ए ज़िंदगी

12 जुलाई 2019   |  bhavna Thaker   (16 बार पढ़ा जा चुका है)

ए ज़िन्दगी कभी तो मेरे ढंग में ढ़लकर देख,
मेरी सोच में बसकर देख,
मुझे जी कर देख
ले फ़िर मजे चुनौतियों की रंगीनीयों का,
हो जाएगी खुद से ख़फ़ा
देख खुद ही खुद की ज़ालिम अदा..!

क्यूँ ज़िंदगी की कुछ ताने क्षुब्ध कर देती है हमें,
जरूरी तो नहीं की उसका हर फैसला हमें मंज़ूर हो..!
उसकी ताल पे नाचते पैर जो पकड़ ले दिल की मधुर तान तो क्या हुआ की उम्र के कुछ लम्हें खुदपरस्ति में कटे..!

क्यूँ खिंच लेती है ज़िंदगी अपनी बंदिशो के दायरे में हमें ?
वक्त के हाथों की कठपुतली है इंसान की शख़्सीयत, कहाँ अपनी खुशी से ज़िंदगी की ज़मीन पर बो सकते है अपने सपनो के बीज..!

वो आसमान भी तो नसीब होना चाहिए जो बरसा दे नेमतों की नमी,
बूँदें दर्द के घने बरगद के उपर बरसे भी तो क्या हर शाख तो हरी नहीं होती
रह जाते है कुछ समिध अधजले ना जलते है ना बुझते है..!

बस चुनने है हमारे हिस्से के समिध हमें, ज़िंदगी के यज्ञ की धूनी जल रही है अर्घ्य को तरसती,
होमने तो होंगे आख़री आँच तक सपनो को पकाने की कोशिश में जूझते।।
भावु।

अगला लेख: मेरे अंतरंगी खयाल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x