दिव्य दृष्टि- एक रहस्य 11 (कलंक)

30 जुलाई 2019   |  दिनेश कुमार दिवाकर   (5336 बार पढ़ा जा चुका है)

इस कहानी के पिछले 10 भाग प्रकाशित हो चुका है


अब तक आपने पढ़ा प्रेम और दिव्या अपने जान पर खेलकर जैसिका को दृष्टि से बचाते हैं और उस मायाजाल को भी नष्ट कर देते हैं फिर दृष्टि एक सवाल छोड़ जाती है जिसका जवाब जानने प्रेम सहस्त्रबाहु के पास जाता है। अब आगे......


सूरजपुर, सुरजपुर नाम था उस गांव का, बात उन दिनों की है जब मेरे पिता उस गांव के वैद्य थे महर्षि नाम था उनका गांव में उनसे ज्यादा पढा लिखा कोई नहीं था उनका एक शिष्य था प्रकाश यानी दिव्या और दृष्टि के पिता जो अविवाहित थे।


इधर हम अपने मां के पेट से बाहर आने कि इंतजार कर रहे थे और आखिरकार वो दिन भी आ गया हमारे पिता महर्षि की खुशी हमें देखकर दूगना हो गया क्योंकि हम जुड़वां पैदा हुए जब हम थोड़े बड़े हुए तो हमारे जन्म दिन पर एक रस्म का आयोजन किया गया जिसमें हमारे सामने पुस्तक, पेन, पैसा, चाकू आदि रखे गए इसके हिसाब से हमारा नामकरण होना था।


मैं आगे बढ़कर पुस्तक और पेन को उठाया जिसे देखकर सब खुस हो ग‌ए लेकिन ये खुशी ज्यादा समय के लिए नहीं रहा मेरे जुड़वां भाई ने आगे बढ़कर पैसा और चाकू उठाया ये देखकर सभी लोग थोड़े समय के लिए मौन लो ग‌ए फिर हमारे पिता जी ने हमारा नाम रखा- सहस्त्र बाहु


सहस्र यानी अपने हाथ या दामाग की ताकत और बाहु मतलब बलवान सबको लगता था कि मैं पढ़ाकू और बाहु बलवान बनेगा और हुआ भी कुछ ऐसा। मेरी रूचि ज्ञान की ओर जाता था इसलिए मैं अपने बाबा के कार्यों में हाथ बंटाता था लेकिन बाहु के दिमाग में तो कुछ और ही चल रहा था।


18 साल की उम्र में बाहु ने पहला खून किया और वो भी गांव के सरपंच का, सभी गांव वाले भड़क कर बाहु को मारने के लिए दौड़े बाबा ने उन्हें बहुत समझाने की कोशिश किया लेकिन वे नहीं माने और बाहु को घसीटते हुए एक झोपड़ी में ले जाकर आग लगा दी।


लेकिन बाबा ने सबकी आंखों में धूल झोंककर बाहु को बचा लिया और उसे दुनिया की नजरों से बचाएं रखा लेकिन बाहु अपने साथ हुए अपमान के प्रतिशोध में जल रहा था उसने पुरे गांव को जलाकर भस्म करने की कसम खाई।


वह काली शक्तियों की साधना करने लगा और क‌ई तरह की तन्त्र विद्या सिखने लगा , इधर मैं अपने बाबा के कार्यों को करते करते लगभग पुरी तरह से सिख गया, जब हम तीस साल के हुए तो बाबा हमें छोड़कर चले गए जिससे राज वैद्य का सारा जिम्मा मेरे सर पर आ गया , मैं दिन रात उसी कार्य में व्यस्त रहने लगा ‌।


