आजादी की लड़ाई में इन महिलाओं ने दिया था सहयोग, इन स्वतंत्रता सेनानियों को देश का सलाम

13 अगस्त 2019   |  स्नेहा दुबे   (565 बार पढ़ा जा चुका है)

आजादी की लड़ाई में इन महिलाओं ने दिया था सहयोग, इन स्वतंत्रता सेनानियों को देश का सलाम

15 अगस्त, 1947 को भारत आजाद हुआ था जो पिछले 200 सालों से ब्रिटिश रूल का गुलाम बना बैठा था। ये लड़ाई साल 1857 से शुरु हुई और साल दर साल क्रांतिकारी पैदा होते चले गए। एक के बाद लोगों ने देश के नाम खुद को शहीद कर दिया लेकिन फिर भी आजादी हाथ नहीं आई। समय के साथ कई क्रांतिकारी पैदा हुए और इनमे देश की बेटियां भी रही हैं। ऐसा नहीं है कि सिर्फ पुरुषों ने ही इस आजादी की लड़ाई लड़ी बल्कि महिलाओं ने भी खूब दिलदारी दिखाई। इन क्रांतिकारी सेनानियों को हम सबकी तरफ से शत-शत नमन है। इन सबकी तस्वीर के साथ हम आपको इनके बारे में भी बताएंगे।


देश के लिए कुर्बान हुईं ये क्रांतिकारी सेनानी


गुलामी का दर्द वो ही समझ सकते हैं जो इसे झेल चुके हों। वो दर्द शायद इतना असहनीय था जिसने कुछ लोगों को ज्यादा कठोर बना दिया। सोचने पर मजबूर कर दिया कि गुलामी किस्मत नहीं हो सकती और आजादी का हक हम सबको है। शायद इसी सोच के साथ उन्हें क्रांतिकारी बना दिया और अंग्रेजों के खिलाफ वो चट्टान मिला जिसे तोड़ना मुश्किल था। भारत को आजाद कराने में कई स्वतंत्रता सेनानी आगे आए लेकिन इन महिलाओं ने भी कोई कसर नहीं छोड़ी थी।


स्वतंत्रता सेनानी

मातंगिनी हाजरा को भारत छोड़ो आंदोलन की चैंपियन माना जाता है। लोगों पर इनका इतना प्रभाव पड़ा कि अंग्रेज इस बात से डरने लग थे। उन्हें डर था कि लोगों को आजादी के लिए उकसाने में ये कामयाब रहेंगी। अंग्रेजों ने उनके हर काम को असफल बनाने की ठानी थी लेकिन हाजरा पीछे नहीं हटती थीं और अंत में अंग्रेजों ने उनकी हत्या करा दी थी।


स्वतंत्रता सेनानी


भारत छोड़ो आंदोलन में भोगेश्वरी फुकनानी का भी अहम किरदार था। जब क्रांतिकारियों ने बेरहमपुर में अपने कार्यालयों का नियंत्रण वापस लिया तब उस समय माहौल में पुलिश छापा मारकर आतंक फैला दिया था। उस समय क्रांतिकारियों की भीड़ ने मार्च करते हुए वंदे मारतरम् के नारे लगाए थे। उस भीड़ का नेतृ्व करने वाली भोगेश्वरी ने किया था और उस समय मौजूद कैप्टन को मारा जो क्रांतिकारियों पर हमला करवा रहे थे। बाद में अंग्रेजों ने इन्हें गोली मरवा दी थी।


स्वतंत्रता सेनानी


वेलु नचियार शिवगंगा रियासत की महारानी थीं और वो भारत में अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने वाली पहली वीरांगना थीं। उन्हें तमिनाडु में वीरमंगई के नाम से भी प्रसिद्धि मिली। उन्होने अपने प्राण देश के लिए गवां दिए थे।


स्वतंत्रता सेनानी


आजादी की लड़ाई में 17 साल की कनकलता भी शामिल हुईंष नाबालिक होने के कारण उन्हें आजाद हिंद फौज में शामिल नहीं किया गया फिर भी उन्होने हार नहीं मानी और मृत्यु बहिनी में शामिल हो गईं। साल 1924 में असम में पैदा होने वाली कनकलता असम के सबसे महान योद्धाओं में एक थीं। वो असम से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस द्वारा शुरु की गई स्वतंत्रता पहल के लिए करो या मरो के अभियान में थी और भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान ही असम में भारतीय झंडा फहराने की सजा उन्हें अपने प्राण गंवाकर मिली।


