उधम सिंह - इतिहास के शब्दों तक ही क्यों जीवित ?

31 जुलाई 2019   |   भरत का भारत   (5188 बार पढ़ा जा चुका है)

उधम सिंह - इतिहास के शब्दों तक ही क्यों जीवित ?

प्रस्तावना - भारतीय क्रांतिकारी इतिहास प्रायः अनैतिक रूप से दो भागों में बाँट दिया गया जो कि उन सभी बलिदानियों के ऊपर आज़ाद भारतियों का कलंक है,

जिसका हमें स्वयं ही अभाश नहीं हैं | तथाकथित स्वतंत्रता का राजनीतिकरण कर विद्यार्थियों व् देशवासिओं को त्याग,वलिदान,शौर्य,मातृभूमि प्रति

आदर व् भावनाओं को भी विचारों के रणक्षेत्र में हिंसा और अहिंसा का धुलित प्रकरण बना उस धूल में उधम सिंह की वीरता को भी रैडिकल शब्द से सम्बोद्यित कर दिया गया | इस धूलित विभाजित देशभक्ति का प्रथम चक्रवात पंडित जवाहरलाल नेहरू के संरक्षण में आया जिसके आज करोड़ों

अनुयायी हैं |


प्रश्न- क्या गाँधी व् कांग्रेस की विचारधारा से भिन्न कार्य करने वाले क्रांतिकारी हिंसक थे ?

उत्तर - अहिंसा का अर्थ उस प्रकार के हर कार्य से है जो निजस्वार्थ से ऊपर उठ समाज व् देश में व्याप्त अनैतिक कृत्यों का विरोध कर मानवीय गुणों की स्थापना करे .

प्रश्न - क्या साल में एक-दो बार जयंती या पुण्यतिथि पर उधम सिंह पर चर्चा कर आप उन्हें आदर्श श्रृद्धांजलि अर्पित कर रहें हैं ?

प्रश्न -क्या देश भक्ति या राष्ट्रप्रेम कभी- कभी भावाभेष में चेतनित होता है ?

प्रश्न -क्या आप भी क्रांति को विकल्पो के अनुसार रंगित कर क्रांतिकारियों का वैचारिक विभाजन करतें हैँ ?

प्रश्न - क्रांतिसपूतों व् स्वतंत्रता-सेनानियों के महत्व को किस उपकरण से शोधित कर इतिहास को प्रचारित किया गया ?


उपसंहार- प्रत्येक मानव अपनी-अपनी आवश्यकतानुसार अनेक स्थूल व् सूक्ष्म पदार्थों का प्रयोग करता हैं क्या आज देश भी एक पदार्थ ही बनकर रह गया है | आज देश की प्राणवायु "राष्ट्र हित सर्वोपरि" क्या भारत राष्ट्र के भावनात्मक वातावरण में उचित मात्रा में व्याप्त है | क्या देश की युवापीढ़ी उधम सिंह की शहादत-वलिदान को आने बाले भविष्य में उनका उचित सम्मान दे पायेगी |




उधम सिंह - इतिहास के शब्दों तक ही क्यों जीवित ?

अगला लेख: हिंदी लेखन का विस्तार ?



रेणु
01 अगस्त 2019

कृपया अपनी टंकण अशुद्धियों की ओर ध्यान जरुर दें | सस्नेह

भरत का भारत
01 अगस्त 2019

सस्नेह भगिनी आप की बात उचित है आगे से टाइपिंग पर ग़लती नहीं होगी ।

रेणु
01 अगस्त 2019

प्रिय भारत जी , संभतः उधम सिंह जी की इतिहास में आधिकारिक तौर पर वो स्थान कभी नहीं मिला जो मिलना चाहिए था \ ये वो ही थे जिन्होंने हजारों क्रांतिवीर निर्दोष भारतियों को निर्ममता से मौत के घाट पर उतारने वाले अंग्रेज अधिकारी , को उसके ही घर में घुसकर मारा था वो भी सरेआम | वे असली नायक थे जिन्होंने एक लक्ष्य को लेकर जीवन जिया और उसे भेदा भी | उनका ऋणी है समस्त राष्ट्र | सरकारें जिस भी वजह सी उन्हें दरकिनार करती रही हों पर जनता के असली नायक वे हैं | उन्हें कोटि नमन और आपको आभार ये ज्वलंत प्रश्नों को इस मंच पर लाने के लिए |

भरत का भारत
01 अगस्त 2019

बहुत धन्यबाद देश व देशवीर क्रांतिकारियों पर अपनी भावनायें व विचार रखने के लिए । समय के साथ सब शुद्ध हो जाएगा । जय माँ भारती

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अगस्त 2019
हि
शब्दनगरी को कैसे और बेहतर व ज़्यादा से ज़्यादा लोगों से जोड़ सकते है ? कैसे एक राष्ट्रीय विख्यात मंच बना सकते है कि जैसे २०१५ में thequint thewire बने और आज देश की प्रमुख website media news में एक हैं वैसे ही हिंदी लेखन में कैसे हम इसे उस स्तर पे ले जा सकते है ?
07 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
बीतें कुछ महीनों में देश की समरसिता व गंगा-जमुना तहज़ीव में कुछ चक्रवात उपस्तिथ हुए हैं । ये चक्रवात भिन्न-भिन्न छेत्र के महान धर्मनिर्पेक्ष-सेक्युलर-संविधानिक ब्रिटिश-इंडो इण्डियन द्वारा संचालित व प्रसारित कियें गये हैं। वर्तमान मीडिया संस्थानो ने इन चक्रवातों का नाम
03 अगस्त 2019
26 जुलाई 2019
बैंकों का राष्ट्रीयकरण 19 जुलाई 1969 को हुआ जो उस वक़्त की एक धमाकेदार खबर थी. बैंक धन्ना सेठों के थे और सेठ लोग राजनैतिक पार्टियों को चंदा देते थे. अब भी देते हैं. ऐसी स्थिति में सरमायेदारों से पंगा लेना आसान नहीं था. फिर भी तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने साहसी कद
26 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
Pratlipi एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां खुले विचारों से आप कुछ भी लिख सकते हैं। ये एक ऑनलाइन वेबसाइट है जहां पर आप किसी भी विषय पर लिखकर खुद पब्लिश कर सकते हैं। इसका मुख्यालय बैंगलुरू में है और इस वेबसाइट पर आ
31 जुलाई 2019
07 अगस्त 2019
मनुष्य के जीवन में देशी गाय माता का बड़ा महत्वपूर्ण योगदान रहा है । गाय माता के दूध-दही-घी-मूत्र-गोबर से बने पंचगव्य से भयंकर बीमारियां भी ठीक हो जाती है, गाय के अंदर 33 करोड़ देवता का वास होता है, तभी तो भगवान श्री कृष्ण भी स्वयं गाय चराते थे, यहाँ तक बताया गया है कि गाय
07 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
समस्या ये है supreme court रामचरितमानस या अनन्य रामायणों के साक्ष्यों को प्रमाण नहीं मानती वही supreme कोर्ट २०१५ में जब बकरा-ईद की सुनवायी में कहती है कि ये रीति है जो हज़ार साल से चली आ रही है !जहाँ रामसेतु को congress सरकार ने ख़ुद court में कहा ऐसी कोई चीज़ है ही नहीं सेक्युलर लिबरल गैंग ने भी क
13 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 जुलाई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x