भाव की प्रधानता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 जुलाई 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (445 बार पढ़ा जा चुका है)

भाव की प्रधानता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन मे धर्म और अधर्म का बहुत बड़ा महत्व है | धर्म का पालन करके मनुष्य समाज में सम्मान तो प्राप्त करता ही है अन्त में वह उत्तम गति को भी प्राप्त हो जाता है वहीं अधार्मिक मनुष्य समाज में उपेक्षित रहकर अधोगति को प्राप्त होता है | वैसे तो धर्म करने के अनेक साधन हैं परंतु धर्म के मुख्यत: चार प्रकार कहे गये हैं ! दान , शील , तप एवं भाव , इनमें भी मुख्य है भाव | किसी भी धार्म्क कृत्य में भाव की ही प्रधानता होती है | भाव के न होने पर दान , शील एवं तप भी निरर्थक ही होते हैं | पूजा , पाठ , जप - तप , संयास , वैराग्य , मान - अपमान , सिद्धि आदि में भाव की प्रमुख भूमिका है | भाव की प्रधानता से ही धर्म धर्म बनता है | यह भाव की प्रधानता है कि पत्थर की मूर्तियों में भगवान प्रकट हो जाते हैं | भक्त प्रहलाद ने भगवान का दर्शन कभी नहीं किया था परंतु उसका भाव था कि ईश्वर सर्वत्र समान रूप से व्याप्त है | इसी भाव से उसने अपने पिता दैत्यराज हिरणाकश्यप से कहा था कि "खम्बे में भी ईश्वर है" और उसी खम्भे से भगवान नरसिंह का प्राकट्य हो गया | यदि मनुष्य की भावना पवित्र एवं सकारात्मक है तो उसे उसकी भावना के अनुरूप ही फल प्राप्त होता है | प्रत्येक प्राणी ईश्वर का ही अंश है ऐसा हमारे सभी धर्मग्रंथों में वर्णन मिलता है | इसी भाव से मनुष्य अपना धर्म पालन करता चला आ रहा है | भगवान वेदव्यास नारायण के अंशावतार थे उन्होंने संसार के प्राणियों को वेदों के दुर्लभ ज्ञान को सुगम बनाने के लिए पुराणों की रचना की | कथाओं का आयोजन आदिकाल से होता चला आ रहा है व्यास गद्दी पर बैठने वाले व्यास को नारायण के भाव से देखने वालों का कल्याण होता रहा है | कथा व्यास के भाव भी यजमान के लिए कल्याणकारी ही रहा करते थे | भाव की प्रधानता ही धर्म को प्रधान बनाता है | यदि भाव नहीं है तो कोई भी धार्मिक कृत्य दिखावा ही बनकर रह जाता है | इसीलिए हमारे मनीषियों ने भाव की प्रधानता प्रतिपादित की है |* *आज के अर्थप्रधान युग में धर्म नीलाम हो रहा है | धर्म के प्रत्येक साधनों को धन से तोला जाने लगा है | मनुष्य द्वारा आज अनेक धार्मिक कृत्य तो किये जा रहे हैं परंतु उन कृत्यों में धन की प्रधानता एवं भाव की शून्यता ही देखने को मिलती है | आज यदि यजमान अपने यहाँ कथाओं का आयोजन करता है तो मोक्ष की भावना कम और भव्यता दिखाने की भावना अधिक ही होती है | आज इस भावना से पवित्र व्यासगादी भी अछूती नहीं रह गयी है | आज जहाँ यजमान की भावना परिवर्तित हुई है वहीं कथाव्यास भी बहुरंगी हो गये हैं | व्यास गादी पर विराजमान कथाव्यास में आज न तो यजमान नारायण का दर्शन कर पा रहा है और न ही कथाव्यास की भावना ही नारायण वाली रह गयी है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह कह सकता हूँ कि आज देश का उद्धार नहीं अपितु अध:पतन हो रहा है | आज मनुष्य अनेक प्रकार भोतिक साधनों का संग्रह तो कर रहा है परंतु धर्म के साधन कम होते जा रहे हैं | धर्म के साधनों के कम होने का मुख्य कारण यह है कि आज का मनुष्य मौज मस्ती में ही सारा जीवन व्यतीत कर देता है | मोक्ष पाने की भावना के दर्शन बहुत मुश्किल से हो रहे हैं | जब तक मनुष्य में किसी भी कर्म , धर्म , या वस्तु में भावना की प्रधानता नहीं होगी तब तक सारे कृत्य व्यर्थ ही हैं |* *धर्म - अधर्म सदैव भावों की निर्मलता पर ही निर्भर होते हैं | भावों की प्रधानता पर ही परिणाम भी प्राप्त होते हैं | जिस कर्म में भाव न हो वह अधार्मिक ही हो जाता है अत: भाव की प्रधानता महत्वपूर्ण है |*

अगला लेख: जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



anubhav
31 जुलाई 2019

आचार्य जी आपके विचार का मैं फैन हूं। आपके हर लेख जरूर पढ़ता हूं।

यह मेरा सौभाग्य है अनुभव जी , आपका आभार

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जुलाई 2019
*इस असार संसार का वर्णन महापुरुषों , लेखकों एवं कवियों ने अपनी दिव्य लेखनी से दिव्यात्मक भाव देकर किया है | इन महान आत्माओं की रचनाओं में भिन्नता एवं विरोधाभास भी देखने को मिलता है | यदि सूक्ष्म दृष्टि से देखा जाय तो अनेक विरोधों के बाद भी इस असार संसार का सार लगभग सबने एक ही बताया है वह है :- प्रे
22 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
*समस्त मानव जीवन तीन कालों में विभाजित है :- १- भूतकाल २- वर्तमानकाल एवं ३- भविष्यकाल | जो व्यतीत हो गया वह भूतकाल , जो चल रहा है वह वर्तमानकाल एवं जो आने वाला है वह भविष्यकाल कहलाता है | मनुष्य का मन बहुत ही चंचल होता है , यह या तो भूतकाल के स्वर्णिमकाल का स्मरण किया करता है या फिर भविष्य की योजनाय
31 जुलाई 2019
16 जुलाई 2019
*मनुष्य का जन्म लेने के बाद मनुष्य को इस संसार के विषय में बताने के लिए एक मार्गदर्शक आवश्यकता होती है , जिसे सद्गुरु के नाम से जाना जाता है | मानव जीवन में मार्गदर्शक (सद्गुरु) की परम आवश्यकता होती है | वैसे तो सभी मनुष्य के जीवन में माता प्रथम गुरु होती है जो कि अपने नवजात शिशु को इस संसार की प्रा
16 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x