सनातन धर्म की विशालता :--- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी

06 जुलाई 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (9 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन धर्म की विशालता :--- आचार्य श्री अर्जुन तिवारी जी   - शब्द (shabd.in)

*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन के विरोधी तत्व भी इसी समाज में रहे हैं जो सनातन की मान्यताओं को पाखण्ड की संज्ञा देकर इसे अंधविश्वास सिद्ध करने में प्रयासरत रहे हैं | ऐसे ही एक ज्वलंत विषय समाज में देखने को मिला भूत - प्रेतों का | कुछ लोगों ने इन शक्तियों को अंधविश्वास मानकर ऐसी किसी भी योनि को नकार दिया | हमारे पुराणों में प्रेतों के अस्तित्व पर विधिवत प्रकाश डाला गया गया है | श्रीमद्भागवत के माहात्म्य में पण्डित आत्मदेव के पुत्र धुंधुकारी का वर्णन मिलता है जो अपने कुकृत्यों के कारण अपमृत्यु को प्राप्त हुआ एवं भयंकर प्रेत हुआ |




गरुड़ पुराण के सातवें अध्याय में बभ्रुवाहन के प्रसंग में एक प्रेत का वर्णन स्वयं भगवान श्री हरि ने किया है | तुलसीदास जी को एक प्रेत ने परेशान कर दिया था | इन सब कथानकों को पढ़कर भूत - प्रेत आदि को नकारा नहीं जा सकता है | अब यह जान लिया जाय कि प्रेत होता कौन है ? कुकर्म करते हुए अकालमृत्यु को प्राप्त हुए लोग , मन में कोई इच्छा , कामना , वासना लिए लिए जिसकी मृत्यु हो जाती है वह सभी प्रेत योनि को प्राप्त होता है | इसके अतिरिक्त गरुड़ पुराण के प्रेत खण्ड में लिखा है :-- "चिता पिण्डप्रभृतितः प्रेतत्वमुपजायते ! तदादि तत्र तत्रापि प्रेतनाम्ना प्रदीयते !! अर्थात :- चिता पिण्ड के उपरांत सभी जीवों की प्रेत संज्ञा होती है | कहने का अर्थ यह है कि दाह संस्कार करने के बाद दसवाँ संस्कार अर्थात १० दिन तक मृतक की गणना प्रेतों में होती है | उसके नाम का उच्चारण प्रेत कहके ही किया जाता है | ग्यारहवें दिन जब विधिवत सपिण्डन किया जाता है तब मृतक पितरों में मिल जाता है | जिनका पिण्डदान या विघिवत सपिण्डन नहीं होता है वह प्रेतयोनि में ही रह जाता है और अपने वंशजों को क्षति पहुँचाता रहता है |

* *आज समाज में सनातन विरोधियों की बाढ़ सी आ गयी है | आज यदि सनातन की प्रत्येक मान्यता को अंधविश्वास का नाम देने को सनातन विरोधी तत्पर दिख रहे हैं तो इसमें जाने - अनजाने उनका समर्थन कुछ सनातन के अनुयायी भी करने में लगे हैं | स्वयं को सनातन का प्रकाण्ड विद्वान एवं समाज सुधारक मानने वाले तथाकथित लोग अपनी तर्क - कुतर्कपूर्ण बातों से सनातन की मान्यताओं को अंधविश्वास बताने में लगे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इस बात का समर्थन करता हूँ कि कुछ लोगों ने भूत - प्रेतों की आड़ में अपनी दुकान सजा रखी है | कुछ तथाकथित तांत्रिक , ओझा , पंडित , फकीर , मौलवी आदि आम जनमानस में कुप्रचार करके भोली - भाली जनता को इन भूत - प्रेतों का भय दिखलाकर उनको जोंक की तरह चूस रहे हैं | परंतु कुछ लोगों के ऐसा करने से भूत - प्रेतों का अस्तित्व नहीं समाप्त हो जाता है |

