राहुल सांकृत्यायन जी की जीवनशैली है आपके लिए एक प्रेरणा - Rahul Sankrityayan

09 जुलाई 2019   |  सौरभ श्रीवास्तव   (103 बार पढ़ा जा चुका है)

राहुल सांकृत्यायन जी की जीवनशैली है आपके लिए एक प्रेरणा - Rahul Sankrityayan

Rahul Sankrityayan in Hindi- भारत में एक से बढ़कर एक साहित्यकार हुए और इनकी हमेशा से यही कोशिश रही है कि वे हिंदी भाषा का समय-समय पर प्रचार करता रहता है। यहां हम बात हिंदी साहित्यिक राहुल सांकृत्यायन जी के बारे में बात करने जा रहे हैं। जब साहित्य की किताबें हिन्दी से ज्यादा हिंग्लिश की ओर जोर मारने लगे तो मानना पड़ेगा ही कि अब राहुल जी सरीखे लोगों को शायद ही कोई ज्यादा अहमियत देता हो।हिंदी साहित्य के महान पंडित श्री राहुल सांकृत्यायन जी का जन्म आजमगढ़, उत्तरप्रदेश के पंदहा नामक गांव में 9 अप्रैल सन् 1893 में हुआ था। राहुल जी के बचपन का नाम केदारनाथ पांडेय था। इनके पिता गोवर्धन पांडे व माता कुलवन्ती जी थी। बाल्यकाल में इनकी माता जी का देहांत हो जाने के कारण इनकी देख-रेख नाना श्री रामशरण पाठक के यहां हुआ।


राहुल सांकृत्यायन की जीवनी


प्राथमिक शिक्षा के लिए गांव में पास के स्कूल में इनका दाखिला कराया गया था। इनका विवाह बचपन में ही हो गया था और यह उनके जीवन की बहुत बड़ी घटना थी जिसकी वजह से इन्होंने किशोरावस्था में ही घर त्याग दिया। इसके बाद वे एक मठ में साधु हो गये और फिर 14 वर्ष की अवस्था मैं कलकत्ता भाग गये क्योंकि ज्ञान प्राप्त करने की बहुत लालसा थी इसी कारण ये कहीं भी टिकते नहीं थे। राहुल जी जहां भी गये, वहां की भाषा सीखकर लोगों से काफी घुल-मिल गये और वहां की संस्कृति, साहित्य व समाज को अपने दिल में बसा लिया। महापंडित कहलाना इनको अच्छा नहीं लगता था। राहुल जी हमेशा कहा करते थे 'कमर बांध लो भावी घुमक्कड़ो, संसार तुम्हारे ही स्वागत के लिए बेकरार है।' आधुनिक हिन्दी साहित्य में यात्राकार, इतिहासविद्, तत्वान्वेषी और युग परिवर्तनकारी साहित्यकार के रूप में इनको जाना जाता है। वर्षों तक हिमालय में यायावरी जीवनयापन किया । 36 भाषाओं के जानकार राहुल जी ने बनारस में संस्कृत का अध्ययन किया और आगरा में भी पढ़ाई की फिर लाहौर में मिशनरी का काम किया और स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान जेल भी भेजे गए। बौद्ध धर्म के लिए तिब्बत से लेकर श्रीलंका तक घूमे और बहुत सारे साहित्य की रचना की। साम्यवादी विचारों के समर्थक होने के साथ राहुल जी हमेशा कहते थे कि, 'मैंने नाम बदला, वेशभूषा बदली, खान-पान बदला, संप्रदाय बदला लेकिन हिंदी के संबंध में मैंने अपने विचारों को कभी नहीं बदला और न बदलूंगा।'

आज के दौर में राहुल सांकृत्यायन जी को याद करने की फुर्सत किसे है?' सही बात है, एक समय था जब 1958 में उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया औऱ 1963 में पद्मभूषण से नवाजा गया लेकिन अब तो आज कल की सरकार भी याद करने से कतराती है। भला हो उन गांव, गलियों और छोटे शहर में बसे लेखकों, कवियों और पत्रकारों का जो राहुल जी को उनके जन्मदिन और पुण्यतिथि पर ही कम से कम याद तो कर लेते हैं।

राहुल सांकृत्यायन जी ने बिना उच्च स्तर की शिक्षा हासिल किए अलग-अलग विषयों पर करीब 150 ग्रंथों की रचना की और अपने जीवन लगभग पूरा समय यात्राओं में लगा दिया। जिसमें उन्होंने पूरे भारत के अलावा तिब्बत, सोवियत संघ, यूरोप और श्रीलंका की यात्रा की।


