जगन्नाथ जी की रथयात्रा : आचार्य अर्जुन तिवारी

04 जुलाई 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (351 बार पढ़ा जा चुका है)

जगन्नाथ जी की रथयात्रा : आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

जगन्नाथ जी की रथ यात्रा

*सनातन धर्म की व्यापकता का दर्शन हमारी मान्यताओं / पर्वों एवं त्यौहारों में किया जा सकता है | सनातन धर्म ने सदैव मानव मात्र को एक सूत्र में बाँधकर रखने के उद्देश्य से समय समय पर पर्व एवं त्यौहारों का विधान बनाया है | हमारे देश में होली , दीवाली, रक्षाबन्धन , जन्माष्टमी , श्रीरामनवमी आदि के पावन अवसर लोग आपसी वैमनस्य को भूलकर इन पर्वों का आनन्द उठाते हैं | इन्हीं पर्वों में एक पर्व है भगवान जगन्नाथ की "रथयात्रा" का पर्व | भगवान jagannath की रथयात्रा में आपसी भेद - विभेद मिटाकर भक्तजन एक साथ उनका दर्शन पूजन एवं रथ खींचकर स्वयं को धन्य मानते हैं | यह पर्व मुख्यरूप से उड़ीसा राज्य का मुख्य पर्व है|

उड़ीसा राज्य का पुरी क्षेत्र जिसे पुरुषोत्तम पुरी , शंख क्षेत्र , श्रीक्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है | यह भगवान श्री जगन्नाथ जी की मुख्य लीला-भूमि है | पूर्ण परात्पर भगवान श्री जगन्नाथ जी की रथयात्रा प्रतिवर्ष आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को जगन्नाथपुरी में आरम्भ होती है | इसमें भाग लेने के लिए, इसके दर्शन लाभ के लिए हज़ारों, लाखों की संख्या में बाल, वृद्ध, युवा, नारी देश के सुदूर प्रांतों से आते हैं | भगवान की इस रथयात्रा का वर्णन पुराणों में भी देखने को मिलता है स्कन्द पुराण में इसकी महत्ता का वर्णन करते हुए बताया गया है कि :-- इस यात्रा में जो व्यक्ति श्री जगन्नाथ जी के नाम का कीर्तन करता हुआ गुंडीचा नगर तक जाता है वह पुनर्जन्म से मुक्त हो जाता है | जो व्यक्ति श्री जगन्नाथ जी का दर्शन करते हुए, प्रणाम करते हुए मार्ग के धूल-कीचड़ आदि में लोट-लोट कर जाते हैं वे सीधे भगवान श्री विष्णु के उत्तम धाम को जाते हैं |

जो व्यक्ति गुंडिचा मंडप में रथ पर विराजमान श्री कृष्ण, बलराम और सुभद्रा देवी के दर्शन दक्षिण दिशा को आते हुए करते हैं वे मोक्ष को प्राप्त होते हैं | puri jagannath temple की यात्रा की मान्यता यह है कि इस बीच भगवान स्वयं आम जनमानस के मध्य आकर उनके सुख - दुख के सहभागी बनते हैं |* *आज भगवान जगन्नाथ की रथयात्र का महापर्व उड़ीसा ही नहीं बल्कि विशाल भारत के सभी प्रान्तों में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है | जो लोग इस रथयात्रा में भाग लेने के उद्देश्य से उड़ीसा के जगन्नाथपुरी नहीं पहुँच पाते हैं वे सभी लोग अपने नगरों में आयोजित रथयात्रा में भगवान के दर्शन करके एवं उनका रथ खींचकर स्वयं को धन्य बनाते हैं | आज के आधुनिक युग में लोग भगवान जगन्नाथ जी की रथयात्रा का सीधा प्रसारण टेलीविजन पर देखकर दर्शन लाभ के द्वारा जीवन को धन्य बनाते हैं |

नैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सनातन धर्म एवं उनकी मान्यताओं को हृदय से प्रणाम करते हुए अनुभव करता हूँ कि जिस प्रकार सभी पर्व मानवमात्र को एक करने का प्रयास करते हैं उसी प्रकार रथयात्रा का यह महोत्सव भी है | इस आयोजन में जो सांस्कृतिक और पौराणिक दृश्य उपस्थित होता है उसे प्राय: सभी देशवासी सौहार्द्र, भाई-चारे और एकता के परिप्रेक्ष्य में देखते हैं | जिस श्रद्धा और भक्ति से पुरी के मन्दिर में सभी लोग बैठकर एक साथ श्री जगन्नाथ जी का महाप्रसाद प्राप्त करते हैं उससे वसुधैव कुटुंबकम का महत्व स्वत: परिलक्षित होता है | उत्साहपूर्वक श्री जगन्नाथ जी का रथ खींचकर लोग अपने आपको धन्य समझते हैं | श्री जगन्नाथपुरी की यह रथयात्रा मात्र सनातन धर्म का एक धार्मिक त्यौहार नहीं वरन् सांस्कृतिक एकता तथा सहज सौहार्द्र की एक महत्वपूर्ण कड़ी है |* *रथयात्रा से आध्यात्मिक संदेश भी प्राप्त होता है कि जिस प्रकार शरीर में आत्मा होती है तो भी वह स्वयं संचालित नहीं होती, बल्कि उसे माया संचालित करती है | इसी प्रकार भगवान जगन्नाथ के विराजमान होने पर भी रथ स्वयं नहीं चलता बल्कि उसे खींचने के लिए लोक-शक्ति की आवश्यकता होती है |*

अगला लेख: चातुर्मास्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



anubhav
05 जुलाई 2019

जय हो जगन्नाथ धाम की ।

जय जगन्नाथ

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 जून 2019
*सृष्टि के प्रारम्भ में जब ईश्वर ने सृष्टि की रचना प्रारम्भ की तो अनेकों औषधियों , वनस्पतियों के साथ अनेकानेक जीव सृजित किये इन्हीं जीवों में मनुष्य भी था | देवता की कृपा से मनुष्य धरती पर आया | आदिकाल से ही देवता और मनुष्य का अटूट सम्बन्ध रहा है | पहले देवता ने मनुष्य की रचना की बाद में मनुष्य ने द
25 जून 2019
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
16 जुलाई 2019
*मनुष्य का जन्म लेने के बाद मनुष्य को इस संसार के विषय में बताने के लिए एक मार्गदर्शक आवश्यकता होती है , जिसे सद्गुरु के नाम से जाना जाता है | मानव जीवन में मार्गदर्शक (सद्गुरु) की परम आवश्यकता होती है | वैसे तो सभी मनुष्य के जीवन में माता प्रथम गुरु होती है जो कि अपने नवजात शिशु को इस संसार की प्रा
16 जुलाई 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x