स्वतंत्रता सेनानी


चंद्रशेखर आजाद के काकरी षड़यंत्र में गुप्तचर के रूप में शामिल होने वाली राज कुमारी गुप्ता का काम क्रांतिकारियों को संदेश और आगेन्यशास्त्र ले जाकर देना था। ऐसी ही एक यात्रा के दौरान अपने अंडरगारमेंस्ट्स में आग्नेयास्त्र छिपाते हुए उन्हें तीन साल के बेटे के साथ ब्रिटिश पुलिस ने गिरफ्तर कर लिया था।


स्वतंत्रता सेनानी


कमलादेवी देशभक्त नेता के रूप में सक्रीय रही हैं और ब्रिटिश सरकार द्वारा गिरफ्तार होने वाली पहली महिला रहीं। इसके साथ ही विधानसभा के लिए पहली उम्मीदवार भी थीं और उन्होने मुख्य रूप से भारत में महिलाओं की सामाजिक-आर्थिक स्थितियों में सुधार लाने की दिशा पर काम किया। थिएटर और हस्तशिल्प जैसी खोई प्रथाओं को फिर से जिंदा किया था। उन्हें समाजसेविका के रूप में पद्मभूषण और मैग्ससे से भी सम्मानित किया गया था।


स्वतंत्रता सेनानी


लक्ष्मी सहगल भारत की स्वतंत्रता सेनानी तीं जो आजाद हिंद फौज की अधिकारी और आजाद हिंद सरकार में महिला मामलों की मंत्री के पद पर थीं। वे व्यवसाय से डॉक्टर थीं जो द्वितीय विश्वयुद्ध के समय सुर्खियों में आई थीं. द्वितीय विश्व युद्ध में अपनी भूमिका के लिए बर्मा की जेल मे सजा काटकर, नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा गठित सेन में खुद को नामांकित करने के लिए भारत लौट आई थीं। वे आजाद हिंद फौज की रानी लक्ष्मी रेजिमेंट की कमांडर के तौर पर काम किया।


स्वतंत्रता सेनानी


मूलमती स्वतंत्रता सेनानी राम प्रसाद बिस्मिल की मां थीं, जिन्हें ब्रिटिश राज ने मैनपुरी और काकोरी षणयंत्र में भूमिका के लिए फांसी पर चढ़ा दिया था। एक साधारण सी दिखने वाली मूलमती ने स्वतंत्रता आंदोलन के अपने संघर्ष में अपने बेटे का समर्थन किया था।

