मन को खुश रखो तन खिल उठेगा

12 जुलाई 2019   |  bhavna Thaker   (20 बार पढ़ा जा चुका है)

मन को खुश रखो तन खिल उठेगा

Age is just figur not our intro forget it मैंने उम्र को कभी कोई तवज्जों नहीं दी, ना ही महसूस किया, ना ही गिना..! वक्त का काम है बहना बहता रहेगा दिन, महीने, साल ये सब वाकिये याद रखने के लिए है ना की हमारा घड़ीया गिनना..! दिल में एक उम्र बिठा ली है मैंने जवाँ, खूबसूरत सी जिसमें आख़री साँस तक रहना है ज़िंदगी के हर पल को हंसी खुशी नशीली बना कर जीना है..! मैं अब इतने साल की हो गई अब ये क्या करना, वो क्या करना, ये मुझे शोभा नहीं देता, ये कलर मुझ पर अच्छा नही लगता एसी नकारात्मक बातें तन पर वैसा ही प्रभाव छोड़ती है एसी बातें करना मतलब ज़िंदगी के सुहाने सफ़र को मरमर कर काटना..!

तन पर झुर्रियां दस्तक देने लगेगी 40 साल की उम्र में ही, सोचते रहो अभी मेरी उम्र ही क्या है अभी तो ये करना है, अभी तो वो बाकी है हर फैशन को अपनाओ, पार्लर जाओ जिम जाओ खुद को मेइन्टेइन रखो, स्लीवलैस पहनो, लिपस्टिक लगाओ एन्जॉय करो..! past को भूल जाओ present में जीओ ज़िंदगी की बदलती हर तान के साथ ताल मिलाते ओर future हमें पता नही तो उसके बारे में क्यूँ सोचना, जो बच्चे करते है आप भी सब करो..! Music is the best way of joy संगीत मन को साता देता है जब भी नकारात्मक खयालों का आक्रमण हो संगीत सुनो..! शौक़ को मार देना कहाँ का न्याय है ओर किस ग्रंथ में ये लिखा है की एक उम्र के बाद सब छोड़ छाड़ कर तंबूरा हाथ में ले लेना चाहिए..! जैसा मन सोचेगा वैसा रिप्ले तन देगा तो उम्र की गिनती को गोली मारो एक खूबसूरत खयाल को दिल में बसा कर उसे सहलाते रहो, उसी में जीओ, उसी में रहो ताउम्र जवाँ खूबसूरत।। मन को खुश रखो तन खिल उठेगा।। भावु।

अगला लेख: मेरे अंतरंगी खयाल



प्रिया पटेल
15 जुलाई 2019

हाँ मन और तन एक दूसरे के साथ चलते हैं

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x