आत्ममुग्धता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 जुलाई 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (97 बार पढ़ा जा चुका है)

आत्ममुग्धता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

आत्ममुग्धता

इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के शत्रुओं एवं मित्रों से घिर जाता है इसमें से कुछ सांसारिक शत्रु एवं मित्र होते हैं तो कुछ आंतरिक | आंतरिक शत्रुओं में जहाँ हमारे शास्त्रों ने काम , क्रोध , मद , लोभ आदि को मनुष्य का शत्रु कहा गया है वहीं शास्त्रों में वर्णित षडरिपुओं के अतिरिक्त मनुष्य का एक और भी परम शत्रु है जिसे "आत्ममुग्धता" कहा गया है | आत्ममुग्धता अर्थात स्वयं की प्रशंसा करना या सुनना | आत्ममुग्ध मनुष्य अपने स्वयं की प्रशंसा के अतिरिक्त कुछ भी सुनना पसंद नहीं करते हैं | सदैव अपनी बड़ाई ही उन्हें स्वीकार होती है | ऐसे व्यक्ति ये सोंचते हैं कि मैं जो हूँ या जो कर रहा हूँ वही श्रेष्ठ है | यदि भूले से कोई भी इनके गलत कार्यों के प्रति इनको सचेत करने का प्रयास करता भी है तो ऐसे लोग उसको अपना परम शत्रु मानकर ही व्यवहार करते हैं | इसका ज्वलंत उदाहरण त्रेतायुग में लंकाधिपति रावण के रूप में देखने को मिलता है |

यद्यपि रावण बहुत बड़ा विद्वान , त्रिकालदर्शी , परम ज्योतिषी एवं शिवभक्त था परंतु उसमें अनेक दोष भी थे जिनमें विशेष दोष था उसका स्वयं के बल , परिवार एवं विद्वता पर आत्ममुग्ध होना | ऐसे मनुष्य अपने आसपास ऐसे लोगों की भीड़ जमा रखते हैं जो उसके प्रत्येक उचित - अनुचित कार्य की सिर्फ बड़ाई करते रहें | विरोध करने वाले लोग ऐसे लोगों को कदापि पसंद नहीं आते | ऐसे ही लोगों के लिए सचेत करते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी ने मानस में लिख दिया है :-- सचिव वैद गुरु तीनि जौ प्रिय बोलहिं भय आस ! राज धर्म तन तीनि कर होंहिं बेगही नास !! अर्थात :- आत्ममुग्ध मनुष्य के रुष्ट हो जाने के भय से यदि उसके सलाहकार , डॉक्टर एवं गुरु उसके ही अनुसार बोलने लगते हैं तो ऐसे आत्ममुग्ध मनुष्य का राज्य धर्म और शरीर का विनाश हो जाता है , जो कि रावण के विषय में देखने को मिलता है | अत: प्रत्येक मनुष्य को आत्ममुग्धता से बाहर निकलकर आत्मावलोकन अवश्य करना चाहिए |* *आज के चकाचौंध भरे भौतिक युग में लगभग प्रत्येक व्यक्ति इस रोग से पीड़ित दिखाई पड़ता है |

विशेषकर जब से सोशल मीडिया पर फेसबुक एवं व्हाट्सएप का प्रचलन बढ़ा तब से मनुष्य की आत्ममुग्धता कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है | आज के युवक-युवतियों को आत्ममुग्धता की प्रकृति उन्हें आत्म केंद्रित बना रही है | आत्म केंद्रित होने का अर्थ है कि मनुष्य ना तो किसी के विषय में सोचता है और ना ही किसी दूसरे के विषय में कोई विचार ही रखता है | ऐसे व्यक्तियों का एकमात्र लक्ष्य होता है कि वह स्वयं को कितना ज्यादा और कैसे प्रचारित कर दे | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि यह समस्या नहीं बल्कि एक कमी है इसके लिए समाधान होने की आवश्यकता नहीं है बल्कि मनुष्य को अपनी सोच बदलने की आवश्यकता है | यह आत्ममुग्धता की पराकाष्ठा ही है कि लोग तरह-तरह से स्वयं के चित्र खींचकर सोशल साईट्स पर प्रेषित करते हैं फिर उस पर ज्यादा से ज्यादा लाइक कमेंट की अपेक्षा करते हैं | ऐसे लोगों का विचार ऐसा होता है ये स्वयं की कमी बताने पर उसको अपनी आलोचना समझकर उसको बिल्कुल नहीं बर्दाश्त कर पाते तथा साधारण सी बात पर पूरी तरह नाराज होकर विवाद करने पर उतर आते हैं | ऐसे लोग प्रत्येक जगह पर स्वयं को विशिष्ट दिखाने के लिए अपना महत्त्व बढ़ा चढ़ाकर बताने व दिखाने का प्रयास करते हैं |

