गुलशन कुमार को 16 गोलियां मारने के बाद 10 मिनट तक चीखें सुनता रहा अबू सलेम

12 अगस्त 2019   |  स्नेहा दुबे   (1538 बार पढ़ा जा चुका है)

गुलशन कुमार को 16 गोलियां मारने के बाद 10 मिनट तक चीखें सुनता रहा अबू सलेम

भक्ति गीत की आवाज कहे जाने वाले गुलशन कुमार जो दिखते थे असल जिंदगी में बिल्कुल वैसे थे। उनके जीवन में बहुत सी ऐसी चीजें थीं जो गलत होती थीं लेकिन गुलशन कुमार अपना जीवन प्रभु की भक्ति में लगा चुके थे वे जितना रुपया अपने गानों से कमाते थे उतना ही पूजा-पाठ, भंडारा और जरूरतमंदों की मदद करके उड़ा देते थे। मगर अबु सलेम नाम के गैंगस्टर ने उन्हें कुछ रुपये ना देने पर मौत के घाट उतार दिया और उसे इस बात का कोई मलाल नहीं है। कहा जाता है कि गुलशन कुमार को मरवाने के बाद उनकी चीखें सुनने वाले अबु सलेम को आज भी हिरासत में रखा गया है और सजा मिलने के बाद भी उसे अपनी गलती पर कोई पछतावा नहीं है।


गुलशन कुमार का मर्डर


गुलशन कुमार

कभी जूस की दुकान लगाने वाले गुलशन कुमार ने अपनी मेहनत और लगन से टी-सीरीज एम्पायर खड़ा किया। जूस की दुकान से कैसेट किंग बनना गुलशन कुमार के लिए आसान नहीं था लेकिन उन्होने सच्ची लगन से साबित कर दिया। 5 मई, 1956 को जन्में गुलशन कुमार द्वारा अंडरवर्ल्ड को पैसा नहीं देने पर मौत के घाट उतार दिया गया। बॉलीवुड से लेकर भक्ति की दुनिया में तहलका मचाने वाले गुलशन कुमार को आज भी लोग याद करते हैं। 12 अगस्त, 1997 को ही अबू सलेम ने अब्दुल रॉफ मर्चेंट से उन्हें 16 गोलियां मरवाई थी। गुलशन कुमार के चाहने वालों को आज भी वो बात झकझोर देती है जब उन्हें गोलियों से भून दिया गया था। दिल्ली की पंजाबी परिवार से बिलॉन्ग करने वाले गुलशन कुमार बचपन से ही बड़े सपने देखने लगे थे। गुलशन कुमार ने जूस की दुकान लगाकर पैसे कमाना शुरु किया और उनको बचपन से ही म्यूजिक का बहुत शौक रहा है, इसलिए वे ओरिजनल गानों को खुद की आवाज रिकॉर्ड करके उन्हें कम दामों में बेच देते थे। गुलशन कुमार को जब दिल्ली में तरक्की के आसार नजर नहीं आए तो उन्होंने मुंबई जाने का निर्णय लिया। यहां उन्हें कई सफलता मिली और इस तरक्की के रास्ते में दोस्त के साथ ही उनके दुश्मन भी बनते चले गए।


हुसैन जैदी ने अपनी किताब My name is Abu Salem में लिखा है कि अबू सलेम ने गुलशन कुमार से 10 करोड़ रुपये देने को कहा था और इसे देने से गुलशन कुमार ने मना कर दिया था। गुलशन कुमार ने कहा था अगर 10 करोड़ मुझे देने ही हैं को माका वैष्णों मंदिर में देकर वहां गरीबों के लिए भंडारा करवा दूंगा। 12, 1997 को मुंबई के जीतेश्वर महादेव मंदिर में गुलशन कुमार पूजा करने गए थे। पूजा करके वापस आने पर मंदिर के बाहर की अचानक फायरिंग हुई और 16 गोलिया उनके पार चली गईं। गुलशन कुमार को मारने के बाद शूटर राजा ने फोन 10 से 15 मिनट तक ऑन रखा जिससे अबु सलेम उनकी चीखें सुन सके।


एस हुसैन ने लिखी थी अबु सलेम पर किताब


गुलशन कुमार

एस. हुसैन जैदी नाम के एक लेखक ने अपनी किताब में बताया कि जब गुलशन कुमार के मर्डर के बाद जब एक रिपोर्टर ने अबु सलेम से इसके बारे में पूछा तो इसके जवाब में डॉन ने कहा ये मर्डर लालकृष्ण आडवाणी ने करवाया है उनसे जाकर पूछिए। आपको बता दें लालकृष्ण आडवाणी भाजपा के वरिष्ठ नेता है। गुलशन कुमार की हत्या से उनका पूरा परिवार बिखर गया और बहुत ही कम उम्र में व्यापार की सारी जिम्मेदारी उनके बेटे भूषण कुमार पर आ गई। भूषण ने अपने पिता की मेहनत से बनाए कारोबार को आगे बढ़ाया और आज टी-सीरीज भारत की सबसे बड़ी म्यूजिक कंपनी बन गई है। इस कंपनी के तहत ना जाने कितनी बॉलीवुड फिल्मों के सुपरहिट गाने बने और लोगोंके दिलों में आज भी गुलशन कुमार के लिए प्यार और भावनाएं हैं।

अगला लेख: राहुल गांधी को अपने नाम की वजह से ना सिम मिला ना लोन !