इधर प्रकाश यानी दिव्या और दृष्टि के पिता की शादी हुआं और साल भर में उनके यहां भी जुड़वां बच्चे पैदा हुए वो भी लड़की, उन्हें देखकर प्रकाश को कोई हैरानी नहीं हुआ क्योंकि मेरे बाबा ने दस साल पहले ही अपने दिव्यदृष्टि से देख लिया था कि उन्हें दो जुड़वां बेटियां पैदा होंगे, इसलिए उनका नाम रखा गया दिव्या और दृष्टि, दिव्या काफी शांत और अच्छी लड़की थी लेकिन दृष्टि स्वभाव से चंचल थी और उसे दूसरों को रूलाने में बहुत मजा आता था।



आज काम जल्दी खत्म होने की वजह से मैं घर जल्दी आ गया तो देखा बाहु काली शक्तियों की साधना कर रहा था और थोड़ी देर बाद सो गया मैंने उसे उस काली शक्तियों के जाल से बचाने के लिए उसके सारे चीजों को लेकर किसी सुरक्षित जगह पर छुपाने के लिए आगे बढ़ा तभी मुझे प्रकाश की याद आया मैंने उसे वह सब समान दे दिया ताकि वो उसे सही जगह छुपा दे लेकिन प्रकाश किसी काम के लिए जाने के लिए जल्द बाजी में वह समान अपने घर में ही छुपा दिया।


तभी दृष्टि एक दिन खेलते खेलते उस कमरे में पहुंच गई तभी उसे वह सब समान मिल गया वह उसे खोलकर देखने लगी, उसके अंदर एक पुस्तक जिसमें दुनिया में राज करने का राज छुपा था उसे अपने साथ ले ग‌ई उसके मन में काली शक्तियों ने अपना डेरा जमाना शुरू कर दिया था वह भी राज करने के लालसा में काली शक्तियों की साधना करने लगी।


इधर बाहु अपने सामानों को न पाकर पागल हो गया और मुझसे झगड़ा करने लगा फिर एक रात अंधेरे में वह घर से निकल गया घूमते घूमते वह प्रकाश के घर से गुजरा तो देखा वह पुस्तक तो दृष्टि के पास है जो इस समय उसकी साधना कर रही है उसे देखकर बाहु के मन में एक खौफनाक प्लान जन्म ले रहा था।


अभी ये मुश्किल खत्म नहीं हुआ था कि गांव में एक भीषण महामारी ने जन्म ले लिया जो पुरे गांव में जंगल के आग की तरह फैल गया, कोई भी दवा काम नहीं कर रहा था जीना दुभर हो गया गांव के 5% लोग ही स्वस्थ थे, सभी शिकायत लेकर वैद्य यानी मेरे पास आए मैंने उन्हें दिलासा दिया कि मैं जल्द से जल्द उनके लिए दवाई बना दूंगा ।


मैं और प्रकाश दिन रात उस बिमारी को खत्म करने की दवा बनाने लगे एक सप्ताह के बाद हमें सफलता मिला उस दवा से काफी हद तक सुधार हो रहा था जिससे हम और भारी मात्रा में उसको बनाने लगे ।


बाहु को ये पता चला तो उसने अपने अपमान का बदला लेने के लिए निकल पड़ा, उसने दृष्टि को बहलाया मैं तुम्हें इस गांव की रानी बना दूंगा लेकिन तुम्हें मेरा एक काम करना पड़ेगा वह जानता था उसे सहस्र अपने प्रयोग शाला में घुसने नहीं देगा इसलिए दृष्टि को मोहरा बनाया।


दृष्टि ने उसकी बात मान ली, बाहु उसे एक पुड़िया देते हुए कहा - इसे तुम उन दवाइयो के साथ मिला देना दृष्टि उसे लेकर अपने पापा के पास जाती है तभी तीन चार मरीज आ जाते हैं हम उन्हें देखने चले जाते हैं और वहां दृष्टि को नजर रखने के लिए बोलते हैं।


दृष्टि को तो इसी पल का इंतज़ार था उसने वह पुड़िया उस दवा में मिला दिया और वापस आ गई।

