जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है...

12 अगस्त 2019   |  pradeep   (4486 बार पढ़ा जा चुका है)

जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है...

जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जनसंघ के संस्थापक, हिन्दू महासभा के के अध्यक्ष , कलकत्ता यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर, मुस्लिमलीग की सरकार में मंत्री, नेहरू सरकार में मंत्री. माना जाता है कि मुखर्जी कश्मीर में 370 धारा के खिलाफ थे? कितना सच है? क्या मुखर्जी कश्मीर के भारत में विलय के पक्ष में थे? क्या मुखर्जी भारत के विभाजन के विरोधी थे? क्या मुखर्जी का भारत की आज़ादी में कोई योगदान था? या वो उन लोगो में से थे जब शादी की तैयारी हो गई खाने की पत्तले सज गई तो फूफाजी आकर बैठ गए कि इन पर मेरा अधिकार पहला है क्योकि मैं इस घर का दामाद हूँ, फूफा हूँ. इन सब को समझने के लिए जरुरी है कि इतिहास के पन्ने पलटे जाएँ और देखा जाए कि क्या उन्होंने बलिदान दिया था कश्मीर के लिए?


कश्मीर के लिए बलिदान हुए मुखर्जी


india


श्यामा प्रसाद मुखर्जी के पिता जी थे सर आशुतोष मुखर्जी, उनके पिताजी को सर की उपाधि अंग्रेजी सरकार ने दी थी, और वो कलकत्ता यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर थे. उनके पिता अंग्रेजी राज के विरोधी नहीं रहे होंगे तभी तो उन्हें सर की उपाधि दी गई होगी, सर की उपधि मिलने का मतलब यही होता है कि आप उस सरकार के साथ है. इसलिए श्यामा प्रसाद मुखर्जी का पालन पोषण ऐसे परिवार में हुआ जो अंग्रेजी हुकूमत के पक्ष में था. श्यामा प्रसाद मुखर्जी भी किसी आज़ादी के आंदोलन से नहीं जुड़े थे. वो हिन्दू महासभा के अध्यक्ष थे, हिन्दू महासभा अंग्रेजो से हिन्दुओं के लिए ज्यादा अधिकार और हिन्दुओं को हथियार रखने का अधिकार मांग रही थी, उस संस्थान का मानना था कि हमारे दुश्मन अंग्रेज नहीं मुसलमान है. यह बात सावरकर से लेकर अब तक के हिंदुत्ववादी ( हिन्दू और हिंदुत्ववादी में अंतर है) मानते है. 1934 में अंग्रेजी हुकूमत उन्हें कलकत्ता विश्विद्यालय का वाइस चांसलर बना देती है, क्योकि वो देश भक्त थे? जब गांधी जी और अन्य कांग्रेस के लोग अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ आंदोलन चला रहे थे तब जबकि गाँधी जी, सुभाष चंद्र बोस सरकारी नौकरी छोड़ कर आंदोलन का हिस्सा बन रहे थे तब वो अंग्रजों की नौकरी कर रहे थे. सावरकार जिन्होंने अंग्रेजों से माफ़ी मांगी और उनका साथ देने का वादा किया था और उसे निभाया भी, उनके अनुसार भारत एक राष्ट्र नहीं बल्कि दो राष्ट्र है हिन्दू राष्ट्र और मुसलमान राष्ट्र. उनका मानना था कि अगर हिन्दुस्तान आज़ाद होगा तो उसे दो राष्ट्रों में बटना पड़ेगा या यहाँ पर अंग्रेजी हुकूमत बनी रहे और उसमे हिन्दुओं को ज्यादा अधिकार मिल जाए. उनकी ही सोच का फायदा मुस्लिम लीग के जिन्ना ने उठाया.