Rahul Sankrityayan ki Rachana -


कहानी, जीवन, उपन्यास, आत्मकथा व यात्रा वृत्तांत।

उनकी कुछ प्रमुख कृतियां-

उपन्यास: जीने के लिए, सिंह सेनापति, बाईसवीं सदी, जय यौधेय, भागो नहीं दुनिया बदलो, राजस्थान निवास, मधुर स्वप्न, दिवोदस व विस्मृत यात्री।

आत्मकथा : मेरी जीवन यात्रा

कहानी संग्रह : बहुरंगी मधुपूरी, वोल्गा से गंगा, सतमी के बच्चे, कनैला की कथा।

यात्रा साहित्य : इरान, जापान, लंका, किन्नर देश की ओर, चीन में क्या देखा, मेरी तिब्बत यात्रा, तिब्बत में सवा वर्ष, मेरी लद्दाख यात्रा, घुमक्कड़ शास्त्र, रूस में पच्चीस मास।

जीवनी : नए भारत के नए नेता, सरदार पृथ्वी सिंह, अतीत से वर्तमान, लेनिन, कार्ल मॉर्क्स, बचपन की स्मृतियां, स्ताालिन, माओ-त्से-तुंग, मेरे असहयोग के साथी, घुमक्कड़ स्वामी, वीर चंद्रसिंघ गढ़वाली, सिंघल घुमक्कड़ जयवर्धन, जिनका मैं कृतज्ञ, कप्तान लाल, सिंघल के वीर पुरूष, महामानव बुद्ध।

सम्मान: पद्म भूषण, साहित्य अकादमी पुरस्कार, त्रिपिटिकाचार्य।

निधन : दार्जिलिंग (प. बं.), 14 अप्रैल 1963


इन्होंने हिंदी साहित्य में बहुत ज्यादा योगदान दिया था और इन्हें लिखने का भी काफी शौक रहा है। राहुल जी अपने जीवन के आखिरी दिनों में दार्जिलिंग में थे और वहां पर इन्होने एक से बढ़कर एक कविताएं लिखी जो हिंदी साहित्य में छात्रों को आज भी पढ़ाए जाते हैं। इनकी रचनाओं को इनके निधन के बाद पब्लिश किया गया था और इन्हें मरणोपरांत कुछ अवॉर्ड्स भी मिले थे।

