इस्लामिक सेकुलरिज्म

25 जुलाई 2019   |   भरत का भारत   (6102 बार पढ़ा जा चुका है)

इस्लामिक सेकुलरिज्म

हजारों वर्षों से भारत की धरती विदेशी आक्रमणकारिओ व उनके द्वारा किए हुए अमानवीय व अप्रत्याशित,अकल्पनीय वहाबी कृतियों को स्वतंत्रता के उपरांत भी मधु भाषणीय कवियों की पंक्तियों की तरह भारत के शिक्षा क्रम में पारितोषिक किया जा चुका है.


जीसस के जन्म से भी पूर्व महान राष्ट्रप्रेमी विद्वान पंडित चाणक्य द्वारा कही हुई यह बात “अखंड भारत” आज स्वयं में ही अकल्पनीय शब्दावली बन चुकी है. वर्तमान देश की परिस्थितियां वंदे मातरम ब भारत माता की जय पर भी प्रश्नचिन्ह लगातीं हैं. अभिव्यक्ति की आज़ादी व 70 के दशक में सेकुलर नामक जीवात्मा को संविधान की आत्मा से मोक्षित कराने का महान कार्य हमारे देश की धर्म जातिय मतगणना को परिभाषित करता है.


समय यात्रा की एक कथा मैं आपको सुनाता हूं. मुग़ल आक्रमणकारियों से मुगल वंश और मुग़ल वंश से ईस्ट इंडिया कंपनी तक और ईस्ट इंडिया कंपनी से ब्रिटिश अंपायर तक अंत में ब्रिटिश अंपायर से नेशनल इंडियन कांग्रेस तक अति सूक्ष्म दृष्टि से अगर आप अवलोकन करें भारतीय सभ्यता व संस्कृति की छिन्न विछिन्न सूक्ष्मतमऔ् परमाणुइक प्रणाली इसी समय क्रम के अनुसार निर्धारित रही है.


भारत माता की सत्य व्रत संताने स्वयं का मार्जन कर स्वयं से ही यह प्रश्न पूछे क्या 15 अगस्त 1947 को भरत का भारत पुनः जीर्णोधारित हुआ? अन्ततः अपने आदर्शों को अपने यथार्थ को पहचानिये व् जानिये और भारत माता को हजारों वर्षों की कुत्सित समय प्रणाली से स्वतंत्र कराइए|


भरत का भारत “सनातन धर्म जयते यथाः”!

अगला लेख: हिंदी लेखन का विस्तार ?



आपका लेख सार्थक है , बड़ा सवाल भी पूछ लिया आपने . हम हर साल आज़ादी मनाते हैं और ग़ुलाम रहते है अंग्रेजी के , उनकी वेशभूषा के , उनके रहें सेहेन के

भरत का भारत
26 जुलाई 2019

धन्यबाद आपका उम्मीद है एक दिन लोग समझेंगे |

अंग्रेजी में कहावत है की if you are Hindu , you are secular
and if you are muslim, you are communal ................

भरत का भारत
26 जुलाई 2019

यह सत्य है |

anubhav
26 जुलाई 2019

एक भारतीय होने पर मुझे गर्व है क्योंकि आज की आजादी हमें बहुत सी कुर्बानी के बाद मिली है।

भरत का भारत
26 जुलाई 2019

उम्मीद है हम उस आज़ादी का अर्थ अगर समझते हैं तो जिन लोगो ने इतनी कुर्बानिया दी उन लोगो के आदर्शो व विचारो पर भी चले |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अगस्त 2019
बीतें कुछ महीनों में देश की समरसिता व गंगा-जमुना तहज़ीव में कुछ चक्रवात उपस्तिथ हुए हैं । ये चक्रवात भिन्न-भिन्न छेत्र के महान धर्मनिर्पेक्ष-सेक्युलर-संविधानिक ब्रिटिश-इंडो इण्डियन द्वारा संचालित व प्रसारित कियें गये हैं। वर्तमान मीडिया संस्थानो ने इन चक्रवातों का नाम
03 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
आज देश अपनी दमदार लीडर को खोने का गम मना रहा है और उनका नाम सुषमा स्वराज है जिनका निधन 7 अगस्त की शाम को दिल्ली के AIIMS अस्पताल में हो गया था। सुषमा स्वराज का नाम राजनीति में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाएगा और भारतीय राजनीति के इतिहास में उनका योगदार अहम रहा है। सुषमा स्वराज हमेशा लोगों की मदद के लि
07 अगस्त 2019
31 जुलाई 2019
प्रस्तावना - भारतीय क्रांतिकारी इतिहास प्रायः अनैतिक रूप से दो भागों में बाँट दिया गया जो कि उन सभी बलिदानियों के ऊपर आज़ाद भारतियों का कलंक है, जिसका हमें स्वयं ही अभाश नहीं हैं | तथाकथित स्वतंत्रता का राजनीतिकरण कर विद्यार्थियों व् देशवासिओं को त्याग,
31 जुलाई 2019
29 जुलाई 2019
वर्तमान भारतीय शिक्षा व्यबस्था जो की ब्रिटिश हुक़ूमत के समयानुसार भारतीय मूल्यों व् सभ्यता-संस्कृति को सामान्य भारतीय जन-मानस के मन-मष्तिस्क में स्वयं का ही परिहास कराकर पच्छिमी भौतिक वैज्ञानिक शिक्षा को ही सर्वमान्य परपेछित कर आज के भारतीय युवा-वर्ग को सीमित बौद्धिक छमताओ में किसी श्रापबंध से बांध
29 जुलाई 2019
07 अगस्त 2019
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अब हमारे बीच नहीं हैं. 67 साल की उम्र में उन्होंने आखिरी सांस ली. 6 अगस्त की रात उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया. लाख कोशिश की गई, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. रात 9 बजे उन्होंने दम तोड़ दिया. पूरा देश
07 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
मनुष्य के जीवन में देशी गाय माता का बड़ा महत्वपूर्ण योगदान रहा है । गाय माता के दूध-दही-घी-मूत्र-गोबर से बने पंचगव्य से भयंकर बीमारियां भी ठीक हो जाती है, गाय के अंदर 33 करोड़ देवता का वास होता है, तभी तो भगवान श्री कृष्ण भी स्वयं गाय चराते थे, यहाँ तक बताया गया है कि गाय
07 अगस्त 2019
05 अगस्त 2019
लोकसभा के बाद अब गैर-कानूनी गतिविधि निवारण संशोधन (यूएपीए) विधेयक राज्यसभा में भी पारित हो गया है, जिसकी मदद से अब किसी भी व्यक्ति को आतंकी घोषित किया जा सकता है। इस बिल के पारित होने के समय जब संसद में अमित शाह अपनी बात रख रहे थे, तभी दिग्विजय सिंह ने इसका विरोध किया और
05 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x