धारा 370 हटने की ख़ुशी चली गोलियाँ एक शहीद कुछ घायल कहाँ गया सेक्युलर इंडिया ? ये पूरे देश की लिंचिंग है |

10 अगस्त 2019   |   भरत का भारत   (454 बार पढ़ा जा चुका है)

धारा 370 हटने की ख़ुशी चली गोलियाँ एक शहीद कुछ घायल कहाँ गया सेक्युलर इंडिया ? ये पूरे देश की लिंचिंग है |

26 वर्षीय ऋषिराज जिंदल की सोमवार 6 अगस्त रात राजस्थान में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जबकि वह और उनके दोस्त जन्मदिन मना रहे थे और धारा 370 को समाप्त कर दिया गया था, जिसकी घोषणा उस दिन पहले ही सरकार ने कर दी थी।

इस मामले के प्रमुख आरोपी इमरान और उसके साथी मंसूर (उर्फ मंजला) को पुलिस ने बुधवार देर रात मध्य प्रदेश के बड़ोद बस स्टैंड से गिरफ्तार किया। 12 अन्य आरोपी - इमरान के 2 भाई, खालिद और अनवर, और 10 अज्ञात व्यक्ति - अभी भी फरार हैं।

रिपोर्टों और प्रत्यक्षदर्शी गवाही के अनुसार, ऋषिराज, जो एक स्थानीय बजरंग दल के नेता भी हैं, झालावाड़ जिले के पिरवा शहर के बाहरी इलाके में ग्रीन वैली रिसोर्ट के बाहर जश्न मना रहे 15-20 दोस्तों और रिश्तेदारों के एक समूह का हिस्सा थे। 10.30 बजे के आसपास, इमरान और मंसूर मोटरसाइकिल पर आए और कथित तौर पर जश्न मनाते हुए कहा कि 'यह पिरवा है, कश्मीर नहीं।' करीब 10 मिनट बाद, इमरान, उनके 2 भाई खालिद और अनवर, मंसूर और 10 अन्य लोग लौट आए, और ऋषिराज के सीने पर गोलियां चला दीं। समूह के अन्य लोगों को भी अभियुक्तों द्वारा निकाल दिया गया था, लेकिन एक संकीर्ण बच गया था।

ऋषिराज को अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। जैसे ही उनकी मौत की खबर फैली, कई लोग अस्पताल और पिरावा पुलिस स्टेशन के सामने विरोध करने के लिए बाहर गए और आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग करने लगे। अगले दिन, जिले भर में विरोध प्रदर्शन देखा गया।पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, इमरान को एक हत्या के मामले में अपनी सजा पूरी करने के बाद इस साल की शुरुआत में न्यायिक कारावास से रिहा किया गया था। पुलिस ने धारा 370 के कोण को खत्म कर दिया है और दावा किया है कि विवाद तब उत्पन्न हुआ जब पीड़ितों ने मोटरसाइकिल चलाने वालों को गाली दी, जो अभी गुजर रहे थे, उन्हें बंदूक और खुली आग के साथ वापस आने के लिए गुस्सा रहा था।


अगला लेख: हिंदी लेखन का विस्तार ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जुलाई 2019
दो प्रशन सिर्फ़ मेरे पहला क्या हिंदू-मुस्लिम का भेद ख़ुद social-media व news-media द्वारा किया जाता है? कोई क्यों न्याय की भावना से नहीं कहता लड़का मुनासिर है लड़की कीर्ति ? यहीं अगर इसका विरूद्ध प्रकरण होता तो हर जगह बात सुनी जाती ,मुस्लिम समाज व secular-बुध्ह्जीवी c
27 जुलाई 2019
17 अगस्त 2019
15 अगस्त 1946 में मुस्लिम लीग के द्वारा ‘डायरेक्ट एक्शन डे’ की घोषणा कर दी गई. मुस्लिम लीग के इस एलान ने 16 अगस्त 1946 को कलकत्ता में भीषण दंगे का रूप ले लिया. हर तरफ खून की होली खेली जाने लगी. देखते ही देखते कलकत्ता का सांप्रदायिक दंगा बंगाल और बिहार की सीमा पर भी शुरू हो गया.इस सांप्रदायिक दंगे को
17 अगस्त 2019
11 अगस्त 2019
वह केवल 18 वर्ष का था, जब उसे 1908 में बिहार के मुजफ्फरपुर में एक हमले और तीन अंग्रेजों की हत्या के लिए मौत की सजा सुनाई गई थी। एक सदी बीत चुकी है, फिर भी खुदीराम बोस का नाम परछाइयों में है।भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सबसे युवा क्रांत
11 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
समस्या ये है supreme court रामचरितमानस या अनन्य रामायणों के साक्ष्यों को प्रमाण नहीं मानती वही supreme कोर्ट २०१५ में जब बकरा-ईद की सुनवायी में कहती है कि ये रीति है जो हज़ार साल से चली आ रही है !जहाँ रामसेतु को congress सरकार ने ख़ुद court में कहा ऐसी कोई चीज़ है ही नहीं सेक्युलर लिबरल गैंग ने भी क
13 अगस्त 2019
11 अगस्त 2019
मृत्यु अंतिम सत्य तो अन्त्येष्टि जीवन का आखिरी संस्कार है। इसके लिए लकड़ी की चिता पर अंतिम संस्कार की मान्यता अब पर्यावरण के लिए नुकसानदेह साबित होने लगी है और हजारों की संख्या में पेड़ कटने से जीवन के लिए खतरा दिन-ओ-दिन बढ़ता जा रहा है। हालांकि विद्युत शव दाह गृह का विकल्प दिया गया लेकिन यह विकल्प
11 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x