गौरक्षक गोपाल - हत्या या बलिदान ? और कितने गोपालों की आहुतिओं के उपरांत जागोगे ! १३५० वर्षों से वेदिकाएँ ज्वलित हैं !

03 अगस्त 2019   |   भरत का भारत   (461 बार पढ़ा जा चुका है)

गौरक्षक गोपाल  - हत्या या बलिदान ? और कितने गोपालों की आहुतिओं के उपरांत जागोगे ! १३५० वर्षों से वेदिकाएँ ज्वलित हैं !

बीतें कुछ महीनों में देश की समरसिता व गंगा-जमुना तहज़ीव में कुछ चक्रवात उपस्तिथ हुए हैं । ये चक्रवात भिन्न-भिन्न छेत्र के महान धर्मनिर्पेक्ष-सेक्युलर-संविधानिक ब्रिटिश-इंडो इण्डियन द्वारा संचालित व प्रसारित कियें गये हैं। वर्तमान मीडिया संस्थानो ने इन चक्रवातों का नामकरण शहरी वैचारिक नक्सलबादी असहिष्णुता नामक समूह के पदचिन्हों के साथ पदित हो #मॉबलिंचिंग आविष्करित किया ।


विदेशी न्यूज़ रूमो ने भी भारत विरोधी चले आ रहे सहस्त्र सताब्दियों पुराने आन्दोंलन को मॉबलिंचिंग से सम्पूर्ण विश्व में मिथ्यरोपित किया । १३५० वर्षों का इतिहास स्वयं आपको अनुभवित करा देगा कि बहुसंख्यक-अल्पसंख्यक का मुद्दा अनैतिक घृणित कुत्सित अकल्पनीय हैं ।


गौ अन्दोंलनों के मुग़ल-क़ालीन, ब्रिटिश ईस्टइण्डिया से ब्रिटिश साम्राज्य तक अनेको जन-क्रान्तियों का वर्णन आप को प्राप्त हो जाएगा यहाँ पर दिलचस्प बात ये है ,1947 से 1970 तक चलें गौ
अन्दोंलनों के बारे में ना कहीं चर्चा हुई ना ही कभी यह मुद्दा राष्ट्रीय मंच तक अपनी उपस्तिथि दर्ज करा पाया । गीता प्रेस का गौ सेवा अंक पढक़र आप गौ माता से जुड़ी क्रांति का अनुसरण कर सकते हैं ।


गोपाल की जीवात्मा जब अपना पंचभौतिक
शरीर छोड़ कर अपनी विधवा पत्नी,अपनी मासूम भोली-भालीं बेटियों को, व अपने बूढ़े माँ-पिता को देखतीं होगी, तो पहले तो गौ रक्षा में अर्पण अपने वालिदान पर गर्व कर सोचती होगी ईश्वर मेरे परिवार का पालन-पोषण करेगा, मेरे परिचित व अपरिचित हिंन्दु वंधु-वांधव मेरे त्याग समर्पण का इतना सम्मान तो करेंगे ही कि मेरे परिवार को कभी मेरे ना होने का एहसास ना हो !

कहीं ना कहीं राष्ट्रवादी पार्टी की सरकार से भी उसे हमेशा उम्मीद रही होगी । परंतु गौ-तस्करों द्वारा शहीद हो कर जब उसने अपनी नयी सूक्ष्म योनि में प्रवेश कर यथार्थ घटित हों रही परिस्तिथियों का अवलोकन व मूल्याँकन किया होगा तब उसे अपने आज तक किए गये सारे राष्ट्र-कार्यों पर एक रोष कुंठित भाव के समक्ष निम्न प्रश्नो को टीकाकणित होते पाया होगा ।


प्रश्न- क्या गौ-रक्षा व गौ-रक्षक संविधान के विरुध्य हैं ?

प्रश्न- क्या हिंन्दु समाज के लिए गौ-वंश कोई श्राप हैं ?

प्रश्न- हत्यारों का मानवाधिकार है, रक्षकों का उत्पात है ?

प्रश्न- क्या भारतीय सभ्यता का जीवित अस्तित्व बचा है ?

प्रश्न- क्या सत्ता में उपाधित सरकार की राज्यनीति है ?

प्रश्न- क्या मेरा त्याग, वालिदान निर्रथक है ?