यह अलग विषय है कि इन लुटेरों के कारण सनातन विरोधियों को अपनी बात कहने का अवसर एवं बल प्राप्त होता है | यदि इतिहास पुराणों को माना जाय , गहराई से उनका अध्ययन किया जाय तो यह विषय विस्तृत रूप से वर्णित है | जीव अपने जीवनकाल में जैसा सत्कर्म या दुष्कर्म करता है उसी के अनुसार उसको अगली योनि प्राप्त होती है | किसी भी अन्य योनि में जन्म लेने के पहले जीव को अपना भोग भोगना ही पड़ता है | इससे न कोई बच पाया है और न ही बच पायेगा | इसीलिए मनुष्य को सदैव सत्कर्म करते रहना चाहिए जिससे कि उसे प्रेत या पिशाच योनि में न जाना पड़े | आज इन तत्वों को अंधविश्वास का नाम देने वाले समाज सुधारक इस्लाम धर्म में देखें तो वहाँ भी जिन्नाद एवं खब्बीस के दर्शन पा जायेंगे | इस विषय पर लेख लिखने का अर्थ यह नहीं हुआ कि मैं भय उत्पन्न करने का प्रयास कर रहा हूँ | मेरा मन्तव्य स्पष्ट है कि सनातन कि मान्यतायें सदैव दिव्य एवं वैज्ञानिकता से ओत - प्रोत रही हैं इसमें अंधविश्वास के लिए लेशमात्र स्थान नहीं है |* *समातन विरोधियों से एक बात कहना चाहूँगा कि सनातन दहकता हुआ सूर्य है जिस पर आपकी फेंकी हुई धूल कभी नहीं पहुँच पायेगी | आप चाहे जितना प्रयास कर लें |*

