Pratibha Patil को क्यों मानते हैं राजनीति-सामाजिक क्षेत्र की मसीहा?

22 जुलाई 2019   |  सौरभ श्रीवास्तव   (1112 बार पढ़ा जा चुका है)

Pratibha Patil को क्यों मानते हैं राजनीति-सामाजिक क्षेत्र की मसीहा?

भारत में महिलआो को जहां एक ओर दबाकर रखने का चलन है वहीं दूसरी ओर महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपना परचम लहराया है। खेल, फिल्म, धार्मिक या फिर राजनीतिक हर जगह महिलाओं ने एक ऐसी जगह बनाई है जहां पर पुरुषों की ही पूछ रही है। बात अगर राजनीति की करें तो भारत की पहली महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल का रुतबा ही अलग रहा है। एक छोटे से गांव से आने वाली प्रतिभा जी ने वो हासिल किया जो हर किसी के बस की बात नहीं है। प्रतिभा पाटिल के मन में बचपन से ही कुछ अलग करने की चाहत थी और समय के साथ उन्होने इसे पूरा किया। साल 2007 में प्रतिभा पाटिल भारतवर्ष की पहली महिला राष्ट्रपति बनी और अपने कार्यकाल के दौरान इन्होंने बहुत कुछ किया जो इनकी व्यक्तित्व को दर्शाता है। कुछ मामलों में प्रतिभा पाटिल को राजनीति के साथ सामाजिक तौर पर मसीहा कहा जाता है।


प्रतिभा पाटिल की जीवनी (Pratibha Patil Jeevani)


प्रतिभा पाटिल



श्रीमति प्रतिभा पाटिल जी का जन्म महाराष्ट्र के जलगांव जिले के नंदगांव नामक गांव में 19 दिसंबर, 1934 को हुआ था। इनका पूरा नाम श्रीमती प्रतिभा देवीसिंह पाटिल था। पाटिल जी ने 25 जुलाई, सन् 2007 को हमारे भारतवर्ष के 12 वें राष्ट्रपति के रूप में पदभार ग्रहण किया था और यह पहली भारतीय महिला थीं जिनको राष्ट्रपति पद के लिए चुना गया। इस राष्ट्रपति पद को ग्रहण करने से पहले पाटिल जी 8 नवंबर 2004 - 21 जून 2007 तक राजस्थान में राज्यपाल के पद पर कार्यरत थीं।


इनकी शिक्षा-


श्रीमती प्रतिभा पाटिल जी ने जलगांव के आरआर विद्यालय से अपनी प्रारंभिक शिक्षा की शुरूआत की और इसके बाद जलगाँव के श्री मूलजी जेठा कॉलेज से राजनीति विज्ञान व अर्थशास्त्र में एम.ए की डीग्री प्राप्त कर ली। पाटिल जी ने GOVERNMENT LAW COLLEGE, MUMBAI से L.L.B की पढ़ाई पूरी की। कॉलेज में पढ़ाई के दौरान खेलों में भी भाग लिया कतरती थीं जैसे कि टेबल टेनिस खेल में काफी अच्छा खेला और कई खेलों में विशेष पुरस्कार प्राप्त किया।


प्रोफेसनल करियर-


PRATIBHA PATIL ने जलगाँव के जिला न्यायालय में एक प्रैक्टिस वकील के रूप में अपने करियर की शुरुआत कर ली और इसके साथ ही अनेक प्रकार के सामाजिक कार्यो में विशेष रूप से गरीब महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए बहुत सारा योगदान दिया।


राजनैतिक करियर-


जब ये 27 साल की थीं तभी इन्होंने जलगाँव में विधानसभा क्षेत्र से महाराष्ट्र राज्य विधानमंडल के लिए अपने जीवन में पहले चुनाव में ही सफलता हासिल की। इसके बाद 1985 तक एदलाबाद/मुक्ताई नगर निर्वाचन क्षेत्र से 4 बार विधायक बनीं। सन् 1985 से 1990 तक राज्यसभा में सांसद के रूप में कार्यरत रहीं और फिर बाद में दसवीं लोकसभा के लिए सांसद के रूप में चुनी गयीं। सन् 1991 में अमरावती जिले के निर्वाचन क्षेत्र से एक आम चुनाव लड़ा। इसमें भी इनको सफलता ही हासिल हुई।

महाराष्ट्र में लंबे कार्यकाल के दौरान प्रतिभा देवीसिंह पाटिल जी ने भारत सरकार और महाराष्ट्र विधानसभा क्षेत्रों में कई पदों पर कार्यरत रहीं, जो कि निम्न हैं-

1.महाराष्ट्र सरकार में 1967-1972 तक उप मंत्री, सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्री, निषेध, पर्यटन मंत्री, आवास और संसदीय कार्यभार संभाला।

