अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्मं शुभा शुभम् ;- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी के बोल

28 जून 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (9 बार पढ़ा जा चुका है)

अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्मं शुभा शुभम् ;- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी के बोल   - शब्द (shabd.in)

संसार में कर्म ही प्रधान

कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है देवाधिदेव महादेव की जो कि भाग्य के लिए को भी मिटाकर भक्तों को सर्वस्व प्रदान कर देते हैं परंतु इसके लिए मनुष्य को भक्त बनना पड़ता है | तुलसी बाबा ने अपनी कालजयी रचना "मानस" में लिखा है :- "भाविउ मेटि सकहिं त्रिपुरारी" | यह स्थिति तब आती है जब मनुष्य परमात्माके प्रति पूर्णरूप से समर्पित हो जाता है | समर्पण का अर्थ यह कदापि नहीं है कि संसार से नाता तोड़कर विरक्त हो जाय बल्कि समर्पण का अर्थ हमारे मनीषियों ने बताते हुए कहा है कि :- समर्पण की प्रथम कड़ी है शारीरिक एवं इन्द्रियों का संयम ! महात्मा मृकुण्ड के पाँच वर्षीय पुत्र मार्कण्डेय ने जब यह जाना कि वे अल्पायु हैं और दो दिन में उनकी मृत्यु हो जायेगी तो वे समर्पित भाव से कालों के काल महाकाल की शरण में चले गये | वहाँ जब यमराज उसके प्राणों को लेने पहुँचे तो स्वयं महादेव ने प्रकट होकर मार्कण्डेय के भाग्य में लिखी मृत्यु को मिटाकर उन्हें चिरंजीव कर दिया | कहने का तात्पर्य यह है कि त्रिपुर के विनाशक भागवान भोलेनाथ भाग्य के लिखे को तभी मिटायेंगे जब जीव उनकी प्रति पूर्ण समर्पण की भावना रखेगा | काम क्रोध मद लोभ अहंकार ईर्ष्या द्वेष से स्वयं को बचाकर सत्कर्म करते हुए अपने लिखे भाग्य को भी मिटाया जा सकता है , परंतु उसके लिए भी कर्म करना पड़ेगा |

गीता में स्वयं योगेश्वर श्रीकृष्ण कहते हैं :- "ये यथा मा प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्" अर्थात जो हमको जैसे भजता है मैं भी उसे उतने ही प्रेम से भजता हूँ | अब मनुष्य को आत्मावलोकन करना चाहिए कि हम परमात्मा को कितना भजते हैं ?? परमात्मा को भजने का अर्थ पूजन , भजन नहीं बल्कि परमात्मा के बताये गये सदमार्गों का अनुसरण करना कह जायेगा | भाग्य का लिखा मिट सकता है परंतु उसके लिए हमें वैसे कर्म करने पड़ेंगे |* *आज प्राय: यह चर्चा होती है कि जब यह लिख दिया गया है कि :- अवश्यमेव भोक्तव्यं कृतं कर्मं शुभाशुभम्" अर्थात किये हुए कर्म का फल अवश्य भोगना पड़ेगा ! यह अकाट्य है ! अचूक है !! इसे कोई काट नहीं सकता " तो बाबा जी ने मानस में क्यों लिखा कि "भाविउ मेटि सकहिं त्रिपुरारी" यहाँ पर मनुष्यों के हृदय में शंका उत्पन्न होती है | इन शंकाओं का निवारण करने का प्रयास करते हुए मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूँगा कि देश में कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए ग्राम पंचायत स्तर से लेकर सर्वोच्च न्यायालय तक अनेक संस्थायें हैं जो कि मनुष्य के कर्मों के अनुसार उसके लिए सुबूतों के आधार पर दण्ड का निर्धारण करती है |

यदि किसी ने हत्या कर दी और सर्वोच्च न्यायालय ने उसके कर्म के प्रतिफल के रूप प्राणदण्ड की सजा सुनाई और कारावास में डाल दिया परंतु वहाँ उस अपराधी के कर्म अपने अपराध के विपरीत सत्कर्म में परिवर्तित हो जाते हैं तो उसके कर्मों एवं आचरण को देखकर सर्वोच्च पद पर पदासीन आदरणीय राष्ट्रपति जी के द्वारा सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को निरस्त करके सम्बन्धित व्यक्ति को प्राणदान प्रदान किया जाता है | परंतु यहाँ एक बात का ध्यान अवश्य रखना चाहिए कि इस दण्ड के परिवर्तित होने में भी मुख्य कारण उसके परिवर्तित कर्म एवं आचरण ही रहे | ठीक उसी प्रकार देवों के देव महादेव जी भी ब्रह्मा जी द्वारा लिखे गये भाग्य भी मिटा सकते हैं परंतु उसके लिए भी कर्म करना ही पड़ेगा | बिना कर्म किये यहाँ कुछ भी नहीं प्राप्त होना है | दोनों तथ्य अपने स्थान पर सटीक हैं और दोनों के चरितार्थ होने में मूल मनुष्य के कर्म ही हैं | इसमें किंचित भी संदेह नहीं करना चाहिए |* *हमारे महर्षियों एवं उपदेशकों के एक - एक वाक्य अकाट्य हैं आवश्यकता हैं उन पर मन्थन करने की | क्योंकि बिना मथे घी नहीं निकलता है |*