अगला लेख: चातुर्मास्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



बसन्त कुमार
06 जुलाई 2019

aoqqa q

बसन्त कुमार
06 जुलाई 2019

aoqqa q

बसन्त कुमार
06 जुलाई 2019

aa bàaaa QA qaAqaaaaaalqaa ok hohlhh haa

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जुलाई 2019
*सनातन धर्म दिव्य एवं स्वयं में वैज्ञानिकता को आत्मसात किये हुए है | सनातन के प्रत्येक व्रत - त्यौहार स्वयं में विशिष्ट हैं | इसी कड़ी में सावन महीने का विशेष महत्व है | सनातन धर्म में वर्ष भर व्रत आते रहते हैं और लोग इनका पालन भी करते हैं , परंतु जिस प्रकार सभी संक्रांतियों में मकर संक्रान्ति , सभी
17 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
नश्वर और अनश्वर *सृष्टि के आदिकाल से लेकर आज तक अनेकानेक जीव इस पृथ्वी पर अपने कर्मानुसार आये विकास किये और एक निश्चित अवधि के बाद इस धराधाम से चले भी गये | श्री राम , श्रीकृष्ण , हों या बुद्ध एवं महावीर जैसे महापुरुष इस विकास एवं विनाश (मृत्यु) से कोई भी नहीं बच पाया है | इसका मूल कारण यह है कि
04 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में सदैव उन्नति ही करना चाहता है परंतु सभी इसमें सफल नहीं हो पाते हैं | मनुष्य के किसी भी क्षेत्र में सफल या असफल होने में उसकी संगति महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है | इस संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग रहते हैं इसमें से कुछ सद्प्रवृत्ति के होते हैं तो कुछ दुष्प्रवृत्ति के | जह
06 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
नश्वर और अनश्वर *सृष्टि के आदिकाल से लेकर आज तक अनेकानेक जीव इस पृथ्वी पर अपने कर्मानुसार आये विकास किये और एक निश्चित अवधि के बाद इस धराधाम से चले भी गये | श्री राम , श्रीकृष्ण , हों या बुद्ध एवं महावीर जैसे महापुरुष इस विकास एवं विनाश (मृत्यु) से कोई भी नहीं बच पाया है | इसका मूल कारण यह है कि
04 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
सनातन धर्म में कर्म ही प्रधान कर्म एवं भाग्य पर प्राय: चर्चा हुआ करती है | कर्म बड़ा या भाग्य ? यह विषय आदिकाल से प्राय:सबके ही मस्तिष्क में घूमा करता है | Sanatana Dharma के धर्मग्रंथों वेद , पुराण , उपनिषद एवं गीता आदि में कर्म को ही कर्तव्य मानकर इसी की प्रधानता प्रतिपादित की गयी है | कर्म को ह
09 जुलाई 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
06 जुलाई 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में सदैव उन्नति ही करना चाहता है परंतु सभी इसमें सफल नहीं हो पाते हैं | मनुष्य के किसी भी क्षेत्र में सफल या असफल होने में उसकी संगति महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है | इस संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग रहते हैं इसमें से कुछ सद्प्रवृत्ति के होते हैं तो कुछ दुष्प्रवृत्ति के | जह
06 जुलाई 2019
23 जून 2019
*इस संसार में परमात्मा ने बड़ी विचित्र सृष्टि की है | देखने में तो सभी पक्षी एक प्रकार के ही दिखते हैं , सभी मनुष्यों की आकृति एक समान ही बनाई है परमात्मा ने परंतु विचित्रता यह है कि एक समान आकृति होते हुए भी प्रत्येक प्राणी के गुण एवं स्वभाव भिन्न - भिन्न ही हैं | अपने गुण , स्वभाव एवं कर्मों से ही
23 जून 2019
12 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में समय-समय पर विभिन्न व्रत उपवास एवं त्योहारों का पर्व मनाने की परंपरा रही है | प्रत्येक व्रत / पर्व के पीछे एक वैज्ञानिक मान्यता सनातन धर्म में देखने को मिलती है | आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी जिसे पद्मा एकादशी के नाम से जाना जाता है | इसका बहुत ही
12 जुलाई 2019
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
23 जून 2019
सबसे पहले हम ये जाने की कीर्तन का सही अर्थ क्या है.Kirtan का सही अर्थ मैंने अभी कुछ दिन पहले सुप्रसिद्ध भागवत वाचक Goswami Shri Pundrik Ji Maharaj से जाना उनोहने जो बताया में आज आप लोगो से शेयर करती हूँ.Goswami Shri Pundrik Ji Maharaj के अनुसार हम जब किसी एक विशेष भगव
23 जून 2019
06 जुलाई 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में सदैव उन्नति ही करना चाहता है परंतु सभी इसमें सफल नहीं हो पाते हैं | मनुष्य के किसी भी क्षेत्र में सफल या असफल होने में उसकी संगति महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है | इस संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग रहते हैं इसमें से कुछ सद्प्रवृत्ति के होते हैं तो कुछ दुष्प्रवृत्ति के | जह
06 जुलाई 2019
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
09 जुलाई 2019
सनातन धर्म में कर्म ही प्रधान कर्म एवं भाग्य पर प्राय: चर्चा हुआ करती है | कर्म बड़ा या भाग्य ? यह विषय आदिकाल से प्राय:सबके ही मस्तिष्क में घूमा करता है | Sanatana Dharma के धर्मग्रंथों वेद , पुराण , उपनिषद एवं गीता आदि में कर्म को ही कर्तव्य मानकर इसी की प्रधानता प्रतिपादित की गयी है | कर्म को ह
09 जुलाई 2019
16 जुलाई 2019
*मनुष्य का जन्म लेने के बाद मनुष्य को इस संसार के विषय में बताने के लिए एक मार्गदर्शक आवश्यकता होती है , जिसे सद्गुरु के नाम से जाना जाता है | मानव जीवन में मार्गदर्शक (सद्गुरु) की परम आवश्यकता होती है | वैसे तो सभी मनुष्य के जीवन में माता प्रथम गुरु होती है जो कि अपने नवजात शिशु को इस संसार की प्रा
16 जुलाई 2019
24 जून 2019
*सनातन धर्म बहुत ही वृहद होते हुए असंख्य मान्यताओं को स्वयं को समेटे हुए है | सनातन धर्म में समय - समय पर अनेक देवी - देवताओं के साथ ग्रामदेवता , स्थानदेवता , ईष्टदेवता एवं कुलदेवता की पूजा आदिकाल से की जाती रही है | प्रत्येक कुल के एक विशेष आराध्य होते हैं जिन्हें कुलदेवी या कुलदेवता के नाम से जाना
24 जून 2019
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x