2.महाराष्ट्र सरकार में 1972 से 1974 तक समाज कल्याण मंत्री।

3.राज्यसभा में कार्यरत होने के दौरान पाटिल जी ने सन् 1986 - 1988 तक राज्यसभा की उपसभापति रहीं और 25 जुलाई 1987 से 2 सितंबर 1987 तक डॉ. आर. वेंकटरमन को भारत के राष्ट्रपति के रूप में चुने जाने पर इन्होंने अध्यक्ष और राज्यसभा के रूप में कार्यभार संभाला। इसके बाद सन् 1986 - 1988 तक अध्यक्ष, विशेषाधिकार समिति, राज्य सभा और सदस्य, व्यवसाय सलाहकार के पद पर भी रहीं।

4.कैबिनेट मंत्री, सांस्कृतिक मामलों में सन् 1975 - 1976 तक महाराष्ट्र सरकार में कार्यभार संभाला।

5.महाराष्ट्र सरकार में सन् 1977 - 1978 तक शिक्षा मंत्री।

6.शहरी विकास और आवास मंत्री सन् 1982-1983 तक महाराष्ट्र सरकार के अंतर्गत।

सामाजिक और सांस्कृतिक कार्य अवधि-

प्रतिभा पाटिल


श्रीमती पाटिल जी ने अपने जीवन काल में महिलाओं, बच्चों व समाज के निम्न वर्गों के उत्थान के लिए बहुत योगदान दिया। जिसके लिए कई संस्थानों का निर्माण भी कराया।

1.मुंबई और दिल्ली जैसे शहरों में में काम करने वाली महिलाओं के लिए छात्रावास बनवाये और ग्रामीण युवाओं के लिए जलगांव में एक इंजीनियरिंग कॉलेज भी बनवाया।

2.आपको बता दें कि SHRAM SADHANA TRUST जो कि समाज के विकास के लिए कल्याणकारी कार्यों में भाग लेता है।

3.जलगांव में अंधे लोगों के लिए स्कूल का निर्माण करवाया।

4.गरीब घर के बच्चों के लिए और अमरावती जिले में पिछड़ी जाति के बच्चों के लिए स्कूल बनवाये।

5.महाराष्ट्र के अमरावती में एक कृषि विज्ञान प्रशिक्षण केंद्र बनवाया।

यहां तक की पाटिल जी ने महाराष्ट्र में सभी गरीब परिवार और जरूरतमंद महिलाओं के लिए संगीत की शिक्षा, कंप्यूटर की शिक्षा और सिलाई की कक्षाएं आयोजित करने में योगदान दिया।


पारिवारिक जीवन पर प्रकाश-


श्रीमती प्रतिबा पाटिल जी का विवाह डॉ. देवीसिंह रामसिंह शेखावत जी के साथ हुआ, जिन्होंने रसायन विज्ञान में पीएच.डी. की पढ़ाई हैफकीन इंस्टीट्यूट, मुंबई से पूरी की। इसके बाद वे अमरावती नगर निगम के पहले मेयर बने और साथ में अमरावती निर्वाचन क्षेत्र का विधायक के रूप में प्रतिनिधित्व भी किया। पाटिल जी के दो बच्चे हैं, एक पुत्र और एक पुत्री। बेटी का नाम ज्योति राठौर और बेटे का नाम श्री राजेंद्र सिंह रखा।

"पाटिल जी का जन्म- 19 दिसंबर, 1934

गांव- महाराष्ट्र के जलगांव जिले के नंदगांव

पाटिल जी का विवाह- डॉ. देवीसिंह रामसिंह शेखावत जी के साथ

पद- १२वी राष्ट्रपति ,25 जुलाई सन् 2007"

