नाग पंचमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 अगस्त 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (435 बार पढ़ा जा चुका है)

नाग पंचमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म आदिकाल से ही अपनी दिव्यता के लिए जाना जाता है | सनातन का सिद्धांत है कि ईश्वर सर्वत्र समान रूप से व्याप्त है | इसी को प्रतिपादित करते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिखा कि :- "ईश्वर सर्व भूतमय अहई" इसी सिद्धांत को आगे बढ़ाते हुए हमारे महापुरुषों में सनातन के सिद्धांत बनाये थे | सनातन की मान्यता रही है कि मनुष्य एवं प्रकृति एक - दूसरे के अभिन्न अंग हैं | इसी कारण पशु -/पक्षी , वृक्ष - वनस्पति आदि के साथ आत्मीय संबंध जोड़ने का प्रयास किया है | हमारे यहां यदि गाय को माता मानते हुए पूजा जाता है तो "वृषभोत्सव" के दिन बैल की भी पूजा होती है | कोयल के लिए "कोकिल व्रत" किया जाता है तो "बट सावित्री" के नाम पर बरगद को भी पूजा जाता है | इसी क्रम में नाग पंचमी के दिल नागों की भी पूजा की जाती है |\जब हम नाग का पूजन करते हैं तो सनातन संस्कृति विशिष्टता की पराकाष्ठा पर पहुंच जाती है | नागपंचमी अर्थात श्रावण शुक्ल पंचमी के दिन अष्टनागोंं की पूजा करने का निर्देश "भविष्योत्तर पुराण" में देते हुए वेदव्यास जी लिखते हैं कि :--- इस दिन अपने घर पर अक्षत पुञ्जों या धरती पर नागों की आकृतियां बनाकर उनका पूजन करके निम्न मंत्र का पाठ करना चाहिए :--- "वासुकिः तक्षकश्चैव कालियो मणिभद्रकः ! ऐरावतो धृतराष्ट्रः कार्कोटकधनंजयौ !! एतेऽभयं प्रयच्छन्ति प्राणिनां प्राणजीविनाम् !! अर्थात :-- वासुकि, तक्षक, कालिया, मणिभद्रक, ऐरावत, धृतराष्ट्र, कार्कोटक और धनंजय - ये प्राणियों को अभय प्रदान करते हैं | आज के दिन गाँवों में सावन की मनोहारी छटा के मध्य पेड़ों की डालियों में झूले पड़ जाते हैं तो अनेक गाँव - कस्बों में शारीरिक बल को अक्षुण्ण बनाये रखने के लिए कुश्ती , दंगल एवं कबड्डी जैसे खेलों का आयोजन किया भी किया जाता रहा है | घर - घर में अनेकों प्रकार के सुस्वादु भोजन (पूड़ी - कचौड़ी - गुझिया आदि) बनते हैं | लोग एक दूसरे से मिलकर नाग पंचमी की बधाईयां भी अर्पित करते हैं जिससे किसी भी कारण हृदय में एक -दूसरे के प्रति जमी हुई नकारात्मकता भी समाप्त हो जाती है |*


*आज की स्थिति यह है कि लोग जैसे - जैसे आधुनिक होते जा रहे हैं वैसे - वैसे अपनी संस्कृति एवं पर्वोत्सवों की धारणा एवं प्रासंगिकता को भी भूलते जा रहे हैं | नाग पंचमी क्यों मनाई जाती है ? यह शायद ही सबको पता हो ! इनके विषय में न जानने का कारण यही है कि आज के लोग भेड़चाल में चले जा रहे हैं उन्होंने कभी जानने का प्रयास ही नहीं किया | आज अनेक आधुनिक बुद्धिजीवी यह तर्क देते हैं कि :-- गाय, बैल, कोयल इत्यादि का पूजन करके उनके साथ आत्मीयता साधने का हम प्रयत्न करते हैं , क्योंकि वे उपयोगी हैं। लेकिन नाग हमारे किस उपयोग में आता है, उल्टे यदि काटे तो जान लिए बिना न रहे | हम सब उससे डरते हैं | नाग पूजा क्यों की जाय ??? ऐसे सभी बुद्धिजीवियों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही कहना चाहूँगा कि :- आदिकाल से भारत देश कृषिप्रधान देश था और है | ( नाग) सांप खेतों का रक्षण करता है, इसलिए उसे क्षेत्रपाल कहते हैं | जीव-जंतु, चूहे आदि जो फसल को नुकसान करने वाले तत्व हैं, उनका नाश करके सांप हमारे खेतों को हराभरा रखता है | साँप हमें कई मूक संदेश भी देता है। साँप के गुण देखने की हमारे पास गुणग्राही और शुभग्राही दृष्टि होनी चाहिए | मनुष्य को सदैव सकारात्मकता ग्रहण करनी चाहिए | आज के दिन ग्रामीणांचलों में "गुड़िया" भी पीटने की रस्म मनाई जाती है | बहनें गुड़िया बनाकर , सजाकर चौराहों पर ले जाकर डालती हैं और भाई लोग उसे पीटते हैं | सनातन के पर्व - त्यौहारों में अनेक कथायें एवं उन कथाओं में तथ्यात्मत प्रासंगिकता छुपी हुई है आवश्यकता है उसको जानने एवं समझने की |*


*सनातन धर्म ने समस्त विधान मानव जाति के कल्याण के लिए ही समस्त विधान बनाये हैं परंतु आज हम अज्ञानता एवं आधुनिक चकाचौंध में आज उन विधानों के रहस्य को समझ नहीं पाते हैं |*

अगला लेख: वर्तमान में रखें भविष्य की नींव :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जुलाई 2019
भगवान श्री शिवशंकर की अराधना में महामृत्युंजय जाप एककाफी पवित्र मंत्र माना जाता है जिसे हमारे बुजुर्गों द्वारा प्राण रक्षक मंत्रकहा जाता है। इस मंत्र की उत्पत्ति सबसे पहले महाऋषि मार्कंडय जी ने की। Mahmrityunjay Mantra का जाप करनेसे शिव जी को प्रसन्न करने की शक्ति मिलती है। Mahamrityunjay Mantra in
23 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
*आदिकाल से मनुष्य का सम्बन्ध प्रकृति एवं पर्यावरण से रहा है | घने जंगलों में प्रकृति की गोद में ही बैठकर ऋषियों ने तपस्या करके लोककल्याणक वरदान प्राप्त किये तो इसी प्रकृति की गोद में बैठकर हमारे पूर्वज महापुरुषों ने मनुष्य को सरल एवं सुगम जीवन जीने का मार्ग प्रशस्त करने वाले ग्रंथों की रचना की | प्र
26 जुलाई 2019
18 अगस्त 2019
आज अगर कोई कहे कि घर में पूजा है, तो ये माना जा सकता है कि “सत्यनारायण कथा” होने वाली है। ऐसा हमेशा से नहीं था। दो सौ साल पहले के दौर में घरों में होने वाली पूजा में सत्यनारायण कथा सुनाया जाना उतना आम नहीं था। हरि विनायक ने कभी 1890 के आस-पास स्कन्द पुराण में मौजूद इस संस्कृत कहानी का जिस रूप में अन
18 अगस्त 2019
30 जुलाई 2019
*मानव जीवन मे धर्म और अधर्म का बहुत बड़ा महत्व है | धर्म का पालन करके मनुष्य समाज में सम्मान तो प्राप्त करता ही है अन्त में वह उत्तम गति को भी प्राप्त हो जाता है वहीं अधार्मिक मनुष्य समाज में उपेक्षित रहकर अधोगति को प्राप्त होता है | वैसे तो धर्म करने के अनेक साधन हैं परंतु धर्म के मुख्यत: चार प्रका
30 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
*परमात्मा ने पंचतत्त्वों के संयोग से सुंदर प्रकृति की रचना की | धरती , आकाश , जल , अग्नि एवं वायु को मिलाकर सुंदर प्रकृति का निर्माण किया फिर इन्हीं पंचतत्त्वों को मिलाकर मनुष्य की रचना की इसीलिए मनुष्य को प्रकृति का अभिन्न अंग कहा गया है | धरती पर दिखने वाली प्रकृति एवं पर्यावरण वैसे तो बहुत सुंदर
26 जुलाई 2019