रूचि
11 सितम्बर 2019

राकेश राय! जी मैं भी आपके बातों से सहमति हूँ

राकेश रॉय
12 अगस्त 2019

aaj vi aise 🌟 hai jinhen Gulshan Kumar G ne hi pairon par khara kia......

राकेश रॉय
12 अगस्त 2019

Gulshan Kumar ko Bhart Ratn se sammanit karna chahiye.

राकेश रॉय
12 अगस्त 2019

sach me ......

anubhav
12 अगस्त 2019

मैंने गुलशन जी के सभी गाने सुने हैं। वे एक सच्चे प्रभु भक्त थे लेकिन कुछ गलत लोगों ने उनकी बली दे दी जो बिल्कुल सही नहीं था।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 जुलाई 2019
दुनिया में बहुत सी चीजें अजीबों गरीब हैं और लोगों को ऐसी ही चीजें पसंद होती है। अगर किसी इंसान का नाम किसी सेलिब्रिटीज से मिलता जुलता है तो लोग उनका मजाक बनाने लगते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मध्य प्रदेश के इस युवक के साथ हुआ जब अपने नाम के कारण कुछ परेशानियों का सामना करना
31 जुलाई 2019
08 अगस्त 2019
धारा 370 हटाने के बाद पाकिस्तान में जो हलचल होने लगी है उसे देखकर ऐसा लग रहा था कि अब वो कोई भारी कदम उठाने वाला है। तभी बीती रात पीएम इमरान खान ने ऐलान कर दिया कि अब पाकिस्तान भारत से कोई व्यापारिक लेन-देन नहीं करेगा। समझ नहीं आता इसका
08 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
आज देश अपनी दमदार लीडर को खोने का गम मना रहा है और उनका नाम सुषमा स्वराज है जिनका निधन 7 अगस्त की शाम को दिल्ली के AIIMS अस्पताल में हो गया था। सुषमा स्वराज का नाम राजनीति में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाएगा और भारतीय राजनीति के इतिहास में उनका योगदार अहम रहा है। सुषमा स्वराज हमेशा लोगों की मदद के लि
07 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
भारत में हर तरह की बातें होती हैं लेकिन महिलाओं को लेकर सुरक्षा का मामला बिल्कुल सीरियसली नहीं लिया जाता। यहां पर मां-बहन की गालियां देकर लोग इसमें अपनी वाहवाही समझते हैं जबकि वो लोग नहीं जानते हैं वे अपने ही घरवालों का समाज में मजाक बनवा रहे हैं। भारत की महिलाएं सुरक
08 अगस्त 2019
31 जुलाई 2019
Pratlipi एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां खुले विचारों से आप कुछ भी लिख सकते हैं। ये एक ऑनलाइन वेबसाइट है जहां पर आप किसी भी विषय पर लिखकर खुद पब्लिश कर सकते हैं। इसका मुख्यालय बैंगलुरू में है और इस वेबसाइट पर आ
31 जुलाई 2019
05 अगस्त 2019
बहुत दिनों से जम्मू कश्मीर में हलचल थी और 10 हजार से ज्यादा लोगों को वहां पर तैनात कर दिया गया था क्योंकि हालात कभी भी बिगड़ सकते थे। कुछ भी हो सकता था और लोगों में एक डर का माहौल था लेकिन अब वो बातें खत्म हो चुकी हैं। केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को एक एतिहासिक फैसला लिया है और जिसमें जम्मू एंड कश्मीर स
05 अगस्त 2019
01 अगस्त 2019
Webdunia- देश में बहुत सारे हिंदी वेब पोर्टल न्यूज वेबसाइट हैं लेकिन कुछ ही ऐसी वेबसाइट्स हैं जो हमें सही और बेहतर तरीके की खबरें प्रोवाइड करवाती हैं। वेबदुनिया उन्हीं में से एक वेबसाइट है जो कई भाषाओं में खबरें पब्लिश करती हैं और रीडर्स को सही जानकारी देती है। वेबदुन
01 अगस्त 2019
31 जुलाई 2019
Pratlipi एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां खुले विचारों से आप कुछ भी लिख सकते हैं। ये एक ऑनलाइन वेबसाइट है जहां पर आप किसी भी विषय पर लिखकर खुद पब्लिश कर सकते हैं। इसका मुख्यालय बैंगलुरू में है और इस वेबसाइट पर आ
31 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 जुलाई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x