जहां देखते हैं कि उनकी प्रशंसा नहीं होती है वहां से स्वयं पलायन कर जाते हैं | जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए | प्रत्येक मनुष्य को इस आत्ममुग्धता से बाहर निकल कर समाज के विषय में भी विचार करना चाहिए अन्यथा परिणाम रावण की तरह ही हो सकता है |* *आत्ममुग्ध मनुष्य ना तो कभी सफल हो पाया है और ना ही हो पाएगा , क्योंकि इस रोग से पीड़ित मनुष्य को अपने अतिरिक्त ना तो कुछ दिखाई पड़ता है और ना ही वह विचार ही करना चाहता है |

अगला लेख: दृढ़ संकल्प :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जुलाई 2019
*आदिकाल से मनुष्य का सम्बन्ध प्रकृति एवं पर्यावरण से रहा है | घने जंगलों में प्रकृति की गोद में ही बैठकर ऋषियों ने तपस्या करके लोककल्याणक वरदान प्राप्त किये तो इसी प्रकृति की गोद में बैठकर हमारे पूर्वज महापुरुषों ने मनुष्य को सरल एवं सुगम जीवन जीने का मार्ग प्रशस्त करने वाले ग्रंथों की रचना की | प्र
26 जुलाई 2019
07 जुलाई 2019
कर्म की प्रधानता*सनातन धर्म में सदैव से कर्म को ही प्रधान माना गया है एवं अनासक्त होकर कर्मेंद्रियों से कर्मयोग का आचरण करने वाले पुरुषों को श्रेष्ठ पुरुष कहा गया है और यही karma meaning है| अपने द्वारा किए गए कर्म के आधार पर ही जीव की अगली योनियों का निर्धारण होता है | मनुष्य अपने कर्मों का भाग्
07 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
*परमात्मा ने पंचतत्त्वों के संयोग से सुंदर प्रकृति की रचना की | धरती , आकाश , जल , अग्नि एवं वायु को मिलाकर सुंदर प्रकृति का निर्माण किया फिर इन्हीं पंचतत्त्वों को मिलाकर मनुष्य की रचना की इसीलिए मनुष्य को प्रकृति का अभिन्न अंग कहा गया है | धरती पर दिखने वाली प्रकृति एवं पर्यावरण वैसे तो बहुत सुंदर
26 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
*आदिकाल से मनुष्य का सम्बन्ध प्रकृति एवं पर्यावरण से रहा है | घने जंगलों में प्रकृति की गोद में ही बैठकर ऋषियों ने तपस्या करके लोककल्याणक वरदान प्राप्त किये तो इसी प्रकृति की गोद में बैठकर हमारे पूर्वज महापुरुषों ने मनुष्य को सरल एवं सुगम जीवन जीने का मार्ग प्रशस्त करने वाले ग्रंथों की रचना की | प्र
26 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
नश्वर और अनश्वर *सृष्टि के आदिकाल से लेकर आज तक अनेकानेक जीव इस पृथ्वी पर अपने कर्मानुसार आये विकास किये और एक निश्चित अवधि के बाद इस धराधाम से चले भी गये | श्री राम , श्रीकृष्ण , हों या बुद्ध एवं महावीर जैसे महापुरुष इस विकास एवं विनाश (मृत्यु) से कोई भी नहीं बच पाया है | इसका मूल कारण यह है कि
04 जुलाई 2019
12 जुलाई 2019
दृढ़ संकल्प इस धरा धाम पर मानवयोनि में जन्म लेने के बाद मनुष्य जीवन में अनेकों कार्य संपन्न करना चाहता , इसके लिए मनुष्य कार्य को प्रारंभ भी करता है परंतु अपने लक्ष्य तक कुछ ही लोग पहुंच पाते हैं | इसका कारण मनुष्य में अदम्य उत्साह एवं अपने कार्य के प्रति निरंतरता तथा सतत प्रयास का अभाव होना ही कहा
12 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
सनातन धर्म में कर्म ही प्रधान कर्म एवं भाग्य पर प्राय: चर्चा हुआ करती है | कर्म बड़ा या भाग्य ? यह विषय आदिकाल से प्राय:सबके ही मस्तिष्क में घूमा करता है | Sanatana Dharma के धर्मग्रंथों वेद , पुराण , उपनिषद एवं गीता आदि में कर्म को ही कर्तव्य मानकर इसी की प्रधानता प्रतिपादित की गयी है | कर्म को ह
