अक्षय कुमार के बाद अब इस 'पैडगर्ल' उठाया पीरियड्स का मुद्दा, फैला रही हैं जागरुकता

13 अगस्त 2019   |  स्नेहा दुबे   (450 बार पढ़ा जा चुका है)

अक्षय कुमार के बाद अब इस 'पैडगर्ल' उठाया पीरियड्स का मुद्दा, फैला रही हैं जागरुकता

भारत में बहुत सारी ऐसी चीजें होती हैं जिनके बारे में आमतौर पर लोग समाज में बात करना पसंद नहीं करते हैं। जिसमें सेक्स, माहवारी और भी कुछ बातें होती हैं लेकिन असल में हम सबको इन्ही सबके बारे में बात करनी चाहिए, अगर इसमें कोई परेशानी है तो, खुलकर अपने दोस्तों ,पार्टनर और डॉक्टर्स से बात करें। इनमें सबसे अहम साल 2018 में आई फिल्म पैडमैन में अक्षय कुमार ने लोगों में पीरियड्स को लेकर जितनी गलत सोच थी उसे बदला है।भारत में माहवारी यानी पीरियड्स महिलाओं का वो सत्य है जिसे समझना हर किसी के बस की बात नहीं है इसे सिर्फ एक महिला ही जानती हैं लेकिन आंध्रप्रदेश के एक आदमी ने इसे समझा और महिलाओं के लिए सस्ता सेनेटरी पैड बनाया।इस पर अक्षय ने पूरी एक फिल्म बना दी और अब दिल्ली की इस लड़की ने महिलाओं के लिए इसके बारे में सोचा है। जो 'पैडगर्ल' बनकर माहवारी की परेशानी झेलने वाली महिलाओं के लिए ताकत बनी हैं।


दिल्ली की 'पैडगर्ल' ने शुरु की मुहीम


पैडगर्ल

दिल्ली में रहने वाली सौम्या डाबरीवाल आज महिलाओं के लिए एक रोल मॉडल बन चुकी हैं। इन्होने एक ऐसा सेनेटरी पैड बनाया है जिसे डेढ़ साल तक इस्तेमाल किया जा सकता है। सौम्या में महिलाओं के प्रति इतना आदर भाव है कि महिलाओं को मुफ्त में पैड उपलब्ध करवाकर उनकी मदद का काम कर रही हैं। सौम्या देश के ऐसे व्यस्त शहर में रहती हैं जहां किसी को किसी के बारे में सोचने का समय नहीं मिलता है वहां रहकर सौम्या ने वो सोच लिया जो एक लड़की होने के नाते कोई नहीं सोच पाता। साल 2013 में सौम्या ब्रिटेन पढ़ाई करने गई थीं और स्टडी टूर के दौरान उन्हे अफ्रीकी देश घाना जाने का मौका मिला और वहां पर उन्होंने महिलाओं में माहवारी को लेकर जागरुकता का अभाव देखा। महिलाओं की ऐसी स्थिति देखकर इस विषय पर उन्हें गंभीरता से एहसास हुआ और भारत आकर उन्होंने सोच लिया कि दोबारा इस्तेमाल करने वाला सेनेटरी पैड किसी भी हाल में बनाना है। इसके लिए उन्होंने काफी प्रयास किया और टेस्ट करने के बाद उन्हें सफलतम कई बार यूज करने वाला पैड बना लिया।


'पैडगर्ल'

सौम्या ने कुछ दोस्तों की मदद से अपना प्रोजेक्ट 'बाला' शुरु किया और वे हरियाणा, पंजाब, यूपी जैसे राज्यों में ग्रामीण क्षेत्र में सफलता हासिल कर चुकी हैं। उनका कहना है कि ग्रामीण और गरीब तबके की महिलाओं को जमीन पर सोना पड़ता है इसलिए उन्होंने दोबारा इस्तेमाल करने के बारे में सोचा और अपनाया। सौम्या ने महिलाओं के लिए इस काम को आज भी जारी रखा है और अब तक 15 हजार सेनेटरी पैड को लोगों तक पहुंचा चुकी हैं। पैड के टेस्ट पास हो जाने पर सौम्या ने दिल्ली की एक कंपनी से संपर्क किया और वो पैड बनाने को तैयार हो गई है। ब्रिटिश यूनिवर्सिटी से पढ़ाई करके भारत लौटी सौम्या का लक्ष्य गरीब और पिछड़े ग्रामीण परिवारों की महिलाओं को इस विषय पर जागरुक करना ही है। वे दूर-दूर गांवों में जाती हैं और महिलाओं को जागरुक करने का काम करती हैं। अब बहुत से लोग सौम्या को 'पैडगर्ल' बुलाने लगे हैं, जब फिल्म पैडमैन आई थी तब वे ब्रिटेन में थीं और इस फिल्म को देखने के बाद उन्होंने सोचा वे भी कुछ ऐसा करेंगी जिससे लोगों का भला हो सके।

