" शर्मसार करें और कब तक हम खुद को " - हिंदुत्व भावनाओं का स्वयं पतन

28 जुलाई 2019   |   भरत का भारत   (6258 बार पढ़ा जा चुका है)

" शर्मसार करें और कब तक हम खुद को " - हिंदुत्व भावनाओं का स्वयं पतन

प्रस्तावना- हज़ारो वर्षो से सनातन भारतीय सभ्यता विदेशी व देशी अब्रहंनताओ से प्रताड़ित व कुंठित रही है | कालांतर के पश्यात कोई तथाकथित आज़ादी के उपरांत ऐसी सरकार आयी जिसने हिंदुत्व पर चर्चा करना स्वीकार किया और पिछले बीते एक माह से #moblynching #secularism के नाम पर जो भेदभावपूर्ण राजनीति हो रही है ये उसका ही एक प्रकरण है ! वैसे तो पिछले १४०० वर्षों में लाखों मंदिर तोड़े गए, कुछ प्रशिद्ध मंदिर पुनस्थापित किये गए कुछ पर आज मस्जिद या दरगाह है और कुछ इतिहास के धूलित लेखों में विसर्जित हो गए |


पहला प्रकरण -अल्लीपुर उत्तर प्रदेश का जहाँ मंदिर को १५ महीनों में दूसरी बार तोड़ दिया गया।

प्रश्न -क्या मस्जिद या चर्च के टूटने पर भी सरकार व प्रशाशन ,मीडिया द्धारा यही शुष्क प्रतिक्रियाएं देता ?

प्रश्न -क्या हिंदुत्व सिर्फ वोट मांगते समय बहुसंख्यक समाज को भावनात्मक एकता को प्रदर्शित कराना है या सच में संबेदनशीलता का परिचय है ?


दूसरा प्रकरण -अलीगढ़ यहाँ मुस्लिम व हिंन्दु घनत्व हमेशा से ही विवादास्तमक रहा है | प्रायः भारत के अनन्य क्षेत्रों में अलग अलग जगहों पर नमाज़ पढ़ने को लेकर विवाद बनते रहे है ,परंतु जब हर मंगलबार को हनुमान चालीसा का पाठ प्रारंभ हुआ तो धीरे -धीरे आलोचनाओं का दौर शुरू हुआ और जिलाधिकारी ने दोनों ही पछों पर प्रतिबंद लगा दिया जो की सत्यता सही निर्णय था | परंतु बस-स्टैंड के पास स्थापित हनुमान जी की मूर्ति का यू हीं टूटना मुस्लिम समुदाय की तीख़ी प्रतक्रिया थी |

प्रश्न -क्यों सार्वजनिक स्थानों पर पहले ही नमाज़ पढ़ने को प्रतिबन्धित नहीं किया गया ?

प्रश्न -क्या उस मूर्ति में प्राणस्थापना नहीं थी ?

प्रश्न-क्या नयी मूर्ति स्थापित होने से अधार्मिक कार्य धार्मिक हो जायेगा ?


उपसंहार -हज़ारो वर्षो से वैदिक सभ्यता,भारतीयता का जो उपहास व निम्नस्तरीयता का जो भाव विदेशी आक्रांताओ द्धारा प्रचलित रहा है वो आज भी जीवित है ,तर्क ,आलोचना ,टिप्पड़ियाँ ,कुंठा से ना हमारा भूतकाल पुनः राम राज्य बन जायेगा ना ही हम भारतियों की व्यथा को शांत कर पायेगा | मुख्य समस्या जो जड़ में शताब्दियों से वीजित है वो हम स्वयं है ? बिना एकता बिना आदर्शों के बिना स्वाभिमान के बिना निष्काम भावना के बिना राष्ट्रप्रेम के बिना यथार्थ का अनुभव किये बिना भविष्य का चिंतन किये ! हमारा अष्तित्व ऐसे ही हमे शर्मसार व स्वयं पतन के मार्ग पर दिशानिर्देशित करता रहेगा |