हमारे लिए वह लोगों को बचाने वाला दवा था लेकिन वह असल में तो कुछ और ही था।


सभी गांव वालों को वह दवा पिला दिया गया उस समय तो सब ठीक ठाक था लेकिन अगले दिन हमारे घर के सामने लाशों का ढेर पड़ा था जिसे देखकर हमारे पैरों तले जमीन खिसक गया।


जिस जिस आदमी ने उस दवाई को खाया वो सब मर ग‌ए इधर बाकी गांव वाले हम पर आरोप लगाने लगे। मुझे समझने में देर नहीं लगा कि ये सब बाहु का काम है अब मैंने गांव वालों को सब सच सच बताने का फैसला लिया और उन्हें सब कुछ बता दिया। वह अपने साथ हुए अपमान का बदला लेना चाहता था इसलिए ऐसा किया।


पंचायत में फैसला सुरू हुआ प्रकाश और कुछ गांव वाले जिनका हमने प्रयोग करके देखा था उन्होंने गवाही दिया जिससे मैं बेकसूर साबित हुआ, फिर बाहु को बुलाया गया वह मुस्कुराते लगा, गांव वालों ने उसके काली शक्तियों के समान को देखा जिससे यह साबित हो गया कि वही गांव वालों की मौत का कारण है इसलिए गांव वाले भड़क गए और उसे एक पेड़ पर बांधकर जिंदा जला दिया।


और मेरे सर पर भी गांव वालों की मौत का कलंक लगा दिया गया क्योंकि हमने बाहु को सबसे छुपा कर रखा था।


इस कलंक के साथ हम और प्रकाश यहां से चले जाना ही उचित समझा, प्रकाश और उसकी पत्नी किसी काम की वजह से एक दिन के लिए वहां रूकना पड़ा लेकिन दिव्या और दृष्टि अपने दादी के साथ अपने मामा के यहां चली गई।


अगले दिन खबर आया कि सुरजपुर गांव में आग लग गई है पुरा गांव श्मशान घाट बन चुका है। मैं समझ गया ये सब बाहु की अतृप्त आत्मा का काम है। वह सभी गांव वालों की आत्मा को वहीं कैद कर लिया।


मैं सबको मुक्ति दिलाने और बाहु की आत्मा को नष्ट करने के लिए पैरानॉर्मल सिखने लगा और एक दिन मैं उस गांव में प्रवेश हुआ।


पुरा गांव विरान हो चुका था मैंने बाहु के आत्मा को तो नष्ट कर दिया लेकिन गांव वालों की आत्मा को मुक्ति नहीं दिला पाया जिससे मैं पैरानॉर्मल एक्सपर्ट के पद को छोड़कर जंगलों में अपना मन शांत करने चला गया।


लेकिन आज तुम्हारे और दिव्या की वजह से उस गांव वालों की आत्मा को मुक्ति मिल गई, शायद नियती चाहती थी कि तुम्हारे हाथों से उन गांव वालों की मुक्ति हो।

The End


💟💟 रेटिंग कमेंट शेयर और फालो जरूर करें ताकि आप ऐसे रचना रोज पढ़ पाए 💟💟


हैलो दोस्तो, दिव्यदृष्टि के सफर में मुझे आप लोगों का भरपूर सहयोग मिला इस कहानी को बहुत कम समय में 17000 लोगों ने पड़ा और अच्छा रिस्पॉन्स दिया इस कहानी के दौरान लगभग 800 फालोवर्स बढ़े इसलिए आप सभी को हार्दिक दिल से शुक्रिया। मुझे उम्मीद है आगे भी आप लोगों का सहयोग मुझे मिलता रहेगा।