अगला लेख: फिट्नेस व खूबसूरती के लिए कीवी फल है प्रभावशाली...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जुलाई 2019
स्वामीविवेकानन्द जी का जन्म 12 जनवरी 1963 को कलकत्ता में हुआ था। इनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथदत्त था और इनके पिता श्री विश्वनाथ दत्त थे जो कि कलकत्ता हाईकोर्ट में एकविख्यात वकील थे जो कि पाश्चात्य सभ्यता में विश्वास करते थे। विश्वनाथ जी अपनेबेटे नरेन्द्र को भी अँग्
08 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
Indian Traffic Rules in Hindi- भारत में यातायात नियमों पर अक्सर सवाल उठाए जाते हैं क्योंकि यहां पर चालान कटता तो है लेकिन कोई देना नहीं चाहता है औक पुलिस को कुछ चंद रुपयों में खरीद लिया जाता था। मगर 1 अक्टूबर से पूरे देश में नये ट्रैफिक
06 जुलाई 2019
10 जुलाई 2019
इंडियन रेलवे की भारत दर्शन टूरिस्ट ट्रेन यात्रियों के लिए बहुत ही लोकप्रिय हो रही है और यह ट्रेन न केवल आम ट्रेनों के मुकाबले सस्ती है बल्कि इसमें कई प्रकार के लाभ भी हैं। आपको बता दें कि भारत दर्शन स्पेशल ट्रेन अलग-अलग धार्मिक स्थलों के लिए ट्रेन चलती हैं जिन्हे आप अपनी सुविधा के अनुसार सीट की बुकि
10 जुलाई 2019
05 जुलाई 2019
मोदीसरकार 2.0 का आजपहला आम बजट हुआ पेश और इस बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कई मुद्दों परबात की। आपको बता दें कि इस बजट में इनकम टैक्स की छूट पर कौई राहत नहीं मिलीहै। बलकि 2 करोड़से ज्यादा कमाने वालों पर टैक्स में बढ़ोतरी हुई है। हाउस लोन के लिए midldle class के लोगोंके लिए थोड़ी राहत हुई
05 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
शि
इस सावन जानिए शिवपूजा में बेलपत्र का महत्व..!!!सावन का पवन महीना चल रहा है ऐसे में हम आपको बता रहें है शिवलिंग की पूजा में क्या क्या चढ़ाना चाहिए।भगवान शिव की पूजा में बेलपत्र प्रयोग होते हैं। बेलपत्र का बहुत महत्व होता है और इनके बिना शिव की उपासना सम्पूर्ण नहीं होती।👉🏻👉🏻👉🏻👉🏻 आइये जानते है ब
18 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
यह उस समय की बात है जब ब्रह्मदत्त बनारस राज्य पर शाषण करते थे. उस राज्य में सुलासा नामक एक सुंदर वेश्या रहती थी. इसके अलावे उस क्षेत्र में सत्तुका नामक एक बलशाली डाकू भी रहता था, जो रात में अमीर लोगों के घरों में घुसकर लूटपाट करता था. एक दिन उस डाकू को पकड़ लिया गया. सुला
18 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
ज्
19,20 एवम 21 जुलाई 2019 (शुक्रवार से रविवार) तक मेरी परामर्श सेवाएं ...नई दिल्ली में उपलब्ध रहेंगी।आज से दिल्ली प्रवास/विश्राम..22 जुलाई 2019 शाम तक।👍👍💐💐💐कमरा नम्बर - 104.होटल पूनम इंटरनेशनल,3169/70, Sangatrashan,बाँके बिहारी मन्दिर के निकट,पहाड़गंज, नई दिल्ली-110055..फोन नम्बर -(011) 41519884👍
18 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
इस लेख में हमआपको देंगे दुनिया की 300 hindi story books में से सबसे अच्छी प्रेरणादायक कहानियों का सबसे अच्छासंग्रह। हमारे पास कुछ ऐसी कहानियां हैं जो मनोरंजन के साथ-साथ आपको बड़ी प्रेरणादेने का भी काम करती हैं। मैं उम्मीद करता हुं कि ये कहानियां आपके जीवन मेंसकारात्मक
09 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
सुमित्रानन्दन पन्त जी का जीवन परिचय - ( Biography of Sumitranandan Pant) महान कवि सुमित्रानंदन पन्त जी का जन्म कुर्मांचल प्रदेश में अल्मोड़ा जिला के कौसानी नामक ग्राम में सन् 1900 ई. में हुआ था और इनके माता-पिता द्वारा रखा गया बचपन का नाम गुसाईं दत्त था | इनके जन्म के कुछ घंटों बाद ही इनकी माता ज
06 जुलाई 2019
05 जुलाई 2019
विकलांग सैनिकों की पेंशनको लेकर यह मुद्दा काफी गरम हो गया है क्योंकि अब विकलांग सैनिकों को मिलने वालेपेंशन पर अब टैक्स लगेगा। इस मामले के संबंध में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण केद्वारा ट्वीटर पर एक इंटरनल नोट सामने आया है। जिसमें यह साफ लिखा हुआ है कि लियागया यह फैसला सही है।आखिर इंटरनल नोट होता क्
05 जुलाई 2019
10 जुलाई 2019
कीवी फल के फायदे | Kiwi fruit benefits in Hindikivi fruit, Chiku fruit तरह ही दिखने वाला एक प्रकार का भूरे रंग का फल होता है जो काटने पर अंदर से हरे रंग का दिखता है। इसमें शरीर को लाभ पहुंचाने वाले पोषकतत्व (फाइबर, विटामिन C व W और एंटी-ऑक्सीडेंट पर्याप्त मात्रा में म
10 जुलाई 2019
22 जुलाई 2019
भारत में महिलआो को जहां एक ओर दबाकर रखने का चलन है वहीं दूसरी ओर महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपना परचम लहराया
22 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
पाकिस्तान केप्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने बारे में कहा कि नोबेल शांति पुरस्कार के लिएउनमें कबिलियत नहीं है। यह नोबेल पुरस्कार उस शख़्स को मिलना चाहिए जो कश्मीर केमुद्दे को हल कर सके। हाल ही में नोबेल पुरस्कार के लिए इमरान खान का समर्थन करनेके लिए पाकिस्तान के संसद में एक प्रस्ताव पेश किया गया। इमरा
09 जुलाई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x