" शर्मसार करें और कब तक हम खुद को " - हिंदुत्व भावनाओं का स्वयं पतन

अगला लेख: हिंदी लेखन का विस्तार ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 जुलाई 2019
प्रस्तावना - भारतीय क्रांतिकारी इतिहास प्रायः अनैतिक रूप से दो भागों में बाँट दिया गया जो कि उन सभी बलिदानियों के ऊपर आज़ाद भारतियों का कलंक है, जिसका हमें स्वयं ही अभाश नहीं हैं | तथाकथित स्वतंत्रता का राजनीतिकरण कर विद्यार्थियों व् देशवासिओं को त्याग,
31 जुलाई 2019
27 जुलाई 2019
दो प्रशन सिर्फ़ मेरे पहला क्या हिंदू-मुस्लिम का भेद ख़ुद social-media व news-media द्वारा किया जाता है? कोई क्यों न्याय की भावना से नहीं कहता लड़का मुनासिर है लड़की कीर्ति ? यहीं अगर इसका विरूद्ध प्रकरण होता तो हर जगह बात सुनी जाती ,मुस्लिम समाज व secular-बुध्ह्जीवी c
27 जुलाई 2019
06 अगस्त 2019
शब्दों की कमी भाव को समझ जाइए । जय हिंद आत्मन: शांति भवति: भारत माँ की गोद में ॐ शांति शांति शांति !
06 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
आज देश अपनी दमदार लीडर को खोने का गम मना रहा है और उनका नाम सुषमा स्वराज है जिनका निधन 7 अगस्त की शाम को दिल्ली के AIIMS अस्पताल में हो गया था। सुषमा स्वराज का नाम राजनीति में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाएगा और भारतीय राजनीति के इतिहास में उनका योगदार अहम रहा है। सुषमा स्वराज हमेशा लोगों की मदद के लि
07 अगस्त 2019
05 अगस्त 2019
लोकसभा के बाद अब गैर-कानूनी गतिविधि निवारण संशोधन (यूएपीए) विधेयक राज्यसभा में भी पारित हो गया है, जिसकी मदद से अब किसी भी व्यक्ति को आतंकी घोषित किया जा सकता है। इस बिल के पारित होने के समय जब संसद में अमित शाह अपनी बात रख रहे थे, तभी दिग्विजय सिंह ने इसका विरोध किया और
05 अगस्त 2019
10 अगस्त 2019
26 वर्षीय ऋषिराज जिंदल की सोमवार 6 अगस्त रात राजस्थान में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जबकि वह और उनके दोस्त जन्मदिन मना रहे थे और धारा 370 को समाप्त कर दिया गया था, जिसकी घोषणा उस दिन पहले ही सरकार ने कर दी थी।इस मामले के प्रमुख आरोपी इमरान और उसके साथी मंसूर (उर्फ
10 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
मनुष्य के जीवन में देशी गाय माता का बड़ा महत्वपूर्ण योगदान रहा है । गाय माता के दूध-दही-घी-मूत्र-गोबर से बने पंचगव्य से भयंकर बीमारियां भी ठीक हो जाती है, गाय के अंदर 33 करोड़ देवता का वास होता है, तभी तो भगवान श्री कृष्ण भी स्वयं गाय चराते थे, यहाँ तक बताया गया है कि गाय
07 अगस्त 2019
29 जुलाई 2019
वर्तमान भारतीय शिक्षा व्यबस्था जो की ब्रिटिश हुक़ूमत के समयानुसार भारतीय मूल्यों व् सभ्यता-संस्कृति को सामान्य भारतीय जन-मानस के मन-मष्तिस्क में स्वयं का ही परिहास कराकर पच्छिमी भौतिक वैज्ञानिक शिक्षा को ही सर्वमान्य परपेछित कर आज के भारतीय युवा-वर्ग को सीमित बौद्धिक छमताओ में किसी श्रापबंध से बांध
29 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
Pratlipi एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां खुले विचारों से आप कुछ भी लिख सकते हैं। ये एक ऑनलाइन वेबसाइट है जहां पर आप किसी भी विषय पर लिखकर खुद पब्लिश कर सकते हैं। इसका मुख्यालय बैंगलुरू में है और इस वेबसाइट पर आ
31 जुलाई 2019
07 अगस्त 2019
हि
शब्दनगरी को कैसे और बेहतर व ज़्यादा से ज़्यादा लोगों से जोड़ सकते है ? कैसे एक राष्ट्रीय विख्यात मंच बना सकते है कि जैसे २०१५ में thequint thewire बने और आज देश की प्रमुख website media news में एक हैं वैसे ही हिंदी लेखन में कैसे हम इसे उस स्तर पे ले जा सकते है ?
07 अगस्त 2019
26 जुलाई 2019
बैंकों का राष्ट्रीयकरण 19 जुलाई 1969 को हुआ जो उस वक़्त की एक धमाकेदार खबर थी. बैंक धन्ना सेठों के थे और सेठ लोग राजनैतिक पार्टियों को चंदा देते थे. अब भी देते हैं. ऐसी स्थिति में सरमायेदारों से पंगा लेना आसान नहीं था. फिर भी तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने साहसी कद
26 जुलाई 2019
25 जुलाई 2019
कोई भी राष्ट्र कितना भी शांति प्रिय क्यों ना हो , अपनी सीमाओं की हर तरह से सुरक्षा करना उसका परम कर्तव्य है | यदि कोई देश अपनी सुरक्षा में जरा सी भी लापरवाही करता है उसे पराधीन होते देर नहीं लगती | , क्योंकि राष्ट्र की सीमाओं के पार बसे दूसरे राष्ट्र भी
25 जुलाई 2019
07 अगस्त 2019
आप सभी भारतवासिओँ को तुलसी दिवस व जयंती के हार्दिक अवसर पर बधाई , हो सके तो कभी रामचरितमानस का पाठ भी करके देख ले क्योंकि चाहे राम हो चाहे तुलसीदास हम हिंदुओ के पास हर विषय के लिए वक़्त है पर अध्यायन के लिए नहीं ,मृत्यु के बाद पछताने से बेहतर जीवित रह कर समझदारी दिखान
07 अगस्त 2019
25 जुलाई 2019
हजारों वर्षों से भारत की धरती विदेशी आक्रमणकारिओ व उनके द्वारा किए हुए अमानवीय व अप्रत्याशित,अकल्पनीय वहाबी कृतियों को स्वतंत्रता के उपरांत भी मधु भाषणीय कवियों की पंक्तियों की तरह भारत के शिक्षा क्रम में पारितोषिक किया जा चुका है.जीसस के जन्म से भी पूर्व महान राष्ट्रप्रेमी विद्वान पंडित चाणक्य द्वा
25 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 जुलाई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x