जानें किन पदों पर रहे कार्यरत: भारत के 9वें राष्ट्रपति | Shankar Dayal Sharma

23 जुलाई 2019   |  सौरभ श्रीवास्तव   (6248 बार पढ़ा जा चुका है)

जानें किन पदों पर रहे कार्यरत: भारत के 9वें राष्ट्रपति | Shankar Dayal Sharma

श्री शंकर दयाल शर्मा जी की जीवनी (Shankar Dayal Sharma Biography):-


श्री शंकर दयाल शर्मा जी भारतवर्ष के 9वे राष्ट्रपति थे, जिन्होंने 1992 से 1997 के बीच कर कार्यबार संभाला। भारत के राष्ट्रपति पद के पहले शंकर दयाल शर्मा जी हमारे देश के 8वे उप राष्ट्रपति थे। सन् 1952-1956 तक भोपाल के मुख्यमंत्री और सन् 1956-1967 तक कैबिनेट मिनिस्टर के पद पर कार्यरत होते हुए शर्मा जी ने शिक्षा, भारतीय कानून, सामाजिक कामों, उद्योगों और कॉमर्स, राष्ट्रिय संसाधनों व रेवेन्यु विभागों के काम में उच्च भूमिका निभाई। सन् 1972-1974 तक शर्मा जी INDIAN NATIONAL CONGRESS के अध्यक्ष थे तथा सन् 1974 से 1977 तक UNION MINISTER के पद पर सरकार में लौटे थे। INTERNATIONAL BAR ASSOCIATION ने शंकर दयाल शर्माजी को LEGAL PROFESSION में कई सारी उपलब्धियों की वजह से ‘LIVING LEGEND OF LAW AWARD OF RICKGRETIONसे सम्मानित किया था।


शंकर दयाल शर्मा जी की शिक्षा (Education of Shankar Dayal Sharma):-

शंकर दयाल शर्मा जी मध्य प्रदेश के भोपाल में जन्मे थे। PUNJAB UNIVERSITY और LUCKNOW UNIVERSITY के St. John College और Agra College से अपनी पढाई पूरी की। Cambridge University के फिट्ज़विलियम कॉलेज से शर्मा जी ने Phd की डीग्री ली। लखनऊ यूनिवर्सिटी की तरफ से शर्मा जी को SOCIAL WORKS के लिए GOLD MEDAL से सम्मानित किया गया था। कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी और लखनऊ यूनिवर्सिटी मे अध्यापक के रूप में लॉ की शिक्षा देते थे और साथ ही वह TAGORE SOCIETY और CAMBRIDGE के कोषाध्यक्ष भी चुके थे। गाजीयाबाद की ALLAHABAD UNIVERSITY ALUMNI ASSOCIATION के तरफ से चुनी गयी कुल 42 सदस्यों की सूचि में शर्मा जी को प्राउड पास्ट अलुम्नुस से सम्मानित किया गया था। कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी की तरफ से शर्मा जी को Dr. of law की डिग्री से भी सम्मानित किया गया।


दयाल शर्मा जी का राजनीतिक जीवन | Political Career of Shankar Dayal Sharma:-


सन् 1960 में Shankar Dayal Sharma ने कांग्रेस पार्टी की लीडरशिप के लिए Indira Gandhi की मदद की और सन् 1972 में उनको AICC के अध्यक्ष के लिए चुना गया। UNION CABINET में सन् 1974-77 तक कार्य किया। सन् 1971 और सन् 1980 में भोपाल से लोक सभा की सीट पर जीत हासिल की। सन् 1984 में भारतीय राज्य का गवर्नर बने और इसके पहले वह आंध्र प्रदेश के प्रथम गवर्नर रहे। इस समय में उनकी बेटी गीतांजलि माकन और दामाद ललित माकन की हत्या सिक्ख दंगे में हो गयी थी। सन् 1984 के बाद 1975 में इन्होंने आंध्र प्रदेश छोड़ दिया और पंजाब के गवर्नर के रूप में नियुक्त हुए। INDIAN GOVERNMENT और सिक्ख आतंकवादियों के बीच बहुत हिंसा की स्थिति बनी हुई थी इसी कारण सन् 1986 में पंजाब भी छोड़कर महाराष्ट्र में रहने गये। सन् 1987 तक महाराष्ट्र के गवर्नर के पद पर रहे।


राष्ट्रपति पद का चुनाव:-

शर्मा जी सन् 1992 तक देश के उपराष्ट्रपति रहे और जब वे राष्ट्रपति के लिए चुने गये तब चुनावी कॉलेज से उन्हें कुल 66% वोट मिले थे, उन्होंने GEORGE GILLBERT को हराया था।

निधन: -

अपने जीवन के अंतिम 5 सालें में शर्मा गंभीर रूप से स्वास्थ समस्या से परेशान थे। 26 दिसम्बर 1999 को दिल का तेज दौरा आया जिसके बाद उनको नई दिल्ली के अस्पताल में भर्ती कराया गया और वहीं पर उनकी मृत्यु हुई।

अगला लेख: फिट्नेस व खूबसूरती के लिए कीवी फल है प्रभावशाली...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जुलाई 2019
इस लेख में हमआपको देंगे दुनिया की 300 hindi story books में से सबसे अच्छी प्रेरणादायक कहानियों का सबसे अच्छासंग्रह। हमारे पास कुछ ऐसी कहानियां हैं जो मनोरंजन के साथ-साथ आपको बड़ी प्रेरणादेने का भी काम करती हैं। मैं उम्मीद करता हुं कि ये कहानियां आपके जीवन मेंसकारात्मक
09 जुलाई 2019
24 जुलाई 2019
नुसरत जहां एक TMC Leader और एक Bengali Actress- जैसा कि TMC Party से सांसद आज कल काफी न्यूज में चर्चित हैं ऐसा इसलिए भी है कि नुसरत जहां Bengali Actress भी हैं। अपनी शादी के बाद यह और भी सुर्खियों में नज़र आ रही हैं नुसरत जहां ने अ
24 जुलाई 2019
10 जुलाई 2019
Shambhaji Maharaj का जन्म 14 मई 1657 में पुरंदर के किले पर हुआ था। संभाजी महाराज शिवाजी के बेटे के रूप में जाने जाते हैं। संभाजी ने अपने बचपन से ही अपने राज्य की सभी समस्या
10 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
हमारे देश के प्रधानमन्त्री कहते हैं : मैं 'जनता का सेवक' हूँ; मैं आप सबका 'प्रधान चौकीदार' हूँ; परन्तु विडम्बना देखिए, उनका काम 'चौकीदारी' का और मीडिया की सुर्ख़ियों में बने रहते हैं। यदि वे सचमुच, जनसेवक हैं तो संवैधानिक रूप में 'प्रधानमन्त्री' के स्थान पर 'प्रधान जनसेवक' कहलाने के लिए क्यों नहीं प्
18 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x