09 जुलाई 2019
23 जुलाई 2019
भगवान श्री शिवशंकर की अराधना में महामृत्युंजय जाप एककाफी पवित्र मंत्र माना जाता है जिसे हमारे बुजुर्गों द्वारा प्राण रक्षक मंत्रकहा जाता है। इस मंत्र की उत्पत्ति सबसे पहले महाऋषि मार्कंडय जी ने की। Mahmrityunjay Mantra का जाप करनेसे शिव जी को प्रसन्न करने की शक्ति मिलती है। Mahamrityunjay Mantra in
23 जुलाई 2019
17 जुलाई 2019
*सनातन धर्म दिव्य एवं स्वयं में वैज्ञानिकता को आत्मसात किये हुए है | सनातन के प्रत्येक व्रत - त्यौहार स्वयं में विशिष्ट हैं | इसी कड़ी में सावन महीने का विशेष महत्व है | सनातन धर्म में वर्ष भर व्रत आते रहते हैं और लोग इनका पालन भी करते हैं , परंतु जिस प्रकार सभी संक्रांतियों में मकर संक्रान्ति , सभी
17 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में सदैव उन्नति ही करना चाहता है परंतु सभी इसमें सफल नहीं हो पाते हैं | मनुष्य के किसी भी क्षेत्र में सफल या असफल होने में उसकी संगति महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है | इस संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग रहते हैं इसमें से कुछ सद्प्रवृत्ति के होते हैं तो कुछ दुष्प्रवृत्ति के | जह
06 जुलाई 2019
17 जुलाई 2019
*चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कहीं गई है | मनुष्य इस संसार में आकर सर्वत्र सुख की कामना करता है , परंतु उसको जीवन भर सुख की प्राप्ति नहीं हो पाती है , क्योंकि इस संसार को "दु:खालय" कहा गया जिसका अर्थ होता है दुख का घर | इस संसार को दु:खालय क्यों कहा गया इसका कारण यह है कि जीव जब मां
17 जुलाई 2019
29 जून 2019
सच्चरित्रता का मतलब- सत और चरित्र इन दो शब्दों के मेल से सच्चरित्र शब्द बना हैं तथा इस शब्द में ता प्रत्यय लगने से सच्चरित्रता शब्द की उत्पत्ति हुई हैं. सत का अर्थ होता हैं अच्छा एवं चरित्र का तात्पर्य हैं आचरण, चाल चलन, स्वभाव, गुण ध
29 जून 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य मोह - माया में लिप्त हो जाता है | कहा जाता है कि अनेकों महापुरुषों ने मोह - माया पर विजय भी प्राप्त किया है परंतु यदि सूक्ष्मदृष्टि से देखा जाय तो इस मोह से कोई बच ही नहीं पाया है | सबसे बड़ा मोह है अपने शरीर का मोह ! मनुष्य जीवन भर पवित्र एवं अपवित्र के बीच झूल
18 जुलाई 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
12 जुलाई 2019
दृढ़ संकल्प इस धरा धाम पर मानवयोनि में जन्म लेने के बाद मनुष्य जीवन में अनेकों कार्य संपन्न करना चाहता , इसके लिए मनुष्य कार्य को प्रारंभ भी करता है परंतु अपने लक्ष्य तक कुछ ही लोग पहुंच पाते हैं | इसका कारण मनुष्य में अदम्य उत्साह एवं अपने कार्य के प्रति निरंतरता तथा सतत प्रयास का अभाव होना ही कहा
12 जुलाई 2019
12 जुलाई 2019
तू
तू कविता हैं मुझ बंजारे की, सुबह की लाली, शाम के अँधियारे की, वक्त के कोल्हू पे रखी, ईख के गठियारे की, हर पल में बनी स्थिर, नदियों के किनारे की, सूरज की, धरती की, टमटमाते चाँद सितारे की, हान तू कविता है मुझ बंजारे की। तू कविता हैं मुझ बंजारे की, रुके हुए साज पर, चुप्पी के इशारे की, इस रंगीन समा में
12 जुलाई 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x