हाथी

27 जुलाई 2019   |  pradeep   (6259 बार पढ़ा जा चुका है)

हाथी

क्या किसी ने कहीं किसी हाथी को मरते देखा है जिसकी सूंड में चींटी घुस गई हो? ये कहावत बनाने वाला बहुत ज्ञानी रहा होगा. हमारे देश में ज्ञान की कमी नहीं है, उनके ज्ञान को समझने वालों की कमी थी लेकिन अब वो भी नहीं रही. ज्ञान बाटा जा रहा है और लोग अपने छोटे से दिमाग में समेट रहे है. एक ज्ञानी ने ज्ञान दिया कि जलवायु परिवर्तन नहीं हम बदल रहे है, दूसरे ने बताया कि मोरनी मोर के आंसू पीकर बच्चे पैदा करती है, तो एक ज्ञानी ने कहा गाय ऑक्सीजन छोड़ती है, एक बत्तख को बताया कि वो ऑक्सीजन पैदा करती है. एक महान वैज्ञानिक ने खोज की और बताया कि इंटरनेट और कम्प्यूटर तो महाभारत काल में ही हमारे पास था. इतनी ज्ञान की बाते होती है, लोगो का कितना ज्ञान बढ़ाया जा रहा है. आज मैं सो रहा था तो एक चींटी मेरे हाथ पर आ गई और मेरे सोचने से पहले ही दूसरे हाथ ने उसे मसल डाला, हाथी बेचारा इंतज़ार करता है कि वो चींटी इतनी लम्बी सूंड पार कर नाक के छेद में घुस जाए जिससे वो मर जाए वैसे नाक में दो छेद होते है जहाँ तक मैंने पढ़ा है , शायद किसी नए जीवविज्ञान के साइंसदान ने पाया हो कि हाथी के नाक में एक ही छेद होता है. नाक या सूंड में एक गीलापन होता है और कुछ बाल भी होते है जो किसी भी अनचाही चीज़ को नाक के छेद तक जाने से रोक देते है. 2 या 3 गज़ की सूंड में उस गीलेपन या चिपचिपे से लड़ती बहादुर चींटी छेद तक पहुँच जाती है, शायद वो हाथी भी किसी ज्ञानी का पाला हुआ हाथी होगा. (आलिम)

अगला लेख: बापू



सुंदर

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अगस्त 2019
गा
गाँधी जी जो लोकतन्त्र और प्रजातन्त्र के लिए लड़ रहे थे , वही गाँधी जी राम राज्य की बात भी कर रहे थे? गांधीजी हिन्दुराष्ट्र के विरोधी थे, लेकिन बात रामराज्य की करते थे एक राजतंत्र की. गीता पढ़ते थे, गीता में विश्वास रखते थे, पर युद्ध
06 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
महाभारत एक युद्ध का नाम है , इसको महाभारत ही क्यों कहा जाता है, महायुद्ध क्यों नहीं कहा जाता. महा का मतलब या तो महान होता है या फिर सबसे बड़ा, तो इस महाभारत का मतलब हुआ महान भारत या बड़ा भारत? महान भारत और युद्ध, कुछ समझ से बाहर की बात नहीं है? जी बिल्कुल ये ज्यादातर लोगो क
03 अगस्त 2019
02 अगस्त 2019
महाभारत युद्ध और जीत किसकी? यह एक प्रश्न चिन्ह है उस समाज पर , उस युद्ध पर और आज वही इतिहास फिर से दोहराया जा रहा है. चीरहरण से बढ़कर बात अब बलात्कार तक पहुँच गई है, समाज के सम्मानित तब भी चुप थे और अब भी. शकुनि नीति आज कामया
02 अगस्त 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x