22 जुलाई 2019
*इस असार संसार का वर्णन महापुरुषों , लेखकों एवं कवियों ने अपनी दिव्य लेखनी से दिव्यात्मक भाव देकर किया है | इन महान आत्माओं की रचनाओं में भिन्नता एवं विरोधाभास भी देखने को मिलता है | यदि सूक्ष्म दृष्टि से देखा जाय तो अनेक विरोधों के बाद भी इस असार संसार का सार लगभग सबने एक ही बताया है वह है :- प्रे
22 जुलाई 2019
02 अगस्त 2019
*संसार का अद्भुत एवं प्राचीन सभ्यताओं का उदय सनातन धर्म के अन्तर्गत ही हुआ | सनातन धर्म दिव्य एवं अद्भुत इसलिए भी कहा जाता है क्योंकि इसकी प्रत्येक मान्यता को यदि सूक्ष्मदृष्टि से देखा जाता है तो उसके मूल में वैज्ञानिकता अवश्य समाहित होती है | सनातन धर्म में वैसे तो प्रत्येक वृद्धा स्त्री को माता कह
02 अगस्त 2019
27 जुलाई 2019
*सृष्टि की संकल्पना , उन्नति एवं विकास का आधार आदिकाल से नारी ही रही है | सृष्टि का आधार होने के कारण नारी को विधाता की अद्वितीय रचना कहा गया है | नारी समाज, संस्कृति और साहित्य का महत्वपूर्ण अंग है | सृष्टि के आरंभ से ही सृष्टि के निमार्ण और संचालन में नारी की अहम भूमिका रही है | मानव जाति की सभ्य
27 जुलाई 2019
25 जुलाई 2019
हरिद्वार में कांवड़ियों का बड़ा सैलाब:-हर साल की तरह इस बार भी श्रावण महिने में भगवान शिव शंकर, महादेव के नाम पर हर-हर महादेव, बोल बम, बम-बम और जय शिव शंकर के जयकारों से पूरे देश में शिव जी की भक्ति का मस्त माहौल बना हुआ है। इस महिने श्
25 जुलाई 2019
23 जुलाई 2019
*आदिकाल से धरा धाम पर नर और नारी सृष्टि के विकास में कदम से कदम मिलाकर एक साथ चलें | स्त्री एवं पुरुष को समान रूप से अधिकार प्राप्त था | यदि इतिहास का अवलोकन किया जाय तो नारी के ऊपर कभी भी अनावश्यक दबाव या कोई प्रतिबंध लगता हुआ नहीं प्रतीत होता है | प्राचीन समय में नारी का जितना सम्मान हमारे देश भार
23 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
*यह समस्त संसार मायामय है | संसार में अवतीर्ण जड़ चेतन एवं जितनी भी सृष्टि है सब माया ही है | माया को भगवान की शक्ति एवं दासी कहा गया है | जिस प्रकार एक सिक्के के दो पहलू होते हैं एक ओर देखो तो दूसरा अदृश्य हो जाता है ठीक उसी प्रकार ब्रह्म एवं माया सिक्के के दो पहलू हैं जब मनुष्य माया में लिप्त हो
31 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
हिंदू धर्म में करोड़ों देवी-देवता हैं लेकिन कुछ को सर्वोच्च माना जाता है। जैसे देवों में देव महादेव शंकर भगवान होते हैं वैसे ही सभी देवियों में दुर्गा मां को उच्च स्थान दिया गया है। सीता, पार्वती, लक्ष्मी, काली सभी इन्ही के अवतार हैं और इन्हें हिंदू धर्म में सर्वोच्च भगवान माना जाता है जिनके आगे ईश्
26 जुलाई 2019
03 अगस्त 2019
*इस संसार में कर्म को ही प्रधान माना गया है | कर्म तीन प्रकार के होते हैं-संचित,प्रारब्ध और क्रियमाण | संचित का अर्थ है-संपूर्ण,कुलयोग | अर्थात मात्र इस जीवन के ही नहीं अपितु पूर्वजन्मों के सभी कर्म जो आपने उन जन्मों में किये हैं | आपने इन कर्मों को एकत्र करके अपने खाते में डाल लिया है | ‘प्रारब्ध’
03 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x