प्रश्न- क्या कलियुग का सारा प्रभाव इण्डिया में व्याप्त है ?

प्रश्न- मेरे परिवार को कोई अपना भविष्य जीवित भी है ?

प्रश्न- गौ-वंश का पतन हमारी संस्कृति का नवीनीकरण है ?

प्रश्न- गौ हत्या पर राष्ट्रीय गौ क़ानून कभी आयेगा ?

प्रश्न- गौ तस्कर अपराधी क्यों नहीं ?

प्रश्न- क्या मैं मॉबलिंचिंग का शिकार नहीं ?

प्रश्न- क्या हिंन्दु 1350 सालों में भी जीवांन्त नहीं हुए ?



इससे अत्यधिक प्रश्न पूछ कर हम गोपाल की जीवात्मा को दुःखित नहीं करना चाहते । हरियाणा में अनेको बार गौ-रक्षा समिति के साथ मिलकर गौ तस्करों से गौ-वंश को बचाया और पुलिस के समक्ष गौ-तस्करों का भांण्डा समय समय पर सूचना प्राप्त होने पर फोड़ते रहते थे । सोमवार दिनांक 29 अगस्त 2019 को एक फ़ोन कॉल पर गौ-वध व गौ-तस्करी की सूचना प्राप्त होती है, गोपाल बिना एक क्षण व्यर्थ किये बताई जगह पर निकल गया, अपने समिति के सदस्यों को भी सूचित कर दिया परंतु वहाँ गोपाल अपनी मोटरसाइकिल से पीछा कर रहा था, गौ-तस्कर अभी तक का सारा हिसाब चुकता करने के लिए उसे गोलियों से छलनी कर देते हैं ।बात यहाँ ऐसी एक एक-दो घटनाओं की नहीं अपितु ऐसे कितने गोपाल गौ-रक्षा के लिए अपने प्राणो की आहुति देते आएँ है व जब तक कृष्ण की वाँसुरी ध्वनित रहेगी तब तक देतें रहेंगे ।


यह अंत नहीं आरंम्भ है, सोचिए आज भी हम अपने आदर्शों
की रक्षा नहीं कर पा रहें ! समस्या कुछ ना करने से अधिक कुछ ना होने की है ! भावनाओं का हृाँस्य या कहें २१st centuary के मॉडर्न भारतीय जो भारतीय सभ्यता-संस्कृति के गुणो से स्वयं को आज़ादी के साथ स्वतंन्त्र कर चुकें हैं ।


क़लम या पंक्तियाँ नहीं दर्शा सकतीं ,

उन बलिदानित ईशों की पिपाशा नहीं

अब और नहीं दबा़ सकतीं ,

जाति-धर्म मज़हब के ताजों को ना पहनाओं,

कहीं जाग गये भरत वीर तो भारत पुनः बन जायेगा

सारा सेक्युलरबाद धर्मनिर्पेक्षता का राग

क़ब्रों तक ही रह जायेगा,

पर कैसें जागेंगे भरत-पुत्र ?

इसका संवाँद आप से ही आयेगा !
























































गौरक्षक गोपाल  - हत्या या बलिदान ? और कितने गोपालों की आहुतिओं के उपरांत जागोगे ! १३५० वर्षों से वेदिकाएँ ज्वलित हैं !

