राजनैतिक पार्टियों का भविष्य.

13 अगस्त 2019   |  pradeep   (435 बार पढ़ा जा चुका है)

राजनैतिक पार्टियों का भविष्य. मैं कोई भविष्य वक्ता नहीं हूँ, पर विश्लेषण कर सकता हूँ. आने वाले दिनों में राजनैतिक दलों की क्या स्थिति रहेगी यह बता सकता हूँ. शुरुवात कांग्रेस से करता हूँ क्योकि वो सबसे पुरानी पार्टी और अब तक सब से ज्यादा वक्त तक राज करने वाली पार्टी है. उसका फिलहाल कोई भविष्य नहीं है. लेकिन उसके लिए एक बहुत ही अच्छा वक्त है कि उन सब को बाहर जाने दे जिनकी विचार धारा कांग्रेसी नहीं है बल्कि सत्ता के लिए कांग्रेस में है या थे, ऐसे बहुत से लोग छोड़ चुके है या जल्दी छोड़ देंगे. उसके बाद कांग्रेस को सिर्फ उन लोगो को लेकर चलना होगा जो सत्ता के लिए नहीं बल्कि कांग्रेसी विचारधारा के लिए कांग्रेस से जुड़े. नेतृतव कौन कर रहा है यह ज़रूरी नहीं ज़रूरी यह है कि क्या वो कांग्रेसी विचारधारा के अनुसार चल रहा है? परिवारवाद समस्या नहीं है समस्या दिशा है कि किस दिशा में जा रहे है. अगर परिवारवाद गलत है तो राम का राजा होना भी गलत है? बीजेपी का अभी वक्त है और अभी कुछ साल रहेगी, जबतक लोगो का भ्र्म नहीं टूटता उसमे कुछ वक्त लगेगा. उनके पास हर मुद्दे को राष्ट्रवाद बनाने की कौशलता है, और ऐसे मुद्दे पैदा करने की क्षमता है, जबतक लोग इस सच्चाई को नहीं समझेंगे तबतक उनका राज रहेगा. उनके पास पैसा है , मिडिया साथ है, बड़े उद्योगपति साथ है और उन्होंने राजनीति को भी व्यवसाय बना दिया इसलिए हर जननेता उनसे जुड़ रहा है, लेकिन जब जनता को एहसास हो जाएगा की अब राजनीति व्यवसाय है तब वो उसे नकार देंगी पर उसमे वक्त लगेगा. बीएसपी का वक्त ख़त्म हो गया, काशीराम जी की उम्मीदों पर मायावती जी ने अपने स्वार्थ से पानी फेर दिया, अब वो सिर्फ विरोध में रहकर बीजेपी की मदद करने के अलावा कुछ नहीं कर रही और अब बीजेपी को भी उनकी ज़रूरत नहीं है इसलिए उनका सूर्यास्त हो गया. 