यह कहानी ला सकती है आपके जीवन में बदलाव, जरूर पढ़ें

09 जुलाई 2019   |  सौरभ श्रीवास्तव   (49 बार पढ़ा जा चुका है)

यह कहानी ला सकती है आपके जीवन में बदलाव, जरूर पढ़ें

इस लेख में हम आपको देंगे दुनिया की 300 hindi story books में से सबसे अच्छी प्रेरणादायक कहानियों का सबसे अच्छा संग्रह। हमारे पास कुछ ऐसी कहानियां हैं जो मनोरंजन के साथ-साथ आपको बड़ी प्रेरणा देने का भी काम करती हैं। मैं उम्मीद करता हुं कि ये कहानियां आपके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाएंगी।

कहानी का शीर्षक- लकड़ी का कटोरा

एक बुजुर्ग गांव से शहर अपने बहु और बेटे के यहाँ रहने गया। उम्र के हिसाब से वह बहुत कमजोर हो चुका था और उस बुजुर्ग के हाथ कांपते थे और दिखाई भी कम ही देता था। सभी एक छोटे घर में रहते थे। पूरा परिवार और बुजुर्ग का एक चार वर्षीय पोता सभी साथ में टेबल पर डिनर करते थे। बुजुर्ग होने के कारण उस व्यक्ति को खाना खाने में बड़ी परेशानी होती थी। कभी मटर के दाने चम्मच से निकल कर फर्श पे गिर जाते तो कभी हाथ से दूध मेजपोस पर गिरता। बहु और बेटा कुछ दिन यह सब सहन करते रहे पर फिर उन्हें बुजुर्ग पिता की इस रोजाना काम से चिढ सी होने लगी। लड़के ने कहा पत्नि से कहा कि हमें कुछ करना पड़ेगा।

पत्नि ने हाँ में हाँ मिलाई और कहा कि आखिर कब तक हम इनकी वजह से अपने खाने का मजा खराब करते रहेंगे और हम चीजों का नुकसान होते हुए भी तो नहीं देख सकते ना। अगले दिन जब सभी रात को खाना खाने बैठे तो बेटे ने घर में पड़ूी एक पुरानी मेज को कमरे के एक कोने में लगा दिया और अब बूढ़े पिता को उसी टेबल पर अपना भोजन करना था। यहाँ तक कि बुजुर्ग व्यक्ति को खाने के बर्तनों की जगह एक लकड़ी का कटोरा दे दिया ताकि अब और बर्तन ना टूटे। बाकी लोग पहले की तरह आराम से बैठ कर खाना खाते और जब बुजुर्ग की तरफ देखते तो उनकी आँखों में आंसू दिखाई देते। यह देखकर भी बहु-बेटे का मन कभी नहीं पिघलता बल्कि बूढ़े व्यक्ति की छोटी से छोटी गलती पर बातें सुना देते थे। पोता भी यह सब बड़े ध्यान से देखता और अपनी धुन में मस्त रहता था।

एक रात डिनर करने से पहले बेटे को उसके माता -पिता ने जमीन पर बैठ काम करते कुछ देखा और पूछा कि बेटा तुम क्या बना रहे हो? और बच्चे ने साधारण तरीके से जवाब दिया कि, अरे मैं तो आप लोगों के लिए ही एक लकड़ी का कटोरा बना रहा हूँ, ताकि जब आप लोग बड़े हो जायें तो मैं आप लोगों को इसमें खाना दे सकूं। इतना कहकर वह पुनः अपने काम में लग गया। इस बात का उसके माता -पिता पर बहुत प्रभाव पड़ा और उस वक्त उनके मुंह से एक शब्द न निकला और आँखों में आंसू आ गये। दोनों बिना कुछ कहे ही समझ गये कि उन्हें अब करना क्या है। उसी रात दोनों अपने बूढ़े पिता को वापस उसी डिनर टेबल पर ले आये और कभी उनके साथ गलत व्यवहार नहीं किया।

निष्कर्ष- हम और आप अक्सर अपने बच्चों को moral values देने की बात करते हैं पर यह भूल जाते हैं की असली शिक्षा शब्दों में नहीं बल्कि कर्मों में होती है। अगर आप अपने बच्चों को बस ये उपदेश देते रहें कि बड़ों का आदर करो, सबका सम्मान करो, लेकिन खुद इसके विपरीत व्यवहार करें तो बच्चा जो देखता है वही सीखता है। इसलिए कभी भी अपने बुजुर्ग या माता-पिता के साथ गलत व्यवहार ना करें नहीं तो कल को आपका बेटा भी आपके लिए लकड़ी का कटोरा तैयार करने लगेगा।

हिंदी-स्टोरी-बुक्स

अगला लेख: स्वामी विवेकानंद की जीवनशैली व शिक्षा के सन्दर्भ में प्रमुख सिद्धांत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जुलाई 2019
मोदीसरकार 2.0 का आजपहला आम बजट हुआ पेश और इस बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कई मुद्दों परबात की। आपको बता दें कि इस बजट में इनकम टैक्स की छूट पर कौई राहत नहीं मिलीहै। बलकि 2 करोड़से ज्यादा कमाने वालों पर टैक्स में बढ़ोतरी हुई है। हाउस लोन के लिए midldle class के लोगोंके लिए थोड़ी राहत हुई
05 जुलाई 2019
20 जुलाई 2019
दीक्षित जी को सहृदय श्रद्धांजलि व उनके बारे में कुछ विशेष बातें - भारत की राजधानी दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित जी का नई दिल्ली में देहांत हो गया है। कांग्रेस पार्टी की बहुत ही कट्टर नेता थीं। अभी हाल ही में कुछ दिनों पहले ही शीला दीक्षित जी को AS
20 जुलाई 2019
05 जुलाई 2019
भारत को अंग्रेजों से आजाद कराने के लिए 1857 की क्रांति में महारानी लक्ष्मीबाई का योगदान आज भी लोगों को याद है और यह देश के सभी युवाओं के लिए एक तरह से प्रेरणा की श्रोत मानी जाती हैं। जिनका जन्म 19 नवंबर 1828 को एक मराठा ब्राह्मण परिवार में हुआ था। इनके बचपन का नाम मणिकर्णिका था और लोग इन्हें प्यार स
05 जुलाई 2019
23 जुलाई 2019
भगवान श्री शिवशंकर की अराधना में महामृत्युंजय जाप एककाफी पवित्र मंत्र माना जाता है जिसे हमारे बुजुर्गों द्वारा प्राण रक्षक मंत्रकहा जाता है। इस मंत्र की उत्पत्ति सबसे पहले महाऋषि मार्कंडय जी ने की। Mahmrityunjay Mantra का जाप करनेसे शिव जी को प्रसन्न करने की शक्ति मिलती है। Mahamrityunjay Mantra in
23 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x