कहाँ ढ़ालने पाओगे शब्दों में

12 जुलाई 2019   |  bhavna Thaker   (19 बार पढ़ा जा चुका है)

कहाँ समेटे जाती है संवेदना की सरिता, शब्दों का समुंदर भी उमटे कागजी केनवास पर फिर भी स्त्री के असीम रुप को ताद्रश करना मुमकिन कहाँ..!
देखा है कभी गौर से ज़िंदगी के बोझ की गठरी के हल्के हल्के निशान,
औरत की पीठ पर गढ़े होते हैं अपनी छाप छोड़े..!
हर अहसास, हर ठोकर, ओर स्पर्श के अनगिनत किस्से छपे होते है..!
पोरों की नमी से छूना कभी जल जाएगी ऊँगलीयाँ..!
जिम्मेदारीयों का कुबड़ लादे एक हंसी सजी होती है हरदम लबों पर हौसले से भरी लबालब..!
एक ज़रा सी परत हटाकर देखना कभी मचल उठेगी गम की गगरी छलकती,
देखना आहों का मजमा छंटकर बिखर जाएगा..!
क्या लिख पाएगा कोई उस पीठ पे पड़ी जिम्मेदार की गठरी के लकीरों की दास्तान..!
हौले से हाथ फिराकर रीढ़ तलाशना
हर स्पर्श की एक कहानी कहेगी वो
गली हुई तन की नींव सी हड्डी..!
जिस दिन कोई लिख पाएगा उबल पड़ेगी ज्वालामुखी दबी हुई,
एक फूल सी सतह के नीचे ज़मीन में गढ़ी..!
#सुबह से शाम तक दिन रथ पे सवार
एक ज़िस्त में असंख्य किरदारों से लिपटी औरत की शख़्सीयत पे ही ये धरती थमी।।
भावु।

अगला लेख: मेरे अंतरंगी खयाल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x