2019 के चुनावों में उन्होंने महागठबंधन को तोड़ने का काम किया. एसपी का भी वक्त ख़त्म हो गया, मायावती ने उन्हें अपने जाल में फंसा कर उनका भविष्य भी खत्म करा दिया. उससे पहले एसपी ने कांग्रेस से गठबंधन किया था और आगे बहुत उम्मीदे थी पर मायावती जी ने खेल खेल दिया बीजेपी के इशारे पर और एसपी को कांग्रेस से दूर कर महागठबंधन को नुक्सान पहुंचाया. आरजेडी का वक्त भी ख़त्म हो गया उसका कारण भी मायावती जी है. उत्तरप्रदेश को देख आरजेडी ने भी कांग्रेस के साथ गठबंधन में खेल खेलना शुरू कर दिया और अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली और अब इस वक्त उनकी बिहार में कोई अहमियत नहीं रही. अगले चुनाव में उन्हें धूल चाटने के लिए तैयार रहना चाहिए. नीतीश जी की पार्टी अब बीजेपी के अधीन है अगर राजनीति में बने रहना है तो बीजेपी के निर्देश पर ही काम करना होगा,वरना बीजेपी आज इस हालात में है कि बिहार में अकेले सरकार बना सकती है. दक्षिण भारत में अभी कुछ वक्त तक क्षेत्रीय पार्टियों का वर्चस्व रहेगा. हिंदी भाषी क्षेत्रो में बीजेपी की पकड़ अभी मज़बूत रहेगी. बंगाल में ममता का घर भी डगमगाएगा. उसकी ज़िम्मेदार भी ममता बनर्जी ख़ुद है, 2019 के चुनावों में उनकी प्रधानमत्री बनने की ख़्वाहिश ने उन्हें गठबंधन से दूर रखा जिसका नतीज़ा सामने है. उन्हें ये ख़्वाब बीजेपी के निर्देशों पर चंद्रबाबू ने दिखाए. नविन पटनायक भी जबतक बीजेपी के समर्थन में है तब तक है वरना अगली बार वो भी सत्ता से बाहर होंगे. कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी दोनों का वर्चस्व ख़त्म हो गया. अब कांग्रेस के पास मौका है कि जो लोग क्षेत्रीय दलों में बट गए थे उन्हें दोबारा इकट्ठा करे और अब किसी भी क्षेत्रीय दल से कोई समझौता सरकार बनाने के लिए ना करे बल्कि सिर्फ और सिर्फ अपनी सरकार बनाने की कोशिश करे या विपक्ष में बैठे समझोतो की राजनीति से किनारा कर ले. दिल्ली में केजरीवाल के लिए मुश्किल थी इसलिए उसने जल्दबाजी में काश्मीर के मामले में बीजेपी को स्पोर्ट कर दिया पर क्या इससे उसे सफलता मिलेगी? जो दिल्ली में अपने अधिकारों के लिए लड़ रहा था , आज कश्मीर के लोगो के अधिकार छीन जाने पर केंद्र सरकार का समर्थन कर रहा है? उसके आप के बहुत से लोग अब बीजेपी में शामिल हो जाएंगे. कांग्रेस के लिए बहुत अच्छा मौका है अपने को फिर से खड़ा करने का, किसी क्षेत्रीय दल की सहायता से नहीं बल्कि ख़ुद की ताकत से. उन सभी को जाने दे जो सत्ता के लिए पार्टी से जुड़े है, ऐसे लोग किसी भी दल के साथ वफ़ादारी नहीं करेंगे, वक्त आने पर उनको भी दग़ा देंगे.