अगला लेख: त्रिकाल संध्या :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
17 जून 2019
*आदिकाल से ऋषि महर्षियों ने अपने शरीर को तपा करके एक तेज प्राप्त किया था | उस तेज के बल पर उन्होंने अनेकानेक कार्य किये जो कि मानव कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हुए | सदैव से ब्राम्हण तेजस्वी माना जाता रहा है | ब्राम्हण वही तेजस्वी होता था जो शास्त्रों में बताए गए नियमानुसार नित्य त्रिकाल संध्या का अनु
17 जून 2019
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
12 जुलाई 2019
दृढ़ संकल्प इस धरा धाम पर मानवयोनि में जन्म लेने के बाद मनुष्य जीवन में अनेकों कार्य संपन्न करना चाहता , इसके लिए मनुष्य कार्य को प्रारंभ भी करता है परंतु अपने लक्ष्य तक कुछ ही लोग पहुंच पाते हैं | इसका कारण मनुष्य में अदम्य उत्साह एवं अपने कार्य के प्रति निरंतरता तथा सतत प्रयास का अभाव होना ही कहा
12 जुलाई 2019
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
04 जुलाई 2019
हिन्दुओं की आस्था का एक केन्द्र भगवान जगन्नाथ की जगन्नाथ पुरी है। 10वीं शताब्दी में निर्मित यह प्राचीन मन्दिर सप्त पुरियों में से एक है। आज इस लेख में हम आपको जगन्नाथ पुरी मंदिर से जुड़े रोचक और अद्भुत तथ्यों के बारे में बता रहे है।1. पुरी की सबसे खास बात तो स्वयं भगवान जग
04 जुलाई 2019
12 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में समय-समय पर विभिन्न व्रत उपवास एवं त्योहारों का पर्व मनाने की परंपरा रही है | प्रत्येक व्रत / पर्व के पीछे एक वैज्ञानिक मान्यता सनातन धर्म में देखने को मिलती है | आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी जिसे पद्मा एकादशी के नाम से जाना जाता है | इसका बहुत ही
12 जुलाई 2019
17 जून 2019
*आदिकाल से ऋषि महर्षियों ने अपने शरीर को तपा करके एक तेज प्राप्त किया था | उस तेज के बल पर उन्होंने अनेकानेक कार्य किये जो कि मानव कल्याण के लिए उपयोगी सिद्ध हुए | सदैव से ब्राम्हण तेजस्वी माना जाता रहा है | ब्राम्हण वही तेजस्वी होता था जो शास्त्रों में बताए गए नियमानुसार नित्य त्रिकाल संध्या का अनु
17 जून 2019
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
04 जुलाई 2019
जगन्नाथ जी की रथ यात्रा *सनातन धर्म की व्यापकता का दर्शन हमारी मान्यताओं / पर्वों एवं त्यौहारों में किया जा सकता है | सनातन धर्म ने सदैव मानव मात्र को एक सूत्र में बाँधकर रखने के उद्देश्य से समय समय पर पर्व एवं त्यौहारों का विधान बनाया है | हमारे देश में होली , दीवाली, रक्षाबन्धन , जन्माष्टमी , श्र
04 जुलाई 2019
29 जून 2019
सच्चरित्रता का मतलब- सत और चरित्र इन दो शब्दों के मेल से सच्चरित्र शब्द बना हैं तथा इस शब्द में ता प्रत्यय लगने से सच्चरित्रता शब्द की उत्पत्ति हुई हैं. सत का अर्थ होता हैं अच्छा एवं चरित्र का तात्पर्य हैं आचरण, चाल चलन, स्वभाव, गुण ध
29 जून 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
सनातन धर्म में कर्म ही प्रधान कर्म एवं भाग्य पर प्राय: चर्चा हुआ करती है | कर्म बड़ा या भाग्य ? यह विषय आदिकाल से प्राय:सबके ही मस्तिष्क में घूमा करता है | Sanatana Dharma के धर्मग्रंथों वेद , पुराण , उपनिषद एवं गीता आदि में कर्म को ही कर्तव्य मानकर इसी की प्रधानता प्रतिपादित की गयी है | कर्म को ह
09 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में सदैव उन्नति ही करना चाहता है परंतु सभी इसमें सफल नहीं हो पाते हैं | मनुष्य के किसी भी क्षेत्र में सफल या असफल होने में उसकी संगति महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है | इस संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग रहते हैं इसमें से कुछ सद्प्रवृत्ति के होते हैं तो कुछ दुष्प्रवृत्ति के | जह
06 जुलाई 2019
25 जून 2019
*सृष्टि के प्रारम्भ में जब ईश्वर ने सृष्टि की रचना प्रारम्भ की तो अनेकों औषधियों , वनस्पतियों के साथ अनेकानेक जीव सृजित किये इन्हीं जीवों में मनुष्य भी था | देवता की कृपा से मनुष्य धरती पर आया | आदिकाल से ही देवता और मनुष्य का अटूट सम्बन्ध रहा है | पहले देवता ने मनुष्य की रचना की बाद में मनुष्य ने द
25 जून 2019
04 जुलाई 2019
नश्वर और अनश्वर *सृष्टि के आदिकाल से लेकर आज तक अनेकानेक जीव इस पृथ्वी पर अपने कर्मानुसार आये विकास किये और एक निश्चित अवधि के बाद इस धराधाम से चले भी गये | श्री राम , श्रीकृष्ण , हों या बुद्ध एवं महावीर जैसे महापुरुष इस विकास एवं विनाश (मृत्यु) से कोई भी नहीं बच पाया है | इसका मूल कारण यह है कि
04 जुलाई 2019
23 जून 2019
*इस संसार में परमात्मा ने बड़ी विचित्र सृष्टि की है | देखने में तो सभी पक्षी एक प्रकार के ही दिखते हैं , सभी मनुष्यों की आकृति एक समान ही बनाई है परमात्मा ने परंतु विचित्रता यह है कि एक समान आकृति होते हुए भी प्रत्येक प्राणी के गुण एवं स्वभाव भिन्न - भिन्न ही हैं | अपने गुण , स्वभाव एवं कर्मों से ही
23 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x