जिन्ना हिन्दुस्तान के बटवारे के पक्ष में नहीं थे. यह झूठ खूब तेज़ी से फैलाया गया कि देश के विभाजन के लिए कांग्रेस खासतौर पर गांधी और नेहरू ज़िम्मेदार है. जबकि सच यह है कि गांधी जी तो हत्या से पहले पाकिस्तान जाने और जिन्ना को समझाने की बात कर रहे थे गाँधी जी ने नेहरू और पटेल को भी राज़ी कर लिया था कि पाकिस्तान जाकर वो जो भी फैसला लेंगे उसे कांग्रेस मान लेगी यानी पाकिस्तान को वापिस हिन्दुस्तान में मिलाने की बात. इसके खिलाफ हिन्दू महासभा और संघ दोनों थे वो गांधी जी को वहाँ जाने देना नहीं चाहते थे, क्योकि दोनों ही अब चाहते थे कि विभाजन हो गया और अब सब मुसलमान पाकिस्तान चले जाए और भारत को हिन्दू राष्ट्र बना दिया जाए, अगर मुसलमान यहां रहेंगे तो भारत कभी भी हिन्दू राष्ट्र नहीं बन सकेगा. संघ और हिन्दू महा सभा विभाजन के पक्ष में शुरू से ही थी, लेकिन जब गांधी और कांग्रेस के रहते उनका सपना पूरा नहीं हुआ और पाकिस्तान बनने के बाद भी भारत हिन्दू राष्ट्र नहीं बना तो इन दोनों संगठनो की नफ़रत नेहरू से बढ़ गई क्योकि गाँधी जी की हत्या कर उन्हें रास्ते से हटाया जा चुका था, पटेल की भी मौत जल्दी हो गई, राजेंद्र प्रसाद ,राष्ट्रपति थे लेकिन उनके पास कोई ख़ास अधिकार नहीं थे, ऐसे में सिर्फ नेहरू ही थे जो उनके रास्ते में रुकावट थे ( गांधी जी ने नेहरू को ही क्यों अपना उत्तराधिकारी बनाया, अगला लेख ) . उन्हें बदनाम करने , उनके और पटेल के रिश्तों पर कीचड़ उछालने के अलावा उनके पास कुछ नहीं था. मुखर्जी ने मई 1947 में लार्ड माउंटबेटन को खत लिखा कि अगर हिन्दुस्तान का विभाजन नहीं होता तब भी बंगाल का विभाजन ज़रूरी है, इसका विरोध कांग्रेस ने किया, सुभाष चंद्र बोस के बड़े भाई शरतचंद्र बोस ने किया, शरतचंद्र बोस ने तो कहा कि अगर बंगाल का विभाजन करना है तो पूरे बंगाल का भारत से विभाजन कर दो ,ताकि उत्तरी भारत की यह हिन्दू और मुस्लिम राजनीति ख़त्म हो जाये बंगाल में कोई भी धार्मिक राजनीति नहीं चाहिए. सुभाषचंद्र बोस ख़ुद हिन्दुराष्ट्र के विरोधी थे. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की बंगाल की जनता पर कोई पकड़ ही नहीं थी. वो सावरकर की ही तरह अंग्रेजी हुकूमत के तरफ़दार थे , और किसी भी तरह भारत की आज़ादी को रोकने के लिए काम कर रहे थे. 1941 में जब कांग्रेस ने अपनी सरकार बर्खास्त कर दी और अंग्रेज़ो के ख़िलाफ़ भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया तो मुस्लिम लीग और मुखर्जी ने इसका विरोध किया और दोनों ने मिलकर सरकार बनाई और अंग्रेजी हुकूमत को मदद की इस भारत छोड़ो आंदोलन को दबाने की, कांग्रेस ने फ़ैसला लिया कि वो दूसरे विश्व महा युद्ध में हिस्सा नहीं लेंगे और जनता को कहा कि वो अंग्रेजी नौकरियां छोड़ दे , असहयोग आंदोलन चलाये तब अंग्रेज़ों को सुभाषचंद्र बोस की आज़ाद हिन्द फ़ौज़ से लड़ने के लिए फौजियों की ज़रूरत थी तब उन्होंने कैम्प लगाए और लोगो को फौज में भर्ती किया, किससे लड़ने के लिए? सुभाष चंद्र बोस की आज़ाद हिन्द फौज से लड़ने के लिए. हिन्दू महा सभा और संघ की नहीं चली और हिन्दुस्तान आज़ाद हो गया . अब आज़ादी के जश्न में शामिल होने फूफाजी यानि संघ और हिन्दू महासभा दोनों आ गए.

गाँधी जी के बारे में कहा जाता है कि उनका मानना था कि कांग्रेस एक खास मकसद यानी हिन्दुस्तान की आज़ादी के लिए बनी है उसे अब खत्म कर देना चाहिए? इसका मतलब भी गलत लगाया गया और जानबूझकर इसे गलत तरीके से फैलाया गया, इसके लिए भी नेहरू को ही दोष दिया गया, अगर ऐसा था तो पटेल, राजेंद्र प्रसाद, ज़ाकिर हुसैन और लाल बहादुर शास्त्री क्या नेहरू की गुलामी कर रहे थे? गाँधी जी का इससे मतलब था कि आज़ादी के बाद किसने आज़ादी के आंन्दोलन में हिस्सा लिया या नहीं, किसने अंग्रेज़ों का विरोध किया या किसने अंग्रेज़ों का साथ दिया इसे भूल कर राष्ट्र निर्माण के लिए सबको बुलाया जाए और सरकार का गठन सबको साथ लेकर किया जाए, इसिलए जब नेहरू जी ने सरकार बनाई तो सभी को आमंत्रित किया, जिसमे श्यामा प्रसाद मुखर्जी भी थे. जब राज्यों का भारत में विलय हो रहा था तब उनकी क्या राय थी? उनकी राय से सभी मुस्लिम बाहुल्य इलाको को अलग कर देना चाहिए, जिसमे कश्मीर भी आता था. नेहरू जी को छोड़ कर कोई भी कश्मीर के भारत में विलय के पक्ष में नहीं था, यहां तक कि लोहपुरुष पटेल भी नहीं. आज कश्मीर अगर हिन्दुस्तान का हिस्सा है तो वो नेहरूजी की जिद्द की वजह से. कश्मीर के 370 धारा को बनाने वाले पटेल थे और मंत्रिमंडल की सहमति से पास हुआ था जिसमे श्यामा प्रसाद मुखर्जी भी थे. लेकिन हिन्दुत्ववादियों के ये सब सही इसलिए नहीं लग रहा था क्योकि इसके चलते उन्हें जनता का सहयोग नहीं मिल रहा था हिन्दू राष्ट्र के लिए.