अगला लेख: स्वामी विवेकानंद की जीवनशैली व शिक्षा के सन्दर्भ में प्रमुख सिद्धांत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 जुलाई 2019
वर्तमान भारतीय शिक्षा व्यबस्था जो की ब्रिटिश हुक़ूमत के समयानुसार भारतीय मूल्यों व् सभ्यता-संस्कृति को सामान्य भारतीय जन-मानस के मन-मष्तिस्क में स्वयं का ही परिहास कराकर पच्छिमी भौतिक वैज्ञानिक शिक्षा को ही सर्वमान्य परपेछित कर आज के भारतीय युवा-वर्ग को सीमित बौद्धिक छमताओ में किसी श्रापबंध से बांध
29 जुलाई 2019
10 जुलाई 2019
Shambhaji Maharaj का जन्म 14 मई 1657 में पुरंदर के किले पर हुआ था। संभाजी महाराज शिवाजी के बेटे के रूप में जाने जाते हैं। संभाजी ने अपने बचपन से ही अपने राज्य की सभी समस्या
10 जुलाई 2019
23 जुलाई 2019
अक्षय कुमार की 'Mission Mangal Film' पर बन रहे Memes-Akshay Kumar की आने वाली फिल्म 'मिशन मंगल 15 अगस्त 2019 को रिलीज करने की तैयारी की जा रही है। Mission Mangal Film Trailor रिलीज हो चुका है और दर्शकों को काफी इंटरटेन भी किया है। फ
23 जुलाई 2019
29 जुलाई 2019
विजय सोपा नाही
29 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
बाबा रामदेव के साथ देश में आंदोलन-: राजीव दीक्षित का जन्म उत्तरप्रदेश के अलीगढ़ जिले में सन् 1967 में 30 नवंबर को हुआ था। राधेश्याम दीक्षित इनके पिता का नाम था और इनकी मां का नाम मिथिलेश कुमारी था। माता पिता के द्वारा ही इनका नाम राजीव रखा गया। अपने प्रारम्भिक शिक्षा की शुरुआत वैसे ही की जैसे कि
26 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
पाकिस्तान केप्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने बारे में कहा कि नोबेल शांति पुरस्कार के लिएउनमें कबिलियत नहीं है। यह नोबेल पुरस्कार उस शख़्स को मिलना चाहिए जो कश्मीर केमुद्दे को हल कर सके। हाल ही में नोबेल पुरस्कार के लिए इमरान खान का समर्थन करनेके लिए पाकिस्तान के संसद में एक प्रस्ताव पेश किया गया। इमरा
09 जुलाई 2019
22 जुलाई 2019
आजाद भारत को देखने के लिए ना सिर्फ महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू या कई स्वतंत्रता सेनानियों का सपना था बल्कि
22 जुलाई 2019
10 जुलाई 2019
कीवी फल के फायदे | Kiwi fruit benefits in Hindikivi fruit, Chiku fruit तरह ही दिखने वाला एक प्रकार का भूरे रंग का फल होता है जो काटने पर अंदर से हरे रंग का दिखता है। इसमें शरीर को लाभ पहुंचाने वाले पोषकतत्व (फाइबर, विटामिन C व W और एंटी-ऑक्सीडेंट पर्याप्त मात्रा में म
10 जुलाई 2019
10 जुलाई 2019
इंडियन रेलवे की भारत दर्शन टूरिस्ट ट्रेन यात्रियों के लिए बहुत ही लोकप्रिय हो रही है और यह ट्रेन न केवल आम ट्रेनों के मुकाबले सस्ती है बल्कि इसमें कई प्रकार के लाभ भी हैं। आपको बता दें कि भारत दर्शन स्पेशल ट्रेन अलग-अलग धार्मिक स्थलों के लिए ट्रेन चलती हैं जिन्हे आप अपनी सुविधा के अनुसार सीट की बुकि
10 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
बैंकों का राष्ट्रीयकरण 19 जुलाई 1969 को हुआ जो उस वक़्त की एक धमाकेदार खबर थी. बैंक धन्ना सेठों के थे और सेठ लोग राजनैतिक पार्टियों को चंदा देते थे. अब भी देते हैं. ऐसी स्थिति में सरमायेदारों से पंगा लेना आसान नहीं था. फिर भी तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने साहसी कद
26 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
भारत में धर्म व आस्था के प्रति हिन्दुओं की संवेदनशीलता:- हमारे भारत देश के लोगों की भावनाएं भक्ति व धर्म के प्रति काफी संवेदनशील होती हैं। विशेष करके जब कभी धर्म की बात आती है तो भगवान के प्रति आस्था को लेकर काफी संवेदनशीलता देखने को मिलती है। अक्सर आप भक्ति, धर्म और भगवान से संबंधित किसी प्रकार के
26 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी Wilderness Survival T.V Programme में Bear Grylls के साथ:-इस प्रोग्राम के लिए एक ट्रेलर Man vs Wild जो कि 12 अगस्त को भारत में प्रसारित किया जायेगा। इस प्रोग्राम में यह दिखाया जायेगा कि दो लोग यानि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और Bear Grylls जंगलों में जंगली जानवरो
30 जुलाई 2019
25 जुलाई 2019
काव्य रचनाओं में निपुण महान रचनाकार श्री महादेवी वर्मा जी |Mahadevi Verma:-काव्यों रचनाओं में निपुण महान श्री महादेवी वर्मा जी का जन्म सन् 26 मार्च 1907 को उत्तरप्रदेश के फ़र्रुख़ाबाद नामक क्षेत्र में हुआ था। वर्मा जी के जन्म के संबंध में सबसे विशेष बात यह थी कि
25 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
ज्
19,20 एवम 21 जुलाई 2019 (शुक्रवार से रविवार) तक मेरी परामर्श सेवाएं ...नई दिल्ली में उपलब्ध रहेंगी।आज से दिल्ली प्रवास/विश्राम..22 जुलाई 2019 शाम तक।👍👍💐💐💐कमरा नम्बर - 104.होटल पूनम इंटरनेशनल,3169/70, Sangatrashan,बाँके बिहारी मन्दिर के निकट,पहाड़गंज, नई दिल्ली-110055..फोन नम्बर -(011) 41519884👍
18 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
रि
19 जुलाई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x