मेरा दोस्त

04 अगस्त 2019   |  कपिल सिंह   (415 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरा दोस्त

जीवन के बाइस वर्षो तक मुझे खास दोस्त और दोस्ती का अर्थ भी नहीं पता था या फिर ऐसे कहूँ कि मुझे इनकी सिर्फ कागज़ी जानकारी थी और अपने आस पास घट रहे दोस्ती के उदाहरण देख लिया करता था। इतने वर्षो के बाद मेरा मिलान एक बेहद साधारण व्यक्तित्व के इंसान से तब हुआ जब मैं बहुत घबराया हुआ था। मेरे चाचाजी अस्पताल में भर्ती थे और उन्हें ब्लड की बहुत जरुरत थी। कही से भी व्यवस्था करना बहुत मुश्किल हो रहा था। ऑफिस से आये २-३ कॉलीग से मैंने ब्लड डोनेट के लिए आग्रह किया लेकिन सब ने किसी ना किसी बहाने से मना कर दिया। उनके साथ एक चश्मे वाला मोटा सा लड़का था जिसे मैंने पहली बार देखा था जो मेरे ऑफिस के कॉलीगस के साथ ही आया था, उसने मेरे पास आकर कहा "चिंता मत करो, मैं दे दूंगा ब्लड". मेरी साँसों में सांस आयी कि अब ब्लड की व्यवस्था हो पाएगी। उसने ब्लड दिया और मेरे चाचा जी स्वस्थ होकर घर आ सके। उस दिन मैं तो उसका नाम भी नहीं पूछ पाया था। जैसे ही मैं ऑफिस गया तो मैंने अपने कॉलीग से उसका नाम जानना चाहा तो मैं ये सुन कर स्तब्ध रहा गया कि उसने मेरे चाचाजी को ब्लड देने से मात्र ३ दिन पहले भी किसी को ब्लड डोनेट किया था। अब मेरे मन में उसके लिए सम्मान और बढ़ गया। मैं उस से मिला और धीरे-धीरे हम बहुत अच्छे दोस्त बन गए।

आज पूरे 15 वर्ष हो गए हमारी दोस्ती हुए। हमारा रिश्ता एक बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड के रिश्ते से कम नहीं है। अभी भी हमारी बहस हो जाती है और लड़ाई हो जाती है तो 4-4 दिनों तक हम बात नहीं करते। लड़ाई होने पर सबसे पहले फ़ोन करके मनाने का जिम्मा हमेशा उसका है। उसकी ये शिकायत मुझसे हमेशा रहती है कि मैं उसे पहले फ़ोन नहीं करता। लेकिन मैंने उसे कभी बताया नहीं कि मैं भी बेसब्री से उसके फ़ोन आने का इंतज़ार करता हूँ।

छोटी सी चोट से लेकर बड़ी से बड़ी पारिवारिक समस्याओं का भी साझा मैं उसके साथ करता हूँ। आनुवंशिक रूप से तो मेरे कोई भाई नहीं है लेकिन वो मेरे लिए भाई से कम नहीं है। एक जीवनसाथी की तरह वो मेरे जीवन का महत्त्वपूर्ण अंश बन गया है। उसने मेरे लिए हर तरह की भूमिका निभायी है, बड़े भाई की तरह हर क्षेत्र में सहायता की है, पिता जी की तरह जीवन के पाठ पढ़ाये है, माँ की तरह देख भाल भी की है। मैं कृतज्ञ हूँ भगवान का (और जाने अनजाने मेरे चाचा जी का भी) कि मैं "रवि" से मिल पाया।
ये लेख मैंने दोस्ती का वर्णन करने के लिए नहीं लिखा अपितु मेरे दोस्त को समर्पित किया है। ये दोस्ती और आप सबका आशीर्वाद सदैव बना रहे ।

धन्यवाद

अगला लेख: टाइम क्या हुआ है भाई



रेणु
05 अगस्त 2019

प्रिय कपिल , आपका संस्मरण बहुत ही भावुक कर देने वाला है । नमन करती हूँ इस नि स्वार्थ मित्रता को। 🙏🙏🙏🙏🙏और इसका रंग कभी फीका ना पड़े, ये दुआ करती हूँ। मेरी हार्दिक शुभकामनायें आप दोनों के लिए 💐💐💐💐💐💐