दिनेश कुमार दिवाकर

अगला लेख: शैतान से शादी- एक छलावा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जुलाई 2019
1.फुटपाथ पर बैठा एक बच्चा सड़क के लाइट के सहारे पढ़ने की कोशिश कर रहा था। वह दिखने में बहुत कमजोर लग रहा था जैसे उसने क‌ई दिनों से कुछ नहीं खाया हो। लेकिन उसके चेहरे पर एक जुनून था जो कुछ कर गुजरने का था।तभी एक बच्चा दौड़ते हुए उसके पा
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
दि
इस कहानी को पढ़ने से पहले इस कहानी के पिछले आठ भागों को पढ़ें।अब तक......सहस्र बाहु को उस मायाजाल से जैसिका को बचाने का उपाय मिलता है वह प्रेम को दिव्या को बुलाने के लिए कहता है और फिर उन दोनो को त्रिशूल देते हैं जिससे वे दृष्टि और उसके
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
इस कहानी को समझने के लिए इस कहानी के पिछले सात भागों को पढ़ें।अब तक.......दृष्टि प्रेम बनकर सहस्त्रबाहु को चकमा देकर वहां से भाग जाती है और प्रेम और सहस्त्रबाहु को चुनौती देती है कि तीन दिन में जैसिका को बचा सकते हैं तो बचा ले वरना.... प्रेम और सहस्त्रबाहु को दृष्टि क
30 जुलाई 2019
03 अगस्त 2019
आज रीना बहुत खुश लग रही थी। आज उसकी शादी जो होने वाली थी। रीना और संजू की मुलाकात एक गार्डन में हुई और वह मुलायम रोज की बात हो गई दोनों के मुलाकात और बातचीत कब प्यार में बदल गया पता ही नहीं चला।रीना के सीर्फ पापा ही थे जिसे छोड़कर वह शहर में प्राइवेट नौकरी करती थी और
03 अगस्त 2019
30 जुलाई 2019
दि
इस कहानी को पढ़ने से पहले इस कहानी के पिछले आठ भागों को पढ़ें।अब तक......सहस्र बाहु को उस मायाजाल से जैसिका को बचाने का उपाय मिलता है वह प्रेम को दिव्या को बुलाने के लिए कहता है और फिर उन दोनो को त्रिशूल देते हैं जिससे वे दृष्टि और उसके
30 जुलाई 2019
29 जुलाई 2019
दिव्य दृष्टि- एक रहस्य 2 इस कहानी को समझने के लिए पिछले भाग को पढ़ें।अब तक प्रेम बस में मरने से बाल बाल बचा और ऑफिस में उसकी मुलाकात जेसिका से हुई और अब उसके ऊपर एक और मुसीबत आ गई हैं उसके ऊपर पंखा गिरने वाला है और प्रेम को अनजान शक्ति कुर्सी पर बांध रखा है तभी पंखा
29 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
दि
इस कहानी को पढ़ने से पहले इस कहानी के पिछले आठ भागों को पढ़ें।अब तक......सहस्र बाहु को उस मायाजाल से जैसिका को बचाने का उपाय मिलता है वह प्रेम को दिव्या को बुलाने के लिए कहता है और फिर उन दोनो को त्रिशूल देते हैं जिससे वे दृष्टि और उसके
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
1.फुटपाथ पर बैठा एक बच्चा सड़क के लाइट के सहारे पढ़ने की कोशिश कर रहा था। वह दिखने में बहुत कमजोर लग रहा था जैसे उसने क‌ई दिनों से कुछ नहीं खाया हो। लेकिन उसके चेहरे पर एक जुनून था जो कुछ कर गुजरने का था।तभी एक बच्चा दौड़ते हुए उसके पा
30 जुलाई 2019
29 जुलाई 2019
इस कहानी को समझने के लिए इस कहानी के पहले और दूसरे भाग को पढ़े.अब तक...प्रेम के उपर पंखा गिरने वाला था लेकिन किसी अंजान शक्ति ने उसकी मदद की और फिर रात को अचानक कमरे में बदबू और घुटन फैलने लगा लेकिन थोड़ी ही देर में बदबू की जगह फूलों की खुशबू कमरे में फैलने लगा। सुबह
29 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
दि