अगला लेख: महाभारत युद्ध और जीत किसकी ?(भाग 1)



अनिल शर्मा
16 अगस्त 2019

कांग्रेस में जब तक ज़मीनी स्तर संगठन मजबूत नहीं होगा , नेता ज़मीन से नहीं जुड़ेगें तब तक उसका सत्ता में आना मुश्किल है .

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अगस्त 2019
जून 1975, इंदिरा गांधी इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के बाद बतौर सांसद अयोग्य ठहरा दी गई थीं. जयप्रकाश नारायण सम्पूर्ण क्रांति का नारा दे रहे थे. लेकिन किसी ने नहीं सोचा था कि घिरी हुई सरकार आपातकाल जैसा कदम उठा लेगी. 25 जून की रात उस समय विपक्ष का चेहरा रहे चंद्रशेखर नेपाल
07 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
महाभारत एक युद्ध का नाम है , इसको महाभारत ही क्यों कहा जाता है, महायुद्ध क्यों नहीं कहा जाता. महा का मतलब या तो महान होता है या फिर सबसे बड़ा, तो इस महाभारत का मतलब हुआ महान भारत या बड़ा भारत? महान भारत और युद्ध, कुछ समझ से बाहर की बात नहीं है? जी बिल्कुल ये ज्यादातर लोगो क
03 अगस्त 2019
26 अगस्त 2019
ख़ु
मुल्कपरस्ती या बुतपरस्ती से जिंदगी चलती नहीं, ज़िंदगी को चलाने को ज़रूरी है ख़ुदपरस्ती. मुल्कपरस्ती के नाम पर ज़ंग की मुहिम जो छेड़ते, नाम ले मज़हब का जो आपस में है लड़ रहे, ना तो वो वतनपरस्त है, ना ही है वो मज़हबी .जो कुछ वो कर रहे वही तो होती है ख़ुदपरस्ती. (
26 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
हाल ही में पीएम मोदी ने भाजपा संसदीय दल की बैठक में सांसदों की अनुपस्थिति पर कड़ा रुख अपनाते हुए कहा था कि संसद में सांसदों की अनुपस्थिति को लेकर कोई बहाना नहीं चलेगा। पीएम मोदी की इस फटकार के बाद भी अभिनेता और सांसद सनी देओल (Sunny Deol) पर असर पड़ता नजर नहीं आ रहा है।गु
07 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
आज देश अपनी दमदार लीडर को खोने का गम मना रहा है और उनका नाम सुषमा स्वराज है जिनका निधन 7 अगस्त की शाम को दिल्ली के AIIMS अस्पताल में हो गया था। सुषमा स्वराज का नाम राजनीति में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाएगा और भारतीय राजनीति के इतिहास में उनका योगदार अहम रहा है। सुषमा स्वराज हमेशा लोगों की मदद के लि
07 अगस्त 2019
06 अगस्त 2019
दी
दीवानगी इश्क की इस कदर छाई ,ख़ुद ही ख़ुद से बेख़बर हो गए. बेख्याली में भी ख्याल उनका रहा, ख़्याल ख़ुद के से बेख़्याल हो गए. ख़ुद की जिंदगी भी उनकी हो गई, जिस्म तो है पर रूह नदारद हो गई. दिल धड़कता तो है मेरे सीने में मगर , दिल की धड़कने उनके नाम हो गई.(आलिम)
06 अगस्त 2019
28 अगस्त 2019
क्या करे बात इश्क की उनकी, कितना प्यार मुझसे करते है. बात कहने की ज़रूरत ही नहीं, मेरे इशारों को वो समझते है. ना समझे वो इशारा तो, हम बात उनकी को अपनी मान लेते है. बात मन की उनकी यारों, अब हमें तो अपनी बात लगती है. इश्क एक तरफा होत
28 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अब हमारे बीच नहीं हैं. 67 साल की उम्र में उन्होंने आखिरी सांस ली. 6 अगस्त की रात उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया. लाख कोशिश की गई, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. रात 9 बजे उन्होंने दम तोड़ दिया. पूरा देश
07 अगस्त 2019
24 अगस्त 2019
कृ
कृष्ण जन्माष्टमी के दिन कृष्ण की पूजा करने का सबसे अच्छा तरीका है उनके विचरों पर अम्ल करना. मेरे इस विचार से तो सारे हिन्दू ही नहीं हिदुत्ववादी भी सहमत होंगे. कृष्ण को लोग अपनी अपनी सहूलियत के हिसाब से देखते है, किसी के लिए वो
24 अगस्त 2019
15 अगस्त 2019
गा
गाँधी जी की विरासत के उत्तराधिकारी नेहरू. गाँधी जी ने क्यों नेहरू जी को अपना उत्तराधिकारी चुना? कुछ लोग नेहरू की बुराई करने इस हद तक चले जाते है कि शक होता है कि क्या वाकय पटेल लौहपुरुष थे? 3000 करोड़ की मूर्ति एक लौहपुरुष की य
15 अगस्त 2019
06 अगस्त 2019
गा
गाँधी जी जो लोकतन्त्र और प्रजातन्त्र के लिए लड़ रहे थे , वही गाँधी जी राम राज्य की बात भी कर रहे थे? गांधीजी हिन्दुराष्ट्र के विरोधी थे, लेकिन बात रामराज्य की करते थे एक राजतंत्र की. गीता पढ़ते थे, गीता में विश्वास रखते थे, पर युद्ध
06 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जनसंघ के संस्थापक, हिन्दू महासभा के के अध्यक्ष , कलकत्ता यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर, मुस्लिमलीग की सरकार में मंत्री, नेहरू सरकार में मंत्री.
12 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
हम उनकी पॉलिटिक्स से सहमत या असहमत हो सकते हैं. मगर मौत को लेकर असंवेदनशील कैसे हो सकते हैं?पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की नेता सुषमा स्वराज का 6 अगस्त की रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. घबराहट होने की शिकायत के बाद उन्हें रात 9.26 बजे एम्स लाया गया. ले
08 अगस्त 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x