अगला लेख: राहुल गांधी को अपने नाम की वजह से ना सिम मिला ना लोन !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अगस्त 2019
अक्सर सेलिब्रिटीज होते हैं जो देश के प्रति कुछ काम करते हैं तो कुछ दूसरों को दिखाने के लिए करते हैं तो कुछ को दिल से देश के प्रति लगाव होता है। उन्हीं में से एक हैं भारतीय क्रिकेट टीम के दमदार प्लेयर महेंद्र सिंह धोनी जिन्होंने साल 2011 में वर्ल्ड कप अपने कप्तानी के नेतृत्व में दिलवाया था। इस बार भ
02 अगस्त 2019
31 जुलाई 2019
दुनिया में बहुत सी चीजें अजीबों गरीब हैं और लोगों को ऐसी ही चीजें पसंद होती है। अगर किसी इंसान का नाम किसी सेलिब्रिटीज से मिलता जुलता है तो लोग उनका मजाक बनाने लगते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मध्य प्रदेश के इस युवक के साथ हुआ जब अपने नाम के कारण कुछ परेशानियों का सामना करना
31 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
Pratlipi एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां खुले विचारों से आप कुछ भी लिख सकते हैं। ये एक ऑनलाइन वेबसाइट है जहां पर आप किसी भी विषय पर लिखकर खुद पब्लिश कर सकते हैं। इसका मुख्यालय बैंगलुरू में है और इस वेबसाइट पर आ
31 जुलाई 2019
08 अगस्त 2019
दुनिया के इतिहास में ऐसी-ऐसी घटनाएं हुई हैं कि बहुत से लोग प्रभावित हुए हैं और इसके बारे में हमें हमारे पूर्वजों से पता चला है। जिस तरह से भारत अंग्रेजों का गुलाम बन गया था वैसे ही दूसरे देशों के साथ भी बहुत कुछ हुआ है जिसके प्रमाण इतिहास में मिलते हैं। कुछ ऐसा ही 6 अ
08 अगस्त 2019
31 जुलाई 2019
दुनिया में बहुत सी चीजें अजीबों गरीब हैं और लोगों को ऐसी ही चीजें पसंद होती है। अगर किसी इंसान का नाम किसी सेलिब्रिटीज से मिलता जुलता है तो लोग उनका मजाक बनाने लगते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मध्य प्रदेश के इस युवक के साथ हुआ जब अपने नाम के कारण कुछ परेशानियों का सामना करना
31 जुलाई 2019
02 अगस्त 2019
बॉलीवुड में पार्टी, शराब और शबाब का दौर पुराने समय से ही चलता आ रहा है। यहां पर फिल्मों में आप अपने सितारों को जितना अच्छा मानते हैं लेकिन हर सितारा असल जिंदगी में अच्छा हो ये जरूरी नहीं होता। आज की युवा अपने फेवरेट स्टार को देखकर ही सीख रही है और अगर वे अपने फेवरेट स
02 अगस्त 2019
01 अगस्त 2019
जब कोई नई सरकार आती है तो जनता को उम्मीद हो जाती है कि ये सरकार उनकी उम्मीदों पर खरा उतरेगी। उनके लिए सबसे भारी महंगाई को कुछ तो कम करेगी लेकिन जब ऐसा नहीं होता है तब जनता भड़क जाती है और यही सरकार को गिराने का असरदार काम करती है। अब मे
01 अगस्त 2019
01 अगस्त 2019
भोलेनाथ को प्रसन्न करने और उनकी पूजा करने के लिए श्रावण मास यानी सावन का महीना सबसे पावन माना जाता है। पूरे देश में 17 जुलाई से सावन का महीना मनाया जा रहा है और सभी भोलेनाथ के प्रति अपनी श्रद्धा भक्ति दिखाई है। 15 अगस्त को सावन का महीना खत्म होने वाला है और इसके पहले
01 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 जुलाई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x