मासूम

14 जुलाई 2019   |  pradeep   (105 बार पढ़ा जा चुका है)

हर नकाब में खूबसूरत चेहरा नहीं होता,

बदसूरती को भी उसमे छिपाया जाता है,

हर हाथ दुआ देने के लिए नहीं उठता,

जान लेने को भी हाथ उठाया जाता है.

सच को जानना यूँ आसान नहीं आलिम,

कुछ झूठों को भी सच बताया जाता है.

कत्ल ना जाने कितने किये होंगे उसने,

देख खूबसूरती उसे मासूम बताया जाता है. (आलिम)

अगला लेख: हाथी



वाह

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 जुलाई 2019
बा
उसने तो जान भी देदी ख़ातिर उनके, है पूछते वो ताउम्र तुमने किया क्या है. शर्म से गर्दन नहीं झुकती होगी बापू की, दिल में दर्द का एहसास तो होता होगा. क़ाबिल बना दिया उसने तुमको इतना,खड़े हो जहां, वहां के तुम काबिल नहीं थे. (आलिम)
15 जुलाई 2019
14 जुलाई 2019
इश्क पर ज़ोर नहीं, ये तो सुना था,इश्क पर सबका ज़ोर, नहीं सुना था. इश्क हमने किया परेशान दुनिया है, परेशान हम भी तो इस दुनिया से है.ज़िंदगी मेरी किसी की अमानत तो नहीं, मेरी ज़िंदगी अपनी जागीर समझ बैठे है. ख़ुद इश्क के क़ाबिल नहीं जो लोग, आशिकों को गुनहगार
14 जुलाई 2019
27 जुलाई 2019
क्या किसी ने कहीं किसी हाथी को मरते देखा है जिसकी सूंड में चींटी घुस गई हो? ये कहावत बनाने वाला बहुत ज्ञानी रहा होगा. हमारे देश में ज्ञान की कमी नहीं है, उनके ज्ञान को समझने वालों की कमी थी लेकिन अब वो भी नहीं रही. ज्ञान बाट
27 जुलाई 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x