गांधी जी की हत्या के बाद पूर्वी बंगाल जो पकिस्तान बन गया था, में फिर दंगे भड़के तब नेहरू ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री लियाकत अली के साथ समझौता किया कि हिन्दुस्तान यहाँ के अल्पसंख्यकों को सुरक्षा देगा और पाकिस्तान वहाँ बसे अल्पसंख्यकों को, दोनों देश अल्पसंख्यक आयोग बनायेगे अल्पसंखयकों के अधिकारों की रक्षा करेंगे. श्यामा प्रसाद मुखर्जी और उनके साथियों को लगा कि उनका सपना इस समझौते के बाद मुश्किल है, क्योकि वो चाहते थे कि दोनों देशों में ऐसा माहौल बने ताकि हिन्दू वापिस हिन्दुस्तान आ जाए और इस के चलते हम मुसलमानों को यहां से निकाल सके, तब यहां हिन्दू होंगे और हमारे लिए हिन्दू राष्ट्र बनाना आसान हो जाएगा. तब मुखर्जी ने इस समझौते के खिलाफ सरकार से इस्तीफा दे दिया. हिन्दू महासभा और संघ पर गांधी की हत्या की वजह से काफी प्रतिबन्ध थे, इसलिए श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने संघ और हिन्दू महासभा के साथ मिलकर राजनितिक पार्टी जनसंघ बनाई. जनसंघ को हिन्दू राष्ट्र पर कोई खास सफलता नहीं मिल रही थी, ना ही उनके पास कोई और मुद्दा था तब कश्मीर मुद्दा बनाया गया ताकि इस मुद्दे को लेकर जनता के बीच जाया जा सके. जनसंघ के पास ना तो कोई अर्थव्यवस्था का विकल्प था नाही कोई और सिर्फ और सिर्फ एक ही मुद्दा था, हिन्दुराष्ट्र और कश्मीर. इसलिए श्यामा प्रसाद का भारतीय राजनीति में क्या योगदान है यह एक प्रश्न चिन्ह है. (आलिम)