अगला लेख: क्या मॉब लिंचिंग घटनाएं सिर्फ दलित ,मुस्लिम वर्ग के संदर्भ में प्रयुक्त होती हैं ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अगस्त 2019
आप सभी भारतवासिओँ को तुलसी दिवस व जयंती के हार्दिक अवसर पर बधाई , हो सके तो कभी रामचरितमानस का पाठ भी करके देख ले क्योंकि चाहे राम हो चाहे तुलसीदास हम हिंदुओ के पास हर विषय के लिए वक़्त है पर अध्यायन के लिए नहीं ,मृत्यु के बाद पछताने से बेहतर जीवित रह कर समझदारी दिखान
07 अगस्त 2019
27 जुलाई 2019
दो प्रशन सिर्फ़ मेरे पहला क्या हिंदू-मुस्लिम का भेद ख़ुद social-media व news-media द्वारा किया जाता है? कोई क्यों न्याय की भावना से नहीं कहता लड़का मुनासिर है लड़की कीर्ति ? यहीं अगर इसका विरूद्ध प्रकरण होता तो हर जगह बात सुनी जाती ,मुस्लिम समाज व secular-बुध्ह्जीवी c
27 जुलाई 2019
07 अगस्त 2019
हि
शब्दनगरी को कैसे और बेहतर व ज़्यादा से ज़्यादा लोगों से जोड़ सकते है ? कैसे एक राष्ट्रीय विख्यात मंच बना सकते है कि जैसे २०१५ में thequint thewire बने और आज देश की प्रमुख website media news में एक हैं वैसे ही हिंदी लेखन में कैसे हम इसे उस स्तर पे ले जा सकते है ?
07 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
समस्या ये है supreme court रामचरितमानस या अनन्य रामायणों के साक्ष्यों को प्रमाण नहीं मानती वही supreme कोर्ट २०१५ में जब बकरा-ईद की सुनवायी में कहती है कि ये रीति है जो हज़ार साल से चली आ रही है !जहाँ रामसेतु को congress सरकार ने ख़ुद court में कहा ऐसी कोई चीज़ है ही नहीं सेक्युलर लिबरल गैंग ने भी क
13 अगस्त 2019
11 अगस्त 2019
वह केवल 18 वर्ष का था, जब उसे 1908 में बिहार के मुजफ्फरपुर में एक हमले और तीन अंग्रेजों की हत्या के लिए मौत की सजा सुनाई गई थी। एक सदी बीत चुकी है, फिर भी खुदीराम बोस का नाम परछाइयों में है।भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सबसे युवा क्रांत
11 अगस्त 2019
16 अगस्त 2019
राजस्थान के हरीश जाटव मॉब लिचिंग मामले में हरीश के पिता रत्तीराम जाटव ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली है. परिजनों का आरोप है कि मामले में न्याय नहीं मिलने के कारण रत्तीराम जाटव ने ये कदम उठाया. दरअसल राजस्थान के अलवर के भिवाड़ी के झिवाना गांव निवासी हरीश जाटव की मॉब लीचिंग में मौत हो गई थी. घटना 17 जुला
16 अगस्त 2019
16 अगस्त 2019
राजस्थान के हरीश जाटव मॉब लिचिंग मामले में हरीश के पिता रत्तीराम जाटव ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली है. परिजनों का आरोप है कि मामले में न्याय नहीं मिलने के कारण रत्तीराम जाटव ने ये कदम उठाया. दरअसल राजस्थान के अलवर के भिवाड़ी के झिवाना गांव निवासी हरीश जाटव की मॉब लीचिंग में मौत हो गई थी. घटना 17 जुला
16 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
समस्या ये है supreme court रामचरितमानस या अनन्य रामायणों के साक्ष्यों को प्रमाण नहीं मानती वही supreme कोर्ट २०१५ में जब बकरा-ईद की सुनवायी में कहती है कि ये रीति है जो हज़ार साल से चली आ रही है !जहाँ रामसेतु को congress सरकार ने ख़ुद court में कहा ऐसी कोई चीज़ है ही नहीं सेक्युलर लिबरल गैंग ने भी क
13 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
मनुष्य के जीवन में देशी गाय माता का बड़ा महत्वपूर्ण योगदान रहा है । गाय माता के दूध-दही-घी-मूत्र-गोबर से बने पंचगव्य से भयंकर बीमारियां भी ठीक हो जाती है, गाय के अंदर 33 करोड़ देवता का वास होता है, तभी तो भगवान श्री कृष्ण भी स्वयं गाय चराते थे, यहाँ तक बताया गया है कि गाय
07 अगस्त 2019
11 अगस्त 2019
मृत्यु अंतिम सत्य तो अन्त्येष्टि जीवन का आखिरी संस्कार है। इसके लिए लकड़ी की चिता पर अंतिम संस्कार की मान्यता अब पर्यावरण के लिए नुकसानदेह साबित होने लगी है और हजारों की संख्या में पेड़ कटने से जीवन के लिए खतरा दिन-ओ-दिन बढ़ता जा रहा है। हालांकि विद्युत शव दाह गृह का विकल्प दिया गया लेकिन यह विकल्प
11 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x