कपिल सिंह
05 अगस्त 2019

बहुत बहुत धन्यवाद मैम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जुलाई 2019
रात के बाद फिर रात हुई... ना बादल गरजे न बरसात हुई.. बंजर भूमि फिर हताश हुई.. शिकायत करती हुई आसमान को.. संवेग के साथ फिर निराश हुई.. कितनी रात बीत गयी.. पर सुबह ना हुई.. कितनी आस टूट गयी.. पर सुबह ना हुई.. ना जला चूल्हा, ना रोटी बनी.. प्यास भी थक कर चुपचाप हुई.. निराशा के धरातल पर ही थी आशा.. की एक
26 जुलाई 2019
14 अगस्त 2019
एक वर्ष और स्वतंत्रता का.. आकर चला गया.. महँगाई..भ्रष्टाचार और अनगिनत रेप के बीच, इस स्वतंत्र धरती के.. खुले आकाश में.. दम घुँट रहा है.. बस शरीर जीवित है, कोई सरकार पर आरोप लगा रहा है.. सरकार विपक्ष पर.. विपक्ष सरकार की टांग खींच रहा है.. और जनता भूखी मर रही है, जिन वस्तुओं की जरुरत नहीं है.. वो सस्
14 अगस्त 2019
06 अगस्त 2019
बस कुछ ही दूर थी सफलता, दिखाई दे रही थी स्पष्ट, मेरा प्रिय मित्र मन, प्रफुल्लित था, तेज़ प्रकाश में, दृश्य मनोरम था, श्वास अपनी गति से चल रहा था, क्षणिक कुछ हलचल हुई, पैर डगमगाया, सामने अँधेरा छा गया, सँभलने की कोशिश की, किन्तु गिरने से ना रोक पाया अपने आप को, ना जाने कौन था, जो धकेल कर आगे चला गया,
06 अगस्त 2019
24 जुलाई 2019
मेरे प्यारे दोस्तों, या यूँ कहूं कि मेरे दसवीं , बारहवीं और प्रतियोगी परीक्षा के अचयनित दोस्तों। ये लेख विर्निदिष्टतः आपके सब के लिए ही लिख रहा हूँ जो किसी परीक्षा में विफल हो जाने पर आत्महत्या जैसे बेतुके विचारो को अपने मष्तिष्क द्वारा आमंत्रित करते है। और क
24 जुलाई 2019
29 जुलाई 2019
विजय सोपा नाही
29 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
अभी कल की ही बात है, मैं गाड़ी पार्क करके निकला ही था बाहर कि एक महिला तुरंत मेरे पास आयी और अंग्रेजी में कुछ फुसफुसाई। मैं सकपका गया, शुरू के 5 -7 क्षण तो मैं समझ ही नहीं पाया कि इन्हे समस्या क्या है। फिर पता चला कि वो यहाँ मुझसे पहले गाड़ी खड़ी करने वाली थी और मैंने उसकी जगह अपनी गाड़ी लगा दी। अंग्रेज
31 जुलाई 2019
22 जुलाई 2019
मैं अतिउत्साहित गंतव्य से कुछ ही दूर था, वहां पहुचने की ख़ुशी और जीत की कल्पना में मग्न था, सहस्त्र योजनाए और अनगिनत इच्छाओ की एक लम्बी सूची का निर्माण कर चुका था, सीमित गति और असीमित आकांक्षाओं के साथ निरंतर चल रहा था, इतने में समय आया किन्तु उसने गलत समय बताया, बंद हो गया अचानक सब कुछ जो कुछ समय पह
22 जुलाई 2019
01 अगस्त 2019
समय के प्याले में,जीवन परोसा जा रहा है,अतिथियों का जमघट लगा है,रौशनी झिलमिला रही है,अरे, बुरी किस्मत जी भी आयी है,लगता है, कुछ बिन बुलाये,अतिथि भी आये है,आये नहीं, जिनकी प्रतीक्षा है,स्वयं प्यालो को,विशेष अतिथि के रूप में,कई लोगो का निमंत्रण था,रात के दस बज चुके है,आया नहीं अभी कोई उनमे से,बाकि अतिथ
01 अगस्त 2019
26 जुलाई 2019
बैंकों का राष्ट्रीयकरण 19 जुलाई 1969 को हुआ जो उस वक़्त की एक धमाकेदार खबर थी. बैंक धन्ना सेठों के थे और सेठ लोग राजनैतिक पार्टियों को चंदा देते थे. अब भी देते हैं. ऐसी स्थिति में सरमायेदारों से पंगा लेना आसान नहीं था. फिर भी तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने साहसी कद
26 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
05 अगस्त 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x