अगला लेख: राहुल गांधी को अपने नाम की वजह से ना सिम मिला ना लोन !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2019
Webdunia- देश में बहुत सारे हिंदी वेब पोर्टल न्यूज वेबसाइट हैं लेकिन कुछ ही ऐसी वेबसाइट्स हैं जो हमें सही और बेहतर तरीके की खबरें प्रोवाइड करवाती हैं। वेबदुनिया उन्हीं में से एक वेबसाइट है जो कई भाषाओं में खबरें पब्लिश करती हैं और रीडर्स को सही जानकारी देती है। वेबदुन
01 अगस्त 2019
02 अगस्त 2019
बॉलीवुड में पार्टी, शराब और शबाब का दौर पुराने समय से ही चलता आ रहा है। यहां पर फिल्मों में आप अपने सितारों को जितना अच्छा मानते हैं लेकिन हर सितारा असल जिंदगी में अच्छा हो ये जरूरी नहीं होता। आज की युवा अपने फेवरेट स्टार को देखकर ही सीख रही है और अगर वे अपने फेवरेट स
02 अगस्त 2019
02 अगस्त 2019
अक्सर सेलिब्रिटीज होते हैं जो देश के प्रति कुछ काम करते हैं तो कुछ दूसरों को दिखाने के लिए करते हैं तो कुछ को दिल से देश के प्रति लगाव होता है। उन्हीं में से एक हैं भारतीय क्रिकेट टीम के दमदार प्लेयर महेंद्र सिंह धोनी जिन्होंने साल 2011 में वर्ल्ड कप अपने कप्तानी के नेतृत्व में दिलवाया था। इस बार भ
02 अगस्त 2019
31 जुलाई 2019
Pratlipi एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां खुले विचारों से आप कुछ भी लिख सकते हैं। ये एक ऑनलाइन वेबसाइट है जहां पर आप किसी भी विषय पर लिखकर खुद पब्लिश कर सकते हैं। इसका मुख्यालय बैंगलुरू में है और इस वेबसाइट पर आ
31 जुलाई 2019
12 अगस्त 2019
आजादी कौन नहीं चाहता....एक पक्षी भी पिंजड़े में फड़फड़ाता है क्योंकि उसे आजादी चाहिए होती है। जब बकरे को काटने के लिए ले जाते हैं तब भी आजादी की चाहत लिए बकरा चिल्लाता रहता है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि आजादी है तो जीवन है वरना इंसान घुटने लगता है। मगर आज से करीब 73 साल पहले भारत देश गुलाम था अंग्र
12 अगस्त 2019
18 अगस्त 2019
अखंडभारत की परिकल्पना हिंदुत्ववादी संघठन हर वक्त करते है तो सबसे पहले यह जानना ज़रूरी है कि अखंडभारत क्या है? अखंडभारत से मतलब है पाकिस्तान और बंगला देश ? नहीं इनकी सोच इससे भी आगे जाती है. अफगानिस्तान, पाकिस्तान, भारत, नेपाल, तिब्बत,
18 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
आजादी कौन नहीं चाहता....एक पक्षी भी पिंजड़े में फड़फड़ाता है क्योंकि उसे आजादी चाहिए होती है। जब बकरे को काटने के लिए ले जाते हैं तब भी आजादी की चाहत लिए बकरा चिल्लाता रहता है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि आजादी है तो जीवन है वरना इंसान घुटने लगता है। मगर आज से करीब 73 साल पहले भारत देश गुलाम था अंग्र
12 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जनसंघ के संस्थापक, हिन्दू महासभा के के अध्यक्ष , कलकत्ता यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर, मुस्लिमलीग की सरकार में मंत्री, नेहरू सरकार में मंत्री.
12 अगस्त 2019
02 अगस्त 2019
दुनिया में बहुत सी अजीबोंगरीब चीजें होती हैं और इन चीजों में कभी कुछ फनी बातें हो जाती हैं तो कभी हजम ना करने वाली बात हो जाती है। मगर ऐसी ही हटके दिखने और सुनने वाली बातों की ही खबर बन जाती है। कुछ ऐसा ही हुआ पिछले दिनों झारखंड के धनबाद में जब वहां के एक मेडिकल कॉलेज
02 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
दुनिया के इतिहास में ऐसी-ऐसी घटनाएं हुई हैं कि बहुत से लोग प्रभावित हुए हैं और इसके बारे में हमें हमारे पूर्वजों से पता चला है। जिस तरह से भारत अंग्रेजों का गुलाम बन गया था वैसे ही दूसरे देशों के साथ भी बहुत कुछ हुआ है जिसके प्रमाण इतिहास में मिलते हैं। कुछ ऐसा ही 6 अ
08 अगस्त 2019
29 जुलाई 2019
विजय सोपा नाही
29 जुलाई 2019
01 अगस्त 2019
जब कोई नई सरकार आती है तो जनता को उम्मीद हो जाती है कि ये सरकार उनकी उम्मीदों पर खरा उतरेगी। उनके लिए सबसे भारी महंगाई को कुछ तो कम करेगी लेकिन जब ऐसा नहीं होता है तब जनता भड़क जाती है और यही सरकार को गिराने का असरदार काम करती है। अब मे
01 अगस्त 2019
31 जुलाई 2019
दुनिया में बहुत सी चीजें अजीबों गरीब हैं और लोगों को ऐसी ही चीजें पसंद होती है। अगर किसी इंसान का नाम किसी सेलिब्रिटीज से मिलता जुलता है तो लोग उनका मजाक बनाने लगते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मध्य प्रदेश के इस युवक के साथ हुआ जब अपने नाम के कारण कुछ परेशानियों का सामना करना
31 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x