाने के कारण धरती के तापमान में वृद्धि हुई है जिसके कारण अनेकों हिमनद पिघल रहे जलवायु में परिवर्तन देखने को मिल रहा है कहीं भयंकर बाढ़ तो कहीं अकाल तो पढ़ ही रहे हैं साथ ही बीच बीच में आने वाले भूकंप संपूर्ण पृथ्वी को खिला देते हैं यदि हमारा यही हाल रहा तो आने वाले कुछ दशकों में यह धरती वृक्ष विहीन हो जायेगी | जहाँ तक मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जान पाया हूँ वह यह है कि प्रकृति कभी किसी के साथ भेदभाव या पक्षपात नहीं करती सबके लिए समान रूप से व्यवहार करती है परंतु जब हम प्रकृति के साथ अनावश्यक खिलवाड़ करते हैं तब उसकी प्रतिक्रिया भूकंप सूखा बाढ़ और तूफान की शक्ल में देखने को मिलती है जिसके कारण अनेकों लोग काल के गाल में समा जाते हैं ऐसी स्थिति ना आने पाए या ऐसी स्थितियों को रोकने के लिए हमको प्रकृति का संरक्षण करते रहना चाहिए क्योंकि जब जीवन ही नहीं रहेगा तो संसार के समस्त ऐश्वर्या लेकर के क्या किया जाएगा

अगला लेख: त्रिकाल संध्या :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



anubhav
26 जून 2019

Nice

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
सनातन धर्म में कर्म ही प्रधान कर्म एवं भाग्य पर प्राय: चर्चा हुआ करती है | कर्म बड़ा या भाग्य ? यह विषय आदिकाल से प्राय:सबके ही मस्तिष्क में घूमा करता है | Sanatana Dharma के धर्मग्रंथों वेद , पुराण , उपनिषद एवं गीता आदि में कर्म को ही कर्तव्य मानकर इसी की प्रधानता प्रतिपादित की गयी है | कर्म को ह
09 जुलाई 2019
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x