अगला लेख: महाभारत युद्ध और जीत किसकी ?(भाग 1)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 अगस्त 2019
आरक्षण एक अभिशाप है, जो प्रतिभावान की प्रतिभा को ग्रहण लगा देता है. मैं सच्चे दिल से इसका विरोध करता हूँ, पर ऐसे कितने लोग है जो सच्चे दिल से इसका विरोध करते है? यदि सभी आरक्षण विरोधियों ने सच्चे दिल से इसका
04 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
शतरंज का खेल जाननेवाला ही शतरंज की चाल समझ सकता है. पहली चाल धोखा होती है जो छठी या कभी कभी 10 चाल को कामयाब बनाने के लिए की जाती है. शतरंज में लकड़ी के मोहरे होते है जिनमे भावनाएं नहीं होती, जिनमे आत्मा नहीं होती. अगर कोई जिंदगी में इंसानों के साथ
13 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
रा
राजनैतिक पार्टियों का भविष्य. मैं कोई भविष्य वक्ता नहीं हूँ, पर विश्लेषण कर सकता हूँ. आने वाले दिनों में राजनैतिक दलों की क्या स्थिति रहेगी यह बता सकता हूँ. शुरुवात कांग्रेस से करता हूँ क्योकि वो सबसे पुरानी पार्टी और अब तक सब से ज्यादा वक्त तक राज करन
13 अगस्त 2019
18 अगस्त 2019
अखंडभारत की परिकल्पना हिंदुत्ववादी संघठन हर वक्त करते है तो सबसे पहले यह जानना ज़रूरी है कि अखंडभारत क्या है? अखंडभारत से मतलब है पाकिस्तान और बंगला देश ? नहीं इनकी सोच इससे भी आगे जाती है. अफगानिस्तान, पाकिस्तान, भारत, नेपाल, तिब्बत,
18 अगस्त 2019
26 अगस्त 2019
ख़ु
मुल्कपरस्ती या बुतपरस्ती से जिंदगी चलती नहीं, ज़िंदगी को चलाने को ज़रूरी है ख़ुदपरस्ती. मुल्कपरस्ती के नाम पर ज़ंग की मुहिम जो छेड़ते, नाम ले मज़हब का जो आपस में है लड़ रहे, ना तो वो वतनपरस्त है, ना ही है वो मज़हबी .जो कुछ वो कर रहे वही तो होती है ख़ुदपरस्ती. (
26 अगस्त 2019
21 अगस्त 2019
15 अगस्त के मौके पर लाल किला की प्राचीर से झंडा रोहण के बाद पीएम मोदी ने देश को ऊंचाईयों पर ले जाने की कई सारी बातें की। इसमें तकनीकी बदलाव से लेकर लड़कियों की सुरक्षा तक की बातों को प्राथमिकता दी गई और इन बातों को लोगों ने खूब पसंद किय
21 अगस्त 2019
15 अगस्त 2019
गा
गाँधी जी की विरासत के उत्तराधिकारी नेहरू. गाँधी जी ने क्यों नेहरू जी को अपना उत्तराधिकारी चुना? कुछ लोग नेहरू की बुराई करने इस हद तक चले जाते है कि शक होता है कि क्या वाकय पटेल लौहपुरुष थे? 3000 करोड़ की मूर्ति एक लौहपुरुष की य
15 अगस्त 2019
10 अगस्त 2019
फ़ौ
कितना अच्छा लगता है फ़ौज़ के लोगों की तारीफ़ करना, उनकी देशभक्ति का सम्म्मान करना. उस फ़ौज़ियों की वजह से ही हम अपने घरों में आराम से सुरक्षा के साथ रह सकते है अगर वो ना हो तो कोई भी दुशमन मुल्क हमला कर सकता है और हमें गुलाम बना
10 अगस्त 2019
21 अगस्त 2019
5 अगस्त को मोदी सरकार ने सबसे बड़ा काम किया और जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाकर जम्मू-कश्मीर को भारत काे आम राज्य की तरह बना ली है। इसके साथ ही लद्दाख को केंद्र शासित राज्य बनाया और उनके इस काम की सराहना हर तरह कर रहे हैं। कुछ विरोधी भी हैं जो मोदी के इस कदम को ऐतिहासिक और सबसे अच्छा मान रहे हैं। इन स
21 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
महाभारत एक युद्ध का नाम है , इसको महाभारत ही क्यों कहा जाता है, महायुद्ध क्यों नहीं कहा जाता. महा का मतलब या तो महान होता है या फिर सबसे बड़ा, तो इस महाभारत का मतलब हुआ महान भारत या बड़ा भारत? महान भारत और युद्ध, कुछ समझ से बाहर की बात नहीं है? जी बिल्कुल ये ज्यादातर लोगो क
03 अगस्त 2019
10 अगस्त 2019
26 वर्षीय ऋषिराज जिंदल की सोमवार 6 अगस्त रात राजस्थान में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जबकि वह और उनके दोस्त जन्मदिन मना रहे थे और धारा 370 को समाप्त कर दिया गया था, जिसकी घोषणा उस दिन पहले ही सरकार ने कर दी थी।इस मामले के प्रमुख आरोपी इमरान और उसके साथी मंसूर (उर्फ
10 अगस्त 2019
24 अगस्त 2019
कृ
कृष्ण जन्माष्टमी के दिन कृष्ण की पूजा करने का सबसे अच्छा तरीका है उनके विचरों पर अम्ल करना. मेरे इस विचार से तो सारे हिन्दू ही नहीं हिदुत्ववादी भी सहमत होंगे. कृष्ण को लोग अपनी अपनी सहूलियत के हिसाब से देखते है, किसी के लिए वो
24 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
15 अगस्त, 1947 को भारत आजाद हुआ था जो पिछले 200 सालों से ब्रिटिश रूल का गुलाम बना बैठा था। ये लड़ाई साल 1857 से शुरु हुई और साल दर साल क्रांतिकारी पैदा होते चले गए। एक के बाद लोगों ने देश के नाम खुद को शहीद कर दिया लेकिन फिर भी आजादी हाथ नहीं आई। समय के साथ कई क्रांति
13 अगस्त 2019
05 अगस्त 2019
बहुत दिनों से जम्मू कश्मीर में हलचल थी और 10 हजार से ज्यादा लोगों को वहां पर तैनात कर दिया गया था क्योंकि हालात कभी भी बिगड़ सकते थे। कुछ भी हो सकता था और लोगों में एक डर का माहौल था लेकिन अब वो बातें खत्म हो चुकी हैं। केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को एक एतिहासिक फैसला लिया है और जिसमें जम्मू एंड कश्मीर स
05 अगस्त 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x