इस कहानी के पिछले छः भाग प्रकाशित हो चुका है इस भाग को समझने के लिए पिछले छः भागो को पढ़ें।अब तक.....दृष्टि जैसिका को मारने की कोशिश करती हैं लेकिन प्रेम उसे रोकने के लिए आगे बढ़ा लेकिन दृष्टि उसे मार मार कर अधमरा कर देती है और दिव्या भी उसे रोक नहीं पाई और फिर दृष्टि
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
इस भाग को समझने के लिए पिछले पांच भागों को पढ़ें।अब तक.....दृष्टि दिव्या को धोखा देकर प्रेम से शादी करने के लिए मंदिर में बुलाया लेकिन ऐन वक्त पर दिव्या ने शादी रूकवा दिया और प्रेम को सारी सच्चाई बता दिया जिससे गुस्सा होकर दृष्टि ने दिव्या को मार डाला और प्रेम के न मि
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
मंत्री जी का घरअरे राजु जल्दी से यह सारा सामान गाड़ी में रखो यहां किसी भी समय सीबीआई आती ही होगी अगर यह उनके हाथ लग गया हमारा पावर तो जाएगा ही जाएगा ऊपर से हम कंगाल भी हो जाएगी इतने सालों से जो घोटाला करके पैसा कमाया है हम उसे ऐसे ही नहीं जाने देंगे जल्दी से इसे किसी
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
दि
इस कहानी के पिछले छः भाग प्रकाशित हो चुका है इस भाग को समझने के लिए पिछले छः भागो को पढ़ें।अब तक.....दृष्टि जैसिका को मारने की कोशिश करती हैं लेकिन प्रेम उसे रोकने के लिए आगे बढ़ा लेकिन दृष्टि उसे मार मार कर अधमरा कर देती है और दिव्या भी उसे रोक नहीं पाई और फिर दृष्टि
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
इस कहानी को समझने के लिए इस कहानी के पिछले सात भागों को पढ़ें।अब तक.......दृष्टि प्रेम बनकर सहस्त्रबाहु को चकमा देकर वहां से भाग जाती है और प्रेम और सहस्त्रबाहु को चुनौती देती है कि तीन दिन में जैसिका को बचा सकते हैं तो बचा ले वरना.... प्रेम और सहस्त्रबाहु को दृष्टि क
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
दि
इस कहानी के पिछले छः भाग प्रकाशित हो चुका है इस भाग को समझने के लिए पिछले छः भागो को पढ़ें।अब तक.....दृष्टि जैसिका को मारने की कोशिश करती हैं लेकिन प्रेम उसे रोकने के लिए आगे बढ़ा लेकिन दृष्टि उसे मार मार कर अधमरा कर देती है और दिव्या भी उसे रोक नहीं पाई और फिर दृष्टि
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
इस कहानी में आगे बढ़ने से पहले इस कहानी के पिछले 9 भागों को पढ़ें।अब तक......प्रेम और दिव्या आगे बढ़े तभी सामने एक कब्रिस्तान वाला गांव आया जिसमें अतृप्त आत्माओं का वास था, वहां पहुंचने पर प्रेम उनके निगेटिव एनर्जी को सह नहीं पाया और पागल सा होने लगता है तब दिव्या त्रिशूल की मदद से उन अतृप्त आत्माओं
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
इस कहानी को समझने के लिए इस कहानी के पिछले सात भागों को पढ़ें।अब तक.......दृष्टि प्रेम बनकर सहस्त्रबाहु को चकमा देकर वहां से भाग जाती है और प्रेम और सहस्त्रबाहु को चुनौती देती है कि तीन दिन में जैसिका को बचा सकते हैं तो बचा ले वरना.... प्रेम और सहस्त्रबाहु को दृष्टि क
30 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
इस कहानी को अच्छे से समझने के लिए पिछले तीन भागों को पढ़ें.अब तक.....प्रेम के साथ हो रहे अजीब सी घटनाएं अब और भी बढ़ रहे थे इधर जैसिका प्रेम को सरप्राइज देती है वो उन दोनो की सगाई का फिर प्रेम घर आता है तो घर पर कोई साया होता है वह जैसिका के शरीर में घुसकर प्रेम से कह
30 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x